Hindi News ›   World ›   Taliban wants to try build relations with many other countries including China, Pakistan and Gulf countries

अफगानिस्तान: तालिबान की जीत से भारत के अलावा पाकिस्तान, ईरान और चीन के लिए भी खड़ी हुई हैं नई चुनौतियां

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, लंदन Published by: Harendra Chaudhary Updated Tue, 17 Aug 2021 03:15 PM IST

सार

सोमवार को तालिबान के प्रवक्ता ने अमेरिकी टीवी चैनल सीएनएन को दिए इंटरव्यू में कहा कि तालिबान महिलाओं को काम करने और शिक्षा प्राप्त करने की इजाजत देगा। वह अफगानिस्तान में मौजूद सभी विदेशियों की सुरक्षा की गारंटी भी करेगा...
तालिबान
तालिबान - फोटो : PTI (File Photo)
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

अफगानिस्तान की ताजा घटनाओं का आसपास के क्षेत्र और पूरी दुनिया के लिए क्या असर होगा, अब विश्लेषकों का ध्यान उसका अंदाजा लगाने पर है। इस बात पर लगभग आम सहमति है कि अब लंबे समय तक अफगानिस्तान में अमेरिका के लिए प्रभाव कायम करना संभव नहीं होगा। ब्रिटिश अखबार द फाइनेंशियल टाइम्स के टीकाकार गिडियन रेचमैन ने लिखा है- ‘एक अर्थ में इस घटना की तुलना 1979 में ईरान में हुई इस्लामी क्रांति, 1975 में (वियतनाम के) सैगोन पर कम्युनिस्टों के नियंत्रण और 1959 की क्यूबा क्रांति से की जा सकती है।’

विज्ञापन


ये आम अनुमान है कि अमेरिका की वापसी के बाद अब तालिबान चीन, पाकिस्तान और खाड़ी देशों सहित कई दूसरे देशों के साथ संबंध बनाने की कोशिश करेगा। तालिबान प्रवक्ताओं ने हाल में संकेत दिए हैं कि तालिबान अंतरराष्ट्रीय मान्यता चाहता है। उनकी दिलचस्पी व्यापार और अंतरराष्ट्रीय सहायता हासिल करने में है। इसके आधार पर ये उम्मीद जताई गई है कि शायद इस बार तालिबान सरकार उदारवादी रुख अपनाए।


पर्यवेक्षकों का कहना है कि तालिबान महिलाओं और अपने पराजित दुश्मनों से कैसा व्यवहार करता है, उस पर सारी दुनिया की निगाह रहेगी। सोमवार को तालिबान के प्रवक्ता ने अमेरिकी टीवी चैनल सीएनएन को दिए इंटरव्यू में कहा कि तालिबान महिलाओं को काम करने और शिक्षा प्राप्त करने की इजाजत देगा। वह अफगानिस्तान में मौजूद सभी विदेशियों की सुरक्षा की गारंटी भी करेगा। लेकिन ताजा मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि तालिबान के इन वादों के बावजूद अफगानिस्तान में राजनीति और सिविल सोसायटी की गतिविधियों से जुड़ी रहीं महिलाएं इस वक्त गहरी आशंका में हैं।

अमेरिकी विश्लेषकों ने अंदेशा जताया है कि एक हिंसक इस्लामी आंदोलन की अफगानिस्तान में हुई जीत से दुनियाभर में जिहादियों का मनोबल बढ़ेगा। मुमकिन है कि वे तालिबान को अपना मार्गदर्शक समझें और उससे मदद हासिल करने की कोशिश करें। अमेरिकी फौज के अफगानिस्तान में कमांडर रह चुके जॉन एलन ने एक मीडिया इंटरव्यू में कहा है कि अमेरिकी फौज की वापसी के बाद अब हिंदुकुश पहाड़ी वाले इलाके में अल-कायदा खुल कर अपनी गतिविधियां चला सकता है। बाइडेन प्रशासन ने कहा है कि उसे ऐसी सूचना मिली, तो वह जवाबी हमले करेगा। लेकिन जनरल एलन ने कहा कि जब तक जमीन पर आपके लोग ना हों, अफगानिस्तान में आतंक विरोधी कार्रवाई करना बेहद मुश्किल काम साबित होता है।

पास-पड़ोस पर संभावित परिणाम की समीक्षा करते हुए फाइनेशियल टाइम्स में गिडियन रेचमैन ने लिखा है- ‘भारत को अब जम्मू-कश्मीर में अधिक अशांति के लिए तैयार रहना होगा। चीन के लिए भी चिंता की बात है, जिसे शिनजियांग प्रांत में उइगर उग्रवाद का सामना करना पड़ा है। ये उग्रवादी अब अफगानिस्तान में अपना अड्डा बना सकते हैं। ईरान भले ही अमेरिका की हार पर खुश हो, लेकिन उसे हजारा समुदाय को लेकर चिंतित होना पड़ सकता है। तालिबान ने अतीत में इस शिया समुदाय का क्रूर दमन किया है। इसके अलावा अमेरिका और अफगानिस्तान के तमाम पड़ोसियों को बड़ी संख्या में शरणार्थियों के पहुंचने की समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है।’

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00