Hindi News ›   World ›   White House Press Secretary Jen Psaki on India-China border dispute We will continue to stand with our partners

भारत-चीन सीमा विवाद: व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने कहा- स्थिति की बारीकी से कर रहे निगरानी, अपने सहयोगियों के साथ खड़े रहेंगे

एएनआई, वाशिंगटन Published by: देव कश्यप Updated Tue, 11 Jan 2022 03:07 AM IST
व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी।
व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी। - फोटो : ANI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

भारत-चीन सीमा विवाद पर अमेरिका करीब से नजर बनाए हुए है। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने सोमवार को कहा कि “हम स्थिति की बारीकी से निगरानी करना जारी रखे हुए हैं। हम इन सीमा विवादों के बातचीत और शांतिपूर्ण समाधान का समर्थन करते हैं। हम यह स्पष्ट करते हैं कि भारत-चीन सीमा विवाद क्षेत्र और दुनिया भर में बीजिंग के व्यवहार को किस रूप में देखते हैं।"



जेन साकी ने आगे कहा कि "हमारा मानना है कि चीन का यह कदम अस्थिर करने वाला हो सकता है, और हम पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना (पीआरसी) द्वारा अपने पड़ोसियों को डराने-धमकाने के प्रयास से चिंतित हैं। इस स्थिति में हम चीन के खिलाफ अपने सहयोगियों के साथ खड़े रहेंगे।"

 


अमेरिका ने चीन को दी नसीहत
अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा कि "पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना (पीआरसी) ने पिछले महीने चार अमेरिकी आयोगों के अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता (यूएससीआईआरएफ) आयुक्तों पर प्रतिबंध लगाए, जिन आयुक्तों पर प्रतिबंध लगाया गया है उनमें अध्यक्ष नादिन मेंजा, उपाध्यक्ष नुरी तुर्केल, आयुक्त अनुरीमा भार्गव और जेम्स डब्ल्यू कैर शामिल हैं। यह सार्वभौमिक अधिकारों के खिलाफ पीआरसी द्वारा किया गया एक और अपमान का गठन है।"

विदेश मंत्रालय ने कहा कि "दुनिया भर में लोकतंत्र और मानवाधिकारों के सम्मान को बढ़ावा देने वाले दर्जनों वर्तमान या पूर्व अमेरिकी अधिकारियों और संगठनों के अलावा चीन ने पहले भी तीन अन्य वर्तमान या पूर्व अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता अमेरिकी आयोग (यूएससीआईआरएफ) के आयुक्तों के खिलाफ प्रतिबंध लगाए हैं, जिनमें से सभी योग्यता के बिना हैं। हम इन कार्रवाइयों से अप्रभावित रहते हैं, और हम यूएससीआईआरएफ और उसके कर्मचारियों के साथ एकजुटता से खड़े हैं। अमेरिका दुनिया भर में मानवाधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और जवाबदेही को बढ़ावा देने के लिए सभी राजनयिक और आर्थिक साधनों का उपयोग करना जारी रखेगा।"


विदेश मंत्रालय ने आगे कहा कि मानवाधिकारों के लिए बोलने वालों को डराने और चुप कराने के बीजिंग के निरंतर प्रयास केवल शिनजियांग में चल रहे नरसंहार और मानवता के खिलाफ अपराधों की बढ़ती अंतरराष्ट्रीय जांच में योगदान करने वालों को भयभीत करने के लिए हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका फिर से पीआरसी से अंतरराष्ट्रीय दमन के अपने कृत्यों को रोकने के लिए कहता है, जिसमें अमेरिकी लोगों की सेवा करने वाले व्यक्तियों सहित उइगर अमेरिकी कार्यकर्ताओं के परिवार के सदस्यों को कैद करने और आंदोलन की स्वतंत्रता से इनकार करने की जबरदस्त प्रथाएं शामिल हैं। ये अधिनियम अंतरराष्ट्रीय नियम-आधारित व्यवस्था को कमजोर करते हैं।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि हम उन लोगों का समर्थन करते हैं और उनके साथ खड़े हैं, जो मानव अधिकारों और मौलिक स्वतंत्रता की ओर से बोलते हैं, जिसमें धर्म या विश्वास की स्वतंत्रता भी शामिल है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00