लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Sitapur News ›   Reservation spoils electoral math of many contenders

Sitapur News: आरक्षण ने बिगाड़ा कई दावेदारों का चुनावी गणित

Lucknow Bureau लखनऊ ब्यूरो
Updated Tue, 06 Dec 2022 05:30 AM IST
Reservation spoils electoral math of many contenders
विज्ञापन
सीतापुर। 11 निकायों के अध्यक्ष पद की जारी आरक्षण सूची ने चुनाव की तस्वीर को काफी हद तक साफ कर दिया है। जारी सूची ने अध्यक्ष पद के चुनाव की तैयारियों में जुटे कई दिग्गजों का चुनावी गणित भी पूरी तरह बिगाड़ दिया है। इससे तीन निकायों के सामान्य वर्ग के दावेदारों को सबसे ज्यादा मायूसी हुई है। जिले में छह निकायों के पद अनारक्षित होने और दो निकायों में चेयरमैन पद महिला आरक्षित हो जाने से चुनावी तैयारी में जुटे सामान्य पुरुष और महिला उम्मीदवारों में खास खुशी दिख रही है।

महोली नगर पंचायत में चेयरमैन पद के लिए वर्ष 1989 में पहली बार चुनाव हुआ था। लगातार चार बार यह सीट अनारक्षित रही है। अभी तक यहां के चुनाव में दो परिवारों का ही वर्चस्व कायम रहा है। इसके बाद ओबीसी के लिए आरक्षण व एक बार महिला के लिए आरक्षित सीट पर भी एक ही परिवार का वर्चस्व दिखा।

इस बार काफी पहले से ही निकाय चुनाव में अध्यक्ष पद के चुनाव की तैयारियों में जुटे सामान्य श्रेणी के कई दावेदारों को अनुसूचित जाति के खाते में आई सीट से जोर का झटका लगा है। इसी तरह मिश्रिख नगर पालिका में अनुसूचित जाति के और सामान्य उम्मीदवारों का धक्का लगा है। सिधौली नगर पंचायत क्षेत्र के लिए अध्यक्ष पद पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे सामान्य वर्ग व अनुसूचित वर्ग के प्रत्याशियों में आरक्षण आने के बाद निराशा है। पिछड़ा वर्ग के लिए सीट आरक्षित होने का सीधा फायदा निवर्तमान अध्यक्ष मीना राजपूत को मिल सकता है।
नगर पालिका महमूदाबाद की सीट अनारक्षित होने से चुनावी मुकाबला काफी रोमांचक होने की उम्मीद जताई जाने लगी है। वर्ष 2017 में महमूदाबाद की सीट पिछड़ा वर्ग में थी। इसके चलते सामान्य वर्ग से आने वाले अंबरीश गुप्ता ने अपनी भाभी को चुनाव लड़वाया कर जीत हासिल कराई थी। इस बार सीट अनारक्षित होने से वह खुद चुनावी मैदान में भाजपा की तरफ से ताल ठोकने की तैयारी में जुटे हैं।
तंबौर नगर पंचायत के चेयरमैन पद के अधिकतर उम्मीदवार सामान्य वर्ग के थे, इसलिए आरक्षण जारी होते ही उनकी चुनावी तैयारियों ने जोर पकड़ लिया है। इसमें पूर्व मंत्री व सांसद स्व. मुख्तार अनीस की पत्नी जेहरा अजीज के भी चुनाव लड़ने की चर्चा जोरों पर जताई जा रही है। हरगांव नगर पंचायत सीट महिला आरक्षित होने के बाद अब यहां दूसरी बार महिला अध्यक्ष बनेगी। पंचायत के अध्यक्ष पद पर रहने वाले दो लोगों की पत्नियां इस बार चेयरमैन पद की कुर्सी पाने के लिए चुनावी दौड़ में शामिल दिख रही हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00