विज्ञापन

पंजाब

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

भारत-पाक व्यापार को लेकर सिद्धू का बयान: कहा- व्यापार फिर से शुरू हो, इससे सबको फायदा होगा

पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने शनिवार को अमृतसर में भारत-पाक व्यापार को लेकर एक बयान दिया है। सिद्धू ने कहा कि भारत-पाक व्यापार और इन 34 देशों से व्यापार का दायरा 37 बिलियन अमेरिकी डॉलर हैं। लेकिन हम अभी केवल तीन बिलियन अमेरिकी डॉलर का व्यापार कर रहे हैं। जो क्षमता का 5 प्रतिशत भी नहीं।

यह भी पढ़ें :
 दिल्ली सीएम पर भड़के चन्नी: कौन है केजरीवाल, कहां से आया, पंजाब पर कब्जा करना चाहता है
 
उन्होंने कहा कि पंजाब को पिछले 34 महीनों में चार हजार करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। इस दौरान 15,000 नौकरियां भी चली गईं।  सिद्धू ने कहा कि मैं पहले भी अनुरोध कर चुका हूं अब भी अनुरोध कर रहा हूं कि व्यापार फिर से शुरू हो। इससे सबको फायदा होगा। 
 

सिद्धू ने कहा कि इस बार चुनाव में रोजगार सबसे बड़ा मुद्दा होगा। मैं गारंटी देता हूं कि जल्द ही हम एक विजन देंगे। सभी लोगों के पास आंखें तो हैं, लेकिन विजन कुछ के पास ही है।
... और पढ़ें
नवजोत सिंह सिद्धू नवजोत सिंह सिद्धू

पटियाला: 18 वर्षीय छात्रा ने की आत्महत्या, नहर किनारे मिली स्कूटी, यह वजह आई सामने

पटियाला के त्रिपड़ी टाउन की रहने वाली एक लड़की के आईलेट्स की परीक्षा में कम बैंड आने पर भाखड़ा नहर में कूदकर खुदकुशी करने का मामला सामने आया है। पुलिस ने गोताखोरों की मदद से लड़की की लाश को गांव पसियाना के नजजीक नहर से बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए सरकारी राजिंदरा अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया है। 

मृतक की पहचान क्रिस्पी (18) के तौर पर हुई है। पुलिस के मुताबिक क्रिस्पी पढ़ाई को लेकर पिछले कुछ समय से काफी परेशान रहती थी। वह एक निजी इंस्टीट्यूट में विदेश जाने के लिए आईलेट्स की तैयारी कर रही थी। बीते दिनों उसके परीक्षा में बैंड कम आ गए। जिससे वह और मानसिक तनाव में आ गई थी। इसी बीच वह घर से लापता हो गई। तलाश करते समय उसकी एक्टिवा नाभा रोड पर नहर के किनारे मिली। बाद में तलाश करने पर लाश नहर से बरामद हुई।

अबोहर में मानसिक परेशान होकर छात्रा ने लगाया था फंदा

अबोहर में फाजिल्का रोड निवासी आठवीं कक्षा की छात्रा की मौत मानसिक परेशानी के चलते गुरुवार को घर में फंदा लगाने से हुई थी। यह जानकारी थाना नंबर-1 की पुलिस ने मृतका के पिता बालक राम के बयान दर्ज करते हुए दी। पुलिस ने धारा 174 के तहत कार्रवाई करते हुए पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया।

जांच अधिकारी शरणजीत सिंह ने बताया कि जांच में पता चला कि मृतका के गले में फंदा लगाने जैसे कई निशान थे। इसे गंभीरता से लेते हुए मृतका की बहन व पिता से पूछताछ की गई। इसमें खुलासा हुआ कि उक्त लड़की भावना काफी समय से मानसिक तौर से परेशान थी। परिवार के लोग उसे डॉक्टर को दिखाने के बजाय तांत्रिकों से झाड़-फूंक करवा रहे थे। इस कारण उसकी तबीयत दिनों-दिन बिगड़ती चली गई। इसी के चलते गत दिवस उसने घर में फंदा लगाकर जान दे दी।
... और पढ़ें

मुक्तसर: गांव भुंदड़ में डेरा प्रेमी की हत्या, बाइक सवारों ने दुकान में मारी गोली, मृतक पर दर्ज था बेअदबी का मामला

मुक्तसर जिले के गांव भुंदड़ में मोटरसाइकिल पर सवार दो व्यक्तियों ने एक डेरा प्रेमी की गोली मारकर हत्या कर दी। गांव में स्थित डेरा प्रेमी की किराना की दुकान पर शुक्रवार देर शाम को घटना को अंजाम दिया गया है। जिसमें दो व्यक्ति डेरा प्रेमी की दुकान पर कुछ सामान खरीदने आए और गोली मार उसकी हत्या कर चलते बने। 

जानकारी के अनुसार चरनदास (40) पुत्र नीलू राम निवासी भुंदड़ शुक्रवार रात करीब आठ बजे गांव में स्थित अपनी किराना दुकान पर बैठा था। इतने में मोटरसाइकिल पर सवार दो व्यक्ति आए और कुछ सामान मांगा। जैसे ही चरनदास सामान तौलने लगा, इस दौरान एक आरोपी ने पिस्तौल निकाल गोली मार दी। गोली चरनदास की आंख के पास माथे पर लगी। जबकि दूसरा आरोपी मोटरसाइकिल पर ही बैठा रहा। 

वारदात को अंजाम देकर दोनों बदमाश फरार हो गए। घायल अवस्था में परिजनों ने चरनदास को गिद्दड़बाहा के अस्पताल ले गए। जहां गंभीर हालत के चलते उसे बठिंडा रेफर कर दिया गया। मगर बठिंडा अस्पताल ले जाते समय रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया। बता दें कि मृतक डेरा प्रेमी पर 2018 में श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की बेअदबी मामले में थाना कोटभाई में केस भी दर्ज हुआ था, जो अभी विचाराधीन है। घटना के बाद एसएसपी सरबजीत सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम ने मौके पर पहुंचकर मामले की जांच शुरु कर दी थी।
... और पढ़ें

पठानकोट में दिखी रहस्यमयी चीज: आसमान में दिखा चमकती ट्रेन जैसा नजारा, वीडियो वायरल, दहशत में लोग

गोली लगने के बाद अस्पताल ले जाते लोग और मृतक की फाइल फोटो।
शुक्रवार देर शाम आसमान में चमकदार चीज देखकर पंजाब के पठानकोट में लोग दहशत में आ गए। घबराए लोगों ने उक्त संदिग्ध वस्तु का वीडियो भी बनाया और पुलिस को भेजा। वहीं, चारों तरफ सेना से घिरे पठानकोट में ऐसी वस्तु देखे जाने से सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई हैं। 

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि इस बाबत जांच की जा रही है। उक्त चमकदार वस्तु का वीडियो बनाने वाले प्रत्यक्षदर्शी तारागढ़ के राजकुमार, बमियाल के प्रकाश और माधोपुर के सोनू ने बताया कि देर शाम सात बजे के करीब अचानक उनका ध्यान आसमान की तरफ गया तो ट्रेन की तरह लंबी कोई वस्तु नजर आई। जिसमें ट्रेन के डिब्बों की तरह लाइटें जल रही थीं। हालांकि, किसी तरह की कोई आवाज नहीं सुनाई दी। 



लोगों ने बताया कि पांच मिनट तक उक्त चीज दिखाई दी, उसके बाद आखों से ओझल हो गई। कुछ लोग इसे सेटेलाइट, कुछ रॉकेट तो कुछ इसे टोही विमान बता रहे हैं। हालांकि, एसएसपी पठानकोट सुरिंदर लांबा का कहना है कि उन्हें भारत-पाक सीमा के नजदीकी कस्बा नरोट जैमल सिंह से इस बाबत जानकारी मिली है। अधिकारी जांच में जुटे हैं। जल्द ही इस संदिग्ध वस्तु के बारे जानकारी हासिल की जाएगी।
... और पढ़ें

पंजाब में अंतिम सांसें गिन रही संस्कृत: 41 वर्षों में 83 कॉलेज हुए बंद, सरकारी कॉलेजों में 17 ही पद, उनमें भी 13 खाली

मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के दावों के विपरीत पंजाब में संस्कृत अब अंतिम सांसें गिनने लगी है। सूबे में 41 वर्षों में 83 सरकारी और गैर सरकारी संस्कृत कॉलेज पूर्ण रूप से बंद हो चुके हैं। सरकारी कॉलेजों में प्रोफेसर के महज 17 ही पद बचे हैं, जिनमें 13 पद खाली रिक्त चल रहे हैं। 1980 से पहले सूबे में 90 सरकारी और गैर सरकारी संस्कृत संस्थानों में शिक्षण कार्य किया जाता था।

कई भाषाओं की जननी संस्कृत पंजाब में अपने वजूद की लड़ाई लड़ रही है। मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी भले ही राज्य में इसे बढ़ावा देने की घोषणाएं जरूर कर रहे हैं, लेकिन जमीनी हालात कुछ और ही हैं। बंदी के कगार पर पहुंचे संस्कृत कॉलेजों में दो वर्षों से कोई दाखिला नहीं हुआ है, इतना ही नहीं सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों में भी संस्कृत अध्यापकों के पद खत्म कर दिए गए हैं। राज्य के स्कूलों में संस्कृत की पढ़ाई का विकल्प भी खत्म किया जा रहा है। संस्कृत के कोई भी अध्यापक की भर्ती नहीं किए जाने से महज 7 अध्यापक ही बचे हैं। जबकि हाल ही में पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने एलान किया है कि रामायण, महाभारत और श्रीमद्भागवत गीता पर शोध केंद्र स्थापित किया जाएगा। साथ ही स्कूलों में संस्कृत भाषा पढ़ाई जाएगी।

आतंकवाद के दौर में ज्यादा हुआ नुकसान

पंजाब में 1980 से पहले अधिकतर स्कूलों में संस्कृत पढ़ाई जाती थी। 1980 के बाद आतंकवाद के दौर में इस भाषा को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा। हैरानी की बात यह है कि 2009 के बाद से संस्कृत कॉलेजों के लिए पंजाब सरकार और स्कूल शिक्षा विभाग (डीपीआई) से कोई ग्रांट नहीं दी गई।

शास्त्री, प्रभाकर, आचार्य की होती थी पढ़ाई

कभी अमृतसर जिले में ही संस्कृत पढ़ाने वाले 20 संस्थान थे, जो अब सिर्फ दो ही रह गए हैं। इन कालेजों में शास्त्री, प्रभाकर और आचार्य की पढ़ाई होती थी। अभी गुरु नानक देव विश्वविद्यालय में संस्कृत विभाग तो है, लेकिन यहां विद्यार्थी नाममात्र ही हैं। जीएनडीयू में एमए संस्कृत व पीएचडी की व्यवस्था है, लेकिन विद्यार्थी नहीं हैं।

स्वयंसेवी उठा रहे कालेजों का खर्च

पंजाब में अमृतसर में दो, दीनानगर में एक, होशियारपुर में एक, खन्ना में एक, सरहिंद (फतेहगढ़ साहिब) में एक और करतारपुर में एक कॉलेज है, जिसका खर्च स्वयंसेवी संगठन उठा रहे हैं। अखिल भारतीय संस्कृत विकास परिषद के प्रयास से शास्त्री को स्नातक और आचार्य को परास्नातक के बराबर मान्यता मिल गई है, लेकिन विद्यार्थियों का इस ओर कोई रुझान नहीं है, क्योंकि रोजगार के अवसर नहीं हैं।

बीएएमएस के लिए संस्कृत जरूरी

आज बीएएमएस की मेडिकल पढ़ाई करने के लिए संस्कृत जरूरी होती है, लेकिन विद्यार्थियों को संस्कृत का पूरा ज्ञान न होने के कारण उनको आयुर्वेद में डिग्री हासिल करने में मुश्किल आती है।
... और पढ़ें

दिल्ली सीएम पर भड़के चन्नी: कौन है केजरीवाल, कहां से आया, पंजाब पर कब्जा करना चाहता है

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने शनिवार को दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर फिर निशाना साधा। एक निजी चैनल के कार्यक्रम में चन्नी ने कहा कि केजरीवाल कौन हैं, कहां से आए हैं। केजरीवाल हर चीज के बारे में झूठ बोलते हैं। उन्होंने कहा कि वे दिल्ली से आकर पंजाब पर कब्जा करना चाहते हैं। पंजाब में वे जो वादे कर रहे हैं, पहले उन्हें दिल्ली में पूरा करें। 

खुद को बताया खिलाड़ी 

इस दौरान अपने बारे में चन्नी ने कहा कि मैं खुद को अपना विरोधी मानता हूं। मैं खिलाड़ी हूं, कप्तान नहीं। मैं खुद को सीएम की रेस में नहीं मानता। राहुल गांधी का फोन आया सीएम बनने के बारे में तो मैं रोने लगा था। उन्होंने कहा कि उन्हें जितना समय मिला है, वे पंजाब की भलाई के लिए काम करेंगे। जो वादे किए वे पूरे किए। चन्नी ने दावा किया कि पंजाब में कानून व्यवस्था अच्छी है। वहीं पंजाब कांग्रेस के प्रधान नवजोत सिद्धू के बारे में चन्नी ने कहा कि सिद्धू उनके बड़े भाई हैं। दोनों पंजाब की भलाई के लिए ही काम कर रहे हैं। 

केजरीवाल पर लगाया था गंदी राजनीति का आरोप 

मुख्यमंत्री चन्नी ने शुक्रवार को पठानकोट में कहा था कि केजरीवाल गंदी राजनीति कर रहे हैं। पंजाब की सत्ता हथियाने के लिए वह अफवाहें फैला रहे हैं। केजरीवाल पंजाब के बारे में कुछ नहीं जानते। मुख्यमंत्री ने कहा कि केजरीवाल सत्ता के लालची हैं। ‘आप’ वाले यह समझ लें कि पंजाबी लोग किसी बाहरी व्यक्ति को राज करने की इजाजत नहीं देंगे। इस तरह गंदी राजनीति कर पंजाब की सत्ता नहीं हथियाई जा सकती है।

'काला अंग्रेज' पर भिड़ चुके हैं दोनों नेता

इससे पहले मोगा में बुधवार को मुख्यमंत्री चन्नी ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को काला अंग्रेज कहा था। इसके बाद केजरीवाल ने चन्नी की टिप्पणी का कड़ा जवाब देते हुए कहा था कि जब से मैंने एलान किया है पंजाब की महिलाओं को 1000 रुपये दूंगा, तब से चन्नी साहब बहुत गंदी-गंदी गालियां दे रहे हैं। मेरे बारे में सस्ते-सस्ते कपड़े पहनने वाला व्यक्ति होने की बात करते हैं। सस्ते कपड़े पहनने में मुझे कोई तकलीफ नहीं। पंजाब में सरकार बनने पर मैं माताओं-बहनों को 1000-1000 रुपये हर माह दूंगा और वो इससे नए-नए सूट खरीदेंगी। इसमें ही मेरी खुशी है। उन्होंने मुझे काला कहा, मेरा रंग काला है, मैं मानता हूं। कार में गांव-गांव घूमता हूं तो मेरा रंग काला हो गया। मैं चन्नी की तरह हेलीकॉप्टर से आसमान में नहीं घूमता। पंजाब में मेरी माताओं को काला बेटा और मेरी बहनों को काला भाई पसंद है। मैं झूठे वादे नहीं करता और यह काला आदमी (केजरीवाल) पंजाब के लोगों के साथ करने वाले हर वादों को पूरा करेगा।  

... और पढ़ें

अमृतसर में युवक के साथ बर्बरता: अगवा करने के बाद नग्न कर पीटा, वीडियो इंस्टाग्राम पर किया अपलोड, अस्पताल में मौत

अमृतसर के लाहौरी गेट थाना क्षेत्र के अंदरूनी इलाका से युवक को अगवा कर रंजीत एवेन्यू बाईपास स्थित झाड़ियों के पास ले जाकर नग्न कर पीटने का मामला सामने आया है। बाद में युवक की मौत हो गई। करीब चार दिन पहले हुई इस घटना के बाद गंभीर हालत में युवक को अस्पताल में दाखिल करवाया गया, जहां उसने शुक्रवार को दम तोड़ दिया। 

युवक की मौत की सूचना के घंटो बाद पुलिस मौके पर पहुंची तो परिजनों ने रोष जताया। फिलहाल पुलिस ने शव को कब्जे में लेने के बाद पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल के शवगृह में रखवा दिया है। 

जज नगर के रविंदर कुमार ने बताया कि उनका लड़का राहुल (18) 29 नवंबर की शाम घर से कपड़ों की खरीदारी करने लाहौरी गेट गया था। जहां से 12-15 युवकों ने उनके बेटे को अगवा कर पहले खाई मोहल्ला के सुनसान पार्क में ले जाकर पीटा, इसके बाद उसे गंभीर हालत में रंजीत एवेन्यू बाईपास स्थित झाड़ियों में नग्न कर फिर पीटा। अगवा करने वाले युवक गैंगस्टर हैं। आरोपियों ने पिटाई का वीडियो इंस्टाग्राम पर अपलोड किया।

उन्होंने बताया कि 29 नवंबर की रात करीब साढ़े नौ बजे किसी का फोन आया कि उनका लड़का रंजीत एवेन्यू इलाके में झाड़ियों के पास गंभीर हालत में पड़ा है। वह तुरंत मौके पर पहुंचे और बेटे को उठाकर लाए। डी डिवीजन थाने की पुलिस को मामले की शिकायत भी दी। पुलिस ने राहुल को अस्पताल ले जाने की सलाह दी। जिसके बाद उन्होंने राहुल को श्री गुरु नानक देव जी अस्पताल में दाखिल करवा और शुक्रवार को उसने दम तोड़ दिया।

शिकायतकर्ता ने बताया कि पुलिस की भूमिका संदिग्ध रही है, पुलिस ने अभी तक आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है। वहीं अस्पताल के डॉक्टरों की भूमिका लापरवाहीपूर्ण रही। हड़ताल के चलते राहुल का इलाज सही से नहीं हो पाया। कभी रंजीत एवेन्यू पुलिस चौकी तो कभी लाहौरी गेट थाने के चक्कर काटने पड़े। समय पर पुलिस ने कार्रवाई की होती तो आज उनके बेटे के हमलावर जेल में होते। 
... और पढ़ें

कैप्टन की राजनीति: प्रत्याशियों को ढूंढ रही पंजाब लोक कांग्रेस की 'बी' टीम, अन्य दलों में नजरंदाज लोगों पर नजर

पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब के आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर पूरी तरह से सक्रिय हो चुके है। पंजाब लोक कांग्रेस के बैनर तले चुनाव की ताल ठोक चुके कैप्टन अमरिंदर सिंह की टीमें इस समय गुपचुप तरीके से काम में जुट गई है। इसमें उनकी सबसे खास बी टीम है, जिसके जिम्मे प्रत्याशियों को ढूंढने का काम है। यह टीम केवल ग्रामीण एरिया में नहीं बल्कि शहरी एरिया में प्रत्याशियों को खोज रही है। महानगर लुधियाना के तीन हलकों पर इस टीम के सदस्य प्रत्याशियों की लिस्ट बनाने में लगे हैं। बीते लंबे समय में राजनीति में सक्रिय लोगों से संपर्क साधना भी शुरू हो चुका है। 

लुधियाना के हलका ईस्ट, वेस्ट और साउथ में संभावित प्रत्याशियों की तलाश कर रही है। इसमें उन लोगों से संपर्क किया जा रहा है, जिन्हें उनकी पार्टी ने टिकट नहीं दिया है लेकिन वह जीत के बड़े दावेदार बन सकते हैं। कैप्टन की इस रणनीति से साफ है कि वह भाजपा के साथ मिलकर केवल ग्रामीण नहीं बल्कि शहरी एरिया की सीटों पर भी अपने प्रत्याशी उतार सकते हैं। 

भाजपा के साथ सीट शेयर करेंगे कैप्टन

पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह साल 2022 में होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए अपनी अलग पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस का गठन कर चुके हैं। वह चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के साथ सीट शेयरिंग की बात कह चुके हैं। ऐसे में अभी उनके सामने सबसे बड़ी मुश्किल सही प्रत्याशियों को मैदान में उतारना है। इसका जिम्मा अपनी खास टीम को सौंपा है, जिसे राजनीतिक गलियारों में बी टीम कह कर बुलाया जा रहा है। इस टीम में शामिल सदस्य राजनीति में सक्रिय नहीं है। इसलिए उन पर कोई शक भी नहीं किया जा रहा है। इसके अलावा इस टीम में मीडिया से जुड़े लोग भी शामिल हैं, जो राजनीति के दांवपेंच अच्छे से समझते हैं। यह टीम हलका वाइज संभावित प्रत्याशियों की लिस्ट तैयार कर रही है। 
 

राजनीति में सक्रिय लोगों से साधा जा रहा संपर्क

लुधियाना के हलका ईस्ट, वेस्ट और साउथ में राजनीति में सक्रिय कुछ लोगों से संपर्क भी साधा गया है। एक बड़े दल में बीते कई सालों से सक्रिय राजनेता ने बताया कि इस टीम ने उनसे संपर्क किया है। क्योंकि उन्हें पार्टी की तरफ से टिकट नहीं दी गई है, इसलिए उन्हें पंजाब लोक कांग्रेस से चुनाव लड़ने के लिए कहा गया है। फिलहाल उन्होंने कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई है। उनके अलावा हलके से कई अन्य लोगों से संपर्क किया जा रहा है। इसमें ज्यादा उन लोगों से संपर्क साधा जा रहा है, जिनका आम लोगों को जनाधार है।
... और पढ़ें

पंजाब विधानसभा चुनाव: पंजाब वातावरण चेतना लहर का गठन, सियासी दलों के सामने उठाएंगे पर्यावरण का मुद्दा

पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 की वैतरणी पार करने के लिए सियासी दलों को नई-नई परेशानियों से दो-चार होना पड़ेगा। इस बार पद्मश्री संत बलबीर सिंह सीचेवाल के तमाम तरह के पर्यावरणीय मसलों को मुद्दा बनाकर गांव-गांव में सवाल उठाने के लिए नई योजनाबंदी पर काम शुरू कर दिया गया है। अब गांव-गांव में हाथ जोड़कर आने वाले ‘नेता जी’ के सामने लोग पर्यावरण शुद्धिकरण के सवाल उठाएंगे। इसके लिए निर्मल कुटिया सुल्तानपुर लोधी में संत बलबीर सिंह सीचेवाल की रहनुमाई में तमाम संत-समाज की ओर से पंजाब वातावरण लहर का गठन करके अपने इरादे स्पष्ट कर दिए हैं, जिससे अब पर्यावरण संरक्षण के लिए नेता जी की ‘मीठी गोली’ काम नहीं आने वाली है।

सेवामुक्त आईएएस अधिकारी काहन सिंह पन्नू बने कन्वीनर

सुल्तानपुर लोधी में पवित्र काली बेईं के किनारे निर्मल कुटिया में सूबे भर में पर्यावरण संरक्षण के लिए कार्यशील संगठनों की आयोजित एक अहम बैठक में पंजाब वातावरण चेतना लहर का गठन किया गया। इसका कन्वीनर सेवामुक्त आईएएस अधिकारी काहन सिंह पन्नू को बनाया गया है। इस बैठक में अहम फैसला लिया गया कि इस बार चुनाव के दौरान सियासी दलों को वातावरण के मुद्दे को गंभीरता से उठाने के लिए लोगों की ओर से दबाव बनाया जाएगा। इस वातावरण चेतना लहर का नेतृत्व पद्मश्री पर्यावरणविद् संत बलबीर सिंह सीचेवाल, पद्मश्री संत सेवा सिंह खडूर साहिब वाले, श्री दमदमा साहिब के पूर्व जत्थेदार ज्ञानी केवल सिंह और पिंगलवाड़ा की मुख्य सेवादार बीबी इंद्रजीत कौर करेंगे। 

पर्यावरण को बनाया जाएगा जनमुद्दा

इस संगठन का अगला जलसा लुधियाना में दिसंबर के तीसरे हफ्ते में किया जाएगा। इस बैठक में करीब 12 से ज्यादा संगठनों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया और पंजाब में पर्यावरण के पक्ष से गंभीर हो रहे हालात पर चिंता और चर्चा की गई। पर्यावरण को जनमुद्दा बनाने के लिए सूबे के विभिन्न जिलों में मीटिंग्स व सेमिनार करवाए जाएंगे। संत बलबीर सिंह सीचेवाल ने कहा कि आज पर्यावरण को बचाना समय की मुख्य जरूरत है। तरक्की के नाम पर हम पर्यावरण का इतना हनन कर लिया है कि न तो हमारी हवा, पानी और न ही हमारी खुराक शुद्ध रही है। सोने की चिड़िया कहलवाने वाला पंजाब में पर्यावरण का मुद्दा मौत का मुद्दा बन चुका है। मुनाफाखोरी की दौड़ ने बहुत कुछ बिगाड़ कर रख दिया है। 

उन्होंने विधानसभा चुनाव का जिक्र करते हुए कहा कि हमें इस बार पर्यावरण को मुख्य मुद्दे के तौर पर उभारना चाहिए और वोट मांगने आने वाले नेताओं से पर्यावरण के मुद्दे पर सवाल करने चाहिए, क्योंकि शुद्ध हवा पानी और खुराक (आहार) हमारा ही नहीं, बल्कि हमारी आने वाली भावी पीढ़ियों और पशु पक्षियों का मौलिक अधिकार है। इस बैठक में खेती विरासत मिशन के उमेंद्र दत्त, गुरप्रीत सिंह प्रधान भाई घनैया कैंसर रोको सेवा सोसायटी, गुरचरण सिंह नूरपुर जीरा, राजबीर सिंह पिंगलवाड़ा अमृतसर, गुरबिंदर सिंह बाजवा, इंजी. कपिल अरोड़ा, बलबीर सिंह कार सेवा खडूर साहिब वाले, एडवोकेट जसविंदर सिंह, पलविंदर सिंह सहारी, जसकीरत सिंह, राजिंदर सिंह धरांगवाला, संतोख सिंह, सुखप्रीत सिंह, सुरजीत सिंह शंटी और अन्य प्रतिनिधि उपस्थित थे।
... और पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00