विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Digital Edition

अलवर में डेंगू का प्रकोप: 17 साल की लड़की की जान गई, इस साल डेंगू की वजह से होने वाली यह पहली मौत

बारिश के मौसम में मच्छरों का प्रकोप बढ़ जाता है। ऐसे में डेंगू का खतरा भी बढ़ने लगता है। हाल ही में अलवर के सामान्य अस्पताल में रोजाना करीब चार से पांच मरीज डेंगू के भर्ती हो रहे हैं। निजी चिकित्सालयों में ज्यादातर बेड पर डेंगू के मरीज ही मिल रहे हैं। इस बीच अलवर शहर की रहने वाली एक 17 वर्षीय लड़की की डेंगू के चलते मौत हो गई। 

पंचवटी कॉलोनी की रहने वाली अनवी जैन की बुखार होने पर तबियत बिगड़ी। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। स्थिति में सुधार नहीं आने पर उसे दिल्ली रेफर किया गया। जहां बीच रास्ते में उसकी मौत हो गई। जिले में इस साल डेंगू की वजह से होने वाली यह पहली मौत है। डेंगू की वजह से अस्पताल के वार्ड फुल हैं। चिकित्सकों का कहना है कि डेंगू के कारण अनवी के लिवर और हार्ट पर बुरा असर पड़ा था।

चिकित्सालय के ब्लड बैंक में इन दिनों डेंगू की वजह से खून की मांग बढ़ गई है। यहां प्रतिदिन करीब 40 से 50 यूनिट की मांग डेंगू के मरीजों के लिए होने लगी है। अस्पताल के ज्यादातर बेड पर प्लेटलेट्स कम होने के कारण डेंगू के मरीज भर्ती हैं, जिनको ब्लड चढ़ाया जा रहा है। हालांकि डेंगू की स्थिति अभी काबू में है, लेकिन समय रहते यदि इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो हालात बेकाबू हो सकते हैं। 

अलवर के सामान्य चिकित्सालय के पीआरओ डॉ. सुनील चौहान ने बताया कि इन दिनों अस्पताल में डेंगू के मरीज भर्ती हो रहे हैं लेकिन अभी स्थिति सामान्य ही है। इसलिए समय रहते ही मरीज को इलाज ले लेना चाहिए। जिससे की ज्यादा परेशानी न हो। अस्पताल में डेंगू की जांच निशुल्क हो रही है।
... और पढ़ें
डेंगू डेंगू

अलवर: पत्नी के घूंघट न निकालने से गुस्साया शख्स, तीन साल की बेटी को पटककर मार डाला, पुलिस कर रही तलाश

राजस्थान के अलवर शहर में अपनी पत्नी के घूंघट न निकालने से गुस्साए एक शख्स ने अपनी ही तीन साल की बेटी को जमीन पर पटक कर मार डाला। शहर के बहरोर पुलिस थाने के एक अधिकारी ने गुरुवार को बताया कि मोनिका यादव नामक महिला ने इसकी शिकायत दर्ज कराई है।

महिला ने अपनी शिकायत में कहा है कि मंगलवार को मेरे पति प्रदीप यादव ने घूंघट निकालने को लेकर झगड़ा किया था। बहस के दौरान जब मैंने घूंघट निकालने से मना किया तो उसने हमारी बेटी को मुझसे छीन लिया और उसे कमरे से बाहर फेंक दिया, जिससे उसकी मौत हो गई।

मोनिका यादव ने आरोप लगाया है कि इसके बाद प्रदीप और उसके परिजनों ने बच्ची को चुपचाप दफन कर दिया। 

पुलिस ने इस मामले को लेकर कहा, 'महिला का कहना है कि उसका पति अक्सर घूंघट निकालने का दबाव बनाया करता था। मंगलवार को इसे लेकर दोनों के बीच झगड़ा भी हुआ था। फिर आरोपी ने बेटी को थप्पड़ मारा और महिला ने इस पर आपत्ति जताई तो उसे जमीन पर पटक दिया।'

वहीं, आरोपी अभी पुलिस की पकड़ से बाहर है। बहरोर पुलिस थाने के एसएचओ प्रेम प्रकाश ने कहा कि आरोपी फरार है। हम उसके साथ उन लोगों की तलाश भी कर रहे हैं जिन्होंने बच्ची को दफनाने में मदद की थी। एसएचओ ने कहा कि आरोपियों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
... और पढ़ें

अलवर: 24 घंटे पर पुलिस पर दूसरा हमला, एसएचओ और एएसआई समेत तीन पुलिसकर्मी घायल

राजस्थान में बदमाशों के हौसले इस कदर बुलंद हैं कि वे पुलिस पर हमला करने से भी नहीं चूक रहे। दरअसल, अलवर जिले में बदमाशों ने पुलिस टीम पर हमला बोल दिया, जिसमें एसएचओ और एएसआई समेत तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए। बताया जा रहा है कि पिछले 24 घंटे के दौरान पुलिस टीम पर यह दूसरा हमला है। इस मामले में जांच शुरू कर दी गई है। वहीं, आरोपियों की तलाश में लगातार दबिश दी जा रही है। 

यह है पूरा मामला
जानकारी के मुताबिक, अलवर जिले के किशनगढ़ बास के बख्तला गांव में पुलिस टीम हत्या के आरोपियों को पकड़ने गई थी। उस दौरान रिटायर्ड एएसआई और उसके परिजनों ने लाठी-डंडों से हमला बोल दिया। इस घटना में तिजारा कोतवाल जितेंद्र नरवरिया और एएसआई राजाराम सहित तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए। मामले की जानकारी मिलते ही एसपी राममूर्ति जोशी सहित आसपास के थानों की टीमें गांव पहुंच गईं। उन्होंने घेराबंदी करके आरोपियों की तलाश शुरू कर दी। 

तीन महीने पहले हुई थी हत्या
पुलिस के मुताबिक, दाईका गांव में करीब तीन महीने पहले एक महिला की हत्या हुई थी। इस मामले में आरोपी पप्पू खान और उसके परिजनों की तलाश की जा रही है, जिनके बख्तला गांव में रहने वाले रिटायर्ड एएसआई रहमुद्दीन के घर में छिपे होने की सूचना मिली थी। रहमुद्दीन को पप्पू खान का रिश्तेदार बताया जा रहा है। इसके बाद तिजारा थाना इंचार्ज जितेंद्र नावरिया के नेतृत्व में पुलिस टीम बनाई गई। पुलिस टीम ने दबिश दी तो उन पर लाठियों से हमला किया गया। जानकारी के मुताबिक, एक दिन पहले यानी सोमवार (28 जून) को भी पुलिस टीम पर हमला हुआ था। उस दौरान मालाखेड़ा में बदमाशों ने क्यूआरटी के जवान के पैर में गोली मार दी थी।
... और पढ़ें

चप्पल से पिटाई: वायरल हुआ वीडियो, पुजारी ने जहर गटक कर की खुदकुशी की कोशिश

राजस्थान के अलवर जिले के सदर थाना क्षेत्र में एक महिला द्वारा चप्पल से अपनी पिटाई का वीडियो वायरल होने के बाद पुजारी ने शुक्रवार को कथित रूप से आत्महत्या का प्रयास किया। पुलिस ने बताया कि महिला ने मंदिर के पुजारी जगदीश की तीन चार लोगों की मौजूदगी में चप्पल से पिटाई कर दी थी।

इस घटना का वीडियो बृहस्पतिवार को वायरल होने के बाद जगदीश ने शुक्रवार को कथित रूप से जहर खाकर आत्महत्या का प्रयास किया। उन्होंने बताया कि पुजारी को अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी हालत स्थिर है। उन्होंने बताया कि पुजारी के बेटे की शिकायत पर सदर थाने में महिला और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। वहीं महिला ने भी पुजारी के खिलाफ मंदिर में उसके साथ छेड़खानी का मामला दर्ज करवाया है। पुलिस मामलों की जांच कर रही है।
... और पढ़ें

पदकों के लिए प्रायोजक खोज रहा इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रशासन

प्रतीकात्मक तस्वीर
इलाहाबाद विश्वविद्यालय (इविवि) का दीक्षांत समारोह 23 सितंबर को प्रस्तावित है। उसी दिन इविवि का स्थापना दिवस भी है। दीक्षांत समारोह में इविवि प्रशासन टॉपर्स को अपनी तरफ से पदक प्रदान करेगा। साथ ही पदक बांटने के लिए प्रायोजक भी खोजे रहे हैं और इसके लिए एक कमेटी का गठन किया गया है। अगर किसी व्यक्ति को नाम विशेष या किसी की स्मृति पर पदक देना है तो वह कमेटी के समक्ष अपना प्रस्ताव रख सकता है। 

दीक्षांत समारोह के सिलसिले में विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से विभिन्न मेडल और छात्रवृत्ति प्रायोजित करने के प्रस्तावों को आमंत्रित किया गया है। हालांकि इलाहाबाद विश्वविद्यालय में दीक्षांत समारोह के अवसर पर पूर्व में भी मेडल और छात्रवृत्ति के लिए प्रस्ताव आमंत्रित किए जाते रहें हैं। विश्वविद्यालय के सहायक जनसंपर्क अधिकारी डॉ. चित्तरंजन कुमार के अनुसार कोई भी व्यक्ति अपने किसी प्रियजन या किसी विद्वान की स्मृति में उनके नाम से छात्रों के लिए मेडल और छात्रवृत्ति का प्रस्ताव विश्वविद्यालय को भेज सकता है। इससे जुड़े सभी विवरण विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है। 

इन प्रस्तावों पर विचार करने के लिए कुलपति प्रो. संगीता श्रीवास्तव ने तीन सदस्यीय मेडल कमेटी का गठन किया है। प्रो वंदना सिंह को कमेटी का अध्यक्ष और प्रो. आशीष खरे एवं प्रो. आरके सिंह को सदस्य बनाया गया है। यह कमेटी मेडल एवं छात्रवृत्ति प्रायोजित करने से जुड़े सभी प्रस्तावों पर विचार करके अंतिम निर्णय लेगी। इससे संबंधित पूरी प्रक्रिया के बारे में विस्तृत सूचना इलाहाबाद विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है। कुलपति के निर्देश पर दीक्षांत समारोह के लिए अलग-अलग कमिटियों का गठन किया जा रहा है। फिलहाल मेडल के लिए प्रस्ताव आमंत्रित किए गए हैं।
... और पढ़ें

अलवर में दर्दनाक हादसा : खड़े ट्रक में खेल रहे थे चार बच्चे, अचानक लगी आग में झुलसकर मौत

राजस्थान के अलवर जिले से एक दर्दनाक हादसे की खबर है। यहां के रामगढ़ थाना क्षेत्र में शनिवार शाम एक खड़े ट्रक में आग लगने से उसमें खेल रहे चार बच्चों की जलकर मौत हो गई।

थानाधिकारी रामनिवास मीणा ने रविवार को बताया कि चौमा गांव में एक खड़े ट्रक के भीतर चार बच्चे खेल रहे थे। ट्रक में संभवत: शार्ट सर्किट के कारण आग लग गई, जिसमें चारों बच्चे बुरी तरह झुलस गए थे। तीन बच्चों की मौत शनिवार रात उपचार के दौरान हो गई थी, जबकि एक ने रविवार सुबह उपचार के दौरान दम तोड़ दिया।

उन्होंने बताया कि मृतक बच्चों की पहचान अमान (8), शाहरुख (8), अज्जी (5), फैजान (6) के रूप में की गई है। परिजनों के आग्रह पर चारों के शव बिना पोस्टमार्टम के परिजनों को सौंप दिए गए। फिलहाल इस संबंध में अभी तक कोई मामला दर्ज नहीं हुआ है।
... और पढ़ें

राजस्थान:  राकेश टिकैत के काफिले पर हमले के मामले में पुलिस ने 14 लोगों को किया गिरफ्तार 

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत के काफिले पर हुए हमले के मामले में राजस्थान पुलिस ने 14 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए लोगों में एबीवीपी कार्यकर्ता कुलदीप यादव शामिल हैं। शुक्रवार को अलवर जाते वक्त तातरपुर गांव में कुछ लोगों की भीड़ ने टिकैत के काफिले पर हमला कर दिया था।

पुलिस ने इस मामले में 33 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। वहीं टिकैत ने शनिवार को आरोप लगाया कि उनके काफिले पर हुआ हमला केंद्र की सोची समझी साजिश थी और भाजपा की युवा शाखा के कार्यकर्ता इसमें शामिल थे।

अलीगढ़ में किसान महापंचायत को संबोधित करते हुए टिकैत ने कहा, इस तरह के हमले हमारे आंदोलन को कमजोर नहीं बल्कि और मजबूत करेंगे। हम किसान हैं कोई राजनीतिक पार्टी नहीं और यह हमारे अस्तित्व की लड़ाई है।
... और पढ़ें

बेकाबू कोरोना: राजस्थान में ऑक्सीजन की मांग पांच गुना तक बढ़ी, हर रोज 31,425 सिलेंडर की खपत

राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमितों की बढ़ती संख्या के बीच मेडिकल ऑक्सीजन की मांग बीते तीन महीने में लगभग पांच गुना बढ़कर 31,425 सिलेंडर प्रतिदिन हो गई है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने इस बारे में जानकारी दी। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि राज्य सरकार ऑक्सीजन की बढ़ती मांग को पूरा करने की भरसक कोशिश कर रही है। इसके तहत अलवर में 1,000 ऑक्सीजन सिलेंडर की क्षमता का नया संयंत्र लगाया गया है, जबकि राजसमंद में 1,200 सिलेंडर प्रतिदिन क्षमता का संयंत्र अगले सप्ताह शुरू होने की संभावना है।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. शर्मा ने बताया कि राज्य में तीन महीने पहले ऑक्सीजन की खपत लगभग 6,500 सिलेंडर प्रतिदिन थी, जो फिलहाल बढ़कर 31,425 सिलेंडर प्रतिदिन हो गई है। उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में हो रही निरन्तर वृद्धि के कारण आपातकालीन चिकित्सकीय ऑक्सीजन सिलेंडर की मांग लगातार बढ़ रही है। बढ़ती मांग को पूरा करने का भरसक प्रयास किया जा रहा है। चिकित्सा सचिव सिद्धार्थ महाजन ने बताया कि ऑक्सीजन के प्रबन्ध के लिए राज्य सरकार ने युद्ध स्तर पर प्रयास किए हैं। आपात स्थिति को देखते हुए जामनगर (गुजरात) से ऑक्सीजन टैंकरों की वायु मार्ग से आपूर्ति की गई है। साथ ही अलवर जिले में 1,000 सिलेंडर प्रतिदिन उत्पादन क्षमता का नया संयंत्र लगाया गया है।

1,200 सिलेंडर प्रतिदिन क्षमता का प्लांट शुरू
महाजन ने बताया कि अगले सप्ताह तक 1,200 सिलेंडर प्रतिदिन क्षमता का संयंत्र दरीबा (राजसमंद) में हिन्दुस्तान जिंक लिमिटेड द्वारा प्रारम्भ किया जा रहा है। इसके अलावा 500 सिलेंडर का उत्पादन शीघ्र ही शुरू हो रहा है। उन्होंने कहा कि समय पर ऑक्सीजन आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए ऑक्सीजन टैंकर में जीपीएस सिस्टम लगाये गये हैं और वाहनों की निगरानी राज्य नियंत्रण कक्ष से की जा रही है।
महाजन ने बताया कि ऑक्सीजन की औद्योगिक प्रयोजन से आपूर्ति पूर्णतः बंद करते हुए समस्त आपूर्ति को चिकित्सा उद्देश्य से सुनिश्चित किया गया है।
... और पढ़ें

अलवर: एसआई ने वर्दी को किया कलंकित, पति के खिलाफ शिकायत लेकर पहुंची महिला संग थाने में किया रेप

अलवर के खेड़ली से महिला दिवस के दिन एक शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। यहां थाने में मदद की गुहार लगाने गई महिला को एक पुलिसकर्मी ने अपनी हवस का शिकार बना लिया।  दरअसल, 26 वर्षीय पीड़िता खेड़ली थाने में पति के खिलाफ प्रताड़ना का मामला दर्ज कराने आई थी, लेकिन यहां मौजूद 54 साल के पुलिस उप निरीक्षक ने थाने में ही उसके साथ बलात्कार को अंजाम दिया।

पीड़िता का आरोप है कि वह दो मार्च को पति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने खेड़ली थाना गई थी, जहां उसकी मुलाकात सब इंस्पेक्टर भारत सिंह से हुई। पीड़िता का कहना है कि भरत ने उन्हें भरोसा दिलाया कि वह पति के साथ चल रहे उनके विवाद को काउंसिलिंग की मदद से सुलझवा देगा। इसके बाद वह उसे थाना परिसर के एक कमरे में ले गया और उसके साथ रेप जैसी घिनौनी वारदात को अंजाम दे डाला।

पीड़िता ने यह भी आरोप लगाया है कि जब वह अपने साथ हुई दरिंदगी की शिकायत करने थाने पहुंची तो उसकी एफआईआर दर्ज नहीं की गई और पुलिस दिनभर मामले को छुपाती रही। हालांकि अब इस मामले की खबर उच्चाधिकारियों तक पहुंच चुकी है। इसके बाद जयपुर रेंज आईजी हवासिंह घुमरिया और अलवर एसपी थाने ने देर रात थाने भी पहुंचे थे, जिसके बाद आरोपी एसआई भरत सिंह जादौन को गिरफ्तार कर लिया गया। 

महिला ने संगीन आरोप लगाते हुए बताया है कि जादौन ने उसे राहत दिलाने और पति के साथ काउंसिलिंग कराने के नाम पर थाने में बने एक कमरे में तीन दिन तक दुष्कर्म किया। वहीं, मामले में आईजी का कहना है कि पीड़िता का मेडिकल करा लिया गया है।

इसके अलावा अलवर एसपी तेजस्विनी गौतम ने जानकारी दी कि आरोपी के खिलाफ खिलाफ धारा 376 के तहत दुष्कर्म का मामला दर्ज किया गया है। हालांकि, आरोपी को अभी तक सस्पेंड नहीं किया गया है।

उल्लेखनीय है कि पीड़ित महिला ने पति के खिलाफ परिवाद दिया। इसमें लिखा कि उसका पति उसे तलाक की धमकी देता है, लेकिन वह ऐसा नहीं करना चाहती। एसआई ने उसे झांसा दिया कि वह उसके और पति के बीच काउंसिलिंग कराने के साथ परिवाद में मदद करेगा, लेकिन उसने थाने परिसर में बने अपने आवासीय रूम में महिला के साथ दुष्कर्म किया।

इतना ही नहीं इसके बाद आरोपी एसआई ने उसे तीन और 4 मार्च को भी थाने बुलाया और दुष्कर्म  किया। इसके बाद रविवार शाम जब पीड़िता शिकायत दर्ज कराने गई, तब भी एसआई ने उससे छेड़छाड़ और दुष्कर्म का प्रयास किया।

गौरतलब है कि अलवर में पिछले सात दिन में यह दूसरी बार है जब पुलिसकर्मी पर दुष्कर्म का आरोप लगा है। इससे पहले एक महिला ने दो मार्च को अरावली विहार थाने के एएसआई रामजीत गुर्जर पर रेप का आरोप लगाया था। इन घटनाओं से राजस्थान पुलिस एक बार फिर से सवालों के घेरे में है।

... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00