लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Business ›   Business Diary ›   Economist says Indian economy is resilient, not going to be impacted by OPEC plus counteries oil output cut

Indian Economy: अर्थशास्त्री बोले- भारतीय अर्थव्यवस्था लचीली, ओपेक तेल उत्पादन में कमी से प्रभावित नहीं होगी

एएनआई, नई दिल्ली। Published by: देव कश्यप Updated Fri, 07 Oct 2022 01:33 AM IST
सार

अर्थशास्त्री डॉ. चरण सिंह ने इस तथ्य पर भी जोर दिया कि भारत समग्र कीमत के कारण प्रभावित हो सकता है, लेकिन जहां तक बड़े पैमाने पर प्रभावित होने की बात है, तो वह खुद को बचा सकता है। उन्होंने कहा कि जहां तक भारत का संबंध है, स्थिति का स्पष्ट रूप से बेहतर उपयोग किया जाना चाहिए। भारत भाग्यशाली है कि हमारे अपने देश में तेल है और रूस के साथ भी हमारे मैत्रीपूर्ण संबंध हैं।

भारतीय अर्थशास्त्री डॉ. चरण सिंह।
भारतीय अर्थशास्त्री डॉ. चरण सिंह। - फोटो : ANI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

तेल उत्पादक देशों के संगठन ओपेक और सहयोगियों (ओपेक प्लस) द्वारा बुधवार को कच्चे तेल के उत्पादन में बड़ी कटौती की घोषणा के बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तेल की कीमतों में उछाल आया है।पहले से ही तंग बाजार में आपूर्ति पर अंकुश लगाने के बाद, भारतीय अर्थशास्त्री डॉ. चरण सिंह ने भारत को 'भाग्यशाली' कहा। उन्होंने कहा कि देश इन नीतियों से बुरी तरह प्रभावित नहीं होने वाला है क्योंकि भारत मंदी के कगार पर नहीं है।



अर्थशास्त्री ने इस तथ्य पर भी जोर दिया कि भारत समग्र कीमत के कारण प्रभावित हो सकता है, लेकिन जहां तक बड़े पैमाने पर प्रभावित होने की बात है, तो वह खुद को बचा सकता है। उन्होंने कहा कि जहां तक भारत का संबंध है, स्थिति का स्पष्ट रूप से बेहतर उपयोग किया जाना चाहिए। भारत भाग्यशाली है कि हमारे अपने देश में तेल है और रूस के साथ भी हमारे मैत्रीपूर्ण संबंध हैं।चरण सिंह ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया कि हम बहुत भाग्यशाली रहे हैं कि रूस ने हमारे साथ रूबल समझौता किया है, जिसके तहत हम विनिमय दर की गतिविधियों से प्रभावित नहीं होंगे।


उन्होंने कहा कि "मुझे लगता है कि जहां तक तेल की कीमतों का संबंध है, भारत को इसका लाभ उठाने की जरूरत है। भारत समग्र मूल्य वृद्धि के कारण प्रभावित हो सकता है जो कि कीमतों में कटौती के कारण होगा। लेकिन मुझे लगता है कि जहां तक बड़ी तस्वीर का सवाल है, हम खुद को सुरक्षित रख सकते हैं।" सिंह ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि अगर पश्चिम में निर्यात को अवशोषित नहीं किया जाता है, खासकर अगर दुनिया मंदी की स्थिति में है, तो भारत खुद को पूरी तरह से सुरक्षित नहीं कर सकता है।


उन्होंने कहा कि "हमें या तो वैकल्पिक स्रोतों की तलाश करनी होगी या अपनी उत्पादन शैली को बदलना होगा और एक घरेलू बाजार की तलाश करनी होगी जिसमें कुछ व्यवधान और उस सीमा तक कुछ परिवर्तन शामिल होंगे। भारत को इस मामले में कदम उठाना होगा। लेकिन अच्छी खबर यह है कि आईएमएफ और विश्व बैंक सहित सभी विशेषज्ञ और यहां तक कि ब्लूमबर्ग जैसी निजी वित्तीय संस्था भी इस बात से सहमत हैं कि भारत मंदी के कगार पर नहीं है। इस मामले में भारत की रफ्तार थोड़ी धीमी हो सकती है, लेकिन भारत बहुत ही लचीली अर्थव्यवस्था के रूप में उभरा है इसलिए भारत बहुत चिंतित नहीं है या खुले और उपयोग के इन नीतिगत निर्णयों से बुरी तरह प्रभावित नहीं होने वाला है।"


बता दें कि दुनिया के कुछ शीर्ष तेल उत्पादक देशों ने बुधवार को तेल की कीमतों में सुधार के लिए नवंबर से उत्पादन में 20 लाख बैरल प्रतिदिन की कटौती करने पर सहमति जताई है। जिसके बाद पश्चिम के साथ इसकी सबसे बड़ी झड़प हुई, क्योंकि अमेरिकी प्रशासन ने इस आश्चर्यजनक निर्णय को अदूरदर्शी कहा है। कच्चे तेल की कीमतें हाल में यूक्रेन और रूस के युद्ध से पहले के स्तर पर आ गई थीं। इस तथ्य पर और प्रकाश डालते हुए कि अमेरिकियों ने निर्णय को 'अदूरदर्शी' कहा जबकि भारतीय अर्थशास्त्रियों ने कहा कि वे अपने स्थानीय निर्वाचन क्षेत्र की पूर्ति के लिए ऐसा कह रहे हैं क्योंकि उनके यहां चुनाव आने वाले हैं।

हालांकि हाल के सप्ताहों में तेल की कीमतों में गिरावट ने भारत को अपने आयात बिल में कटौती करने के साथ-साथ पेट्रोल और डीजल की बिक्री पर सर्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनियों को होने वाले नुकसान को सीमित करने में मदद की थी। उद्योग से जुड़े सूत्रों ने कहा कि ओपेक प्लस के निर्णय से पहले डीजल पर घाटा लगभग 30 रुपये प्रति लीटर के उच्चतम स्तर से घटकर लगभग पांच रुपये प्रति लीटर रह गया था, जबकि तेल कंपनियों ने पेट्रोल पर थोड़ा लाभ कमाना शुरू कर दिया था।
विज्ञापन

उन्होंने कहा कि कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि और अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये के कमजोर होने से डीजल की बिक्री पर नुकसान और पेट्रोल पर मार्जिन में कमी आएगी। उल्लेखनीय है कि भारत अपनी कच्चे तेल की जरूरतों का 85 प्रतिशत आयात करता है और अंतरराष्ट्रीय तेल की कीमतें सीधे घरेलू मूल्य निर्धारण को निर्धारित करती हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और Budget 2022 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00