लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Meerut ›   Meerut jawan posted in Jammu Kashmir martyred, entire village gathered at last ride

UP: जम्मू कश्मीर में तैनात मेरठ का लाल शहीद, अंतिम संस्कार में उमड़ा पूरा गांव, बेटे ने दी मुखाग्नि

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मेरठ Published by: Dimple Sirohi Updated Thu, 18 Aug 2022 11:11 AM IST
सार

मेरठ के हसनपुर कला निवासी सेना के जवान अनिल पहाड़ पर पैर फिसलने के कारण घायल हो गए थे। अस्पताल में उन्हाेंने दम तोड़ दिया। गुरुवार सुबह शहीद जवान का शव उनके पैतृक गांव पहुंचा, जहां गांव के ही श्मशान घाट पर सैनिक का अंतिम संस्कार किया गया।

शहीद जवान का फाइल फोटो
शहीद जवान का फाइल फोटो - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

मेरठ के हसनपुर कला निवासी जवान अनिल मंगलवार को जम्मू कश्मीर में शहीद हो गए। गुरुवार सुबह शहीद जवान का शव उनके पैतृक गांव पहुंचा, जहां गांव के ही श्मशान घाट पर सैनिक का अंतिम संस्कार किया गया।



इस दौरान पूरा गांव शहीद जवान को अंतिम विदाई देने के लिए उमड़ पड़ा। वहीं बेटे आरव ने शहीद पिता को मुखग्नि दी। अंतिम संस्कार के दौरान शहीद जवान को सेना के जवानों द्वारा अंतिम सलामी दी गई। वहीं शहीद के परिजनों को सात्वना देने वालों का तांता लगा हुआ है।

 
हसनपुर कला का रहने वाला अनिल कुमार पुत्र ऋषि पाल राष्ट्रीय राइफल 58 में तैनात था। इस समय उसकी तैनाती जम्मू कश्मीर के रियासी डिस्ट्रिक्ट के मऊ हर मे थी। वह पहाड़ों पर था जहां से 9 अगस्त को जवान पैर फिसलने के कारण घायल हो गया था। उसे सिर में चोट आई थी। जवान का अस्पताल में उपचार चल रहा था। 16 अगस्त को जवान की अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। 

यह भी पढ़ें: दिल दहला देने वाली वारदात: छुरे से काट दी थी बेटी की गर्दन, स्कूटी पर ले गया था लाश, नाले में फेंका था सिर

शहीद जवान अनिल कुमार शादीशुदा हैं। उनके तीन बच्चे हैं। दूसरा भाई सुनील कुमार भी सेना में ही तैनात है। परिजनों को जैसे ही अनिल कुमार के चोट लगने की सूचना मिली तो सभी लोग अस्पताल पहुंच गए थे। परिजनों के अनुसार सिर में अधिक चोट लगने के कारण वह ठीक नहीं हो सके।

गुरुवार को गांव में जैसे ही सैनिक का पार्थिव शरीर पहुंचा तो पूरा गांव शोक में डूब गया। सैनिक का पैैतृक गांव के श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान सैनिक के बेटे आरव ने पिता को मुखाग्नि दी। सेना के द्वारा सलामी देकर शहीद को अंतिम विदाई दी गई।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00