सियाम का दावा: चिप की कमी से 41 फीसदी घटी वाहनों की थोक बिक्री, कंपनियां नहीं कर पा रहीं आपूर्ति

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: देव कश्यप Updated Fri, 15 Oct 2021 02:54 AM IST

सार

सियाम के मुताबिक, पिछले महीने कुल 1,60,070 यात्री वाहन डीलरों तक पहुंचाए जा सके। एक साल पहले की समान अवधि में यह संख्या 2,70,027 थी। दोपहिया की आपूर्ति में भी 17 फीसदी गिरावट आई और कुल 15,28,472 वाहन देशभर में डीलर के पास भेजे जा सके।
वाहन उद्योग (सांकेतिक तस्वीर)
वाहन उद्योग (सांकेतिक तस्वीर) - फोटो : PTI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

त्योहारी सीजन की शुरुआत से पहले ही सेमीकंडक्टर की कमी वाहन निर्माता कंपनियों पर भारी पड़नी शुरू हो गई है। सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरिंग (सियाम) ने बृहस्पतिवार को बताया कि बाजार मांग के बावजूद कंपनियां डीलर को आपूर्ति नहीं कर पा रही हैं। इस कारण सितंबर में यात्री वाहनों की थोक बिक्री 41 फीसदी कम रही।
विज्ञापन

 
सियाम के मुताबिक, पिछले महीने कुल 1,60,070 यात्री वाहन डीलरों तक पहुंचाए जा सके। एक साल पहले की समान अवधि में यह संख्या 2,70,027 थी। दोपहिया की आपूर्ति में भी 17 फीसदी गिरावट आई और कुल 15,28,472 वाहन देशभर में डीलर के पास भेजे जा सके। सितंबर, 2020 में यह संख्या 18,49,546 थी।


मोटरसाइकिल की थोक बिक्री में 22 फीसदी गिरावट आई और पिछले साल के 12,24,117 के मुकाबले सितंबर में 9,48,161 मोटरसाइकिल डीलरों के पास भेजी गईं। स्कूटर की बिक्री भी सात फीसदी गिरकर 5,17,239 रही, जबकि तिपहिया की थोक बिक्री 54 फीसदी गिरावट के साथ 29,185 रही है। इस तरह सभी श्रेणी के वाहनों की बिक्री सितंबर में 20 फीसदी कमी के साथ 17,17,728 रही है। 

उत्पादन में भी 19 फीसदी गिरावट 
सितंबर मेें कार, तिपहिया, दोपहिया व अन्य श्रेणी के वाहनों का कुल उत्पादन भी 19 फीसदी गिरावट के साथ 21,25,304 रहा। हालांकि, जुलाई-सितंबर तिमाही में यात्री वाहनों की कुल थोक बिक्री में 2 फीसदी उछाल आया, जो 7,41,300 रही। दोपहिया की डिलीवरी भी 12 फीसदी गिरकर 41,13,915 रही है। 

ग्राहकों को करना होगा लंबा इंतजार
सियाम के अनुसार, त्योहारी सीजन में अपनी गाड़ी का सपना पूरा करने वाले ग्राहकों को आपूर्ति के लिए इंतजार करना पड़ेगा। कई लोकप्रिय मॉडल की गाड़ियां पर्याप्त संख्या में बनाने में परेशानी आ रही। महिंद्रा की हाल में आई एक्सयूवी-700 की एक घंटे में 25 हजार बुकिंग हुई, लेकिन कंपनी को इसकी आपूर्ति करने में छह महीने से ज्यादा लग जाएंगे। कच्चे माल की बढ़ती कीमतें और उत्पादन में देरी से खुदरा बिक्री की कीमतों पर भी असर पड़ सकता है।

भारतीय वाहन उद्योग नई तरह की चुनौतियों से गुजर रहा है। एक तरह तो हम वाहनों की मांग में इजाफा देख रहे हैं, तो दूसरी ओर सेमीकंडक्टर चिप की कमी से उद्योग पर आपूर्ति पूरी करने का संकट आ गया है। मारुति, महिंद्रा, ह्यूंडई सहित कई कंपनियों ने अपने उत्पादन में बड़ी कटौती शुरू कर दी है। -केनिची आयुकावा, अध्यक्ष, सियाम

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00