लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   Nobel Prize 2022: Know who is Annie Arno who got the Nobel of Literature

Nobel Prize 2022: कौन हैं एनी अर्नों, जिन्हें मिला है साहित्य का नोबेल, माता-पिता चलाते थे किराने की दुकान

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, स्टॉकहोम Published by: शिव शरण शुक्ला Updated Thu, 06 Oct 2022 09:27 PM IST
सार

नोबेल समिति ने कहा कि अर्नो को यह सम्मान साहस और लाक्षणिक तीक्ष्णता के साथ व्यक्तिगत स्मृति के अंतस, व्यवस्थाओं और सामूहिक बाधाओं को उजागर करने वाली उनकी लेखनी के लिए दिया गया है। स्वीडिश अकादमी के स्थायी सचिव मेट्स माल्म ने स्वीडन के स्टाकहोम में गुरुवार को विजेता के नाम का एलान किया।

फ्रेंच लेखिका एनी अर्नो
फ्रेंच लेखिका एनी अर्नो - फोटो : Social Media
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

2022 के लिए साहित्य के नोबेल का एलान कर दिया गया है। इस साल का नोबेल फ्रेंच लेखिका एनी अर्नो को दिया गया है। फ्रांसीसी लेखिका एनी अर्नो ने अपनी रचनाओं में अपने जीवन के अनुभवों को ही शब्दों का रूप दिया है। यौन संबंधों, गर्भपात, माता-पिता के बिछोह जैसे व्यक्तिगत संस्मरणों को बिना किसी लाग-लपेट के किताबों की शक्ल देकर उन्होंने इन्हें पूरी दुनिया के महिलाओं की आवाज बना दिया। पुरस्कार के लिए उनका चयन करने वाली नोबेल समिति ने कहा, एनी जिस साहस और तीक्ष्ण तरीके से अपनी स्मृति की जड़ों, विलगाव और सामूहिक बाधाओं को उजागर करती हैं उसके लिए उन्हें यह सम्मान दिया गया है। समिति ने कहा, एनी लेखन की मुक्ति की ताकत में विश्वास करती हैं। उनका काम अतुलनीय है। 



नोबेल समिति ने कहा कि अर्नो को यह सम्मान साहस और लाक्षणिक तीक्ष्णता के साथ व्यक्तिगत स्मृति के अंतस, व्यवस्थाओं और सामूहिक बाधाओं को उजागर करने वाली उनकी लेखनी के लिए दिया गया है। स्वीडिश अकादमी के स्थायी सचिव मेट्स माल्म ने स्वीडन के स्टाकहोम में गुरुवार को विजेता के नाम का एलान किया।


लेखन से की थी करियर की शुरुआत
एनी (82) ने जीवनी लिखने से अपने लेखन करियर की शुरुआत की थी, लेकिन जल्द ही उन्होंने संस्मरण लिखना आरंभ कर दिया। उन्होंने 20 से अधिक किताबें लिखी हैं और इनमें से अधिकांश उनके अपने जीवन और उनके आस-पास के लोगों के जीवन की छोटी घटनाओं पर आधारित हैं। साहित्य के लिए नोबेल समिति के अध्यक्ष एंडर्स ओल्सन ने कहा, अर्नो का काम एकदम स्पष्ट भाषा में साफ-सुथरा है और रचनात्मकता से किसी भी तरह का समझौता नहीं करता है। उनका काम सराहनीय है। उनकी शैली भावनाओं के तेज आवेग से अप्रभावित है। एनी अर्नो ने खुद कहा है कि यह तटस्थ लेखन शैली मुझे स्वाभाविक रूप से मिली है।

‘द इयर्स’ सबसे प्रशंसनीय पुस्तक
अर्नो की समीक्षकों द्वारा सबसे प्रशंसित पुस्तक ‘द इयर्स’ रही जो 2008 में प्रकाशित हुई थी। यह द्वितीय विश्व युद्ध के अंत से लेकर आज तक का फ्रांसीसी समाज का वातावरण प्रदर्शित करती है। इस पुस्तक को कई पुरस्कार और सम्मान मिले हैं।

किराने की दुकान चलाते थे माता-पिता
फ्रांसीसी लेखिका का जन्म 1940 में हुआ और वह नॉर्मंडी के छोटे से शहर यवेटोट में पली-बढ़ीं। उनके माता-पिता एक किराने की दुकान और कैफे चलाते थे। उनके लेखन में मध्यमवर्गी परिवार की सामाजिक स्थिति स्पष्ट रूप से झलकती है।

भाषा का प्रयोग ‘चाकू’ के रूप में
एनी लगातार विभिन्न तरीकों से लिंग, भाषा और वर्गों के आधार पर फैली असमानताओं पर लेखन करती रही हैं। लेखन का उनका मार्ग लंबा और कठिन रहा। नोबेल विजेता एनी का मानना है कि लेखन वास्तव में एक राजनीतिक कार्य है, जो सामाजिक असमानताओं के प्रति हमारी आंखें खोलता है। इस उद्देश्य के लिए वह भाषा का प्रयोग एक ‘चाकू’ के रूप में करती है, जिससे कि वह कल्पना के पर्दों को फाड़ सकें।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00