ध्यानचंद
मैदान से

मैदान से: जब हॉकी के जादूगर ध्यानचंद को देखने के लिए पाकिस्तानियों ने घेर लिया था स्टेशन

29 अगस्त 2021

Play
4:1
जब हमारा देश गुलाम था तब दुनिया में भारत की पहचान गांधी, हॉकी और ध्यानचंद की वजह से होती थी। आज (29 अगस्त) ही के दिन 1905 में हॉकी के जादूगर कहे जाने वाले ध्यानचंद का जन्म हुआ था। उनके जन्मदिन को देश में खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। फुटबॉल के साथ जिस तरह पेले और मुक्कबाजी के साथ मोहम्मद अली का नाम जुड़ा है उसी तरह हॉकी से ध्यानचंद जुड़े हैं। ध्यानचंद की उपलब्धियों ने भारतीय खेल के इतिहास को नए शिखर पर पहुंचाया। लगातार तीन ओलंपिक (1928 एम्सटर्डम, 1932 लॉस एंजेलिस और 1936 बर्लिन) में भारत को हॉकी का स्वर्ण पदक दिलाने वाले ध्यानचंद के जीवटता का हर कोई कायल रहा। ... Read More

मैदान से: जब हॉकी के जादूगर ध्यानचंद को देखने के लिए पाकिस्तानियों ने घेर लिया था स्टेशन

X

सभी 13 एपिसोड

सूर्य कुमार

आईपीएल में सूर्य कुमार को चुनौती मानते हैं उभरते क्रिकेटर रवि बिश्नोई, सुनिए पूरी बातचीत 

ध्यानचंद

जब हमारा देश गुलाम था तब दुनिया में भारत की पहचान गांधी, हॉकी और ध्यानचंद की वजह से होती थी। आज (29 अगस्त) ही के दिन 1905 में हॉकी के जादूगर कहे जाने वाले ध्यानचंद का जन्म हुआ था। उनके जन्मदिन को देश में खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। फुटबॉल के साथ जिस तरह पेले और मुक्कबाजी के साथ मोहम्मद अली का नाम जुड़ा है उसी तरह हॉकी से ध्यानचंद जुड़े हैं। ध्यानचंद की उपलब्धियों ने भारतीय खेल के इतिहास को नए शिखर पर पहुंचाया। लगातार तीन ओलंपिक (1928 एम्सटर्डम, 1932 लॉस एंजेलिस और 1936 बर्लिन) में भारत को हॉकी का स्वर्ण पदक दिलाने वाले ध्यानचंद के जीवटता का हर कोई कायल रहा।

अशोक कुमार

पूर्व ओलंपियन अशोक कुमार से विमल कुमार की खास बातचीत

अखिल कुमार

पूर्व ओलंपियन अखिल कुमार से विमल कुमार की खास बातचीत

टीम इंडिया

टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाजी कोच संजय बांगर से विमल कुमार की खास बातचीत

आज

आज फ्लाइंग सिख यानि उड़न सिख मिल्खा सिंह हमारे बीच नहीं रहे...चंडीगढ़ में उनका देहांत हो गया...मिल्खा सिंह एक ऐसा नाम है जो अपने अंदर एक पूरा जमाना...एक इतिहास..और लंबा संघर्ष समाए हुए है..देश की आन-बान-शान थे वो...क्या आप जानते हैं कि इतना बड़ा खिलाड़ी कभी एक डकैत बनने की सोच रहा था...मिल्खा के अंदर इतना गुस्सा था कि वो अपने आप को जुर्म की दुनिया में झोंक देना चाहते थे...और कैसे थे उनके पान सिंह तोमर से संबंध जो बाद में चलकर कुख्यात डाकू बन गए...और जब डाकू पान से मिल्खा की मुलाकात हुई तो कैसा था दोनों का रिएक्शन....शुरुआत करते हैं मिल्खा सिंह की जिंदगी से...मिल्खा सिंह का जन्म 20 नवम्बर 1929 को पंजाब के गोविंदपुरा में हुआ था...अब ये जगह पाकिस्तान का हिस्सा है...मिल्खा सिंह 15 भाई-बहन थे...देश के बंटवारे से पहले इनके 8 भाई-बहन बीमारी की वजह से दुनिया से रुखसत हो गए...मिल्खा के संघर्ष की कहानी शुरू होती है देश के विभाजन के बाद...

साइकिल चोरी ने मोहम्मद अली को बनाया महान मुक्केबाज

कहानी महान मुक्केबाज मोहम्मद अली की...

गामा पहलवान

गामा पहलवान...अगर किसी को ताकतवर की संज्ञा देनी हो तो सबसे पहले जुबान पर एक यही नाम आता है...गामा पहलवान...आखिर कौन थे ये गामा पहलवान जिनका नाम पिछले सौ सालों से ज्यादा समय से याद किया जा रहा है...

वाराणसी

हॉकी के ब्रैडमैन को भुलाकर कैसे लोगों पर छाया क्रिकेट का जुनून

बदला-बदला सा होगा इस बार आईपीएल, सुनिए क्या होगा नया

बदला-बदला सा होगा इस बार आईपीएल, सुनिए क्या होगा नया

आवाज

  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00