लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Bihar ›   Begusarai: Husband killed in association with lover, Phoolkumari was crying calling brother done this

बेगूसराय: प्रेमी 'राजकुमार’ के साथ मिल पति की हत्या कराई, भाई 'राजकुमार’ को हत्यारा बता रो रही थी फूलकुमारी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, बेगूसराय Published by: कुमार जितेंद्र ज्योति Updated Tue, 06 Dec 2022 05:15 PM IST
सार

वह नाम सही ले रही थी, लेकिन सौतेले भाई 'राजकुमार’ को फंसा रही थी। जबकि, हत्यारे का नाम भी राजकुमार ही है और उसी की निशानदेही पर लाश बरामद हुई। यह हत्यारा लंबे समय से उसका प्रेमी रहा है।

प्रेमी ने साजिश कर प्रेमिका के पति को मार डाला और आरोप भाई पर लगाती रही महिला।
प्रेमी ने साजिश कर प्रेमिका के पति को मार डाला और आरोप भाई पर लगाती रही महिला। - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन

विस्तार

फूलकुमारी दहाड़ मारकर रो रही थी। पहले पति की गुमशुदगी या अपहरण के नाम पर, फिर उसके नहीं मिलने के नाम पर। उसके गम और आंसुओं को देख कोई शक नहीं कर सकता था। हत्या की बात सामने आ गई तो बार-बार हत्यारे का नाम 'राजकुमार’ बताने लगी। वह नाम सही ले रही थी, लेकिन सौतेले भाई 'राजकुमार’ को फंसा रही थी। जबकि, हत्यारे का नाम भी राजकुमार ही है और उसी की निशानदेही पर लाश बरामद हुई। यह हत्यारा लंबे समय से उसका प्रेमी रहा है। हत्या की साजिश में फूलकुमारी की भी संलिप्तता सामने आई है। मामला बेगूसराय जिले का है। मृतक डंडारी थाना क्षेत्र के बलहा का रहने वाला था।

मोबाइल कॉल डिटेल ने सारी कहानी खोल दी
अपहरण कर हत्या की पूरी साजिश की जमीनी शुरुआत 2 दिसंबर को हुई थी। फूलकुमारी बेगूसराय शहर के जीडी कॉलेज में बी.एससी. के बॉटनी प्रैक्टिकल का एग्जाम देकर बाहर निकली तो उसे पति नीतीश कुमार नहीं मिला। उसने अपने मामा और बाकी परिजनों को खबर दी कि बाइक है, नीतीश यहां नहीं। उसी दिन थाने में अपहरण की प्राथमिकी दर्ज की गई। 2 दिसंबर की शाम से 5 दिसंबर की शाम तक कुछ पता नहीं चला, लेकिन पुलिस ने जब नीतीश और उसकी पत्नी फूलकुमारी का मोबाइल कॉल रिकॉर्ड निकाला तो सामने आया कि फूलकुमारी की राजकुमार नाम के एक युवक से लंबी बातचीत होती रही है। राजकुमार के अलावा भी एक युवक से उसकी बातचीत के प्रमाण मिले। इसके बाद पुलिस ने राजकुमार को ट्रैक किया तो कड़ाई से पूछताछ में उसने न सिर्फ नीतीश की हत्या की बात स्वीकारी, बल्कि पुलिस को लाश के बारे में बता दिया कि साहेबपुर कमाल के रहुआ में फेंकी गई है। उसने फूलकुमारी से अपने संबंध और इस हत्या की साजिश में उसकी संलिप्तता की भी कहानी बता दी।

और फूलकुमारी सौतेले भाई को फंसा रही थी
नीतीश के अपहरण के बाद से ही फूलकुमारी इसकी अलग कहानी सुना रही थी। यहां तक कि लाश मिलने की जानकारी पर भी वह उसी कहानी पर कायम रहते हुए सौतेले भाई और भाभी पर आरोप लगा रही थी। फूलकुमारी का कहना था कि उसके पिता सुनील सिंह की पहली पत्नी का बेटा राजकुमार जमीन हड़पने के लिए पत्नी के साथ उसे हमेशा परेशान कर रहा था। उसी ने कमजोर करने और जमीन से ध्यान भटकाने की नीयत से मेरे पति की हत्या कर दी।

पुलिस गिरफ्त में दोनों अपराधी।
पुलिस गिरफ्त में दोनों अपराधी। - फोटो : अमर उजाला

दोनों हत्यारोपी गिरफ्तार, पत्नी हिरासत में
पुलिस के अनुसार, नीतीश की पत्नी का साहेबपुर कमाल थाना क्षेत्र के वार्ड नंबर 4 निवासी प्रेमचंद्र पंडित के पुत्र जयप्रकाश पंडित उर्फ राजकुमार पंडित से प्रेम संंबंध चल रहा था। इस बात की जानकारी पर एक बार नीतीश ने राजकुमार की पिटाई भी की थी, हालांकि बाद में संबंध सहज हो गया। 02 जनवरी को जब नीतीश अपनी पत्नी को जीडी कॉलेज में एग्जाम दिलाने गया तो वहां से राजकुमार उसे समय बिताने के नाम पर साथ ले गया। फिर खिला-पिला कर मफलर से गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। इस हत्या में रिफाइनरी सहायक थाना क्षेत्र के महना गांव निवासी गंगा पंडित का बेटा प्रदुमन पंडित भी राजकुमार के साथ था। दोनों आरोपियों के साथ पुलिस ने अपहरण-हत्या में इस्तेमाल की गई बाइक, हथियार और मफलर बरामद किया है। साथ ही, मृतक की पहचान से जुड़े कागजात भी लाश के पास से बरामद किए गए हैं। हत्यारोपी ने फूलकुमारी के साजिश में शामिल होने की बात कही है, इसलिए पुलिस ने उसे भी हिरासत में लिया है।

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00