एम्स बिलासपुर: जेपी नड्डा बोले- जो समाज अच्छे की पीठ न ठोके और गलत को घर न बिठाए, वह समाज जागरूक नहीं

संवाद न्यूज एजेंसी, बिलासपुर Published by: अरविन्द ठाकुर Updated Sun, 05 Dec 2021 11:38 PM IST

सार

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कहा कि जून 2022 तक एम्स पूरी तरह बनकर तैयार हो जाएगा। अगले साल पीएम नरेंद्र मोदी एम्स का श्रीगणेश करेंगे।
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा।
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा। - फोटो : संवाद
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

कोठीपुरा में निर्माणाधीन अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की ओपीडी का रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने शुभारंभ किया। इस दौरान कोविड वैक्सीन की दूसरी डोज में भी 100 फीसदी लक्ष्य हासिल करने पर हिमाचल प्रदेश के देश भर में नंबर वन होने का एलान भी किया गया। इस कार्यक्रम पर अपने गृह क्षेत्र पहुंचे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि जो समाज अच्छे की पीठ न ठोके और गलत लोगों को घर न बैठाए, वह जागरूक नहीं है। उन्होंने कहा कि मेरा इशारा समझो। नेता, नेतृत्व करने वाली पार्टी को आगे लाना है ताकि देश और प्रदेश सुरक्षित हाथों में रहे।
विज्ञापन

   
जैसे ही नड्डा का संबोधन शुरू हुआ, वैसे ही पूरा पंडाल शंख ध्वनि से गूंज उठा। लोगों ने नारे लगाकर एम्स के लिए उनका आभार जताया। नड्डा ने कहा कि जून 2022 तक एम्स पूरी तरह बनकर तैयार हो जाएगा। अगले साल पीएम नरेंद्र मोदी एम्स का श्रीगणेश करेंगे। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया भी मौजूद रहेंगे। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी न होते तो क्या सोच सकते थे कि दिल्ली के बाहर भी कोई एम्स बनेगा। 1960 में दिल्ली में एम्स बना था और उसी समय चंडीगढ़ में पीजीआई बना था। किसी ने नहीं सोचा कि ऐसा संस्थान प्रदेश में भी होना चाहिए। आज देश में 22 एम्स बन रहे हैं।


कभी कोई केंद्रीय मंत्री बिलासपुर नहीं आया। आज एम्स की समीक्षा के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री आए हैं। नड्डा ने कहा कि उजाले का मजा लेना हो तो अंधकार की तरफ नजर रखो। नड्डा ने कहा कि पहले हिमाचल को इतना बड़ा प्रतिनिधित्व नहीं मिला। पीएम मोदी के नेतृत्व के कारण यह सब हो पाया है। जब मैं विधायक होता था तो 40 लाख बोलने में भी दिक्कत होती थी। एक्सईएन को पूछना पड़ता था कि आ जाएगा या नहीं। आज हम बोलते हैं 500 करोड़, 1000 करोड़। यह सब नेता के नीति निर्धारकों का फर्क है। 

आयुष ब्लॉक के 10 कमरों में 19 ओपीडी शुरू
एम्स में सोमवार से लोगों को 19 ओपीडी की सुविधा मिलना शुरू हो जाएगी। आयुष ब्लॉक में 12 ओपीडी हैं लेकिन ओपीडी 10 कमरों में चलेंगी। पंजीकरण के लिए आठ काउंटर बनाए गए हैं। सोमवार से चार काउंटर ही शुरू होंगे। 1 नंबर कंप्यूटर पर स्पॉट अप्वाइंटमेंट दी जाएगी। अन्य तीन पर पंजीकरण किया जाएगा। चिकित्सकों से अप्वाइंटमेंट के लिए फोन नंबर भी जारी किए गए हैं। सोमवार से जनरल मेडिसिन, जनरल सर्जरी, स्त्री विशेषज्ञ, बाल रोग, ऑर्थो, ईएनटी, स्किन, नवजात शिशु ओपीडी, बाल चिकित्सा सर्जरी विशेषज्ञ, नेत्र विशेषज्ञ, प्लास्टिक सर्जरी, न्यूरोलॉजी, सीटीवीएस, शल्य चिकित्सा, नेफरोलॉजी, किडनी विशेषज्ञ, एंडोक्रिनोलॉजी, क्लीनिकल लैबोरेटरी और रेडियो थेरेपी की सुविधा मिलेगी। एक्सरे और अल्ट्रासाउंड की सुविधा भी ओपीडी में मिलेगी।

नड्डा ने थपथपाई जयराम की पीठ 
दूसरी डोज का संपूर्ण लक्ष्य प्राप्त कर देश भर में अव्वल रहने पर जेपी नड्डा ने सीएम जयराम ठाकुर की पीठ थपथपाई। प्रदेश में 30 अगस्त को कोविड वैक्सीनेशन की पहली डोज सभी को लग चुकी थी। वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार 18 साल से ऊपर की प्रदेश में 53.77 लाख आबादी को टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया था। 6 सितंबर को पीएम मोदी ने वर्चुअल कार्यक्रम के माध्यम से हिमाचल के अधिकारियों और लाभार्थियों से बात कर प्रदेश सरकार की पीठ थपथपाई थी।

चिकन पॉक्स वैक्सीन यूएसए में 1995 में आई, भारत में 2005 में लगा टीका
कोठीपुरा में एम्स की ओपीडी के शुभारंभ पर आयोजित कार्यक्रम में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि कोरोना के समय यूरोप तक तय नहीं कर पाया कि लॉकडाउन लगाएं या नहीं। पीएम मोदी ने समय पर कड़ा फैसला लिया। जान भी है जहान भी है। सबको बचाने का प्रयास किया। चिकन पॉक्स वैक्सीन यूएसए में 1995, भारत में 2005 में आया। टीबी की बीसीजी वैक्सीन 1921 में आई, भारत में 1978 में यह इंजेक्शन लगा। किसने कहा 1978 तक इंतजार करो। दुनिया में पोलियो ड्राप्स 1955 में आई और भारत में 1985 में। यह भी तब हुआ जब दिल्ली में हर्षवर्धन स्वास्थ्य मंत्री बने। आज भारत कोविड की वैक्सीन तैयार कर दूसरे देशों को भेज रहा है।

कोलडैम बनाने को करना पड़ा अटल जी का इंतजार
जेपी नड्डा ने कहा कि मैं छोटा होता था तो अपने मामा के साथ कोलडैम जाता था। उस समय वहां बोलते थे कि यहां ‘कढ़ाई डैम’ लगेगा, लेकिन मैं बड़ा हुआ राजनीति में आया और उस कढ़ाई डैम को कोलडैम बनने के लिए अटल जी का इंतजार करना पड़ा। तब जाकर वह शुरू हुआ।

मैं डॉक्टरों का वकील
नड्डा ने कहा कि अस्पतालों में चिकित्सक 48 घंटे सेवाएं दे रहे हैं। विदेशों में चिकित्सक 15 से ज्यादा मरीजों का उपचार नहीं करते, लेकिन भारत में एक डॉक्टर 100 से 150 मरीजों की जांच ओपीडी में करता है। उनके कार्य की सराहना होनी चाहिए।

नड्डा ने गाड़ी से किया एम्स परिसर का दौरा
भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने गाड़ी में एम्स परिसर का दौरा किया। उन्होंने देखा कौन सा भवन तैयार है और किसका काम बाकी है। इसके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया के साथ आयुष ब्लॉक में एम्स ओपीडी का शुभारंभ करने पहुंचे। नड्डा ने लोकार्पण के बाद सभी ओपीडी का निरीक्षण किया। उसके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, स्वास्थ्य मंत्री राजी सैजल, एम्स प्रबंधन और प्रदेश के स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ बैठक की।

एम्स निदेशक वीर सिंह नेगी ने एम्स के निर्माण कार्य और लोगों को मिलने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी दी। बताया कि आयुष ब्लॉक में सुपर स्पेशलिस्ट समेत करीब 19 ओपीडी शुरू हो रही हैं। माइनर ओटी की भी व्यवस्था रहेगी। एम्स तैयार करने के लिए 1471 करोड़ खर्च होंगे। उन्होंने आश्वस्त किया कि जून 2022 में एम्स तैयार हो जाएगा। 

छोटे राज्य हिमाचल ने कर दिखाया कमाल : मांडविया
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने संबोधित करते हुए कहा कि हिमाचल फुली वैक्सीनेटेड स्टेट हो गया है। यह संदेश लेकर वह अब पूरे देश में जाएंगे। उन्होंने कहा कि आपका राज्य छोटा है पर कमाल का काम करता है। पहाड़ी और दुर्गम क्षेत्र होने के बाद भी संपूर्ण वैक्सीनेशन में देश भर में पहला स्थान प्राप्त करना बड़ी उपलब्धि है।मांडविया ने कहा कि कोविड संकट के दौरान भारत ने 150 देशों को दवाइयां उपलब्ध करवाई हैं। नौ महीने में दुनिया के साथ देश में वैक्सीन की रिसर्च हुई।

पीएम मोदी ने खुद कंपनियों में जाकर वैक्सीन बनाने के लिए उनकी जरूरतों के बारे में पूछा। देश में बनी वैक्सीन को आज विदेशों में निर्यात किया जा रहा है। 127 करोड़ लोगों को देशभर में कोविड का टीका लगाया जा चुका है। आज देश में हर माह लोगों को 22 से 23 करोड़ कोविड वैक्सीन लगती हैं। देश में हर माह 31 से 32 करोड़ वैक्सीन तैयार हो रही हैं। इसे विदेशों में भी भेज रहे हैं। उन्होंने कहा कि देश में ब्रेन और पावर की कोई कमी नहीं है। नासा में 10 में से 3 वैज्ञानिक भारत के हैं। अंतरराष्ट्रीय कंपनियों में बडे़ पदों पर 10 में से 7 अधिकारी भारत के हैं। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने अर्थव्यवस्था को भी सुधारा है। 

पंजाब के निजी अस्पतालों व राजस्थान में कूड़े में मिलती थी वैक्सीन: अनुराग
केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश जीरो वेस्टेज पर संपूर्ण वैक्सीनेशन करने में नंबर वन बना है। पंजाब में वैक्सीन निजी अस्पतालों और राजस्थान में कूड़े के ढेर में पड़ी मिलती थी। आज भारत तकनीकी क्षेत्र में इतना आगे है कि दूसरे देश भी हमें फॉलो कर रहे हैं। कहा कि कोविड वैक्सीनेशन को लेकर हिमाचल ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है।  

हिमाचल प्रदेश पूर्ण राज्यत्व दिवस को स्वर्ण जयंती के रूप में मना रहा है। इतने सालों तक किसी ने हिमाचल के बारे में नहीं सोचा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिमाचल को एम्स की सौगात दी। नड्डा स्वास्थ्य मंत्री थे तो हिमाचल के लिए छह मेडिकल कॉलेज दिए। ऊना में पीजीआई सेटेलाइट सेंटर दिया। प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने के प्रयास किए। 

24 मार्च, 2020 के बाद सोचा नहीं था कि दोबारा हम इस तरह से इकट्ठा हो पाएंगे। कहा कि बिलासपुर मेरा लोकसभा क्षेत्र है। नड्डा जब पहले यहां आए, तब 80 फीसदी लोगों का टीकाकरण हुआ था। सभी का सहयोग नहीं मिलता तो छोटे से प्रदेश के लिए इतनी बड़ी उपलब्धि हासिल करना संभव नहीं था। आपदा के समय में सबसे पहले वैक्सीनेशन का लक्ष्य पूरा किया गया।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यूपीए सरकार ने जो एम्स बनाने शुरू किए थे, उन्हें मोदी सरकार पूरा कर रही है। आजादी के बाद जितने एम्स बने, उससे ज्यादा मोदी सरकार ने बनवाए हैं। अनुराग ने कहा कि आपदा नहीं आती तो एम्स का काम अब तक पूरा हो जाता। अगले छह महीने में एम्स में हर सुविधा मिलेगी। अब हिमाचल के मरीज एम्स दिल्ली और पीजीआई चंडीगढ़ नहीं जाएंगे।

जो कहते थे नहीं लगाएंगे भाजपा की वैक्सीन, अब पूछते हैं कब लगेगा दूसरा टीका : जयराम 
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने संपूर्ण वैक्सीनेशन कार्यक्रम में स्वास्थ्य कर्मचारियों को सम्मानित करने के बाद विपक्ष पर जमकर हमला बोला। कहा कि कोरोना काल में विरोधियों ने राजनीति की। लोगों को वैक्सीन के प्रति भ्रमित किया। कहा कि भाजपा की वैक्सीन नहीं लगवाएंगे। अब वही मास्क लगाकर जाते हैं और फिर नर्सों से पूछते हैं कि दूसरी डोज कब लगेगी।

कहा कि छोटा राज्य होने के बावजूद हिमाचल ने बड़ा लक्ष्य हासिल किया है। कोविड टीकाकरण में प्रदेश की जनता, स्वास्थ्य कर्मचारियों ने भरपूर सहयोग किया। उन्होंने कहा कि डीसी के साथ अधिकारियों, डॉक्टरों, हेल्थ वर्करों की टीम हेलीकॉप्टर से बड़ा भंगाल भेजी गई। गांव के 150 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। सीएम ने कहा कि कुल्लू के मलाणा गांव में देवता की अनुमति के बिना कुछ नहीं होता।

2000 से ज्यादा लोग गांव में रहते हैं। डीसी कुल्लू से कहा गया कि डॉक्टरों और हेल्थ वर्करों की टीम लेकर मलाणा जाएं। देवता के कारदारों से बातचीत की गई। देवता जमदग्नि ऋषि ने वैक्सीन लगाने की अनुमति दी। शिमला के दुर्गम क्षेत्र डोडरा क्वार पहुंचना मुश्किल था। कहा कि मैं डोडराक्वार गया तो डॉक्टरों की टीम के साथ 2500 वैक्सीन भी ले गए। घर-घर जाकर वैक्सीन लगाई। किन्नौर ने दूसरी डोज में पहला स्थान हासिल किया। 

बडे़ राज्यों को छोड़ा पीछे, सूबे के दो बड़े चेहरे कर रहे देश का प्रतिनिधित्व
सीएम ने कहा कि हिमाचल जनसंख्या में भले ही छोटा हो, लेकिन बडे़ कार्यों में सफलता पाई है। हिमाचल में कहीं बर्फबारी हुई तो कहीं नदियों और पहाड़ पार कर वैक्सीनेशन के लिए जाना पड़ा। कहा कि हिमाचल जैसे छोटे से राज्य से दो बडे़ चेहरे देश का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। ये राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर हैं। कहा कि एम्स के रूप में नड्डा ने राज्य को एम्स जैसा बड़ा उपहार दिया है। आज एम्स की ओपीडी का लोकार्पण किया गया। 

संपूर्ण वैक्सीनेशन में बेहतरीन सेवाएं देने वाले 12 अधिकारी, कर्मचारी सम्मानित
संपूर्ण वैक्सीनेशन कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए अधिकारियों, स्वास्थ्य कर्मचारियों को सम्मानित किया गया। इनमें बिलासपुर से डिस्ट्रिक इम्युनाइजेशन अधिकारी डॉक्टर परविंद्र सिंह, चंबा के बनीखेत से फीमेल हेल्थ वर्कर रेखा कुमारी, हमीरपुर से स्टाफ नर्स विजेता कुमारी, कांगड़ा से डॉक्टर सौरव रत्न, कुल्लू से हेल्थ वर्कर नीलम पंडित, किन्नौर से मेल हेल्थ सुपरवाइजर सुभाष चंद, लाहौल स्पीति से डाटा एंट्री ऑपरेटर पूनम देवी, मंडी से मेडिकल ऑफिसर हेल्थ डॉक्टर दिनेश कुमार, शिमला से फीमेल हेल्थ वर्कर संतोष नेगी, सिरमौर से फीमेल हेल्थ वर्कर शीला देवी, सोलन से जिला प्रोग्राम अधिकारी डॉक्टर गगनदीप राजहंस, ऊना से मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर निखिल शर्मा शामिल हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00