Hindi News ›   World ›   Can Delta and Omicron Variant combine together to form more deadly COVID-19 Strain Moderna CMO says its possible news and updates

चिंता: क्या डेल्टा और ओमिक्रॉन मिलकर बना सकते हैं कोरोना का और ज्यादा खतरनाक स्ट्रेन? वैज्ञानिक बोले- मुमकिन है

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, लंदन Published by: कीर्तिवर्धन मिश्र Updated Sat, 18 Dec 2021 08:18 AM IST

सार

इसी हफ्ते ब्रिटिश संसद की विज्ञान और प्रौद्योगिकी कमेटी के सामने पेशी के दौरान डॉक्टर बर्टन ने कहा कि कोरोना के दोनों खतरनाक वैरिएंट (डेल्टा और ओमिक्रॉन) के मिलने से एक जबरदस्त घातक सुपर वैरिएंट के पैदा होने का खतरा है।
दुनियाभर में डेल्टा वैरिएंट के बाद अब ओमिक्रॉन का कहर।
दुनियाभर में डेल्टा वैरिएंट के बाद अब ओमिक्रॉन का कहर। - फोटो : Social Media
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

दुनियाभर में पिछले एक साल में कोरोना के डेल्टा वैरिएंट ने जबरदस्त कहर मचाया। हालांकि, जैसे-जैसे कोरोना के इस स्वरूप का खतरा कम हुआ, वैसे ही कोरोना के और ज्यादा परिष्कृत रूप 'ओमिक्रॉन वैरिएंट' ने भी दुनिया को अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया है। दक्षिण अफ्रीका के बाद ब्रिटेन, यूरोप और अमेरिका में इस नए स्वरूप से संक्रमित मिलने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। इसे लेकर वैज्ञानिकों ने रिसर्च शुरू ही की थी कि अब एक नए डरावने सवाल ने उन्हें परेशान करना शुरू कर दिया है। 
विज्ञापन


हाल ही में जब वैक्सीन कंपनी मॉडर्ना के चीफ मेडिकल ऑफिसर (सीएमओ) डॉक्टर पॉल बर्टन से पूछा गया कि क्या डेल्टा और ओमिक्रॉन वैरिएंट मिलकर एक नए विकसित वैरिएंट को जन्म दे सकते हैं, तो उन्होंने कहा कि ऐसा मुमकिन है। इसी हफ्ते ब्रिटिश संसद की विज्ञान और प्रौद्योगिकी कमेटी के सामने पेशी के दौरान डॉक्टर बर्टन ने कहा कि कोरोना के दोनों खतरनाक वैरिएंट (डेल्टा और ओमिक्रॉन) के मिलने से एक जबरदस्त घातक सुपर वैरिएंट के पैदा होने का खतरा है। यह वैरिएंट तब अस्तित्व में आ सकता है, जब कोई व्यक्ति एक साथ दोनों मौजूदा स्वरूपों से संक्रमित हो जाए। 






डॉक्टर बर्टन ने कहा- "इस बारे में डेटा मौजूद है। दक्षिण अफ्रीका से भी इस बारे में कुछ पेपर पब्लिश हुए हैं, जिनमें कहा गया है कि कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों को वायरस के दो स्वरूपों से संक्रमित पाया जा सकता है।" उन्होंने कहा, "जिस तरह ब्रिटेन में डेल्टा और ओमिक्रॉन दोनों के मामले फैले हैं, उस स्थिति में एक नए वैरिएंट के पैदा होने का खतरा काफी बढ़ जाता है।" 

ब्रिटेन में एक दिन पहले ही कोरोना के 93 हजार नए मामले सामने आए हैं। जिन लोगों की जीनोम सीक्वेंसिंग की जा सकी, उनमें तीन हजार से ज्यादा ओमिक्रॉन से ही संक्रमित मिले। इसके चलते ब्रिटेन में फिलहाल ओमिक्रॉन के 15 हजार के करीब मामले हैं। हालांकि, वैज्ञानिकों का कहना है कि जीनोम सीक्वेंसिंग की क्षमता सीमित होने के कारण ओमिक्रॉन के फैलाव का सही पता लगाना मुश्किल है। 

डॉक्टर बर्टन ने सांसदों को बताया कि यह संभव है कि दो स्ट्रेन अपने जीन्स में अदला-बदली कर लें और एक खतरनाक वैरिएंट को जन्म दें। रिसर्चर्स का मानना है कि इसकी उम्मीद काफी कम है, लेकिन अगर कोरोना को इसका मौका मिला, तो यह संभव भी हो सकता है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00