चीन की चाल: पाकिस्तान-नेपाल-श्रीलंका और भूटान के बाद अब बांग्लादेश पर नजर, जानें भारत पर इसका असर

Himanshu Mishra हिमांशु मिश्रा
Updated Sun, 24 Oct 2021 03:28 PM IST

सार

भारत और चीन के बीच तनाव जारी है। इस बीच चीन ने भारत के पड़ोसी देशों से अपने रिश्तों को मजबूत करने की कोशिश शुरू कर दी है। आखिर भारत से तकरार और पाकिस्तान, नेपाल, श्रीलंका, भूटान और अब बांग्लादेश से चीन की बढ़ती नजदीकियों का क्या मतलब हैं? पूरी रिपोर्ट पढ़ें... 
भारत के पड़ोसी देशों के साथ चीन अपने रिश्ते मजबूत कर रहा है।
भारत के पड़ोसी देशों के साथ चीन अपने रिश्ते मजबूत कर रहा है। - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

बांग्लादेश में चीन ने प्रस्तावित बेल्ट एंड रोड प्रोजेक्ट का काम तेजी से शुरू कर दिया है। इस प्रोजेक्ट के तहत चीन ने बांग्लादेश में एक अंतरराष्ट्रीय स्तर का प्रदर्शनी केंद्र बनाया है। शुक्रवार को प्रधानमंत्री शेख हसीना ने इसका शुभारंभ किया था। बेल्ट एंड रोड प्रोजेक्ट के तहत बांग्लादेश के कई जिलों में सड़कें और पुल बनना है। 
विज्ञापन


इस प्रोजेक्ट में चीन ने अरबों का निवेश किया है। चीन के विशेषज्ञ ही इसका निर्माण करवा रहे हैं। ये पहली बार नहीं है जब चीन ने भारत के पड़ोसी देशों से नजदीकियां बढ़ाने की कोशिश की है। नेपाल, श्रीलंका और भूटान के करीब आने के लिए चीन पहले ही चाल चल चुका है। पाकिस्तान तो शुरू से चीन के कर्ज तले दबा हुआ है। वहीं, दूसरी ओर चीन और भारत के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। पहले गलवान और फिर डोकलाम। सीमा पर लगातार टकराव की स्थिति कायम है। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर भारत से टकराव और पाकिस्तान, नेपाल, श्रीलंका, भूटान, म्यांमार और अब बांग्लादेश से चीन की बढ़ती नजदीकियों के क्या मायने हैं? पड़ोसी देशों से चीन के मजबूत होते रिश्तों का भारत पर क्या असर पड़ेगा? पढ़िए पूरी रिपोर्ट... 
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00