रिपोर्ट: वित्तीय दुर्घटना का कारण बन सकती हैं बिटक्वाइन व अन्य क्रिप्टोकरेंसी, जानें वजह

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: मुकेश कुमार झा Updated Fri, 15 Oct 2021 04:25 PM IST

सार

Bitcoin, Other Cryptocurrencies: बिटक्वाइन और अन्य क्रिप्टोकरेंसी आने वाले समय में वित्तीय दुर्घटना का कारण बन सकती हैं।
बिटक्वाइन
बिटक्वाइन - फोटो : pixabay
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

बिटक्वाइन और अन्य क्रिप्टोकरेंसी आने वाले समय में वित्तीय दुर्घटना का कारण बन सकती हैं। डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, बैंक ऑफ इंग्लैंड के एक शीर्ष अधिकारी  ने इसकी जानकारी दी। बैंक के डिप्टी गवर्नर सर जॉन कनलिफ ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी की कीमत में भारी गिरावट के चलते वैश्विक वित्तीय क्षेत्र में संक्रमण की संभावना है।
विज्ञापन


रिपोर्ट के मुताबिक, कनलिफ ने कहा कि व्यक्तिगत निवेशकों के लिए क्रिप्टोकरेंसी के पतन से वित्तीय स्थिरता जोखिम होने की संभावना नहीं होगी, लेकिन वित्तीय संस्थानों के लिए इसकी तस्वीर कुछ अलग होगी। उन्होंने अन्य वित्तीय मंदी के साथ एक संभावित क्रिप्टो दुर्घटना की तुलना की और इस बात पर प्रकाश डाला कि क्रिप्टो बाजार अब 1.7 ट्रिलियन (1.7 लाख करोड़) है, 2008 में सबप्राइम बंधक बाजार से बड़ा है, जब इसमें गिरावट दर्ज की गई थी। 


कनलीफ ने कहा, जैसा कि वित्तीय संकट ने हमें दिखाया कि वित्तीय स्थिरता की समस्याओं को ट्रिगर करने के लिए आपको वित्तीय क्षेत्र के एक बड़े हिस्से के लिए जिम्मेदार नहीं है।' उन्होंने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी के विनियमन को तत्काल प्रभाव से आगे बढ़ाने की जरूरत है। कनलिफ ने कहा कि जब वित्तीय प्रणाली में कुछ चीजें अगर बहुत तेजी से बढ़ रहा है, बड़े पैमाने पर अनियमित स्थान में तो वित्तीय स्थिरता अधिकारियों को नोटिस लेना होगा। इस साल क्रिप्टोकरेंसी बाजार के मूल्य में 200 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

दुनियाभर में बढ़ रहा है बिटक्वाइन का वर्चस्व
दुनियाभर में बिटक्वाइन का वर्चस्व बढ़ रहा है। बिटक्वाइन एक आभासी मुद्रा है, जिसका इस्तेमाल केवल ऑनलाइन लेनदेन के लिए किया जाता है। बिटक्वाइन के मूल्यों में भारी उतार-चढ़ाव के कारण अक्सर यह सवाल उठता है कि क्या एक मुद्रा के रूप में कार्य करने में यह सक्षम है। दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बिटक्वाइन की आज (शुक्रवार) की कीमत 58,808 डॉलर के करीब है। 

क्या है बिटक्वाइन?
बिटक्वाइन वर्चुअल करेंसी है। इसकी शुरुआत साल 2009 में हुई थी, जो कि अब इतनी लोकप्रिय हो गई है कि इसकी एक बिटक्वाइन की कीमत लाखों रुपये में के बराबर पहुंच गई है। इसपर कोई सरकारी नियंत्रण नहीं हैं। क्रिप्टोकरेंसी को कोई बैंक जारी नहीं करती है। इसे जारी करने वाले ही इसे कंट्रोल करते हैं। इसका इस्तेमाल डिजिटल दुनिया में ही होता है। इसको कोई बैंक या सरकार कंट्रोल नहीं करती है। लोग मानते हैं कि साल 2009 में सतोशी नाकामोतो नामक समूह ने पहली बार बिटक्वाइन को दुनिया के सामने पेश किया था। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00