विज्ञापन

किक बॉक्सिंग के राष्ट्रीय जज और रेफरी बने प्रवीण कुमार

पंकज तन्हा, अमर उजाला, नाहन (सिरमौर) Updated Fri, 09 Nov 2018 06:00 AM IST
Praveen Kumar becomes the National Judge and the referee of the Kick Boxing
ख़बर सुनें
जिले के पच्छाद विस क्षेत्र की लाना भल्टा पंचायत के गांव मियूं-मिऊंटा निवासी प्रवीण कुमार किक बॉक्सिंग के लिए राष्ट्रीय जज और रेफरी नियुक्त किए गए हैं। प्रवीण कुमार अब राष्ट्रीय स्तर पर होने वाली किक बॉक्सिंग प्रतियोगिता में जज और रेफरी की भूमिका निभाएंगे।प्रवीण को यह उपलब्धि दिल्ली में हुए इंडियन किक बॉक्सिंग टीम के सेमीनार के दौरान हासिल हुई।
विज्ञापन
विज्ञापन
सेमीनार में राष्ट्रीय जज और रेफरी बनने की हसरत लिए देश भर के दर्जनों प्रशिक्षुओं ने हिस्सा लिया। सभी प्रतिभागी प्रशिक्षुओं को किक बॉक्सिंग की सभी आठ शैलियों सेमी कांटेक्ट, लाइट कांटेक्ट, पाइंट फाइट, किक लाइट, फल कांटेक्ट, लौ किक, थाई बॉक्सिंग, म्यूजिकल, ऐरो किक बॉक्सिंग, जज और रेफरीशिप संबंधी तकनीकी जानकारी किक बॉक्सिंग महासंघ के राष्ट्रीय तकनीकी निदेशक वीएस रावत ने दी।

इसके बाद प्रतिभागियों के प्रदर्शन के आधार पर उन्हें किक बॉक्सिंग में राष्ट्रीय स्तर के जज और रेफरी की भूमिका के लिए चुना गया। शिविर के समापन समारोह में प्रवीण कुमार को राष्ट्रीय किक बॉक्सिंग के अध्यक्ष योगेश शाद और राष्ट्रीय तकनीकी निदेशक वीएस रावत ने प्रमाण पत्र भी दिया। प्रवीण कुमार नाहन में ड्रैगन मार्शल आर्ट अकादमी से कराटे की कोचिंग ले चुके हैं।

अब अकादमी के मुख्य प्रशिक्षक जावेद उल्फत के सानिध्य में नवोदित प्रशिक्षुओं को कोचिंग भी दे रहे हैं। अमर उजाला से बातचीत में प्रवीण कुमार ने बताया कि उनकी उपलब्धि में प्रदेश किक बॉक्सिंग महासंघ के अध्यक्ष संदीप शर्मा, महासचिव इकबाल मलिक तथा ड्रेगन मार्शल आर्ट अकादमी के मुख्य प्रशिक्षक जावेद उल्फत का भी योगदान रहा है।

Recommended

कुंभ मेले में अतुल धन, वैभव, समृधि प्राप्ति हेतु विशेष पूजा करवायें मात्र ₹1100 में
त्रिवेणी संगम पूजा

कुंभ मेले में अतुल धन, वैभव, समृधि प्राप्ति हेतु विशेष पूजा करवायें मात्र ₹1100 में

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Dehradun

दिवाकर बने इंडो-वियतनाम सोलिडरिटी कमेटी के उपाध्यक्ष

वरिष्ठ पत्रकार, साहित्यकार और आधारशिला पत्रिका के संपादक डॉ. दिवाकर भट्ट को इंडो वियतनाम सोलिडरिटी कमेटी का उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

17 जनवरी 2019

विज्ञापन

आखिर कुंभ के बाद कहां गायब हो जाते हैं नागा साधु...

नागा साधुओं की दुनिया भी बड़ी ही रहस्यमयी होती है। कुंभ के शुरू होते ही वो अचानक से प्रकट हो जाते हैं और खत्म होते ही फिर न जाने कहां गायब हो जाते हैं। इसके बाद फिर वो अगले कुंभ या अर्धकुंभ में ही नजर आते हैं।

17 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree