लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Agra News ›   Relative withdraw rs 33 lakh from the accounts of an elderly woman in Agra

Agra: बुजुर्ग महिला के खातों से रिश्तेदार ने निकाले 33 लाख रुपये, इलाज के नाम पर ले जाकर लगवा लेता था अंगूठा

संवाद न्यूज एजेंसी, आगरा Published by: मुकेश कुमार Updated Wed, 07 Dec 2022 01:08 PM IST
सार

आगरा में एक बीमार बुजुर्ग महिला से 33 लाख रुपये की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। रिश्तेदार ने मदद के नाम पर महिला के खातों से धीरे-धीरे कर सारी रकम निकाल ली। इसका पता तब चला, जब पीड़िता के नाती ने खातों की जानकारी की। 

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर - फोटो : Istock
विज्ञापन

विस्तार

आगरा में एक बुजुर्ग महिला के बैंक खातों से 33 लाख रुपये निकाल लिए गए। पीड़ित महिला बीमार रहती है। उपचार कराने के नाम पर एक रिश्तेदार उसके खातों से रकम निकालता रहा। महिला के नाती ने जब बैंक खातों की जानकारी की तो रकम निकाले जाने का पता चला। पुलिस कमिश्नर डॉ. प्रीतिंदर सिंह के आदेश पर थाना ताजगंज में पांच आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। 



थाना ताजगंज क्षेत्र के नगला कली निवासी मनीष शुक्ला ने बताया कि उसकी दादी शांति देवी 78 साल की है। उनकी तबियत खराब रहती है। उनके रिश्ते के भाई सदर निवासी गोविंद प्रसाद पहले से दादी के पास आते-जाते रहते थे। जब दादी की तबियत खराब हुई तो डॉक्टर को दिखाने के बहाने अपने साथ ले जाने लगे। गोविंद प्रसाद छह वर्षों तक डॉक्टर को दिखाने के लिए ले जाने के नाम पर दादी के बैंक खाते से अंगूठा लगवाकर रुपये निकालते रहे।


आरोप है कि गोविंद प्रसाद ने सबसे पहले 10 नवंबर 2015 को 40 हजार, 28 मार्च 2016 को 1.06 लाख रुपए, 21 अक्टूबर 2016 को साढे़ 49 हजार, 29 दिसंबर 2017 को 68 हजार रुपये, एक जून को 2 लाख रुपये दादी के खाते निकाले। एक अक्टूबर 2018 को पांच लाख रुपये आरटीजीएस के माध्यम से अपनी पत्नी नेहा के खाते में ट्रांसफर कर लिए। उसी दिन 3.41 लाथ आरटीजीएस करके अपने खाते में भी ट्रांसफर कर लिए। 

आरोपी ने पत्नी के खाते में ट्रांसफर की रकम 

इसके बाद दूसरे खाते से कई बार में करीब 19 लाख रुपये अपनी पत्नी नेहा शर्मा के खाते में ट्रांसफर कर लिए। आरोपी दादी से दवा के नाम पर रुपये निकलवाता रहा। उनसे कागज पर अंगूठा लगवा लेता था।  पिछले साल सितंबर में उनके दादा का निधन हो गया। निधन के बाद जब खातों की जानकारी की तो पता चला कि खातों से करीब 33 लाख रुपये निकाल लिए गए हैं। जब बैंक से पता किया तो पता चला कि सभी रकम गोविंद की पत्नी के खाते में गई है। 

मनीष शुक्ला ने इस संबंध में दादी शांति देवी से पूछा तो उन्होंने बताया कि उन्होंने गोविंद को एक भी रुपया नहीं दिया है। वह मुझे डॉक्टर पर दिखाने ले जाता था। डॉक्टर के पर्चे के बहाने कागज पर अंगूठा लगवा लेता था। इसके बाद खाता भी बंद कर देता था। पीड़ित ने इसकी शिकायत पुलिस से की। पुलिस कमिश्नर डॉ. प्रीतिंदर सिंह के आदेश पर थाना ताजगंज में गोविंद प्रसाद, नेहा शर्मा, रवि, छोटू व शिवकुमार के खिलाफ धोखाधड़ी सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। 
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00