लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Spirituality ›   Religion ›   dattatreya jayanti 2022 significance and know all facts about lord dattatreya

Dattatreya Jayanti 2022: कौन है भगवान दत्तात्रेय और जानिए इनसे जड़ी रोचक बातें

अनीता जैन , वास्तुविद Published by: विनोद शुक्ला Updated Wed, 07 Dec 2022 08:08 AM IST
सार

सनातन धर्म में भगवान दत्तात्रेय का विशिष्ट स्थान है। इनके अंदर गुरु और ईश्वर दोनों का स्वरूप निहित होता है। भगवान दत्त के नाम पर दत्त संप्रदाय का उदय हुआ। पूरे भारत में इनके अनेकों मंदिर हैं।

Dattatreya Jayanti 2022: भगवान दत्तात्रेय का पूजन और मंत्र का जाप करने से परिवार में सुख-समृद्धि आती है,सभी तरह के पाप,रोग-दोष और बाधाओं का नाश होता है।
Dattatreya Jayanti 2022: भगवान दत्तात्रेय का पूजन और मंत्र का जाप करने से परिवार में सुख-समृद्धि आती है,सभी तरह के पाप,रोग-दोष और बाधाओं का नाश होता है। - फोटो : pinterest
विज्ञापन

विस्तार

Dattatreya Jayanti 2022: ब्रह्मा, विष्णु और महेश के अंश श्री दत्तात्रेय का जन्म मार्गशीर्ष पूर्णिमा को हुआ था,इसलिए इस पूर्णिमा का और भी महत्व बढ़ जाता है। इस बार यह 7 दिसंबर को है। पूर्णिमा तिथि के दिन पूर्ण चन्द्रमा के कारण सकारात्मकता होती है,इसलिए इस दिन पूजा-पाठ,व्रत-अनुष्ठान,दान एवं नदियों में स्न्नान का बहुत फल मिलता है। सनातन धर्म में भगवान दत्तात्रेय का विशिष्ट स्थान है। इनके अंदर गुरु और ईश्वर दोनों का स्वरूप निहित होता है। भगवान दत्त के नाम पर दत्त संप्रदाय का उदय हुआ। पूरे भारत में इनके अनेकों मंदिर हैं।


दत्तात्रेय पूर्णिमा का महत्व
इस दिन महादेव की परमप्रिय काशी में पापों का नाश करने वाली गंगा में स्न्नान करने से बहुत पुण्य मिलता है। इस दिन जो मनुष्य अपने पितरों का तर्पण करता है उसे पितृदोष से मुक्ति मिलती है। इस दिन भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा करने से सुख-सौभाग्य की प्राप्ति होती है। मान्यता है कि इस दिन इनकी उपासना तत्काल फलदायी होती है और इनके सिर्फ स्मरण मात्र से ये भक्तों के कष्टों का शीघ्र निवारण करते हैं। इस दिन भगवान दत्तात्रेय का पूजन और मंत्र का जाप करने से परिवार में सुख-समृद्धि आती है,सभी तरह के पाप,रोग-दोष और बाधाओं का नाश होता है। प्राणी को कर्म बंधन से मुक्ति मिलती है।


दत्तात्रेय ने इन्हें बनाया गुरु
श्रीमद्भागवत में दत्तात्रेयजी ने कहा है कि उन्होंने अपनी बुद्धि के अनुसार बहुत से गुरुओं का आश्रय लिया। इनके एक नहीं पूरे 24 गुरु हुए। इनके गुरुओं में पृथ्वी,जल,अग्नि,वायु,आकाश,समुंद्र,चन्द्रमा व सूर्य जैसे आठ प्रकृति के तत्व हैं। जीव-जंतुओं में सर्प,मकड़ी,झींगुर,पतंगा,भौंरा,मधुमक्खी,मछली,कौआ,कबूतर,हिरण,अज़गर व हाथी सहित 12 गुरु हुए। बालक,लोहार,कन्या,और पिंगला नामक वेश्या को भी इन्होंने अपना गुरु स्वीकार किया। भगवान दत्तात्रेय ने कहा है कि हमें जीवन में जिस किसी से भी ज्ञान,विवेक व किसी न किसी रूप में कोई भी शिक्षा मिले,उसे ही अपना गुरु मान लेना चाहिए।        

दत्तात्रेय नाम ऐसे पड़ा
श्री मदभागवत ग्रंथ में उल्लेख है कि महर्षि अत्रि ने जगत के पालनहार श्री विष्णु को पुत्र रूप में पाने की अभिलाषा की थी। उनकी इस इच्छा को पूर्ण करने के लिए एक दिन भगवान ने प्रकट होकर महर्षि से कहा-'मैंने स्वयं को आपको दिया।'इसी देने के भाव से 'दत्त'और अत्रि के ज्येष्ठ पुत्र होने से आत्रेय का मिला हुआ रूप दत्तात्रेय हुआ एवं इनकी माता परम पतिभक्त सती अनुसूया थी। सती अनसुइया और महर्षि अत्रि के पुत्र दत्तात्रेय के तीन सिर और छ: भुजाएं हैं। इनके भीतर ब्रह्मा,विष्णु तथा महेश तीनों का ही संयुक्त रुप से अंश मौजूद है। पृथ्वी,गाय और वेद के रूप में चार कुत्ते सदैव इनके साथ रहते हैं।
 

मेष राशिफल 2023

वृषभ राशिफल 2023

विज्ञापन

मिथुन राशिफल 2023

कर्क राशिफल 2023

सिंह राशिफल 2023

कन्या राशिफल 2023

तुला राशिफल 2023

वृश्चिक राशिफल 2023

धनु राशिफल 2023

मकर राशिफल 2023 

कुंभ राशिफल 2023

मीन राशिफल 2023



 
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00