shakti shakti

जानें कौन थी लेफ्टिनेंट कर्नल मलालाई कक्कड़, अफगानिस्तान में महिलाओं की सुरक्षा के लिए पहनी थी वर्दी

लाइफस्टाइल डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: शिवानी अवस्थी Updated Mon, 13 Sep 2021 11:56 AM IST
Afghan Female Police Officer
Afghan Female Police Officer - फोटो : Twitter/the_memorypage
विज्ञापन
ख़बर सुनें
विज्ञापन
अफगानी महिलाओं की दुर्दशा और उन पर लगी बंदिशें किसी से छुपी नहीं हैं। अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा होने के बाद से तो देश की महिलाओं की स्थिति और खराब होने का दावा किया जा रहा है। कहा जाता है कि तालिबान ने अफगानी महिलाओं के ऊपर कई नियम कायदे लगाए। उन्हें बिना परिवार के पुरुष के घर से बाहर निकलने तक की मनाही हैं। महिलाओं की पढ़ाई पर तरह तरह की बंदिशें हैं लेकिन क्या हमेशा से अफगानी महिलाओं ही यही स्थिति थीं? क्या किसी भी अफगानी महिला ने इन सख्त नियमों से आजादी और अपने देश के नाम को बढ़ाने के लिए कुछ बड़ा नहीं क्या? अगर आप भी ऐसा सोच रहे हैं तो ये गलत हैं। अफगानी महिलाओं की स्थिति हमेशा से इतनी खराब नहीं थीं। उन्हें पढ़ने, मन मुताबिक कपड़े पहनने और देश की बड़ी संस्था में एक सम्मानित पद पर काम करने की आजादी थी। इस आजादी का भरपूर फायदा उठाया मलालाई कक्कड़ ने। ये नाम भले ही आपने न सुना हो, लेकिन अफगानिस्तान के इतिहास में इस महिला ने अपना नाम अपने काम के बलबूते सुनहरे अक्षरों से लिख दिया है। चलिए जानते हैं कि ये अफगानी दिलेर महिला मलालाई कक्कड़ कौन हैं, इनके नाम क्या उपलब्धि है।

मलालाई कक्कड़ का जन्म

दरअसल, मलालाई कक्कड़ का जन्म 1967 में अफगानिस्तान के कंधार में हुआ था। उनके पिता और भाई पुलिस विभाग में काम करते थे। काकर भी अपने पिता और भाइयों के नक्शेकदम पर चलते हुए अफगान पुलिस बल में शामिल हो गईं। साल 1982 में उन्होने पुलिस बल ज्वाइन किया। हालांकि 1990 में जब तालिबान ने कंधार पर कब्जा किया तो महिलाओं के काम करने पर रोक लगा दी।


अफगानिस्तान की पहली महिला पुलिस अधिकारी

बाद में तालिबान सत्ता से बेदखल हो गया, जिसके तुरंत पर मलालाई कक्कड़ अपनी ड्यूटी पर वापस लौट आयी। जब देश तालिबानियों के आतंक से सहमा हुआ था, खासकर औरतें तो उस दौर में काकर काम पर वापस लौटने वाली देश की पहली महिला पुलिस अधिकारी थीं। 

महिलाओं के लिए कक्कड़ ने क्या किया
 
मलालाई कक्कड़ महिला अपराध पर अधिक फोकस करती थीं। अफगानिस्तान में विद्रोहियों के खिलाफ जंग में इस दिलेर महिला पुलिसकर्मी ने अहम भूमिका निभाती थी। दरअसल, जब सुरक्षाबल और पुलिस अलगाववादियों को पकड़ने के लिए घरों में तलाशी लेते थे तो महिलाओं के कमरों में प्रवेश करने और उनकी तलाशी लेने में काफी समस्या आती थी, क्योंकि इससे अफगान के लोग नाराज हो जाते थे। विद्रोही महिलाओं के कमरों में हथियार छुपा देते थे, या बुर्का पहन कर छिप जाते थे। इस तरह के अभियान में कक्कड़ शामिल होती थीं और महिलाओं की तलाशी लेती थीं।

मलालाई कक्कड़ की गोली मारकर हत्या

28 सितंबर 2008 को तालिबान के गनमैन ने कक्कड़ की गोली मारकर हत्या कर दी। दावा किया गया कि मोटरसाइकिल पर सवार दो बंदूकधारियों ने अफगानिस्तान की सबसे हाई-प्रोफाइल महिला पुलिस अधिकारी कक्कड़ के घर के पास ही उन्हें गोली मार दी, जब वह काम पर जाने के लिए घर से निकली थीं। सिर पर गोली लगने से उनकी तुरंत मौत हो गई। उस समय काकर का 18 वर्षीय बेटा उनकी कार चला रहा था, जो गंभीर रूप से घायल हो गया।

मलालाई कक्कड़ के 6 बच्चे थे और जब उनका निधन हुआ तो वह लगभग 40 साल की थीं। कहा जाता हैं कि उस दौर में अफगान पुलिस बल में 80,000 पुलिसकर्मियों में मात्र 700 महिला पुलिस कर्मी थीं।

मलालाई कक्कड़ के नाम ये उपलब्धि

कक्कड़ कंधार पुलिस अकादमी से स्नातक होने वाली पहली महिला थीं। तालिबान के सत्ता से हटने के बाद काम पर लौटने वाली पहली महिला पुलिस अधिकारी बनी। इतना ही नहीं मलालाई कक्कड़ कंधार पुलिस विभाग के साथ एक अन्वेषक या इनवेस्टिगेटर बनने वाली पहली अफगानी महिला भी थीं। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें  लाइफ़ स्टाइल से संबंधित समाचार (Lifestyle News in Hindi), लाइफ़स्टाइल जगत (Lifestyle section) की अन्य खबरें जैसे हेल्थ एंड फिटनेस न्यूज़ (Health  and fitness news), लाइव फैशन न्यूज़, (live fashion news) लेटेस्ट फूड न्यूज़ इन हिंदी, (latest food news) रिलेशनशिप न्यूज़ (relationship news in Hindi) और यात्रा (travel news in Hindi)  आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़ (Hindi News)।  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00