लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Uttarkashi ›   Savita was the only support of elderly parents

बुजुर्ग माता-पिता का इकलौता सहारा थी सविता

Dehradun Bureau देहरादून ब्यूरो
Updated Wed, 05 Oct 2022 11:48 PM IST
सार

तीन बड़ी बहनों की शादी होने के बाद एवरेस्ट विजेता सविता कंसवाल ही अपने बुजुर्ग माता-पिता का इकलौता सहारा थी।कुछ साल पहले ही उसने अपने गांव के घर-आंगन की मरम्मत करवाई थी।

Savita was the only support of elderly parents
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

तीन बड़ी बहनों की शादी होने के बाद एवरेस्ट विजेता सविता कंसवाल ही अपने बुजुर्ग माता-पिता का इकलौता सहारा थी। द्रौपदी का डांडा में हिमस्खलन की चपेट में आने से सविता की असमय मौत से परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है।

बीते मंगलवार को द्रौपदी का डांडा में हिमस्खलन की चपेट में आकर निम की प्रशिक्षक सविता कंसवाल (28) की मौत हो गई। विकासखंड भटवाड़ी के लोंथरु गांव निवासी राधेश्याम कंसवाल व कमली देवी की चार बेटियों में सविता सबसे छोटी थी। लौंथरु गांव की प्रधान कुसुम नौटियाल बताती हैं कि सविता की तीन बहनों केदारी, रजनी व मनोरमा की शादी होने के बाद बुजुर्ग माता-पिता का सविता ही इकलौता सहारा थी। सविता के पिता राधेश्याम कंसवाल पंडिताई का काम करते हैं लेकिन बुढ़ापे के चलते वे पिछले कुछ सालों से केवल आसपास के गांवों में जा पा रहे हैं।

पिछले छह-सात सालों से घर का खर्च सविता ही उठा रही थी। कुछ साल पहले ही उसने अपने गांव के घर-आंगन की मरम्मत करवाई थी। इसी साल एवरेस्ट फतह करने पर ग्रामीणों ने सविता का जोरदार स्वागत किया था। गांव में किसी को भी विश्वास नहीं हो रहा है कि सविता अब इस दुनिया में नहीं है। संवाद
सोबी ने रखा था सहस्त्रताल ट्रेक पर चलने का प्रस्ताव
निम की प्रशिक्षक सविता कंसवाल के सामने उत्तरकाशी में एक ट्रेकिंग एजेंसी चलाने वाले सोबेंद्र सिंह नेगी उर्फ सोबी ने उसके 40 सदस्यीय दल के साथ सहस्त्रताल ट्रेक पर चलने का प्रस्ताव रखा था लेकिन सविता निम के एडवांस माउंटेनियरिंग कोर्स के प्रशिक्षुओं के साथ बतौर महिला प्रशिक्षक द्रौपदी का डंडा रवाना हो गई। जहां हिमस्खलन की चपेट में आने से उसकी जान चली गई।
पर्वतारोहण के क्षेत्र में था कुछ बड़ा करने का सपना
सोबेंद्र सिंह नेगी उर्फ सोबी बताते हैं कि सविता के पर्वतारोहण के क्षेत्र में कुछ बड़ा करने का सपना था। वह इसी साल एवरेस्ट व माउंट मकालू को फतह कर यह साबित भी कर चुकी थी। बताया कि वह अक्सर पर्वतारोहण के क्षेत्र में युवाओं को आगे बढ़ाने की बात किया करती थी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00