लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Pilibhit News ›   political

Pilibhit News: परिसीमन में खेल... कहीं पांच सौ तो कहीं दो हजार मतदाता चुनेंगे सभासद

Bareily Bureau बरेली ब्यूरो
Updated Wed, 07 Dec 2022 06:00 AM IST
political
विज्ञापन
पीलीभीत। आरक्षण की अनंतिम सूची जारी होने के बाद नौगवा पकड़िया के परिसीमन पर सवाल उठना शुरू हो गए हैं। नौगवा पकड़िया में पहली बार नगर पंचायत चुनाव होने जा रहे हैं। अफसरों ने वार्ड के लिए बनाई गई सूचियों में कहीं 2000 से ज्यादा, तो कहीं 500 से कम मतदाता कर दिए हैं। यहां तक कि आबादी बढ़ाकर दिखाने के साथ वार्डों की संख्या भी कम कर दी गई। ऐसे में कहीं 2000 तो कहीं 500 मतदाता सभासद चुनेंगे।

लोगों का आरोप है कि उन्हें परिसीमन की जानकारी नहीं दी गई। जब आरक्षण सूची घोषित हुई, तब पता चला कि कौन-कौन से वार्ड बने हैं। इधर अफसरों का दावा है कि 30 जून को परिसीमन पूरा कर लिया गया था।

ग्राम पंचायत रही नौगवा पकड़िया के नगर पंचायत बनाने की कवायद 2014 में शुरू हुई थी। तब प्रस्ताव भेजा गया था, मगर कुछ लोगों ने आपत्ति लगा दी। इसके बाद 2016, 2017 फिर 2019 में प्रस्ताव भेजे गए। 2019 में भाजपा सरकार की कैबिनेट बैठक में प्रस्ताव पर चर्चा के बाद नगर पंचायत का दर्जा मिल गया। अगस्त 2020 में ग्राम प्रधान का पद समाप्त हो गया। उस समय इस ग्राम पंचायत में 15 वार्ड, 12000 वोटर थे जबकि आबादी करीब 30,000 थी। नगर पंचायत का दर्जा मिलने के बाद इसे पीलीभीत नगर पालिका परिषद के अधीन बाद में बरखेड़ा नगर पंचायत के अधीन कर दिया गया। लोगों का कहना है कि परिसीमन को लेकर कोई प्रक्रिया नहीं अपनाई गई। अब आरक्षण की अनंतिम सूची जारी होने के बाद सामने आया है कि परिसीमन के तहत नगर पंचायत में 14 वार्ड बनाए गए हैं। जिनमें 16000 मतदाता और 40 हजार आबादी है।
--
परिसीमन के दौरान नियमों की अनदेखी की गई
परिसीमन के दौरान वार्ड संख्या दो में 2200 वोटर हैं, तो वार्ड संख्या तीन में मात्र 450 मतदाता रखे गए हैं। वार्ड चार में 913 तो वार्ड पांच में 500 मतदाता हैं। वार्ड छह में 818 तो वार्ड सात में 718 मतादाता हैं। इसी प्रकार वार्ड 11 में 1864 मतदाता हैं। वैसे नियम है कि एक वार्ड में 1350 से 1400 के बीच मतदाता रहें।
--
परिसीमन पूरी तरह गलत हुआ है। वार्ड कोई है तो मतदेय स्थल दूसरे वार्ड में है। ऐसे में मतदाता को वोट डालने के लिए दूसरे वार्ड में जाना पड़ेगा। जब परिसीमन किया गया, उस समय कोई जानकारी भी नहीं दी गई।
- संदीप सक्सेना
--
अधिसूचना जारी किए बिना परिसीमन कर दिया गया। कब परिसीमन शुरू हुआ और कब पूरा हो गया, इसकी जानकारी नहीं हुई। आरक्षण घोषित होने पर परिसीमन की जानकारी हुई है।
विज्ञापन
- हरपाल सिंह
--
किस वार्ड में कितने वोट हैं, इसकी जानकारी तक नहीं है। मानक विहीन परिसीमन हुआ है। नियमानुसार 1300 से 1400 के बीच में मतदाता होने चाहिए। मगर इस परिसीमन में मतदाताओं की संख्या नियम विरुद्ध है।
- इजहार अहमद
--
मतदान की प्रक्रिया, वोटर लिस्ट मानकों के विपरीत है। अफसरों ने जनता को भ्रमित कर परिसीमन किया है। इस पर मंथन करने की जरूरत है। वार्डों के परिसीमन में बदलाव की जरूरत है।
- जीशान अहमद
--
नियमानुसार वार्ड में 1250 से 1500 के बीच में मतदाता होना चाहिए। परिसीमन का गजट पहले भेज दिया गया था, इसलिए जानकारी नहीं है। अगर किसी वार्ड में मतदाताओं में अंतर है, तो दिखाया जाएगा।
- संतोष चतुर्वेदी, प्रभारी ईओ नौगवा पकड़िया
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00