बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

वार-पलटवार: घुसपैठियों पर आपस में उलझे भाजपा-जदयू के नेता, मंत्री बोले- सीमांचल के मंदिर, मठ पर कब्जा कर रहे घुसपैठिए, जेडीयू ने मांगा प्रमाण

बिहार में घुसपैठ को लेकर सत्ताधारी दल जेडीयू और भाजपा एक बार फिर आमने-सामने हैं। भाजपा और जदयू के नेता घुसपैठियों पर आपस में उलझ गए हैं। घुसपैठ को भाजपा बिहार के सीमांचल इलाकों की समस्या बताती है, तो वहीं जदयू के MLC गुलाम रसूल बलियावी ने भाजपा से आने वाले मंत्री से घुसपैठ का प्रमाण पत्र मांगा है। भाजपा से आने वाले राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री रामसूरत राय ने कहा- 'सीमांचल में बड़ी संख्या में घुसपैठ हो रहा है। मंदिर, मठ, भूदान की जमीन पर घुसपैठिए कब्जा कर रहे हैं। इनकी मदद विदेशी फंडिंग के जरिए की जा रही है।'

वहीं, इस बयान पर जनता दल यूनाइटेड नेता गुलाम रसूल बलियावी ने नाराजगी जताई और कहा कि इस तरह के बयान आधारहीन हैं, सच्चाई से कोई लेना देना नहीं है। उन्होंने रामसूरत राय से घुसपैठियों के आने के बारे में प्रमाण देने की मांग की। अगर मंत्री इसका प्रमाण देते हैं, तो जदयू धक्का मारकर घुसपैठियों को उस इलाकों से बाहर कर देगी।

सीमांचल में बांग्लादेशी घुसपैठ का मुद्दा बड़ा
सीमांचल में बांग्लादेशी घुसपैठ का मुद्दा लगातार सुर्खियों में है, विधानसभा में भी बांग्लादेशी घुसपैठियों का मुद्दा उठने के बावजूद  पर राज्य सरकार की तरफ से कभी भी कोई कार्रवाई नहीं हुई है। स्थानीय लोगों के मुताबिक, सीमांचल में घुसपैठ की वजह से एक खास समुदाय के लोगों की आबादी तेजी से बढ़ी है। भाजपा इस मुद्दे को लगातार उठाती तो रही है, लेकिन सरकार में रहने के बावजूद कार्रवाई नहीं कर सकी है। JDU हमेशा से ही इसे नकारती रही है।बता दें कि, सीमांचल में किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, अररिया , समेत कई  जिले आते हैं।
... और पढ़ें

बिहार में गरमाई राजनीति: जदयू सांसद ने कहा- भाजपा को राज्य के विकास से कोई लेना देना नहीं, उन्हें सिर्फ वोट चाहिए

बिहार में एक बार फिर से जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) और भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। बांका के जेडीयू सांसद गिरधारी यादव ने भाजपा पर हमला बोला है। बुधवार को एक साक्षात्कार में गिरधारी यादव ने नरेंद्र मोदी की सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा सिर्फ वोट लेने के लिए बिहार आती है, विकास को लेकर नहीं।

यादव ने कहा कि 2014 में बिहार ने एनडीए को 31 सांसद दिए थे, 2019 में तो 39 सांसद दिए थे। लेकिन यहां के विकास से भाजपा का कोई लेना देना नहीं है। भाजपा केवल वोट लेने के लिए आती है। गिरधारी यादव ने कहा है कि पिछले सात सालों में पटना से दिल्ली के लिए एक भी ट्रेन केंद्र सरकार द्वारा नहीं दी गई है। लगातार यात्रियों की संख्या बढ़ने से भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि बिहार के सभी सांसदों ने सरकार से नई ट्रेन देने की मांग की थी, लेकिन आज तक एक ट्रेन नहीं चल पाई।

भाजपा का पलटवार
जेडीयू सांसद गिरधारी यादव के इस बयान पर भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने पलटवार किया है। पटेल ने कहा कि जिस नरेंद्र मोदी के नाम पर वोट लेकर जीत गए और सांसद बन गए, उन पर सवाल उठाने का कोई हक नहीं है। नरेंद्र मोदी ने साफ कहा है कि बिहार में विकास केंद्र सरकार के प्रमुख उद्देश्यों में से एक है। ऐसे लोग जो सवाल उठा रहे हैं वे हैं तो किसी दल में लेकिन उनका दिल कहीं और लगता है।

राजद ने वीडियो साझा कर उठाए एनडीए पर सवाल
वहीं आरजेडी ने जेडीयू सांसद का वीडियो साझा करते हुए एनडीए पर सवाल उठाया है। आरजेडी के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर इस वीडियो को साझा करते हुए कहा गया है कि वाह क्या गठबंधन है! कितना तालमेल है जिसके नेता स्वयं स्वीकारते हैं कि बिहार में विकास ठप है?
... और पढ़ें

बिहार : सांसद निधि से दिए गए एंबुलेंस से हुई शराब बरामद, एंबुलेंस जब्त चालक गिरफ्तार

बिहार में पंचायत चुनाव के नजदीक आते ही  शराब की तस्करी बढ़ गई है। शराब माफिया नए-नए हथकंडे अपना रहे हैं। आए दिन राज्य के कई जिलों से शराब की बरामदगी हो रही है। बुधवार को छपरा जिले में एंबुलेंस से शराब बरामद की गई।

बताया जाता है कि भाजपा सांसद राजीव प्रताप रूढ़ी ने सांसद निधि से मरीजों के लिए एंबुलेंस दिया था। सांसद ने तो मरीजों की सुविधा के लिए एंबुलेंस दिया था। लेकिन, शराब माफिया मरीज ढोने के बजाय एंबुलेंस से शराब की तस्करी करने लग गए।

छपरा जिला के भगवान बाजार पुलिस ने शराब सहित एंबुलेंस को जब्त कर लिया है। भगवान बाजार थाना को गुप्त सूचना मिली थी कि एक एंबुलेंस चालक शराब की बड़ी खेप लेकर जा रहा है।

भगवान बाजार के थाना प्रभारी ने गुप्त सूचना के आधार पर अपने इलाके में घेराबंदी कर एंबुलेंस की तलाशी ली। तलाशी के दौरान एंबुलेंस से शराब बरामद हुई उसके बाद चालक को हिरासत में ले लिया गया है। चालक गर्भवती महिला के इलाज के नाम पर एंबुलेंस को सिवान ले जा रहा था।
... और पढ़ें

बिहार में बड़ा हादसा: मोतिहारी में नाव पलटने से छह की मौत, 22 लोगों के डूबने की आशंका, तलाश जारी

बड़ी खबर बिहार से आ रही है, मोतिहारी में नाव पलटने से 22 लोग डूब गए हैं। बूढ़ी गंडक नदी में नाव पलटने से 22 लोगों के डूबने की खबर है। अब तक 6 लोगों के शव निकाले गए हैं। नदी के घाट पर अफरा-तफरी का माहौल है,  बड़ी संख्या में लोग घाट पर मौजूद हैं ।  सूचना मिलने पर जिला प्रशासन पूरी टीम के साथ मौके पर मौजूद है। 

बाकी डूबे हुए लोगों की तलाश की जा रही है। बताया जा रहा है कि नाव पर ज्यादा सवारी बैठने से यह हादसा हुआ है। छोटी नाव पर 12 लोगों के बैठने की जगह थी उस पर 22 से ज्यादा लोग सवार हो गए, जिसकी वजह से नाव बीच नदी में डूब गई। 

बता दें कि दो महीने पहले ही डुमरियाघाट थाना क्षेत्र स्थित सरोतर झील में नाव पलटने से एक युवक की मौत हो गई थी। इस नाव पर एक दर्जन से ज्यादा लोग सवार थे। हालांकि, बाकी लोग नदी में तैरकर बाहर निकल आए थे, लेकिन बबूल सहनी पानी में बुरी तरह से फंस गया था, थोड़ी देर बाद उसका शव बाहर निकला। 
... और पढ़ें
नाव पलटी (फाइल फोटो) नाव पलटी (फाइल फोटो)

बिहार पंचायत चुनाव: पहले चरण की मतगणना जारी, 10 जिलों की 151 पंचायतों के आएंगे परिणाम

बिहार में पहले चरण के पंचायत चुनाव की मतगणना सुबह आठ बजे से जारी है। 151 पंचायतों के परिणाम आएंगे। पहले चरण के पंचायत चुनाव के लिए शुक्रवार को10 जिलों में वोट डाले गए थे। मतदान की तरह मतगणना के लिए सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जा रहा है। आवश्यकता पड़ने पर मतगणना का कार्य सोमवार को भी कराया जाएगा।


राज्य निर्वाचन आयोग के सूत्रों ने बताया कि सभी प्रखंडों और जिलों में मतगणना सुबह आठ बजे से शुरू हो गई है। ईवीएम एवं मतपेटियों को सख्त सुरक्षा व्यवस्था के तहत खोला गया और सभी वोटों की गिनती की जा रही है। मतगणना केंद्रों पर उम्मीदवारों के मतगणना एजेंटों की तैनाती पूरी कर ली गई है। आयोग के अनुसार, पहले चरण के पंचायत चुनाव में 65.50 फीसदी मतदान हुआ।
... और पढ़ें

बिहार: जाति जनगणना पर आर-पार के मूड में तेजस्वी, बोले- तीन दिन में जवाब दें सीएम नहीं तो हम बनाएंगे एक्शन प्लान

जाति जनगणमा को लेकर राबड़ी आवास पर शुक्रवार रात हुई महागठबंधन की बैठक के बाद राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि महागठबंधन के सभी घटक दलों ने नीतीश कुमार को जातिगत जनगणना पर रुख स्पष्ट करने के लिए तीन दिनों की मोहलत दी है। अगर वे जवाब नहीं देते हैं तो उसके बाद हमलोग अपना एक्शन प्लान बनाएंगे।

उन्होंने कहा कि जातिगत जनगणना के लिए हमारी लड़ाई जारी रहेगी। बिहार विधानसभा और विधान परिषद से दो-दो बार सर्व सम्मति से प्रस्ताव पारित कर केंद्र को भेजा जा चुका है लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई है। यह बिहार की इच्छा है। जो कि राष्ट्रहित में है। मुख्यमंत्री के नेतृत्व में बिहार के सारे दल भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से 23 अगस्त को मिलने भी गए थे। हमने प्रस्ताव दिया था कि अगर केंद्र सरकार जातिगत जनगणना के लिए तैयार नहीं होती है तो राज्य सरकार को अपने खर्चे पर कराना चाहिए। 

देशभर के 80- 90 फीसदी लोग चाहते हैं कि जाति जनगणना
तेजस्वी ने कहा कि देशभर के 80- 90 फीसदी लोग चाहते हैं कि जाति जनगणना हो।  तेजस्वी ने कहा कि केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर कहा है कि इस बार जातिगत जनगणना नहीं होगी। इससे स्पष्ट होता है कि केंद्र में बैठी आरएसएस विचारधारा वाली सरकार जातीय जनगणना नहीं करवाना चाहती है। तेजस्वी ने कहा कि जातिगत जनगणना होने से यह भी पता चलेगा कि आरक्षण में किन जातियों को लाना है और किन जातियों को नहीं लाना है?

27 सितंबर को होने वाले भारत बंद को महागठबंधन का समर्थन: तेजस्वी
वहीं तेजस्वी यादव ने कहा कि महागठबंधन की सारी पार्टियां भारत बंद का समर्थन करेंगी। उन्होंने कहा कि हमलोग 27 सितंबर को किसानों के भारत बंद का सक्रिय समर्थन देने की घोषणा करते हैं।
... और पढ़ें

जातिगत जनगणना: लालू का तंज- पशु-पक्षियों की गिनती होगी इंसानों की नहीं, तेजस्वी ने भी केंद्र को घेरा

राजद के वरिष्ठ नेता व बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने जातिगत जनगणना नहीं कराने को लेकर फिर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। तेजस्वी ने कहा कि बिहार विधानसभा ने भी जातीय जनगणना को लेकर दो प्रस्ताव पारित किए थे। इस मसले पर सीएम नीतीश कुमार के नेतृत्व में हम सभी ने पीएम मोदी से भी मिले थे। अब हम महागठबंधन की बैठक में इस पर चर्चा कर आगे की रणनीति बनाएंगे। उधर, राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने ट्वीट केंद्र पर तंज किया है। उन्होंने कहा कि देश में पशु-पक्षियों, हाथी—घोड़ों की गिनती होगी, लेकिन इंसानों की नहीं।

शुक्रवार को मीडिया से चर्चा में तेजस्वी यादव ने कहा, 'मैंने एक अखबार में देखा कि महाराष्ट्र की मांग पर केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष एक हलफनामा पेश किया है, जिसमें उसने कहा है कि जाति-आधारित जनगणना की अनुमति नहीं दी जाएगी।

लालू यादव ने केंद्र के फैसले पर जताई आपत्ति
इससे पूर्व राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने जातीय जनगणना को लेकर केंद्र सरकार के फैसले पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि पता नहीं भाजपा और आरएसएस के लोगों को पिछड़ों और अति पिछड़ों से इतनी नफरत क्यों है? इनका सामाजिक बहिष्कार होना चाहिए। जातीय जनगणना से सभी वर्गों का भला होगा। इससे सबकी वास्तविक स्थिति का पता चलेगा। शुक्रवार को राजद प्रमुख ने ट्वीट कर कहा है कि यह कैसी बात है कि देश में सांप-बिच्छू, तोता-मैना, हाथी-घोड़ा, कुत्ता-बिल्ली सहित सभी पशु-पक्षी, पेड़-पौधे गिने जाएंगे, लेकिन पिछड़े-अतिपिछड़े वर्गों के इंसानों की गिनती नहीं होगी। केंद्र के जातिगत जनगणना नहीं कराने पर  उन्होंने आश्चर्य व्यक्त किया।
... और पढ़ें

बिहार: छात्र जनशक्ति परिषद ने बनाया नया चिह्न, विवाद बढ़ने पर लालटेन छोड़ बांसुरी का साथ

तेजस्वी यादव व नीतीश कुमार (file photo)
छात्र जनशक्ति परिषद् के सिंबॉल पर हुए विरोध के बाद परिषद ने अपना नया चिह्न तैयार किया है। छात्र परिषद का नया चिह्न बांसुरी है। इससे पहले हाथ में लालटेन लिए परिषद ने अपना चिह्न बनाया था। इस पर विवाद शुरू हो गया था। राजद का चिह्न लालटेन पहले से ही है। लालू प्रसाद के निर्देश पर छात्र जनशक्ति परिषद ने लालटेन चिह्न को हटाकर बांसुरी चिह्न बनाया है। छात्र जनशक्ति परिषद् ने राजद वाले पैड को भी हटा दिया है। 

 छात्र जनशक्ति परिषद के बैनर पर बांसुरी का चिह्न दिखने के बाद मामला सुर्खियों में आया। परिषद के राष्ट्रीय संगठन प्रभारी बबलू सम्राट ने कहा कि तेजप्रताप यादव कृष्ण के अनुयायी हैं। इसलिए बांसुरी को चिह्न बनाया गया है। 

लालटेन चिह्न पर विवाद बढ़ने से बदला चिह्न
दरअसल, छात्र जनशक्ति परिषद् का नया चिह्न बांसुरी के बारे में उस समय पता चला, जब परिषद् के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजप्रताप यादव ने संजय टाइगर को झारखंड का प्रदेश अध्यक्ष बनाया। टाइगर के स्वागत करने के लिए तेजप्रताप खड़े हुए तो उनके पीछे की तरफ दीवार पर टंगे छात्र जनशक्ति परिषद के बैनर पर बांसुरी का चिह्न दिखा। परिषद के राष्ट्रीय संगठन प्रभारी बबलू सम्राट ने कहा कि तेजप्रताप यादव कृष्ण के अनुयायी हैं। इसलिए बांसुरी को चिह्न बनाया गया है।

तेज प्रताप और तेजस्वी के बीच मनमुटाव
तेज प्रताप के करीबी का कहना है कि तेजप्रताप यादव बांसुरी बजाने के शौकीन हैं और कृष्ण के भक्त हैं। उन्हें कई बार बांसुरी बजाते देखा गया। वे खुद को कृष्ण और छोटे भाई तेजस्वी यादव को अर्जुन कहते रहे हैं। हालांकि, कुछ दिन पहले उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल से सारथी कृष्ण और धनुर्धर अर्जुन का फोटो हटा दिया था। अपने ट्विटर हैंडल पर जयप्रकाश नारायण की तस्वीर लगा दी थी।

बता दें कि पिछले महीने तेजस्वी यादव ने राजद प्रदेश अध्यक्ष पर तीखा हमला बोला था। इसपर तेजस्वी यादव ने नाराजगी जाहिर की थी। यहां तक कि लालू यादव ने भी तेज प्रताप को फटकार लगाई थी। तब से तेज प्रताप राजद के बड़े कार्यक्रम में शामिल नहीं हो रहे हैं। वह छात्रों के बीच अपना अलग संगठन तैयार कर रहे हैं। तेज प्रताप और तेजस्वी यादव के बीच सबकुछ अच्छा नहीं चल रहा है। 
... और पढ़ें

बिहार पंचायत चुनाव Live: पहले चरण का मतदान जारी, 10 जिलों के 12 प्रखंडों में डाले जा रहे वोट 

 बिहार में पंचायत चुनाव का पहले चरण का मतदान जारी है। पहले चरण में राज्य के 10 जिलों के 12 प्रखंडों में वोट डाले जा रहे हैं। मतदान को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। मतदान के साथ ही जिला प्रशासन मतगणना की तैयारी में भी जुट गया है। राज्य निर्वाचन आयोग और पंचायती राज विभाग तैयारी की निगरानी कर रहा है। बताया गया है कि मतगणना अनुमंडल स्तर पर होगी।

हालांकि, कई जिले में जिलास्तर पर एक ही जगह मतगणना की व्यवस्था की गई है। इस दौरान कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना जरूरी होगा। बता दें कि चुनाव संपन्न होने के एक दिन बाद मतगणना होगी। पहले चरण का चुनाव समाप्त होने के बाद 26 सितंबर को मतों की गिनती होगी। 

पहला चरण 
मतदान केंद्र- 2119
मतदान केंद्र भवन- 1609

पहले चरण में 10 जिलों के इन प्रखंडों में हो रही वोटिंग
पहले चरण में रोहतास जिले के दावथ व संझौली प्रखंड, कैमूर जिले के कुदरा प्रखंड, गया जिले के बेलागंज व खिजरसराय प्रखंड, नवादा के गोविंदपुर प्रखंड, औरंगाबाद के औरंगाबाद प्रखंड, जहानाबाद के काको प्रखंड, अरवल के सोनभद्र-बंशी-सूर्यपुर प्रखंड, मुंगेर के तारापुर प्रखंड, जमुई जिले के सिकंदरा प्रखंड एवं बांका के धोरैया प्रखंड में चुनाव होगा। 

छह पदों के लिए होगा चुनाव 
पंचायत चुनाव के तहत पहले चरण के माध्यम से छह पदों के लिए मतदान हो रहा है। इन पदों में मुखिया, वार्ड सदस्य, पंचायत समिति सदस्य, जिला परिषद सदस्य, पंच एवं सरपंच के पद शामिल हैं। इन सभी पदों के लिए नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।
... और पढ़ें

बिहार : लालू यादव ने राजद नेताओं को हरा गमछा और टोपी पहनने का सुनाया फरमान

राजद सुप्रीमो लालू यादव ने बिहार में पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के लिए ड्रेस कोड लागू कर दिया है। लालू ने कहा, जैसे यूपी में सपा समर्थकों की पहचान टोपी है, उसी तरह राजद के नेता और कार्यकर्ता हरी गमछी और टोपी पहनें। यही आपका लाइसेंस है। 

राजद सुप्रीमो ने बुधवार को दिल्ली से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर को संबोधित करते हुए कहा कि वह जल्द ही समूचे बिहार का दौरा करेंगे। उन्होंने कहा कि जातीय जनगणना बेहद जरूरी है। जनगणना के बाद 27 प्रतिशत आरक्षण का बैरियर तोड़ना होगा। बाबा साहब अंबेडकर ने संविधान में एससी एसटी को संख्या के अनुसार आरक्षण देने की बात कही है।
... और पढ़ें

पटना: तेजप्रताप यादव मॉल में बिना मास्क के भीड़ के बीच दिखे, कोरोना गाइडलाइन की उड़ी धज्जियां

कोरोना वायरस महामारी अभी खत्म नहीं हुई है, इसके बावजूद ज्यादातर लोग बिना मास्क पहने बाहर घूमते दिख जाएंगे। पुलिस ऐसे लोगों से जुर्माना भी वसूलती है। परंतु पुलिस की ऐसी सख्ती भी वीआईपी लोगों के लिए नहीं, बस आम आदमी तक सीमित नजर आ रही है।

कुछ ऐसा ही वाक्या गुरुवार को पटना के खादी मॉल में हुआ। यहां राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेज प्रताप यादव बिना मास्क पहने लोगों के बीच दिखाई दिए। वहां लोगों ने उन्हें घेर लिया और सेल्फी लेने लगे। हालांकि खादी मॉल में बिना मॉस्क के घुसना निषेध है, लेकिन अब तेज प्रताप की इस वाक्ये से जुड़ी तस्वीरें सामने आने के बाद उन पर कोरोना गाइडलाइन के उल्लंघन का आरोप लग रहा है। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक पटना के खादी मॉल में कोरोना गाइडलाइन्स का सख्ती से पालन किया जाता है। अक्सर मास्क नहीं पहनने वालों को गेट पर ही गार्ड रोक लेते हैं। लेकिन बुधवार को जब तेज प्रताप यादव खादी मॉल पहुंचे तो उन्हें देखते ही लोगों की भीड़ जमा हो गई और लोग सेल्फी लेने लग गए। इस दौरान कई लोगों ने मास्क नहीं पहन रखा था। ऐसी लापरवाही से कोरोना का खतरा फिर बढ़ सकता है।
... और पढ़ें

बिहार: पांच करोड़ लेकर भी टिकट न देने के आरोप में तेजस्वी यादव व मीसा भारती समेत छह पर केस दर्ज

पांच करोड़ लेकर टिकट नहीं देने के आरोप में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव और राज्यसभा सांसद मीसा भारती समेत छह लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। तेजस्वी-मीसा के साथ ही कांग्रेस के विधायक मदनमोहन झा, कांग्रेसी नेता व पूर्व विधायक सदानंद सिह, कांग्रेसी नेता शुभानंद मुकेश और कांग्रेस के प्रवक्ता राजेश राठौर पर कोतवाली थाने में केस दर्ज किया गया है। 

पांच करोड़ रुपये लेकर भी टिकट न देने के आरोप में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव, उनकी बहन मीसा भारती समेत छह पर एफआईआर दर्ज करने के आदेश हुए थे। यह आदेश कोर्ट की ओर से जारी किया गया है। 

कांग्रेस नेता और अधिवक्ता संजीव कुमार सिंह ने पटना के सीजेएम की अदालत में 18 अगस्त को एक परिवाद दायर किया था। इस परिवाद में आरोप था कि तेजस्वी-मीसा समेत कांग्रेसी नेताओं ने भागलपुर से लोकसभा का टिकट देने के बदले में 15 जनवरी 2019 को पांच करोड़ रुपये लिए लेकिन टिकट नहीं दिया। उनकी जगह शैलेश कुमार उर्फ बुलो मंडल को टिकट दे दिया गया। 




लोकसभा चुनाव के टिकट की हुई थी डील
पांच करोड़ लेकर टिकट न देने का आरोप कांग्रेस नेता व अधिवक्ता संजीव कुमार सिंह की ओर से लगाया गया है। उन्होंने पटना के सीजेएम कोर्ट में 18 अगस्त को परिवाद दायर किया था। उनका आरोप है कि भागलपुर से लोक सभा का टिकट देने के लिए सभी आरोपितों ने उनसे पांच करोड़ रुपए की मांग की थी। 15 जनवरी 2019 को उन्होंने यह रुपए दे दिए, इसके बाद भी उन्हें टिकट नहीं दिया गया। इसके बाद उन्हें आश्वासन दिया गया कि विधानसभा चुनाव में टिकट दिया जाएगा, लेकिन वह भी नहीं मिला। 

तेजस्वी ने दी थी जान से मारने की धमकी
संजीव कुमार सिंह ने आरोप लगाया कि टिकट न मिलने पर उन्होंने तेजस्वी यादव से संपर्क किया तो उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई। आरोपों की सुनवाई के बाद सीजेएम विजय किशोर सिंह ने सभी के खिलाफ एफआईआर के आदेश दिए। पटना एसएसपी ने बताया कि अभी तक पुलिस को ऐसा आदेश प्राप्त नहीं हुआ है। आदेश मिलते ही उसका पालन किया जाएगा। 
... और पढ़ें

बिहार: ठगी के आरोप पर भड़के तेजस्वी, कहा- टॉम,डिक या हैरी कोई भी केस दर्ज कराए फर्क नहीं पड़ता

टिकट के बदले पैसे लेने के आरोप लगने के बाद से राष्ट्रीय जनता दल (राजद) तेजस्वी यादव का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि अगर कोई टॉम, डिक या हैरी मेरे खिलाफ मामला दर्ज करता है तो मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। लेकिन सवाल यह है कि शिकायतकर्ता को 5 करोड़ रुपये कहां से मिले? तेजस्वी यादव ने कहा कि मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और शिकायतकर्ता के आरोप निराधार साबित होने पर उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई भी होनी चाहिए।

लोकसभा चुनाव के टिकट की हुई थी डील
पांच करोड़ रुपये लेकर टिकट न देने का आरोप कांग्रेस नेता व अधिवक्ता संजीव कुमार सिंह की ओर से लगाया गया है। उन्होंने पटना के सीजेएम कोर्ट में 18 अगस्त को परिवाद दायर किया था। उनका आरोप है कि भागलपुर से लोक सभा का टिकट देने के लिए सभी आरोपितों ने उनसे पांच करोड़ रुपये की मांग की थी। 15 जनवरी 2019 को उन्होंने यह रुपये दे भी दिए, इसके बाद भी उन्हें टिकट नहीं दिया गया। इसके बाद उन्हें आश्वासन दिया गया कि विधानसभा चुनाव में टिकट दिया जाएगा, लेकिन वह भी नहीं मिला। 

छह लोगों के किलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश 
जानकारी के मुताबिक, कोर्ट ने तेजस्वी व मीसा के अलावा बिहार कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा, प्रदेश प्रवक्ता राजेश राठौर व शुभानंद मुकेश व एक अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। हालांकि, शनिवार देर रात तक पुलिस को कोर्ट का आदेश न मिल पाने के कारण एफआईआर नहीं दर्ज की जा सकी। 

तेजस्वी ने दी थी जान से मारने की धमकी
संजीव कुमार सिंह ने आरोप लगाया कि टिकट न मिलने पर उन्होंने तेजस्वी यादव से संपर्क किया तो उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई। आरोपों की सुनवाई के बाद सीजेएम विजय किशोर सिंह ने सभी के खिलाफ एफआईआर के आदेश दिए। पटना एसएसपी ने बताया कि अभी तक पुलिस को ऐसा आदेश प्राप्त नहीं हुआ है। आदेश मिलते ही उसका पालन किया जाएगा। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X