विज्ञापन
विज्ञापन
लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

उत्तराखंड:  सचिवालय कूच के दौरान राष्ट्रवादी जनलोक पार्टी और पुलिस में झड़प, कार्यकर्ता हुए चोटिल

बेरोजगारी भत्ता, रोजगार समेत विभिन्न मामलों को लेकर सचिवालय कूच कर रहे राष्ट्रवादी जनलोक पार्टी के कार्यकर्ताओं और पुलिस में झड़प हो गई। पार्टी के कार्यकर्ता बुधवार को परेड ग्राउंड से सचिवालय कूच को निकले। सचिवालय से कुछ पहले सुभाष रोड पर पुलिस ने उन्हें बैरिकेडिंग पर ही रोक लिया।

अफरातफरी की स्थिति
इससे पहले बैरिकेडिंग पर पुलिस ने प्रदर्शनकारी भोजन माताओं को भी रोका हुआ था। जो वहीं धरने पर बैठी हुई थीं। राष्ट्रवादी जनलोक पार्टी के कार्यकर्ताओं के वहां पहुंचने पर अफरातफरी की स्थिति पैदा हो गई।

पुलिस और कार्यकर्ताओं में तीखी नोकझोंक
कुछ कार्यकर्ता बैरिकेडिंग से आगे जाने की कोशिश करने लगे। जिस पर पुलिस और कार्यकर्ताओं में तीखी नोकझोंक होने लगी। जिस पर पुलिस ने बल प्रयोग करते हुए कार्यकर्ताओं पर लाठियां फटकार दी। इस दौरान एक महिला दरोगा ने पार्टी के एक कार्यकर्ता को जमकर पीटा।

घटनाक्रम में सात-आठ लोग चोटिल
अधिकारियों के रोकने के बाद भी महिला दरोगा कुछ देर तक इस कार्यकर्ता को पीटती रही। इससे दूसरे कार्यकर्ता आक्रोशित हो गए। इस पूरे घटनाक्रम में सात-आठ लोग चोटिल हुए हैं। जिनमें से कुछ लहूलुहान भी हुए हैं। फिलहाल मौके पर अफरातफरी की स्थिति है।
... और पढ़ें

उत्तराखंड:  30 अक्तूबर शाह की भव्य जनसभा से चुनाव अभियान का आगाज करेगी भाजपा

भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष व केंद्रीय सहकारिता व गृहमंत्री अमित शाह की 30 अक्तूबर को देहरादून के बन्नू स्कूल मैदान में एक बड़ी जनसभा होगी। पार्टी ने शाह की जनसभा में एक लाख की भीड़ जुटाने का लक्ष्य बनाया है। भाजपा बड़ी संख्या में भीड़ जुटाकर अपने पक्ष में चुनावी वातावरण बनाने का मंसूबा पाले हुए है। शाह की रैली के जरिये भाजपा चुनाव अभियान का आगाज करेगी। 

चुनावी जनसभा को भव्य बनाने के लिए बुधवार को प्रदेश पार्टी कार्यालय में एक तैयारी बैठक हुई। बैठक में देहरादून नगर निगम के 100 वार्डों की संगठन इकाइयों और पार्टी पार्षदों को बुलाया गया था। बैठक में सभी वार्ड नेताओं को भीड़ जुटाने के लक्ष्य दिए गए।

हर वार्ड से 1000 लोग जनसभा में लाने का टारगेट तय किया गया। कैंट एरिया 12 वार्डों से भी एक-एक हजार लोगों को जनसभा में लाया जाएगा। पार्टी के प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार की अध्यक्षता में हुई तैयारी बैठक में कैबिनेट मंत्री बंशीधर भगत, नगर निगम के मेयर सुनील उनियाल गामा, महानगर अध्यक्ष सीता राम भट्ट, महानगर मीडिया प्रभारी राजीव उनियाल समेत कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।

विधायकों व पार्टी पदाधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी
पार्टी ने शाह की रैली में तय लक्ष्य के अनुरूप भीड़ जुटाने के लिए शहर विधायकों व पार्टी पदाधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी है। प्रदेश संगठन के 48 पदाधिकारियों के अलावा मोर्चों के प्रदेश पदाधिकारी व जिलाध्यक्ष तथा प्रदेश सरकार में दायित्वधारी रहे नेताओं को भी वार्डों में जाकर तैयारी बैठक करने के निर्देश दे दिए गए हैं। पार्टी के प्रदेश महामंत्री संगठन अजेय कुमार ने अलग से विधायकों की बैठक में तैयारी के निर्देश दिए।

हर वार्ड की बैठक में 100 लोगों का टारगेट
पार्टी ने तय किया है कि बृहस्पतिवार से हर वार्ड की बैठक में कम से कम 100 लोगों को बुलाने का लक्ष्य रखा गया है। इस बैठक में 100 लोगों को अपने वार्ड से 100 लोगों को लाने का लक्ष्य दिया जाएगा। 

17 ग्रामीण मंडलों के लिए 100 बसें
17 ग्रामीण मंडलों से भीड़ जुटाने के लिए पार्टी ने 100 बसों का इंतजाम किया है। नगर निगम के वार्डों में छोटे वाहनों से भीड़ रैली स्थल तक लाई जाएगी।

तैयारी बैठक में सभी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को जनसभा में लाए जाने वाले लोगों की संख्या के लक्ष्य दिए गए हैं। अमित शाह जी की जनसभा भव्य होगी। इस जनसभा के जरिये पार्टी अपने चुनाव अभियान का आगाज करेगी। घसियारी योजना का शुभारंभ और और कोर कमेटी की बैठक के बाद शाह जनसभा को संबोधित करेंगे।
- कुलदीप कुमार, प्रदेश महामंत्री, भाजपा
... और पढ़ें

उत्तराखंड: बदरीनाथ और यमुनोत्रीधाम में बर्फबारी, दारमा में फंसे तीन साल के बच्चे की तबीयत खराब

उत्तराखंड के लगभग सभी इलाकों में फिलहाल मौसम साफ है। चारधाम यात्रा मार्ग भी सुचारू हैं। वहीं भवाली-अल्मोड़ा राष्ट्रीय राजमार्ग में नावली के पास बंद मार्ग बुधवार को 14 घंटे बाद खुल गया। जिससे जाम में फंसे लोगों को राहत मिली। बुधवार दोपहर को बदरीनाथधाम और यमुनोत्रीधाम में अचानक मौसम ने करवट ली और सीधे बर्फबारी शुरू हो गई। विभिन्न प्रांतों से आए श्रद्धालुओं ने धाम बर्फबारी का आनंद लिया।

दारमा घाटी में फंसे तीन साल के बच्चे की तबीयत खराब
दारमा घाटी के बॉलिंग ग्राम आज सुबह ही अचानक तीन वर्षीय बालक जयनेस बनग्याल की तबीयत खराब हो गयी है। उनके परिजनों ने वीसेट से सरकार और प्रशासन शीध्र ही हेलीकॉप्टर भेजने की मांग करते हुए एक वीडियो भेजा है। दारमा घाटी में कल शाम फिर से बर्फबारी हुई है। जिस वजह से धाम में बहुत ज्यादा ठंड पड़ रही है।

आपदा में मृतकों के परिजनों से मिले मंत्री
वहीं कैबिनेट व जिला प्रभारी मंत्री गणेश जोशी उत्तरकाशी के पाटा, सिरोर और नाल्ड गांव पहुंचे। उन्होंने पाटा गांव निवासी मृतक आईटीबीपी के पोर्टर दिनेश चौहान, नाल्ड निवासी मृतक संजय सिंह और सिरोर निवासी मृतक राजेन्द्र सिंह के परिजनों से मुलाकात कर उन्हें सांत्वना दी। मंत्री ने मृतकों की आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की और सरकार से परिवार को हर संभव मदद का भरोसा दिलाया। इन सभी की पिछले दिनों अतिवृष्टि के कारण आई आपदा में मौत हो गई थी।

उत्तराखंड में बदला मौसम: चारधाम की ऊंची चोटियों पर बर्फबारी, मैदान में बारिश से बढ़ी ठंड, तस्वीरें

बुधवार को सुबह आठ बजे तक बाबा केदार के दर्शनों के लिए सोनप्रयाग से 2500 यात्रियों ने धाम के लिए प्रस्थान किया है। यमुनोत्रीधाम सहित यमुना घाटी मे चटक धूप खिली हुई है। यमुनोत्री हाईवे के साथ यमुनोत्री पैदल मार्ग पर आवाजाही सामान्य रूप से हो रही है। सुबह से अभी तक 200 से अधिक श्रद्वालुओं ने मां यमुना के दर्शन कर लिए हैं।

कुमाऊं में 134 मार्ग अब भी बंद
कुमाऊं में अब भी 134 सड़कें मलबे से बंद हैं। इनमें लोक निर्माण विभाग ने नैनीताल जिले में रामगढ़, धारी और भीमताल ब्लॉक के 16 ग्रामीण मार्गों को खोल दिया है, जबकि 29 ग्रामीण मार्ग अब भी बंद हैं। वहीं पिथौरागढ़ जिले में 24, चंपावत में 71, बागेश्वर में एक और अल्मोड़ा जिले में 9 सड़कें अब भी बंद है।
... और पढ़ें

चारधाम यात्रा 2021: टूटा पिछले साल का रिकॉर्ड, 43 दिन में पहुंचे 3.48 लाख से ज्यादा तीर्थयात्री

कोविड महामारी के कारण इस साल चारधाम यात्रा देर से शुरू होने के बाद भी यात्रियों ने पिछले साल का रिकॉर्ड तोड़ा है। मात्र 43 की दिन की यात्रा में 3.48 लाख से अधिक तीर्थ यात्रियों ने अब तक बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री धाम के दर्शन कर चुके हैं। बीते वर्ष एक जुलाई से शुरू हुई चारधाम यात्रा पांच महीने चल चली थी। इसमें लगभग 3.22 लाख तीर्थ यात्रियों ने दर्शन किए थे। 

इस साल मई महीने में चारधामों के कपाट खुल गए थे। लेकिन कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए चारधामों में पुख्ता इंतजाम न होने के कारण हाइकोर्ट ने यात्रा संचालन पर रोक लगाई थी। प्रदेश सरकार ने फिर से चारधाम यात्रा खोलने के लिए प्रार्थना पत्र देकर कोर्ट से विशेष सुनवाई का आग्रह किया था।

उत्तराखंड: बदरीनाथ में सीजन की पहली बर्फबारी, केदारनाथ में माइनस तीन डिग्री पहुंचा तापमान, तस्वीरें

जिस पर कोर्ट ने रोक हटा कर सीमित संख्या के आधार पर चारधाम शुरू करने के आदेश दिए थे। 18 सितंबर को चारधामों की यात्रा शुरू हुई। लेकिन धामों में दर्शन के लिए सीमित संख्या होने से यात्रियों को बिना दर्शन किए वापस लौटना पड़ रहा है। सरकार के आग्रह पर कोर्ट ने सीमित संख्या को हटाने के आदेश दिए। जिससे चारधाम यात्रा में दर्शन करने वालों की रफ्तार बढ़ी है। 43 दिन में 3.48 लाख यात्री दर्शन कर चुके हैं। जबकि पिछले वर्ष 2020 में एक जुलाई से शुरू हुई यात्रा से कपाट बंद होने तक चारधाम में लगभग 3.22 लाख यात्रियों ने दर्शन किए थे। 

देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन का कहना है कि चारधाम के दर्शन करने के लिए तीर्थ यात्रियों में काफी उत्साह है। जिससे पिछले साल की तुलना में अब तक दर्शन कर वाले यात्रियों की संख्या ज्यादा है। 
... और पढ़ें
चारधाम यात्रा चारधाम यात्रा

उत्तराखंड आपदा: प्रदेश में 77 पहुंचा मृतकों का आंकड़ा, 900 करोड़ का हुआ नुकसान

बीते दिनों उत्तराखंड में भारी बारिश के बाद आई आपदा में हुए नुकसान की रिपोर्ट शासन को मिलने लगी है। अभी तक 10 से 12 विभागों की ओर से सौंपी गई रिपोर्ट के आधार पर 900 करोड़ रुपये के नुकसान का प्राथमिक आकलन किया गया है। 232 से अधिक परिसंपत्तियों को नुकसान पहुंचा है। क्षति का आंकड़ा और भी बढ़ने के आसार हैं। वहीं, आपदा में मरने वाले लोगों का आंकड़ा 77 पहुंच गया है। 

आपदा में सड़कों, पुलों, आवासीय और व्यावसायिक भवनों, फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। पशु हानि भी हुई है। कई स्कूल भवन और अन्य सरकारी भवन भी इसकी जद में आए हैं। सचिवालय स्थित राज्य परिचालन केंद्र के अनुसार आपदा में हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए जिलों से विभागवार रिपोर्ट मांगी जा रही है। जिसके आधार पर क्षति का आकलन किया जा रहा है। अभी तक प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार, नैनीताल जिले में 74 भवनों को क्षति पहुंची है, इनमें 19 भवन पूर्ण रूप से ध्वस्त हो गए, जबकि 55 भवनों को आंशिक क्षति पहुंची है। अल्मोड़ा में 40 भवनों को नुकसान पहुंचा है, इनमें सात भवन पूरी तरह से ध्वस्त हो गए, जबकि 33 भवनों को आंशिक क्षति पहुंची है। चंपावत में दो भवनों को आंशिक क्षति पहुंची है। 

ऊधमसिंह नगर में चार भवन पूर्व रूप से ध्वस्त हो गए, जबकि 16 को आंशिक क्षति पहुंची है। इसके अलावा 74 झोपड़ियों के साथ सात गोशालाएं बाढ़ में बह गईं। जिले में अभी तक 78 बड़े पशुओं, 30 छोटे पशुओं और 31 हजार से अधिक कुक्कुट के मरने की रिपोर्ट प्राप्त हुई है। चमोली में 15 भवनों को क्षति पहुंची है। 

जैसे-जैसे जिलों से विभागों की ओर नुकसान की रिपोर्ट भेजी जा रही है, क्षति का आकलन किया जा रहा है। कुल कितना नुकसान हुआ है, इसका आकलन सभी जिलों से रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद ही किया जा सकेगा। फिलहाल दस से 12 विभागों की रिपोर्ट प्राप्त हो गई है। इसमें प्राथमिक तौर पर करीब नौ सौ करोड़ रुपये के नुकसान का आकलन किया गया है। 
- एसए मुरुगेशन, सचिव, आपदा प्रबंधन 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: बदरीनाथ में सीजन की पहली बर्फबारी, केदारनाथ में माइनस तीन डिग्री पहुंचा तापमान, तस्वीरें

उत्तराखंड में मौसम ने एक बार फिर करवट बदली है। मैदानी इलाकों में जहां हल्के कोहरे की शुरुआत होने लगी है वहीं, पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी शुरू हो गई है। बुधवार को बदरीनाथ धाम में सीजन की पहली बर्फबारी हुई। वहीं, केदारनाथ और यमुनोत्री धाम की वादियां भी बर्फ से सराबोर हो गई हैं। उधर, कुमाऊं में दारमा घाटी भी बर्फ की सफेद चादर में लिपटी है। 

चारधाम यात्रा 2021: बीते दिनों उत्तराखंड में अतिवृष्टि से दहशत में यात्री, रद्द कराई बुकिंग

बुधवार शाम बदरीनाथ में अचानक हुई बर्फबारी के बाद धाम में कड़ाके की ठंड पड़ने लगी है। सुबह तक बदरीनाथ धाम में मौसम साफ था। लेकिन दोपहर बाद अचानक मौसम बदला और बर्फ पड़ने लगी। बर्फबारी के कारण यात्री भी ठंड से कांपने लगे। धाम में ठंड बढ़ने पर प्रशासन ने अलाव की व्यवस्था करा दी है। धाम की चोटियां पहले ही बर्फ से ढक चुकी हैं। जिससे पूरे दिन शीतलहर चल रही है। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: वाहन से टकराकर खाई में गिरा टेंपो ट्रैवलर, पांच बंगाली पर्यटकों की मौत, 10 घायल, तस्वीरें

उत्तराखंड में मुनस्यारी से कौसानी आ रहे सैलानियों के दो वाहन कपकोट के जसरौली के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गए। हादसे में तीन महिलाओं समेत पांच बंगाली सैलानियों की मौत हो गई जबकि 10 लोग घायल हो गए। घायलों में दो लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। मृतकों में दंपती भी शामिल है। बताया जा रहा है कि ब्रेक फेल होने से पीछे चल रहे टेंपो ट्रैवलर ने आगे चल रहे टेंपो ट्रैवलर को टक्कर मार दी। टक्कर मारने वाला वाहन खाई में जा गिरा जबकि आगे चल रहा वाहन सड़क पर पलट गया। 

 कपकोट थाना पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मुनस्यारी से तीन टेंपो ट्रैवलर वाहनों में बंगाली सैलानी कौसानी आ रहे थे। वाहन बुधवार दोपहर करीब दो बजे कपकोट से करीब छह किमी दूर जसरौली के पास पहुंचे ही थे कि पीछे से आ रहे टेंपो ट्रैवलर (यूके 04 पीए 1376) ने आगे चल रहे टेंपो ट्रैवलर (यूके 04 पीए 1755) को टक्कर मार दी। टक्कर मारने वाला वाहन करीब 100 मीटर गहरी खाई में जा गिरा, जबकि आगे चल रहा वाहन सड़क पर पलट गया।

खाई में गिरे वाहन में सवार तीन महिलाओं समेत पांच लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। हादसे की सूचना मिलते ही स्थानीय लोगों का मौके पर जमावड़ा लग गया। पुलिस और एसडीआरएफ की टीम ने स्थानीय लोगों की मदद से शवों और घायलों को खाई से निकाला। घायलों को कपकोट के सीएचसी में भर्ती किया गया। 
... और पढ़ें

तस्वीरें: देहरादून में छात्रा की हत्या से सनसनी, कोर्ट पहुंचकर बोला आरोपी ...जज साहब, मैंने एक लड़की का मर्डर कर दिया 

सड़क हादसे में बंगाली पर्यटकों की मौत
राजधानी देहरादून का सीजेएम कोर्ट कंपाउंड। बुधवार दोपहर तीन बजे एसीजेएम कोर्ट में लंच के बाद एक मुकदमे में जिरह चल रही थी। पक्ष-विपक्ष के कई लोग और वकील कोर्ट रूम में मौजूद थे। इसी बीच एक हांफता हुआ लड़का आया और कहा ...जज साहब, मैंने प्रेमनगर में एक लड़की की हत्या कर दी है। मैं सरेंडर करना चाहता हूं। यह सब सुनकर वहां मौजूद लोग भौचक्के रह गए। कुछ ही देर में वहां सुरक्षा गारद के सिपाही पहुंचे और लड़के को पकड़ लिया। 

हत्या का समय लगभग दो बजे का बताया जा रहा है। इसके बाद आरोपी करीब सवा चार बजे तक कोर्ट पहुंच था। रोज की तरह कोर्ट में न्यायिक प्रक्रिया चल रही थी। एडवोकेट चंद्रशेखर तिवारी ने बताया कि वह अपने एक मुकदमे में जिरह कर रहे थे। कोर्ट रूम खचाखच भरा हुआ था। एक लड़का करीब 17-18 वर्ष का कोर्ट रूम के बाहर खड़ा हुआ और लोगों को बताया कि उसे जज साहब से कुछ बात करनी है। कहा कि मेरा कुछ काम है। चूंकि, कोर्ट चल रही थी तो सभी ने उसे नजरअंदाज किया। लड़का पसीने में तर बतर था। टीशर्ट पहनी हुई थी। 

एकाएक वह अंदर घुस गया और जज को कहा कि ...मैंने प्रेमनगर में एक लड़की का मर्डर कर दिया है। मैं यहां पर सरेंडर करने आया हूं। यह सुनकर सभी सन्न रह गए। उसने एक लाइन में सारी बात जज को बता दी। जज साहब ने वहां खड़े पुलिसकर्मियों को इशारा किया। पुलिसकर्मियों ने उसे पकड़ा और कोर्ट रूम से बाहर ले आए। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने अपने अधिकारियों को यह बात बताई होगी। कुछ देर बाद जब देखा तो वहां पर लड़का नहीं था। अधिवक्ता ने बताया कि यदि वह लड़का उनके सामने आएगा तो वह उसे पहचान लेंगे। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: ट्रैकिंग और पर्वतारोहण पर जाने के लिए पंजीकरण होगा अनिवार्य

उत्तराखंड में ट्रैकिंग और पर्वतारोहण पर जाने वाले पर्यटकों व दलों के लिए जल्द पंजीकरण करना अनिवार्य हो जाएगा। इसके लिए पर्यटन विभाग की ओर से नई गाइडलाइन तैयार की जा रही है। कैबिनेट में प्रस्ताव को मंजूरी देकर जल्द ही इसे लागू किया जाएगा। साथ ही ट्रैकिंग के दौरान ट्रैकरों की लोकेशन का पता लगाने के लिए जीपीएस सिस्टम को भी गाइडलाइन में शामिल किया जा सकता है।

चारधाम यात्रा 2021: बीते दिनों उत्तराखंड में अतिवृष्टि से दहशत में यात्री, रद्द कराई बुकिंग

साहसिक पर्यटन के शौकीन पर्यटकों समेत विशेष अभियान दल हर साल उत्तराखंड में ट्रैकिंग और पर्वतारोहण के लिए आते हैं। लेकिन अभी तक ट्रैकिंगपर जाने वाले वाले पर्यटकों के पंजीकरण की पुख्ता व्यवस्था नहीं है। न तो ट्रैकिंग दल के सदस्यों के बारे में विभाग के पास कोई जानकारी होती है और न ही लोकेशन का पता लगाने के लिए कोई सिस्टम होता है।

छितकुल में हुई थी सात पर्यटकों की मौत
हाल ही में उत्तरकाशी जिले से छितकुल की ट्रैकिंगपर गए 11 सदस्यीय दल के साथ घटना हुई है, जिसमें सात शव बरामद हो चुके हैं। कुमाऊं में भी ऐसा ही हादसा हुआ था। ट्रैकिंग दलों के साथ हादसों को देखते हुए अब पर्यटन विभाग की ओर सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए नई गाइडलाइन बनाई जा रही है। जिसमें ट्रेकरों के पंजीकरण को अनिवार्य किया जाएगा। जिससे ट्रेकरों के बारे में पूरा डाटा विभाग के पास होगा।

प्रदेश में ट्रैकिंग और माउंटेरिंग के लिए नई गाइडलाइन बनाई जा रही है। जिसमें ट्रैकिंग दल की सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। ट्रेकिंग के लिए पंजीकरण के साथ ट्रेकरों को ट्रैकिंग से संबंधित दिशा-निर्देश भी दिए जाएंगे।
- दिलीप जावलकर, पर्यटन सचिव
... और पढ़ें

उत्तराखंड: हरीश रावत ने किया कटाक्ष, कहा- बहुगुणा हो गए थे बेरोजगार उन्हें मिला रोजगार

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा पर तंज किया कि वह बेरोजगार हो गए थे, भाजपा में उन्हें रोजगार मिल गया है। उन्होंने कहा कि बहुगुणा का दर्द राज्यसभा था। लेकिन भाजपा ने भी उन्हें राज्यसभा नहीं भेजा। 

उत्तराखंड: 30 अक्तूबर शाह की भव्य जनसभा से चुनाव अभियान का आगाज करेगी भाजपा

हरीश रावत मीडियाकर्मियों से बातचीत कर रहे थे। अपने कुनबे के विधायकों को मनाने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा से जुड़े सवाल पर हरीश रावत ने चुटीले जवाब दिए। उन्होंने कहा कि विजय बहुगुणा के यहां आने का मतलब है कि उन्हें भाजपा में रोजगार मिल गया। साथ ही यह भी साफ हो गया कि भाजपा के अंदर बहुत जबर्दस्त गड़बड़ है। गड़बड़ को लेकर उनका शीर्ष नेतृत्व चिंतित है। हरीश रावत ने कहा कि कांग्रेस में बहुगुणा का एक ही दर्द था कि उन्हें राज्यसभा नहीं मिल रही।

भाजपा ने भी राज्यसभा नहीं दी। इसका मतलब है कि भाजपा से निकल कर वे आप में तो नहीं जा रहे, क्योंकि कांग्रेस तो शायद उनको ले ही नहीं। वह कहां से चुनाव लड़ रहे हैं, बहुगुणा के इस सवाल पर उन्होंने कहा कि मेरे चुनाव लड़ने पर उनकी चिंता है। इसका सीधा अर्थ है कि मोदी की लहर पर बहुगुणा को भरोसा नहीं रह गया है। असंतुष्टों को मनाने पहुंचे बहुगुणा के अभियान पर हरीश रावत ने कहा कि उन्होंने क्या गारंटी ली है, यह भाजपा और उनके बीच की बात है। लेकिन उसके लिए भाजपा क्या कीमत देने जा रही है?

ज्यादातर उजाड़ू बल्द उधर ही रहें
हरीश रावत ने कहा कि मेरी तो भगवान से प्रार्थना है कि ज्यादातर उजाड़ू बल्द उधर ही रहें। ऐसे में भाजपा की जो गत आज हुई है, आगे इससे भी बुरी होगी, यह निश्चित है। इसलिए उनका उधर रहना हमारे लिए शुभ है। इतना अवश्य है कि कुछ लोग पार्टी के संपर्क में हैं। पार्टी चाहेगी तो उन्हें लिया जा सकता है। हरक सिंह की वापसी के सवाल को हरीश टाल गए।
... और पढ़ें

उत्तराखंड आपदा: हर मोर्चे पर देवदूत बनकर उतरे जवान, बचाई एक हजार लोगों की जान

उत्तराखंड में बीती 18 व 19 अक्तूबर को आई आपदा में सेना के जवान देवदूत बनकर लोगों के बीच पहुंचे। इस दौरान सेना के जवानों ने प्रभावित इलाकों में करीब एक हजार लोगों की जान बचाई है। यही नहीं पिंडारी व सुंदरढूंगा ग्लेशियर में लापता हुए ट्रैकरों को सकुशल लाने के लिए रेस्क्यू अभियान भी चलाया। 

यह जानकारी बुधवार को उत्तराखंड सब एरिया मुख्यालय के कर्नल (जनरल स्टाफ) समीर शर्मा ने मीडियाकर्मियों को दी। बताया कि बतौर नोडल आफिसर खुद उन्होंने भी आपदा प्रभावित इलाकों में मोर्चा संभाला था। कर्नल जीएस ने बताया कि 17 अक्तूबर की शाम को मौसम का मिजाज बिगड़ने व राज्य में आपदा आने की संभावना की सूचना सेना को मिल गई थी। राज्य सरकार व स्थानीय प्रशासन ने भी सेना से समन्वय किया। इसके बाद गढ़वाल व कुमाऊं मंडल में अलग-अलग स्थानों पर तैनात सेना की ब्रिगेड को अलर्ट मोड पर रखा गया। नैनीताल, रामगढ़, टनकपुर, ऊधमसिंहनगर आदि जगह आपदा का असर अधिक रहा।

उत्तराखंड आपदा: प्रदेश में 77 पहुंचा मृतकों का आंकड़ा, 900 करोड़ का हुआ नुकसान

धारचूला स्थित पंचशूल ब्रिगेड व चौबटिया में तैनात सैन्य टुकड़ी को तत्काल प्रभाव से प्रभावित क्षेत्रों में लोगों की मदद के लिए रवाना किया गया। अधिकांश स्थानों पर सड़कें पूरी तरह तबाह हो चुकी थी। पैदल चलने को भी रास्ता नहीं था। फिर भी जवानों ने हिम्मत नहीं हारी और प्रभावित इलाकों में पहुंचकर दिन- रात राहत व बचाव कार्य में जुटे रहे। गुलमर्ग स्थित हाई एल्टीट्यूट इंस्टीट्यूट से भी सेना की एक टीम बुलाई गई थी। एसडीआरएफ, पुलिस व स्थानीय प्रशासन से निरंतर समन्वय बनाकर फंसे हुए लोगों व पर्यटकों को सकुशल निकाला गया। जवानों ने इस दौरान कम से कम एक हजार लोगों की जान बचाई है। प्रभावित इलाकों में मेडिकल व भोजन की व्यवस्था भी सेना द्वारा की गई थी। सब एरिया के जनरल आफिसर कमांडिंग मेजर जनरल एस खत्री ने भी राहत व बचाव कार्य में जुटी रहे सेना के जवानों द्वारा किए गए कार्य की सराहना की है।
... और पढ़ें

देहरादून: प्रेमनगर में गला रेतकर 11वीं की छात्रा की बेरहमी से हत्या, आरोपी ने कोर्ट में जाकर किया सरेंडर

देहरादून में 11वीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा की गला रेत कर हत्या कर दी गई। उसका शव प्रेमनगर क्षेत्र स्थित चाय बागान में मिला। हत्या करने के बाद आरोपी खुद कोर्ट में पहुंच गया। वहां जज को हत्या के बारे में बताया तो पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। बताया जा रहा है कि आरोपी छात्रा से प्रेम करता था। लेकिन, कुछ दिनों से दोनों के बीच अनबन चल रही थी। इसी के चलते उसने छात्रा की हत्या कर दी। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त मांस काटने वाले छुरे को भी बरामद कर लिया है। 

घटना प्रेमनगर के विंग नंबर सात के पास की है। यहां पर बुधवार शाम करीब चार बजे स्कूल ड्रेस पहने एक लड़की का लहुलूहान शव देखकर एक व्यक्ति ने स्थानीय लोगों को सूचना दी। मौके पर बनियावाला क्षेत्र के लोग इकट्ठा हुए लड़की का गला बुरी तरह रेता गया था। वह प्रेमनगर स्थित एक कॉलेज में 11 कक्षा की पढ़ाई कर रही थी। पता चला कि वह छुट्टी के बाद अक्सर दो बजे तक अपने घर आ जाती थी। लेकिन, बुधवार को वह तीन बजे तक भी नहीं पहुंची तो घरवालों को चिंता हुई और उसकी तलाश शुरू की। इस बीच उन्हें यह सूचना मिल गई। 

इस बीच पता चला कि पता चला कि एक लड़का कोर्ट एसीजेएम चतुर्थ की कोर्ट में पहुंचा है। उसने प्रेमनगर क्षेत्र में किसी लड़की की हत्या करने की बात जज को बताई है। जज ने सुरक्षा गार्ड को बताया और वहां से प्रेमनगर पुलिस को सूचना दी गई। प्रेमनगर पुलिस ने लड़के को हिरासत में ले लिया। पता चला कि लड़का भी शहर के एक स्कूल में 12वीं कक्षा का छात्र है। वह उससे प्यार करता था। लेकिन, कुछ दिन पहले उसने लड़की को एक अन्य युवक के साथ बात करते देखा था। वह तभी से उससे खुन्नस रखने लगा। बताया जा रहा है कि लड़की से इस बात को लेकर कई बार उसका झगड़ा भी हुआ। 

बुधवार को लड़की अपनी सहेलियों के साथ घर लौट रही थी। इसी बीच उसने उसे रोक लिया और बात करने को कहा। वह उसे आसपास के इलाके में घुमाने भी ले गया। इसके बाद करीब दो बजे उसने चाय बागान के पास उसका गला रेतकर हत्या कर दी और खुद वहां से कोर्ट में पहुंच गया। सीओ सिटी शेखर सुयाल ने बताया कि आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है। हत्या के कारणों की भी जांच की जा रही है। अभी केवल दोनों के बीच विवाद की बात पता चली है। 
... और पढ़ें

सचिवालय कूच: राष्ट्रवादी जनलोक पार्टी के कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने फटकारी लाठियां, झड़प में कई घायल, तस्वीरें

देहरादून में सचिवालय कूच के दौरान राष्ट्रवादी जनलोक पार्टी (सत्य) के कार्यकर्ताओं और पुलिस में झड़प हो गई। हंगामा बढ़ता देख पुलिस ने लाठियां फटकारीं। इसमें लगभग आठ कार्यकर्ता चोटिल हुए और कुछ लहूलुहान भी हुए हैं। जिन्हें एंबुलेंस से अस्पताल ले जाना पड़ा। प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई।

उत्तराखंड की औद्योगिक इकाइयों में 70 प्रतिशत राज्य के मूल निवासियों को रोजगार देने का नियम जल्द लागू करने और बेरोजगारी भत्ता समेत विभिन्न मांगों को लेकर बुधवार को पार्टी कार्यकर्ताओं ने परेड ग्राउंड से सचिवालय कूच किया।

पुलिस ने कार्यकर्ताओं को सुभाष रोड पर पुलिस मुख्यालय से पहले ही बैरिकेडिंग लगाकर रोक दिया। वहां पहले से ही बैरिकेडिंग पर पुलिस ने सचिवालय कूच कर रही प्रदर्शनकारी भोजन माताओं को भी रोका हुआ था, जो वहीं धरने पर बैठी थीं।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00