लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Varanasi ›   Meeting of Mahamandaleshwars in Kashi Saints from across country will visit and worship Gyanvapi

काशी में महामंडलेश्वरों की बैठक: देश भर के संत करेंगे ज्ञानवापी की यात्रा और पूजन, चर्चा के बाद प्रस्ताव पारित

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, वाराणसी Published by: उत्पल कांत Updated Sun, 14 Aug 2022 01:59 PM IST
सार

अखिल भारतीय संत समिति की ओर से आयोजित बैठक में देशभर के महामंडलेश्वरों ने ज्ञानवापी के मुद्दे पर भी चर्चा की। इस दौरान प्रस्ताव पारित किया गया कि देश भर के संत ज्ञानवापी की यात्रा और पूजन करेंगे। 

काशी में संतों ने निकाली तिरंगा यात्रा
काशी में संतों ने निकाली तिरंगा यात्रा - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

राष्ट्रीय एकता और अखंडता के साथ ही ज्ञानवापी और हिंदुत्व पर मंथन के लिए देश भर के धर्माचार्यों ने रविवार को काशी में मंथन किया। सिगरा स्थित ब्रह्मर्षि आवास पर आयोजित बैठक में देश भर के महामंडलेश्वर शामिल रहे। अखिल भारतीय संत समिति की ओर से आयोजित बैठक में ज्ञानवापी के मुद्दे पर भी चर्चा हुई।



संतों ने प्रस्ताव पारित किया कि ज्ञानवापी मामले को संत समाज आंदोलन का रूप देगा। ज्ञानवापी मसले पर धार्मिक विभाजन हो रहा है। यह ठीक नहीं है। इस पर समाज का मार्गदर्शन करना जरूरी है।इसके लिए महामंडलेश्वर का कार्य कर्तव्य निर्धारित होगा। सरकार की ओर से प्रोटोकॉल निर्धारित करने की मांग होगी। आगामी दिनों में देशभर के संत काशी आएंगे। सभी ज्ञानवापी की यात्रा-परिक्रमा और पूजन करेंगे।

हर घर में ज्ञानवापी की पूजा होनी चाहिए

 शिव की नगरी काशी को मांस-मदिरा मुक्त करने की मांग भी उठाई जाएगी। संतों ने एक स्वर में कहा कि हर घर में ज्ञानवापी की पूजा शुरू होनी चाहिए। भगवान भाव के भूखे हैं। लोग ज्ञानवापी परिसर में पहुंचे और बाहर ही जल- फूल चढ़ाएं।

वाराणसी में महामंडलेश्वरों की बैठक
वाराणसी में महामंडलेश्वरों की बैठक - फोटो : अमर उजाला
अखिल भारतीय संत समिति महामंत्री स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने बताया कि धर्माचार्यों की इस बैठक में पारित प्रस्तावों के बारे में जल्द ही विस्तार में जानकारी दी जाएगी। बैठक से पूर्व सभी धर्माचार्यों ने तिरंगा अभियान में हिस्सा लिया। मां भारती के जयकारे लगाए। आम जनमानस से स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने की अपील की।

वाराणसी में महामंडलेश्वरों की बैठक
वाराणसी में महामंडलेश्वरों की बैठक - फोटो : अमर उजाला
संतों ने कहा कि यह हम सभी का सौभाग्य है कि हम देश की आजादी के 75वें वर्ष के साक्षी बन रहे हैं। इस दौरान  महामंडलेश्वर स्वामी चिदंबरानंद सरस्वती, महामंडलेश्वर स्वामी हरिहरानंद सरस्वती, महामंडलेश्वर स्वामी यतींद्रानंद गिरी, महामंडलेश्वर अभयानंद सरस्वती, महामंडलेश्वर चंद्रेश्वर गिरी, महामंडलेश्वर स्वामी विश्वेश्वरानंद पुरी, स्वामी नरेंद्रानंद सरस्वती, महंत बालक दास और अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रवींद्र पुरी शामिल रहे। 

हिंदुओं को बच्चे पैदा करना जरूरी

महामंडलेश्वर अभयानंद सरस्वती ने कहा कि आज हिंदू समाज एक बच्चा पैदा करने के पक्ष में नहीं है। इसके लिए अब बोलना होगा। हिंदू समाज के विचारों में डालना होगा कि बच्चे दो चार होने चाहिए। अगर यह स्थिति रही तो मां भारती की और हिंदू धर्म की रक्षा कौन करेगा। उन्होंने कहा कि बहुसंख्यक बने रहने के लिए हिंदुओं को बच्चे पैदा करना जरूरी है। 

कहा कि अगर बच्चा पाल नहीं पा रहे हैं तो उसे हमें दे दीजिए। मठ पालन कर लेगा। एक बच्चे के सिद्धांत से हिंदुओं को महात्मा कहां से मिलेंगे। स्वामी नरेंद्रानंद सरस्वती ने कहा कि हिंदू समाज के लोग कम से कम पांच संतान पैदा करें। एक अपने पास रखें और चार संत समाज को दे दें। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00