Hindi News ›   Spirituality ›   Festivals ›   Ganesh Jayanti 2022 Maghi Ganesh Jayanti Date Tithi Puja Subh Muhurat Importance Of Magh Vinayak Chaturthi

Ganesh Jayanti 2022: आज है गणेश जयंती, जानें तिथि, पूजा का शुभ मुहूर्त एवं महत्व

धर्म डेस्क, अमरउजाला, नई दिल्ली Published by: श्वेता सिंह Updated Fri, 04 Feb 2022 09:10 AM IST

सार

Ganesh Jayanti 2022: इस वर्ष गणेश जयंती 4 फरवरी दिन, शुक्रवार को मनाई जाएगी। मान्यता है कि गणेश जयंती के दिन व्रत करने और गणेश जी के जन्मकथा का श्रवण करने से सभी मनोकामना पूर्ण होती हैं। इसके साथ ही आपके समस्त कार्य पूर्ण होते हैं। आइए जानते हैं कि गणेश जयंती के मुहूर्त, तिथि और धार्मिक महत्व के बारे में- 
 
Ganesh Jayanti 2022
Ganesh Jayanti 2022 - फोटो : istock
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

Ganesh Jayanti 2022: इस महीने में भगवान गणेश से जुड़े दो महत्वपूर्ण व्रत आएंगे एक है सकट चौथ और दूसरा गणेश जयंती या माघ विनायक चतुर्थी। हिन्दी पंचांग के अनुसार, माघ मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को गणेश जयंती मनाई जाती है। इस दिन ही भगवान गणेश जी का जन्म हुआ था। इस दिन को माघी गणेश चतुर्थी, माघ विनायक चतुर्थी या तिलकुंड चतुर्थी भी कहा जाता है। इस वर्ष गणेश जयंती आज यानि 4 फरवरी दिन, शुक्रवार को मनाई जा रही है। मान्यता है कि गणेश जयंती के दिन व्रत करने और गणेश जी के जन्मकथा का श्रवण करने से सभी मनोकामना पूर्ण होती हैं। इसके साथ ही आपके समस्त कार्य पूर्ण होते हैं। आइए जानते हैं कि गणेश जयंती के मुहूर्त, तिथि और धार्मिक महत्व के बारे में- 

विज्ञापन

गणेश जयंती 2022
गणेश जयंती 2022 - फोटो : istock
गणेश जयंती 2022 तिथि और पूजा मुहूर्त
चतुर्थी तिथि का आरंभ:
 04 फरवरी, शुक्रवार, प्रात: 04: 38 मिनट से 
चतुर्थी तिथि का समाप्त: 05 फरवरी, शनिवार, प्रात: 03: 47 मिनट तक
शुभ मुहूर्त: 04 फरवरी, शुक्रवार, प्रातः11: 30 मिनट से दोपहर 01: 41 मिनट तक
कुल अवधि: 02 घंटा 11 मिनट

 

गणेश चतुर्थी 2022
गणेश चतुर्थी 2022 - फोटो : Pixabay
दो शुभ योग में मनाई जाएगी गणेश जयंती
इस बार की गणेश जयंती दो शुभ योग में मनाई जाएगी। 04 फरवरी को  सुबह 07: 08 मिनट से दोपहर 03:58 मिनट तक रवि योग है और इसके उपरांत सायं 07: 10 मिनट तक शिव योग है।

गणेश जयंती 2022
गणेश जयंती 2022 - फोटो : Pixabay
गणेश जयंती का महत्व
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार श्री गणेश की रचना माता पार्वती ने उबटन से की थी और उसमें प्राण प्रतिष्ठा की थी। उस समय माघ मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी थी।  इस वजह से इस दिन गणेश जयंती मनाई जाती है।  मान्यता है कि गणेश जयंती के दिन श्री गणेश की पूरे विधि विधान से आराधना करने से वे प्रसन्न हो जाते हैं। गणेश जयंती माघ मास की विनायक चतुर्थी के दिन आती है और इस दिन चंद्र दर्शन वर्जित है। गणेश जयंती के दिन चंद्र दर्शन न करें अन्यथा आप पर झूठे आरोप लगने की संभावना बढ़ सकती है। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें
सबसे तेज और बेहतर अनुभव के लिए चुनें अमर उजाला एप
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00