विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Digital Edition

मौसम: पश्चिमी यूपी में बारिश से 7.9 डिग्री लुढ़का पारा, गंगा का जलस्तर बढ़ने से खादर क्षेत्रों पर मंडराया खतरा

मानसून लौटने के बाद मौसम ने रविवार को एक बार फिर से पलटी मार दी। बारिश के बाद दिन में पारा 7.9 डिग्री लुढ़ककर 28.0 डिग्री पर आ गया। प्रदूषण भी धुल गया और शहर का औसत एक्यूआई 148 रहा। सोमवार को भी सुबह से ही बारिश की झड़ी लगी रही। कई स्थानों पर तेज बारिश हुई है। मुजफ्फरनगर में बारिश एक परिवार के लिए आफत बनकर आई। यहां एक मकान की छत बारिश के कारण भरभराकर गिर गई। इससे घर के कई सदस्य घायल हो गए जबकि एक पशु की मौत हो गई।

पहाड़ी व मैदानी क्षेत्रों में भारी बारिश से गंगा का जलस्तर बढ़ गया है। हस्तिनापुर में 8 करोड़ 70 लाख रुपए से बनाए गए कटाव निरोधक तटबंध पर गंगा ने कटान शुरू कर दिया है, जिससे खादर क्षेत्रों में किसानों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। वहीं धान की फसल के लिए यह बारिश नुकसानदायक साबित होगी।

मौसम में अचानक हुए बदला व और बारिश के कारण मेरठ में तापमान 35.9 डिग्री और एक्यूआई 280 पर पहुंच गया। रविवार को सुबह से शाम तक रुक-रुक कर बारिश होती रही। इससे अधिकतम तापमान 28.0 डिग्री व न्यूनतम तापमान 22.2 डिग्री पर आ गया। शहर में 12.6 मिमी बारिश रिकार्ड की गई। शनिवार के मुकाबले रविवार को दिन के तापमान में 7.9 डिग्री की गिरावट दर्ज की गई है। रात का तापमान 4 डिग्री बढ़ा है। सोमवार को सुबह से ही बारिश शुरू हो गई। मौसम वैज्ञानिकों ने 19 अक्तूबर तक और बारिश होने की संभावना जताई है।  

मौसम वैज्ञानिक डॉ. एन सुभाष का कहना है कि दिन का तापमान सामान्य से 5 डिग्री कम हो गया है। कृषि विवि के मौसम वैज्ञानिक डाॅ. यूपी शाही का कहना है कि धान के लिए मौसम ठीक नहीं है।  

यह भी पढ़ें: 
लखीमपुर खीरी कांड पर आक्रोश: पश्चिमी यूपी में बारिश के बावजूद रेल रोकने पहुंचे किसान, पुलिस बल तैनात
... और पढ़ें

यूपी: मेरठ में 24 घंटे में 75 मिलीमीटर हुई बारिश, बिजनौर में मकान की छत गिरने से बच्ची की मौत 

बंगाल की खाड़ी में बने नए चक्रवाती सिस्टम से वेस्ट यूपी में झमाझम बारिश हो रही है। बारिश से जहां मौसम सुहावना हो गया है वहीं कई स्थानों पर बारिश कहर बनकर टूटी। बिजनौर में बारिश के कारण एक मकान की छत गिरने से एक मासूम बच्ची की मौत हो गई। वहीं मुजफ्फरनगर में भी एक मकान गिरने से घर के सदस्य बाल-बाल बचे। मेरठ में बारिश के कारण जगह-जगह जलभराव की समस्या उतपन्न हो गई। हालांकि प्रदूषण के स्तर में कमी आई है और हवा की गुणवत्ता सुधरी है।

पिछले 24 घंटे में मेरठ में 75 मिलीमीटर बारिश हो गई है लगातार बारिश होने से शहर से लेकर देहात तक कई जगह जलभराव की समस्या बनी हुई है। जहां मेरठ का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 300 के आसपास पहुंच गया था, वह बारिश होने से गिरता हुा सोमवार की सुबह 120 पर आ गया। बारिश ने प्रदूषण को साफ कर दिया है और तापमान भी गिर गया है।

कृषि विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डॉ. यूपी शाही का कहना है कि अभी 24 घंटे तक मौसम ऐसा ही बना रहेगा। मेरठ समेत आसपास के जिलों में अच्छी बारिश के आसार हैं। अक्टूबर में यह बारिश पिछले सालों की तुलना में ज्यादा हुई है। बारिश से सबसे ज्यादा नुकसान धान की फसल में देखने को मिला है। जो फसल कटने के लिए तैयार थी या कटकर खेत में रखी थी, वह फसल बर्बाद हो गई। खड़ी हुई फसल भी गिरने से उसके उत्पादन पर भी असर पड़ेगा। इसके अलावा जो किसान आलू लगाने की तैयारी में थे उन्हें भी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। बारिश ईंख को छोड़कर अन्य फसलों के लिए नुकसानदायक साबित हो रही है।
... और पढ़ें

मेरठ: छात्रों की फीस के 50 लाख ले उड़ा एमपीएस का क्लर्क, अभिभावकों को स्कूल ने भेजे नोटिस तो खुला मामला 

मेरठ पब्लिक स्कूल (एमपीएस) का क्लर्क  छात्र-छात्राओं की फीस के 50 लाख रुपये लेकर फरार हो गया है। क्लर्क अभिभावकों से फीस के पैसे अपने निजी खातों में डलवाता रहा। स्कूल प्रबंधन ने अभिभावकों को फीस जमा करने के लिए नोटिस भेजा तो मामले का खुलासा हुआ। अब रविवार को स्कूल के प्रबंध संचालक (एमडी)विक्रजीत सिंह ने क्लर्क श्रुतिधर त्रिपाठी और उसके सहयोगी पारितोष त्रिपाठी के खिलाफ सदर थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। क्लर्क फरार हो गया है और पुलिस जांच में जुटी है।  

जानकारी के अनुसार मेरठ पब्लिक स्कूल की वेस्ट एंड रोड स्थित मुख्य शाखा में क्लर्क/ कार्यालय अधीक्षक श्रुतिधर को प्रबंधन ने ऑनलाइन फीस जमा करने की जिम्मेदारी दी थी। वह 20 वर्षों से स्कूल में काम कर रहा था।

प्रबंधन का आरोप है कि श्रुतिधर त्रिपाठी ने षड्यंत्र रचा और अभिभावकों से संपर्क कर बच्चों की स्कूल फीस अपने निजी बैंक खातों में गूगल पे, पेटीएम के जरिए जमा कराता रहा। इस काम के लिए श्रुतिधर ने पारितोष के साथ सदर बाजार में कंप्यूटर सेंटर खोल रखा था। अभिभावकों से फीस ऑनलाइन फीस वसूलने का काम इसी सेंटर से चल रहा था। 

यह भी पढ़ें: 
लखीमपुर खीरी कांड पर आक्रोश: पश्चिमी यूपी में बारिश के बावजूद रेल रोकने पहुंचे किसान, पुलिस बल तैनात
... और पढ़ें

बड़ी उपलब्धता: रणजी के आकाश पर चमकेगी मेरठ की भूमि, अमर उजाला से खास बातचीत में बताए सफलता के राज

मेरठ के बेटों के क्रिकेट में धूम मचाने के बाद जिले की बेटी भूमि ने भी फर्स्ट क्लास क्रिकेट में एंट्री कर दी है। टीपी नगर के देवपुरी निवासी सबमर्सिबल पार्ट्स के कारीगर उमाकांत की बेटी भूमि का चयन यूपी रणजी वन-डे टीम में हो गया है। कानपुर में तीन दिन के कैंप में शामिल होने के बाद वह 31 अक्तूबर को वह वनडे मैच खेलेंगी। उनके चयन के बाद परिवार में जश्न का माहौल है। 

मेरठ से प्रवीण कुमार, भुवनेश्वर कुमार, कर्ण शर्मा, प्रियम गर्ग और कार्तिक त्यागी के बाद जिले की बेटी भूमि ने क्रिकेट में कदम आगे बढ़ा दिए हैं। 20 वर्षीय भूमि मवाना रोड स्थित जेएसएम क्रिकेट एकेडमी में पिछले दो साल से कोच विपिन वत्स से प्रशिक्षण ले रही हैं। वह दाएं हाथ की तेज गेंदबाज हैं और भारतीय महिला टीम की गेंदबाज झूलन गोस्वामी को अपना आदर्श मानती हैं। भूमि कानपुर में चैलेंजर ट्रॉफी में मैच खेल रही हैं। सोमवार को चयनकर्ताओं ने यूपी रणजी की 23 सदस्य वाली टीम की घोषणा की। जिसमें सहारनपुर की वर्णिका चौधरी और मेरठ से भूमि का नाम शामिल किया गया है। हालांकि वर्णिका पहले से ही यूपी रणजी टीम में खेल रही हैं। 

भूमि के पिता उमाकांत शहर में एक सबमर्सिबल फैक्टरी में पार्ट्स बनाने का कार्य करते हैं, जबकि माता देवकी गृहिणी हैं। बड़ा भाई वरुण भी पिता के काम में हाथ बंटाता है। भूमि ने फोन पर अमर उजाला से बातचीत में बताया कि वह स्कूल के समय से ही क्रिकेट खेलती हैं। आर्थिक समस्या के कारण खेल छोड़ने का कई बार मन बनाया, लेकिन परिवार व कोच विपिन वत्स ने हौसला बनाए रखा। कोच ने एकेडमी में कभी फीस नहीं ली और जूतों से लेकर खेल किट भी दी। भूमि ने कहा कि प्लेइंग इलेवन में मौका मिला, तो इसे भुनाने की पूरी कोशिश करूंगी। 

यह भी पढ़ें: 
मिशन 2022: मेरठ में असदुद्दीन ओवैसी की रैली की तैयारी तेज, शाहिद अखलाक जल्द ले सकते हैं बड़ा फैसला

मेरठ की पहली बेटी रणजी टीम में, उस पर गर्व है : विपिन वत्स
जेएसएम के क्रिकेट कोच विपिन वत्स ने बताया कि भूमि के परिवार की आर्थिक स्थिति ज्यादा अच्छी नहीं है। लेकिन प्रतिभावान बेटी को खेलों से जोड़े रखना जरूरी था। भूमि के चयन पर खुशी शब्दों से बयां नहीं कर सकता। वो मेहनती है, उसे इसका फल मिला है। मेरठ से पहली बार किसी बेटी ने रणजी टीम में प्रवेश किया, जो जिले के लिए गर्व की बात है।

यह भी पढ़ें: मेरठ: छात्रों की फीस के 50 लाख ले उड़ा एमपीएस का क्लर्क, अभिभावकों को स्कूल ने भेजे नोटिस तो खुला मामला
... और पढ़ें
भूमि। भूमि।

छापा: ब्रांडेड के नाम पर बेच रहे थे नकली हैंडबैग, महिला गिरफ्तार, पूछताछ में खुलेंगे बड़े राज

ब्रांड प्रोटेक्टर्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (गुरुग्राम) की टीम ने मेरठ पुलिस के साथ मिलकर सोमवार को रंगोली मंडप में चल रही प्रदर्शनी में छापा मारकर नामी कंपनी के डुप्लीकेट लेडीज हैंड बैग पकड़े हैं। पुलिस ने स्टॉल पर बैठी रितु आनंद को गिरफ्तार कर करीब 15 लाख रुपये का माल बरामद किया है। पुलिस ने मेला आयोजक उत्कर्ष गुप्ता और उनकी पत्नी तान्या के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है। दोनों फरार हैं। 

ब्रांड प्रोटेक्टर्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड गुड़गांव के डायरेक्टर धीरेंद्र सिंह को सूचना मिली कि शास्त्री नगर निवासी उत्कर्ष गुप्ता व उनकी पत्नी तान्या गुप्ता मेरठ के रंगोली उत्सव मंडप में लेडीज हैंड बैग की ब्राडेंड कंपनी के डुप्लीकेट बैग सस्ते दामों पर बेचे जा रहे हैं। इसका प्रचार इंस्टाग्राम पर भी किया जा रहा था। धीरेंद्र सिंह ने एसएसपी प्रभाकर चौधरी को सूचना दी। सोमवार को पुलिस ने कार्रवाई की। 

एसपी सिटी विनीत भटनागर ने बताया कि पुलिस नामजद फरार दंपती की तलाश में जुटी है। आरोपी ब्रांडेड कंपनी का 30 हजार रुपये का नकली बैग 1500 रुपये में बेच रहे थे। पुलिस ने बताया कि आयोजक इंस्टाग्राम और फेसबुक पर विभिन्न कंपनियों के स्टॉलों के लिए बुकिंग करते थे। प्रदर्शनी में आकर कोई भी उत्पादों की बिक्री के लिए जगह ले लेता है। वहीं फेसबुक व व्हाट्सअप पर निगरानी बढ़ने के बाद इसे इंस्टाग्राम पर ले जाया गया। 

ब्रांडेड के नाम पर बिकते मिले नकली हैंड बैग
टीम ने मौके से स्टॉल संचालिका को हिरासत में लेकर 70 से ज्यादा हैंड बैग बरामद किए गए हैं। कंपनी ने थाने में तहरीर देकर दो लोगों के खिलाफ कापी राइट एक्ट में मुकदमा पंजीकृत करा दिया है। 

यह भी पढ़ें: 
मेरठ: छात्रों की फीस के 50 लाख ले उड़ा एमपीएस का क्लर्क, अभिभावकों को स्कूल ने भेजे नोटिस तो खुला मामला
... और पढ़ें

यूपी: दुष्कर्म के आरोपी दरोगा की एसआईटी करेगी जांच, सामने आई ये बड़ी बात, अब खुल सकते हैं गहरे राज

दुष्कर्म व पीड़िता को ब्लैकमेल करने के मामले में दरोगा अरुण कुमार की जांच अब एसआईटी करेगी। इसकी मॉनिटरिंग एसपी देहात करेंगे। पुलिस ने कोतवाली में दर्ज मुकदमे को हस्तिनापुर ट्रांसफर करा दिया है।

ब्रह्मपुरी क्षेत्र की एक कॉलोनी की महिला ने हस्तिनापुर थाने के दरोगा अरुण कुमार पर दुष्कर्म का आरोप लगाकर मुकदमा दर्ज कराया था। पीड़िता ने आरोप लगाया कि दरोगा ने तीन साल पहले उसकी मासूम बेटी को गन पॉइंट पर लिया और उससे दुष्कर्म की वारदात की। उसके बाद से अश्लील वीडियो वायरल करने तो कभी झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी देकर दुष्कर्म करता रहा।

अब दरोगा की पत्नी ने दुष्कर्म पीड़िता और उसके पति समेत चार लोगों के खिलाफ ब्लैकमेल करने का मुकदमा कोतवाली थाने में दर्ज कराया है। आरोप है कि महिला उसके पति से 15 लाख रुपये मांग रही थी। दो साल से उसके पति से रुपये ऐंठ रही थी। रुपये न देने पर उसे कोतवाली क्षेत्र में बुलाया और धमकी दी कि तेरे पति की वर्दी उतरवा दूंगी। इस मुकदमे को भी पुलिस ने हस्तिनापुर थाने में ट्रांसफर कर दिया है।

यह भी पढ़ें: 
मिशन 2022: मेरठ में असदुद्दीन ओवैसी की रैली की तैयारी तेज, शाहिद अखलाक जल्द ले सकते हैं बड़ा फैसला

एसपी देहात केशव कुमार ने बताया कि दोनों मुकदमों की जांच करने के लिये एसआईटी गठित कर दी है। इस मामले की निष्पक्ष जांच होगी। जो दोषी होगा, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

यह भी पढ़ें: मेरठ: छात्रों की फीस के 50 लाख ले उड़ा एमपीएस का क्लर्क, अभिभावकों को स्कूल ने भेजे नोटिस तो खुला मामला
... और पढ़ें

किसानों का रेल रोको आंदोलन: पश्चिमी यूपी में दिनभर ऐसा रहा माहौल, स्टेशनों पर खड़ी रहीं ट्रेनें और...

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मोर्चा के घटक संगठनों ने सोमवार को रेलवे स्टेशनों और ट्रैक पर धरना दिया। सभी जिलों में धरने के चलते ट्रेनें स्टेशनों पर खड़ी रहीं। इस दौरान यात्रियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। 

मेरठ में भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) ने परतापुर रेलवे स्टेशन और सकौती रेलवे स्टेशन के अलावा कंकरखेड़ा फ्लाईओवर के नीचे रेलवे ट्रैक पर धरना दिया। वहीं बागपत में अग्रवाल मंडी टटीरी, बड़ौत और कासिमपुर खेड़ी में धरना दिया। बिजनौर में मौअज्जमपुर नारायण रेलवे स्टेशन पर किसानों ने धरना दिया। इस दौरान सिद्धबली एक्सप्रेस को बिजनौर स्टेशन पर 4:20 बजे तक रोक कर रखा गया। लखनऊ से चंडीगढ़ जा रही एक्सप्रेस ट्रेन को पहले एक घंटा बिजनौर और फिर किरतपुर में रोका गया। वहीं नगीना रेलवे स्टेशन और नजीबाबाद स्टेशन पर भी ट्रेनें खड़ी रहीं। 



उधर, सहारनपुर में भाकियू कार्यकर्ताओं को पुलिस ने बैरिकेडिंग कर उन्हें स्टेशन परिसर में ही रोक दिया। काफी देर चले हंगामे के बाद कार्यकर्ताओं ने बैरीकेड हटाकर प्लेटफार्म पर प्रदर्शन किया। चंडीगढ़-मदुरई एक्सप्रेस को देवबंद रेलवे स्टेशन पर पांच घंटे रोके रखा। सरयू यमुना एक्सप्रेस और कोलकाता से अमृतसर जाने वाली ट्रेन को सहारनपुर रेलवे स्टेशन पर पांच घंटे रोककर रखा। 

यह भी पढ़ें: 
मेरठ: छात्रों की फीस के 50 लाख ले उड़ा एमपीएस का क्लर्क, अभिभावकों को स्कूल ने भेजे नोटिस तो खुला मामला

मुजफ्फरनगर में भाकियू कार्यकर्ताओं ने मंसूरपुर में जालंधर इंटरसिटी को पांच घंटे रोके रखा। खतौली और रोहाना स्टेशनों पर धरना दिया। कोच्चीवली एक्सप्रेस पांच घंटे तक मुजफ्फरनगर रेलवे स्टेशन पर खड़ी रही। शामली में भी किसान यूनियन कार्यकर्ताओं ने ट्रैक पर धरना दिया।

यह भी पढ़ें: मिशन 2022: मेरठ में असदुद्दीन ओवैसी की रैली की तैयारी तेज, शाहिद अखलाक जल्द ले सकते हैं बड़ा फैसला
... और पढ़ें

बड़ा खुलासा: कोरोना काल में दवा के नाम पर बेच रहे थे खड़िया, अब मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी

किसानों का आंदोलन
कोरोना के पीक पर जहां एक तरफ लोग जिंदगी और मौत से जूझ रहे थे, वहीं इलाज और दवा के नाम पर धोखाधड़ी की जा रही थी। कोरोना काल में दवा के बजाय खड़िया बेच दी गई। ड्रग्स विभाग द्वारा लखनऊ भेजे गए चार सैंपलों की रिपोर्ट आ गई है, जो मानकों पर फेल निकली है। ड्रग्स इंस्पेक्टर अब मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी कर रहे हैं।

ड्रग इंस्पेक्टर मेरठ पवन शाक्य ने बताया कि जून 2021 में महाराष्ट्र एफडीए को फेविपिराविर के नाम की नकली दवाएं मिली थीं। इस दवा में फेविपिराविर का नाम इस्तेमाल किया जा रहा था, अंदर खड़िया थी। इसका उत्पादन मेरठ में धीरखेड़ा स्थित फैक्टरी में होना बताया गया था। हालांकि छापा मारा तो फैक्टरी में ऐसी कोई दवा नहीं मिली थी।

इस मामले में मुंबई पुलिस ने खरखौदा पुलिस को लेकर धीरखेड़ा औद्योगिक क्षेत्र में कार्रवाई की और फैक्टरी पर सील लगा दी थी। एक निजी अस्पताल और छीपी टैंक के एक मेडिकल स्टोर में भी यह दवा मिली थी, उनके नौ सैंपल जांच के लिए लखनऊ लैब भेजे थे, जिनकी रिपोर्ट अब आई है। इसमें चार सैंपल फेल निकले हैं। हालांकि पहले ही पता था कि यह दवाएं नकली हैं, लेकिन अब लैब जांच की रिपोर्ट से भी पुष्टि हो गई है।

यह भी पढ़ें: 
मेरठ: छात्रों की फीस के 50 लाख ले उड़ा एमपीएस का क्लर्क, अभिभावकों को स्कूल ने भेजे नोटिस तो खुला मामला

इससे पहले रुड़की में 29 जुलाई को 25 लाख रुपये की दवाई पकड़ी गई थी, तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया था। पवन शाक्य का कहना है कि इस संबंध में मुंबई पुलिस से बात की जाएगी। उन्होंने किन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था, यह जानने के बाद उचित धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई जाएगी।

यह भी पढ़ें: मिशन 2022: मेरठ में असदुद्दीन ओवैसी की रैली की तैयारी तेज, शाहिद अखलाक जल्द ले सकते हैं बड़ा फैसला
... और पढ़ें

किसानों ने कब्जाए रेलवे ट्रैक: पश्चिमी यूपी में छह घंटे बाद घूमा रेलों का चक्का, दर्जनों ट्रेनें हुईं प्रभावित

लखीमपुर खीरी कांड के विरोध में और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी की बर्खास्तगी को लेकर आज देशभर के किसान छह घंटे तक रेलें रोकीं। पश्चिमी यूपी के सभी जिलों में किसानों ने रेलवे ट्रेक कब्जाए रखे। प्रत्येक रेलवे स्ट्रेशन पर भारी पुलिस बल की तैनाती की गई। जगह-जगह पुलिस किसानों को समझाने का प्रयास करती रही लेकिन किसान रेलवे ट्रेक पर ही दरी बिछाकर लेटे रहे और धरना दिया। वेस्ट यूपी में दर्जन भर ट्रेनों को रोक दिया गया। इस कारण यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता प्लेटफार्म पर बैठे रहे और नारेबाजी करते रहे। 

मुजफ्फरनगर में मंसूरपुर रेलवे स्टेशन पर भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं द्वारा रेल रोकी गई। मंसूरपुर रेलवे स्टेशन पर अमृतसर-दिल्ली एक्सप्रेस खड़ी रही। शामली रेलवे स्टेशन पर भारी फोर्स तैनात रही। गिनती के किसान नेता स्टेशन पहुंचे, जिन्हें पुलिस ने बाहर ही रोक दिया। रेलवे फाटक पर भी पुलिस तैनात रही। हालांकि मानकपुर रेलवे स्टेशन व कांधला रेलवे स्टेशन पर किसान नेता धरना देने पहुंचे। बिजनौर में सिद्धबली एक्सप्रेस कई घंटों तक खड़ी रही। इस कारण यात्री परेशान नजर आए। वहीं कई अन्य ट्रेनें भी प्रभावित हुईं ।
... और पढ़ें

मचा कोहराम: नम आंखों से शव को किया सुपुर्द-ए-खाक, बेटे ने कहा- मौत का बदला ले सेना, तब पड़ेगी कलेजे को ठंडक

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में टारगेट किलिंग का शिकार हुए सगीर अहमद का शव सोमवार को उनके घर पहुंचा तो कोहराम मचा गया। नमाज के बाद शव को अंबाला रोड स्थित दबनी वाले कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक किया गया। सगीर के पुत्र जहांगीर ने कहा कि भारतीय सेना उनके पिता की मौत का बदला लेगी तो ही परिजनों के कलेजे को ठंडक पड़ेगी। 

शहर के मोहल्ला सराय हिसामुद्दीन निवासी बढ़ई सगीर अहमद की जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। सोमवार की सुबह एंबुलेंस के जरिए शव लेकर सगीर अहमद के भाई नसीम और दामाद शमशाद उनके घर पहुंचे। पिता के शव को देखकर सगीर की बेटी नफीसा, नजराना, आयशा व सोबी सुबक पड़ी। चारों बेटियां और पुत्र जहांगीर पिता के शव से लिपटकर रोने लगे। रिश्तेदारों और मोहल्ले के लोगों ने उन्हें सांत्वना देकर ढांढस बंधाई। पूरे मोहल्ले में मातम पसर गया और सगीर के घर के बाहर भीड़ लगी रही। सुबह नौ बजे मोहल्ले की मस्जिद में नमाज के बाद सगीर के शव को अंबाला रोड स्थित दबनी वाले कब्रिस्तान के सुपुर्द-ए-खाक किया। 

इस दौरान पार्षद मंसूर बदर, बबलू अंसारी, इमरान अंसारी, बिलाल अंसारी, शफाकत, मो. अली, सलीम, निसार अहमद, इकबाल अंसारी, इरफान अहमद, सगीर का पुत्र जहांगीर, भाई नसीम, भतीजा फैसल के अलावा रिश्तेदार व बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे। 

मिले मुआवजा और आतंकियों को सफाया कराए सरकार 
सगीर अहमद के पुत्र जहांगीर का कहना है कि जम्मू-कश्मीर से भारत सरकार आतंकियों का सफाया करे। उनके पिता और अन्य लोगों की मौत का बदला लिया जाए। सरकार की ओर से पीड़ित लोगों को मुआवजा और परिवार के सदस्यों को सरकारी नौकरी दी जाए।

यह भी पढ़ें: 
मेरठ: छात्रों की फीस के 50 लाख ले उड़ा एमपीएस का क्लर्क, अभिभावकों को स्कूल ने भेजे नोटिस तो खुला मामला
... और पढ़ें

बारिश बनी आफत: बिजनौर में नदियों का जलस्तर बढ़ा, टूटा कई गांवों का संपर्क, मुश्किल में हजारों लोग

बिजनौर जनपद के बढ़ापुर में दो दिन से लगातार हो रही बारिश से कस्बे के तीन ओर बहने वाली नदियों का जलस्तर बढ़ गया। इससे बढ़ापुर का क्षेत्र के दर्जनों गांवों से संपर्क कटा रहा। निजी स्कूलों में बारिश के कारण बच्चों की छुट्टी कर दी गई। सरकारी स्कूल-कॉलेज खुले, लेकिन उनमें छात्र-छात्राओं की उपस्थिति बेहद कम रही। 

वहीं पहाड़ों पर हो रही बारिश के चलते रामगंगा बांध का जलस्तर 362.300 मीटर पहुंच गया। बताया गया कि बांध से पानी की निकासी बढ़ाई गई है। 1500 के स्थान पर 1935 क्यूसेक पानी पावर हाउस को दिया जा रहा। इसके अलावा रामगंगा पावर हाउस में बिजली उत्पादन 35 मेगा वाट से बढ़ाकर 45 मेगावाट शुरू किया। अभी पहाड़ों पर बारिश जारी है।

बढ़ापुर-नगीना मार्ग पर कई स्थानों पर जलभराव से वाहनों का आवागमन बाधित रहा। क्षेत्र की नकटा नदी का जलस्तर बढ़ने से बढ़ापुर-कुंजेटा मार्ग स्थित रपटे पर पानी आ जाने पर कस्बे की पश्चिम दिशा के गांव कुंजेटा, मुकंदपुर राजमल व नूरपुर अरब के रपटे पर अत्यधिक पानी आ जाने पर नूरपुर अरब, सादातपुर गढ़ी, चिलकिया, इस्लामगढ़, भाऊवाला, जमालपुर ढीकली, सारंगवाला समेत दर्जनों गांवों का बढ़ापुर से संपर्क कटा रहा। वहीं, क्षेत्र की पहाड़ा नदी का जलस्तर बढ़ने पर कस्बे का गांव सरदारपुर छायली, बहेड़ी, काशीवाला, रामजीवाला आदि कई गांवों से संपर्क कटा रहा।    

यह भी पढ़ें: 
मेरठ: छात्रों की फीस के 50 लाख ले उड़ा एमपीएस का क्लर्क, अभिभावकों को स्कूल ने भेजे नोटिस तो खुला मामला   
                    
गुलाह व नकटा नदी का पानी मोहल्ला हरिजन बस्ती के कई घरों व क्षेत्र के कई गांवों में पहुंच गया, जिससे ग्रामीणों को तमाम दिक्कतों का सामना करना पड़ा। कई स्थानों पर पशु भी पानी में बह गए, जिनमें से गुलाह नदी के पानी में कहीं से बहकर आ रही एक गाय को मोहल्ला गडरियान के दो युवकों ने नदी से बाहर निकाला। कस्बे के मोहल्ला गडरियान स्थित पशु चिकित्सालय में भी गुलाह नदी का पानी घुस गया। बारिश से जनजीवन पूरी तरह अस्त व्यस्त रहा।

यह भी पढ़ें: मिशन 2022: मेरठ में असदुद्दीन ओवैसी की रैली की तैयारी तेज, शाहिद अखलाक जल्द ले सकते हैं बड़ा फैसला
... और पढ़ें

डकैती का सनसनीखेज खुलासा: पुलिस ने दबोचे दो आरोपी, चार अभी फरार, बाइक-तमंचा सहित 63 हजार रुपये बरामद

उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर शहर के नई मंडी स्थित गऊशाला रोड निवासी गुड़ कारोबारी राहुल गोयल के घर 20 दिन पूर्व हुई डकैती में फरार चल रहे दो और बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इनके कब्जे से लूटे गए 63,500 रुपये नकद के साथ ही अपाचे बाइक, तमंचा-कारतूस और चाकू बरामद किया गया है।

नई मंडी कोतवाली क्षेत्र के गऊशाला रोड स्थित मोहल्ला घेरखत्ती निवासी गुड़ कारोबारी राहुल गोयल के घर में गत 26 सितंबर को डकैतों ने परिवार को बंधक बनाकर लाखों की लूट की वारदात को अंजाम दिया था। इसमें अज्ञात के खिलाफ डकैती की रिपोर्ट दर्ज हुई थी। एसएसपी अभिषेक यादव द्वारा गठित की गई टीम ने गत एक अक्तूबर को छह आरोपियों को गिरफ्तार कर वारदात का खुलासा कर दिया था, जिसे कारोबारी के कार चालक ने ही अंजाम दिया था। इंस्पेक्टर नई मंडी पंकज पंत ने टीम के साथ सोमवार को शहर के भोपा रोड से दो युवकों को गिरफ्तार किया। इनमें मोहल्ला खालापार के वाल्मीकि बस्ती निवासी हिमांशु उर्फ काला और मोहल्ला किला आबकारी निवासी अभिनव उर्फ चूरा उर्फ सोनू शामिल हैं। उनके कब्जे से लूट के 63,500 रुपये नकद के साथ ही लूट में इस्तेमाल की गई अपाचे बाइक, तमंचा-कारतूस और एक चाकू बरामद किया गया है। वारदात में शामिल चार अन्य बदमाश अभी फरार हैं, जिनकी तलाश की जा रही है।

सबसे पहले तमंचा लेकर घर में घुसा था अभिनव
गुड़ कारोबारी के घर डकैती की वारदात को कार चालक गांव कूकड़ा निवासी तुषार लोटेश्वर ने अंजाम दिलाया था। इंस्पेक्टर पंकज पंत ने बताया कि सोमवार को गिरफ्तार खालापार वाल्मीकि बस्ती निवासी अभिनव उर्फ चूरा उर्फ सोनू ही तमंचा लेकर सबसे पहले कारोबारी के घर में घुसा था। उसने ही परिजनों पर तमंचा तानते हुए उन्हें बंधक भी बनाया था, जबकि हिमांशु घटना के समय कारोबारी के घर के बाहर साथियों के साथ मौजूद था।

यह भी पढ़ें: 
मिशन 2022: मेरठ में असदुद्दीन ओवैसी की रैली की तैयारी तेज, शाहिद अखलाक जल्द ले सकते हैं बड़ा फैसला
... और पढ़ें

मिशन 2022: मेरठ में असदुद्दीन ओवैसी की रैली की तैयारी तेज, शाहिद अखलाक जल्द ले सकते हैं बड़ा फैसला

मेरठ के पूर्व सांसद हाजी शाहिद अखलाक दो-तीन दिन के अंदर अपने अगले सियासी कदम के संबंध में खुलासा कर सकते हैं। उनकी फेसबुक पोस्ट के बाद शहर की सियासत गर्म है। कहा जा रहा है कि शाहिद अखलाक जल्द ही असदुद्दीन औवेसी की पार्टी में शामिल हो सकते हैं। वहीं असदुद्दीन औवेसी की किठौर थानाक्षेत्र में होने वाली रैली के लिए तैयारियां तेज हो गई हैं। 

पूर्व सांसद हाजी शाहिद अखलाक की एक फेसबुक पोस्ट के बाद शनिवार को सियासी हलकों में बेचैनी बढ़ गई है। कयास लगाए जा रहे हैं कि 2022 के विधानसभा चुनावों के लिए अखलाक ओवैसी की पार्टी में शामिल हो सकते हैं। अखलाक ने पोस्ट में अपने साथ ओवैसी की तस्वीर लगाते हुए लिखा है कि मुसलमानों के लिए अब दरी बिछाने का नहीं, सत्ता में भागीदारी का वक्त है। 

 हाजी शाहिद अखलाक ने आजम खां को जेल भेजने के मामले में विपक्षी पार्टियों पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने लिखा है कि सेक्युलर पाटिर्यों को मुसलमान नेता नहीं, सिर्फ वोट चाहिए। क्या मुसलमानों को वोट के बदले इन पार्टियों को गारंटी देनी पड़ेगी कि मुजफ्फरनगर जैसे दंगे नहीं होंगे। अब वक्त आ गया है कि मुसलमान दूसरे दलों की दरी बिछाने के बजाय सत्ता में भागीदारी की मांग करें।

यह भी पढ़ें: 
किसानों ने कब्जाए रेलवे ट्रैक: पश्चिमी यूपी में रेलों का चक्का जाम, दर्जनों ट्रेनें प्रभावित, यात्री बेहाल
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00