Hindi News ›   Sports ›   Badminton ›   Badminton Association of India congratulates six recipients of national sports awards

भारतीय बैडमिंटन संघ ने राष्ट्रीय खेल पुरस्कार जीतने वाले खिलाड़ियों को दी बधाई

स्पोर्ट्स डेस्क, अमर उजाला Published by: मुकेश कुमार झा Updated Sun, 23 Aug 2020 07:28 PM IST
भारतीय बैडमिंटन संघ
भारतीय बैडमिंटन संघ - फोटो : social media
विज्ञापन
ख़बर सुनें

भारतीय बैडमिंटन संघ (बीएआई) ने रविवार को उन छह पूर्व और वर्तमान बैडमिंटन खिलाड़ियों को बधाई दी है। इन सभी खिलाड़ियों को 29 अगस्त को राष्ट्रीय खेल दिवस पर एक वर्चुअल समारोह के दौरान विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित किया जाएगा। बैडमिंटन में पहली बार छह खिलाड़ियों (पूर्व और मौजूदा) को राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों से सम्मानित किया जाएगा।

विज्ञापन


चिराग शेट्टी और सत्विकसाईराज रंकीरेड्डी की पुरुष युगल जोड़ी को अर्जुन पुरस्कार के लिए चुना गया है जबकि पूर्व शटलर प्रदीप गांधे, तृप्ति मुर्गुंडे और सत्यप्रकाश तिवारी (पैरा-बैडमिंटन) को खेल में उनके योगदान के लिए प्रतिष्ठित ध्यानचंद पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।पैरा-बैडमिंटन टीम के मुख्य कोच गौरव खन्ना को द्रोणाचार्य पुरस्कार (नियमित श्रेणी) के लिए चुना गया है। उनकी निगरानी में भारतीय टीम ने विश्व चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक के अलावा और भी कई सफलता हासिल की हैं।


बीएआई के सचिव अजय सिंघानिया ने यहां जारी विज्ञप्ति में कहा, 'बीएआई और इसके अध्यक्ष हिमंत बिस्व शर्मा की ओर से, मैं ध्यानचंद पुरस्कार के तीन विजेताओं के साथ कोच खन्ना सहित अन्य को बधाई देना चाहूंगा। खन्ना पैरा टीम को नई ऊंचाइयों पर ले गए।' मुंबई के 23 वर्षीय चिराग और अमलापुरम के रहने वाले सत्विक ने 2019 में शानदार सफलता हासिल की। इस जोड़ी ने थाईलैंड ओपन में पहला सुपर 500 खिताब जीता और फिर फ्रेंच ओपन सुपर 750 के फाइनल में पहुंचे। यह भारतीय जोड़ी लगातार बेहतर प्रदर्शन के दम पर विश्व रैंकिंग 10वें स्थान पर पहुंचने में सफल रही।

सिंघानिया ने कहा, 'युवा खिलाड़ियों से हमेशा उज्ज्वल भविष्य की उम्मीद रहती है। चिराग और सत्विक को अंतरराष्ट्रीय सर्किट पर लगातार अच्छा प्रदर्शन करते हुए देखना शानदार हैं।' उन्होंने कहा, 'वे अपने प्रदर्शन के लिए इस तरह के पुरस्कार के पात्र हैं। मुझे यकीन है कि भारतीय शटलर देश का हौसला बढ़ाते रहेंगे।'

प्रकाश पादुकोण और सैयद मोदी के समकालीन गांधे को 1982 के एशियाई खेलों में युगल कांस्य जीतने के अलावा कोच और बीएआई अधिकारी के रूप में उनके योगदान के लिए पुरस्कृत किया जाएगा। दो बार की दक्षिण एशियाई स्वर्ण पदक विजेता मुर्गुंडे को कोर्ट में अपनी शानदार प्रतिभा के लिए जाना जाता था तो वहीं तिवारी ने मान्यता प्राप्त पैरा स्पर्धाओं में नौ अंतरराष्ट्रीय पदक जीते हैं। सिंघानिया ने कहा, 'ध्यानचंद पुरस्कार पहली बार प्राप्त करना भारतीय बैडमिंटन के लिए एक विशेष क्षण है। इस तरह के सम्मान हमें हमेशा कड़ी मेहनत करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।'

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Sports news in Hindi related to live update of Sports News, live scores and more cricket news etc. Stay updated with us for all breaking news from Sports and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00