विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

कुरुक्षेत्रः कार में झारखंड से लाया था 45 लाख की अफीम, पुलिस ने दबोचा

पुलिस ने लगभग 45 लाख रुपये की अफीम लेकर जा रहे एक तस्कर को काबू किया है। आरोपी दिल्ली नंबर की कार में झारखंड से 26 किलो अफीम कुरुक्षेत्र जिले के शाहाबाद में किसी व्यक्ति को बेचने के लिए लाया था। आरोपी शाहाबाद का रहने वाला अजीत है। आरोपी को नशा तस्करी के बदले कमीशन मिलना था। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ नशीली वस्तु अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है। आरोपी को अदालत में पेश कर आठ दिन के रिमांड पर लिया गया है। पुलिस अधीक्षक हिमांशु गर्ग ने बताया कि 13 अक्तूबर को अपराध अन्वेषण शाखा-2 के प्रभारी निरीक्षक मंदीप सिंह की टीम बराड़ा चौक, शाहाबाद फ्लाईओवर के नीचे मौजूद थी। इस दौरान मंदीप सिंह को सूचना मिली कि अनूप उर्फ बिट्टू निवासी हुडा, शाहाबाद अफीम बेचने का धंधा करता है।

यह भी पढ़ें-
हरियाणा में डेंगू का डंक: मिल रहे रोजाना 87 मरीज, 13 दिन में ही 1141 चपेट में, पंचकूला, सिरसा, फरीदबाद, गुरुग्राम और नूंह बने हॉटस्पॉट

दिल्ली नंबर की कार में लाया था नशा
पुलिस को सूचना मिली थी कि आरोपी अजीत सिंह उर्फ पिंद्र उर्फ काला निवासी ढकाला, थाना शाहाबाद को पैसे देकर झारखंड से अफीम मंगवाता है। बुधवार को भी अजीत अपनी कार में अनूप के लिए अफीम लेकर शनि मंदिर के पास से होता हुआ शाहाबाद आएगा। पुलिस टीम ने सर्विस रोड पर रतनगढ़ की तरफ नाकाबंदी कर चेकिंग शुरू की। कुछ देर बाद पुलिस टीम को एक दिल्ली नंबर की कार आती दिखाई दी। पुलिस ने उसे रुकवाया और तलाशी लेने पर कार की सीट से प्लास्टिक की कैन में रखी 26 किलो 500 ग्राम अफीम बरामद हुई। पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह यह अफीम झारखंड से खरीदकर लाया है। उसे यह नशा अनूप को देकर अपना कमीशन लेना था। पुलिस आरोपी अनूप उर्फ बिट्टू व अन्य की तलाश कर रही है। ... और पढ़ें

रोहतकः अखाड़ा हत्याकांड मामले में 32 पेज का सहायक चालान कोर्ट में दाखिल, एक नवंबर को होंगे आरोप तय

जाट कॉलेज अखाड़ा हत्याकांड में पुलिस ने बुधवार को 32 पेज का सहायक चालान पत्र एएसजे डॉ. गगनगीत कौर की अदालत में दाखिल कर दिया। आरोप पत्र में न केवल घटनास्थल की डीवीआर कब्जे में दर्शाई गई है, बल्कि एफएसएल रिपोर्ट का भी पूरा ब्योरा दिया गया है। साथ ही एसआईटी प्रमुख को भी गवाह के तौर पर केस में शामिल किया गया है। अब मामले में आरोपी सुखविंद्र व उत्तरप्रदेश के जिला मुजफ्फरनगर के गांव राजपुर-छाजपुर के रहने वाले मनोज के खिलाफ एक नवंबर को कोर्ट में आरोप तय होंगे। मनोज पर आरोप है कि उसने सुखविंद्र को हथियार उपलब्ध करवाए।

यह भी पढ़ें-
हरियाणा में डेंगू का डंक: मिल रहे रोजाना 87 मरीज, 13 दिन में ही 1141 चपेट में, पंचकूला, सिरसा, फरीदबाद, गुरुग्राम और नूंह बने हॉटस्पॉट

सात लोगों को मारी गई थी गोली
चालान पत्र दाखिल करने के दौरान आरोपी सुखविंद्र की वीडियो कांफ्रेंसिंग से पेशी भी हुई। पीड़ित पक्ष के वकील एडवोकेट जय हुड्डा ने बताया कि इसी साल 12 फरवरी को जाट कॉलेज के कुश्ती अखाड़े में छह लोगों व एक को बाहर गोली मारी गई थी। मामले में अखाड़े के मुख्य कोच मनोज के अलावा, उसकी पत्नी साक्षी, 3 साल के बेटे सरताज, कोच प्रदीप, सतीश और कुश्ती खिलाड़ी मथुरा निवासी पूजा की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। जबकि कोच सतीश को अखाड़े से बाहर गोली मारी गई। सतीश को समय रहते गुरुग्राम के निजी अस्पताल में ले जाया गया, जहां डॉक्टर उसे बचाने में कामयाब रहे थे।

आठ माह बाद भी तय नहीं हो सके आरोप
शहर के सनसनीखेज अखाड़ा हत्याकांड में अब तक आरोप तय नहीं हो सके हैं। क्योंकि केस में पुलिस सहायक आरोप पत्र अब पेश कर सकी है। जबकि वारदात के समय दावा किया गया था कि जल्द से जल्द अदालत में आरोपी को सजा दिलवाई जाएगी। अब केस में पहले आरोप तय होंगे। इसके बाद गवाही की प्रक्रिया चलेगी। बाद में दोनों पक्षों के बीच बहस होगी। इसके बाद अदालत में फैसला होगा।

यह भी पढ़ें-हरियाणा: स्वास्थ्य मंत्री विज के आदेश लागू न करने पर विभाग सख्त, ठेका कर्मियों को ड्यूटी पर न लेने वाले सिविल सर्जन नपेंगे

पुलिस की तरफ से 32 पेज का सहायक आरोप पत्र दाखिल कर दिया गया है। इसमें रोहतक से बरामद हथियार की एफएसएल रिपोर्ट के अलावा डीवीआर की बरामदगी भी हो गई है। साथ ही मामले में एसआईटी प्रमुख को भी गवाह के तौर पर शामिल किया गया है। अब मामले में आरोप तय करने के लिए एक नवंबर की तिथि तय की गई है।
- एडवोकेट जय हुड्डा, पीड़ित पक्ष के वकील

पुलिस ने सहायक आरोप पत्र दाखिल कर दिया है, लेकिन अभी उसका अध्ययन नहीं किया है। सुरक्षा के सवाल पर पुलिस प्रशासन ने अदालत में रिपोर्ट दाखिल कर दी है। कहा गया है कि पुलिस आरोपी को सुरक्षित तौर पर कोर्ट में पेश करने में सक्षम है। मेरा सवाल है कि फिर आरोपी सुखविंद्र की वीसी से क्यों पेशी की जा रही है। वहीं, जेल प्रशासन से कोर्ट ने एक नवंबर को सुरक्षा को लेकर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है।
- एडवोकेट राहुल ढुल, आरोपी पक्ष के वकील
  ... और पढ़ें

पिटाई का खौफनाक वीडियो: डंडों से पीट-पीटकर युवक की हत्या, पानी पिला-पिला कर मारा, दहल जाएगा दिल

हरियाणा के महेंद्रगढ़ का एक दिल दहला देने वाला वीडियो सामने आया है। एक युवक पर बेरहमी से डंडे से हमला किया जा रहा है। आरोपी घटना का वीडियो भी बना रहे हैं। इससे पता चलता है कि वे कितने बेखौफ हैं। घटना का यह वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो गया। आरोपियों ने बर्बरता की सारी हदें पर कर दीं। घटना नौ अक्तूबर की है। युवक महेंद्रगढ़ से काम कर लौट रहा था। रास्ते में रोककर युवक की पिटाई की गई। अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में उसकी सांसें थम गईं। मृतक युवक गौरव (18) गांव बवाना का रहने वाला था। मालड़ा गांव में नहर के पास बदमाशों ने उसकी बाइक को रुकवाया और जमकर पिटाई की। पुलिस को दी शिकायत में पिता देवेंद्र ने बताया कि कुछ दिन पूर्व भी आपसी कहासुनी होने के कारण उसके बेटे के साथ मारपीट की गई है। 
... और पढ़ें

चंडीगढ़: कोठी मालिक मां-बेटे को डिनर में दिया नशा, डॉलर, मोबाइल और नकदी लेकर भाग गए दो नौकर

चंडीगढ़ में सेक्टर-36 स्थित कोठी के मालिक 65 वर्षीय एनआरआई और उनकी 89 साल की बुजुर्ग मां को डिनर में दो नौकर नशा देकर 20 हजार की नकदी, कुछ डॉलर और दो मोबाइल फोन चोरी कर फरार हो गए। सेक्टर-36 थाना पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। दोनों बुजुर्ग जीएमसीएच-32 से इलाज के बाद घर वापस आ गए हैं। पीड़ित सुरिंदर पाल सिंह अमेरिका में परिवार समेत रहते हैं, जबकि उनकी बुजुर्ग मां इस कोठी में रहती हैं। सुरिंदर पाल करीब डेढ़ महीने पहले ही चंडीगढ़ लौटे थे। वे वीरवार को कार से पिहोवा गए थे, जिसके बाद वहां से दिन में ही लौट आए थे।

ये भी पढ़ें-
हरियाणा: भ्रष्टाचार में लिप्त अफसरों-कर्मचारियों पर कसा जाएगा शिकंजा, डीजी विजिलेंस शत्रुजीत कपूर ने पूरा किया होमवर्क

नौकरानी घर पहुंची तो खुला भेद
वहां पर उनका एक फार्म हाउस है। सुरिंदर पाल के घर में एक नौकर काम करता था, जिसने सोनू नामक एक नौकर को कोठी में काम पर रखवाया था। कुछ दिन पहले ही वह अपने साथ एक अन्य नेपाली नौकर को लेकर आया। घटना वीरवार रात की है, जब उन दोनों ने कोठी मालकिन मां-बेटे को डिनर करवाया। शुक्रवार दोपहर को नौकरानी घर पहुंची, तो उसने पाया कि दोनों बुजुर्ग बेसुध पड़े हैं और घर का सारा सामान इधर-उधर बिखरा है।

ये भी पढ़ें-पुलिस पहरे में खाद वितरण: थाने में टोकन देकर किसानों को बांटे डीएपी के 6000 बैग, दो लाख बैग की मांग, पहुंचे सिर्फ 14 हजार

पुलिस ने करवाया अस्पताल में भर्ती
इसकी सूचना पुलिस को दी गई, जिसके बाद मां-बेटे को पुलिस सेक्टर-32 अस्पताल ले गई, जहां पर उन्हें भर्ती कर लिया गया। जब दोनों को होश आया तो पुलिस ने उनसे बात की। उन्होंने डिनर किया तो बेसुध हो गए थे। पुलिस ने घर में लगे सीसीटीवी फुटेज की जांच की, तो पाया कि आरोपी देर रात फरार हो गए थे। पुलिस जांच में पता चला कि दूसरे नौकर को बिना पुलिस वेरिफिकेशन के रखा गया था।
 
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर। सांकेतिक तस्वीर।

चंडीगढ़: सोनू शाह हत्याकांड में गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई समेत तीन आरोपी नहीं हुए पेश, दोबारा प्रोडक्शन वारंट जारी

प्रॉपर्टी डीलर सोनू शाह की हत्या के मामले में वीरवार को तिहाड़ जेल से अभिषेक उर्फ बंटी और चंडीगढ़ से दो आरोपियों को एडीजे जयबीर सिंह की अदालत में पेश किया गया। मामले में मुख्य आरोपी लॉरेंस बिश्नोई समेत छह आरोपियों के प्रोडक्शन वारंट इश्यू किए गए थे। लेकिन लॉरेंस समेत तीन आरोपी पेश नहीं हुए। अब 12 नवंबर के लिए फिर प्रोडक्शन वारंट इश्यू किया गया है। प्रॉपर्टी डीलर सोनू शाह को 28 सितंबर 2019 को सेक्टर-45 के बुड़ैल गांव में कार्यालय के अंदर हमलावरों ने 10 गोलियां मारी थीं।

ये भी पढ़ें-
लखीमपुर कांड: आज पीड़ित परिवारों को 50-50 लाख रुपये के चेक सौंपेगी पंजाब सरकार

दो और लोगों को लगी थी गोलियां
इस दौरान उसके दो सहयोगियों को भी गोली लगी थी। सूत्रों ने बताया था कि हमलावर हत्या से कम से कम चार दिन पहले शहर पहुंचे थे। इसके बाद उन्होंने योजना को अंजाम देने से पहले रेकी की। बाद में वारदात को अंजाम देकर आरोपी अंबाला की ओर भाग गए थे। सेक्टर-34 (दक्षिण) थाने में केस दर्ज किया गया था। इस मामले में दो आरोपी तिहाड़ जेल, दो चंडीगढ़, एक अंबाला और लॉरेंस बिश्नोई अजमेर जेल में बंद हैं।

ये भी पढ़ें-बठिंडा: अजीत रोड पर हत्या करने वाले दो आरोपी गिरफ्तार, दूसरे युवक की तोड़ दी थी दोनों टांगें

दिल्ली पुलिस ने की थी बड़ी कार्रवाई
प्रॉपर्टी डीलर और हिस्ट्रीशीटर सोनू शाह की हत्या में कथित रूप से शामिल लॉरेंस बिश्नोई गिरोह के एक वांछित शार्प शूटर को मुंबई से गिरफ्तार किया गया था। वह उन छह अपराधियों में शामिल था, जिन्हें दिल्ली पुलिस ने 16 अप्रैल को तीन राज्यों से गिरफ्तार किया था। पूछताछ के दौरान बिश्नोई ने खुलासा किया था कि सोनू शाह की हत्या की जिम्मेदारी लेने वाली फेसबुक पोस्ट उसके एक गुर्गे ने डाली थी।
... और पढ़ें

चंडीगढ़: दवा कारोबारी से 40 लाख लूटने के मामले में आरोप तय, बठिंडा जेल से लाया गया आरोपी गुरजीत सिंह

चंडीगढ़ के सेक्टर-33 के रहने वाले दवा कारोबारी से 40 लाख रुपये लूटने के मामले में आरोपी गुरजीत सिंह उर्फ लाडा पर आरोप तय कर दिए गए हैं। कड़ी सुरक्षा में आरोपी को बठिंडा जेल से लाकर अदालत में पेश किया गया। मामले में अगली सुनवाई अब 14 दिसंबर को होगी। गुरजीत सिंह नाभा जेल ब्रेक कांड में भी मुख्य आरोपी है। चंडीगढ़ में दवा कारोबारी ने पुलिस को शिकायत दी थी कि वह अपने करीबी से 40 लाख रुपये की राशि लेकर लौट रहा था। रास्ते में हथियारों के बल पर गुरजीत सिंह समेत चार बदमाशों ने उनकी कार को रोक लिया। इसके बाद गोली मारने की धमकी देकर उससे 40 लाख रुपये लूट लिए। लूट के बाद आरोपी फरार हो गए।

ये भी पढ़ें-
हरियाणा: मंत्रियों ने खाद संकट पर किया मंथन, सरकार सात साल पूरे होने पर करेगी बड़ी रैली

पुलिस ने जाली नंबर की कार में आते समय दबोचा था
जांच में जुटी पुलिस ने जाली नंबर की पजेरो कार में गुरजीत को चंडीगढ़ की ओर आते समय गिरफ्तार किया था। उसने नाके पर खड़े पुलिसकर्मियों पर कार चढ़ाने की भी कोशिश की थी। इसी लूट कांड में पुलिस मंगलवार को कड़ी सुरक्षा में आरोपी गुरजीत सिंह उर्फ लाडा को बठिंडा से लेकर पहुंची। यहां उसे अदालत में पेश किया गया। इससे पहले एक अक्तूबर को आरोपी को बठिंडा जेल से प्रोडक्शन वारंट पर लाया जाना था, लेकिन उस दिन उसे कोर्ट में पेश नहीं किया गया। एक पत्र लिखकर बताया गया कि सुरक्षाकर्मियों के अभाव के कारण उसे पेश नहीं किया जा सकता। इसके बाद नए पेशी वारंट 19 अक्तूबर के लिए जारी किए गए थे। पेशी के बाद पुलिस सुरक्षा में आरोपी को वापस बठिंडा ले जाया गया। ... और पढ़ें

बटाला: अगवा तीन दिन का बच्चा बरामद, बेचने की थी योजना, पुलिस ने तीन महिलाओं को पकड़ा

बटाला के एक निजी अस्पताल से सोमवार को अगवा नवजात शिशु को पुलिस ने 24 घंटे में बरामद कर परिजनों के हवाले कर दिया है। मंगलवार को पुलिस ने शिशु को अस्पताल से अगवा करने वाली तीन महिलाओं रजिंदर कौर, रूपिंदर कौर और परमजीत कौर को भी काबू किया। रूपिंदर कौर आशा कार्यकर्ता है।

पुलिस जांच सामने आया है कि रंजिश की वजह से शिशु को अगवा करने की साजिश बच्चे की मौसी ने रची थी। मौसी शिशु को आगे किसी को बेचने वाली थी। फिलहाल तीन महिलाओं पर मामला दर्ज कर उनसे पूछताछ की जा रही है। संभावना है कि मामले में अभी कुछ अन्य लोगों को भी नामजद किया जाएगा। 

मंगलवार को एसएसपी बटाला मुखविंदर सिंह भुल्लर ने बताया कि सोमवार पुलिस को प्रगट सिंह निवासी गांव चीमा खुडी ने शिकायत दी थी कि एक निजी अस्पताल में उसके तीन दिन के बेटे को दो महिलाएं टीका लगाने के बहाने उठाकर वहां से रफूचक्कर हो गई हैं। पुलिस की एक विशेष टीम ने बच्चे की तलाश में एक मुहिम चलाई। 
... और पढ़ें

ठगी: फर्जी चेक से शातिर दूसरी बार चंडीगढ़ नगर निगम के खाते से उड़ाने जा रहे थे 1.21 करोड़, इस बार खुल गया भेद

बटाला पुलिस की गिरफ्त में तीनों आरोपी महिलाएं।
शातिरों ने फर्जी चेक पर नगर निगम के संयुक्त आयुक्त रोहित गुप्ता और मुख्य वित्त अधिकारी वीएस ठाकुर के हस्ताक्षर किए और  निगम के खाते से 28.51 लाख रुपये उड़ा लिए। ठग यहीं नहीं रुके और दूसरी बार 18 अक्तूबर को दो फर्जी चेक पर दोनों अधिकारियों के हस्ताक्षर कर एक करोड़ 21 लाख रुपये निकालने की कोशिश की। गनीमत रही कि बैंक ने इस बार निगम के अधिकारियों से इतनी बड़ी रकम निकालने के बारे में पूछ लिया, तब जाकर मामले का खुलासा हुआ। मुख्य वित्त अधिकारी और सेक्शन ऑफिसर की शिकायत पर सेक्टर-17 थाना पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है। फिलहाल पुलिस बैंक के सीसीटीवी कैमरों को खंगाल रही है। वहीं, दोनों फर्जी चेक जांच के लिए सीएफएसएल में भेज दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें-
हरियाणा: मंत्रियों ने खाद संकट पर किया मंथन, सरकार सात साल पूरे होने पर करेगी बड़ी रैली

बैंक ऑफ बड़ौदा में है नगर निगम का खाता
निगम आयुक्त आनिंदिता मित्रा ने बताया कि सेक्टर-37 स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा में नगर निगम का खाता है। सोमवार को बैंक से फोन आया कि उनकी ओर से 13 अक्तूबर को चेक नंबर 000093 से 98.51 लाख और 16 अक्तूबर को चेक नंबर 000094 से 22.50 लाख रुपये किसी हुसैन मुतारिक शेख को देने के लिए जारी किए गए हैं। इस पर अधिकारियों ने हैरानी जताते हुए कोई रुपया निकालने से इनकार किया। तब बैंक की ओर से बताया गया कि 11 अक्तूबर को भी खाते से 28.51 लाख रुपये की निकासी चेक के माध्यम से हुई है।

ये भी पढ़ें-कुंडली बॉर्डर हत्याकांड: सरेंडर करने वाले निहंग भगवंत व गोविंद प्रीत के खून से सने कपड़े बरामद

बैंक प्रबंधन आया हरकत में
इसके बाद अधिकारियों ने तत्काल बैंक से संपर्क किया। साथ ही जिन चेक नंबरों से रुपये निकाले गए थे, उनकी असल प्रतियां उपलब्ध कराईं। तब बैंक प्रबंधन भी हरकत में आया और तत्काल पुलिस से शिकायत के लिए कहा। चेक पर संयुक्त आयुक्त व मुख्य वित्त अधिकारी के नाम से और सेक्शन ऑफिसर के पद के अनुसार हस्ताक्षर किए गए थे। अधिकारियों की शिकायत पर सेक्टर-17 थाना पुलिस शिकायत दर्ज कर मामले की जांच में जुट गई है।

काऊ सेस का रुपया, फिश प्लांट के नाम पर निकाला
आयुक्त ने बताया कि प्रशासन की ओर से शराब पर काऊ सेस लगाया गया था, जो गोशालाओं और पशुओं के विकास कार्य पर खर्च होना है। नगर निगम का एमओएच विभाग गोशालाओं की देखभाल करता है, इसलिए काऊ सेस का सेविंग अकाउंट बैंक ऑफ बड़ौदा में खुलवाया गया था। शातिरों ने निगम का फर्जी चेक नंबर 91 लगाकर कार्तिक्या फिश प्लांट-वानी के नाम पर रुपये निकाल लिए। जानवरों के नाम पर बैंक ने भी बिना किसी पूछताछ के ही रुपये दे दिए।

ये भी पढ़ें-हरियाणा: सीएम मनोहर लाल का एलान-नए स्टेडियमों के लिए होगी मैपिंग, नर्सरियां फिर खुलेंगी

बैंक रुपया लौटाए, नहीं तो करेंगे कानूनी कार्रवाई
निगम आयुक्त ने इस संबंध में बैंक प्रबंधन व उच्चाधिकारियों को पत्र लिखकर कहा है कि बिना कोई सूचना और जांच पड़ताल के बैंक ने आखिर ऐसे कैसे रुपये दे दिए। बैंक को अपने चेक और उसमें किए गए हस्ताक्षरों की एक बार जांच करनी चाहिए थी। इस मामले में बैंक के अधिकारियों की भी जांच होनी चाहिए। आयुक्त ने कहा है कि बैंक निगम का पूरा पैसा वापस लौटाए, नहीं तो बैंक के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

बड़ा सवालः जब हस्ताक्षर नहीं हुए मैच तो कैसे पास हुआ चेक
पूरे मामले में बैंक के कर्मचारियों की गतिविधियां भी संदेह के घेरे में है। आयुक्त का कहना है कि एमओएच के पास बैंक से जारी सभी 10 चेक उपलब्ध हैं। वहीं, संयुक्त आयुक्त और मुख्य वित्त अधिकारी के हस्ताक्षर बैंक में दिए गए हस्ताक्षरों से मेल नहीं खा रहे हैं। ऐसे में बैंक ने 28.51 लाख की राशि कैसे दे दी।

ये भी पढ़ें-पानीपत: कव्वाली सुन लौट रहे दोस्त की ईंट मारकर हत्या, फिर खुद ही लेकर आया परिजनों को

मामले में हमने पुलिस को शिकायत दे दी है। बैंक के अधिकारियों को भी रुपये वापस करने के लिए कह दिया है। ऐसा न होने पर कानूनी कार्रवाई भी करेंगे।
-आनिंदिता मित्रा, आयुक्त, नगर निगम ... और पढ़ें

जालंधर में खौफनाक हादसा: तेज रफ्तार कार ने सड़क किनारे खड़ीं दो लड़कियों को कुचला, एक की मौत

जालंधर-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर सोमवार को पुलिस इंस्पेक्टर की कार ने दो युवतियों को उस समय रौंद दिया जब वे रोड पार करने के लिए एक किनारे खड़ी थीं। एक युवती की मौके पर ही मौत हो गई, जिसकी पहचान नवजोत कौर के रूप में हुई। उसकी सहेली गंभीर रूप से घायल है। दोनों धन्नोवाली इलाके की रहने वाली हैं।

पुलिस के मुताबिक मृतका के परिजनों ने कोई लिखित शिकायत नहीं दी है। उनमें आपसी समझौता हो गया है। युवतियों को टक्कर मारने वाला आरोपी कार चालक पंजाब पुलिस का इंस्पेक्टर अमृत पाल सिंह है। इन दिनों वह हरिके पत्तन में तैनात है। पुलिस ने उसे हिरासत में लेकर कार को कब्जे में ली लेकिन युवतियों के परिजनों का गुस्सा फूट गया और उन्होंने राष्ट्रीय राजमार्ग पर दरी बिछाकर जाम लगा दिया। 

दर्दनाक हादसे का सीसीटीवी फुटेज सामने आया है। इसमें एक सफेद कार दोनों युवतियों को टक्कर मारते हुए दिख रही है। तेज रफ्तार कार को देख दोनों युवतियां एक कदम पीछे हटीं फिर भी कार ने टक्कर मार दी। घटना की जानकारी निकटवर्ती इलाके धन्नोवाली में पहुंची तो भारी संख्या में लोग घटनास्थल पर एकत्रित हो गए और इस दौरान सेना का वाहन व एंबुलेंस भी जाम में फंस गई। 

एडीसीपी-1 जालंधर सुहैल मीर ने कहा कि कार पुलिस इंस्पेक्टर अमृत पाल सिंह चला रहा था। उसे हिरासत में ले लिया गया है। पुलिस ने स्थानीय लोगों और परिवार के सदस्यों से बातचीत कर हाईवे खुलवाया और कड़ी कार्रवाई का आश्वासन दिया। वहीं, घायल युवती की पहचान ममता के रूप में हुई है। 

एसीपी कैंट मेजर सिंह ने बताया कि अमृतपाल सिंह पीएपी जा रहा था। रास्ते में ममता व नवजोत कौर सड़क पार करने के लिए खड़ी थीं। तभी इंस्पेक्टर की तेज रफ्तार कार ने उनको कुचल दिया। मृतका नवजोत कौर के परिजनों ने पुलिस को लिखित शिकायत नहीं दी, उनका आपसी समझौता हो रहा है। इस कारण मामला दर्ज नहीं किया गया है।
 
... और पढ़ें

सोनीपत: सीजेएम पानीपत के गनमैन पर तीन बदमाशों ने चाकू से हमला कर सर्विस रिवॉल्वर और कैश लूटा

सोनीपत में लगातार बदमाश बेखौफ होकर वारदात को अंजाम दे रहे हैं। वीरवार देर रात बाइक सवार तीन बदमाशों ने सीजेएम पानीपत के गनमैन के साथ लूटपाट की। चाकू मारकर उनको गंभीर रूप से घायल कर दिया। हमला करने के बाद बदमाश सिपाही प्रवीण से उसकी सर्विस रिवॉल्वर, कागजात और 2300 रुपये की नकदी छीनकर मौके से फरार हो गए। घायल को परिजनों ने सोनीपत के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया है। जहां घायल सिपाही उपचारधीन है। घायल प्रवीन ने बताया कि वह हरियाणा पुलिस में सिपाही के पद पर कार्यरत है। फिलहाल उसकी ड्यूटी पानीपत सीजेएम के गनमैन के तौर पर है।

यह भी पढ़ें-
हरियाणा में बर्बर वारदात: कुंडली बॉर्डर पर पंजाब के युवक की हत्या, पिटाई के बाद हाथ काट बैरिकेड से लटकाया

बदमाशों की तलाश में जुटी पुलिस
प्रवीन ड्यूटी कर अपने घर लाला गढ़ी वापस लौट रहा था। जब प्रवीन गढ़ी केसरी-लाला गढ़ी रोड पर पहुंचा तो बाइक सवार लुटेरों ने उसको रोककर चाकू से हमला कर दिया। उसके बाद आरोपी प्रवीन कुमार से उसकी सर्विस रिवॉल्वर, 2300 रुपये की नकदी व जरूरी कागजात छीनकर फरार हो गए। थाना गन्नौर पुलिस ने प्रवीन कुमार की शिकायत पर अज्ञात लुटेरों के खिलाफ मामला दर्ज कर तलाश शुरू कर दी है।


  ... और पढ़ें

ईटीटी अध्यापक भर्ती परीक्षा: दो फर्जी उम्मीदवार पकड़े, 6635 ईटीटी पदों के लिए 19963 उम्मीदवारों ने दी परीक्षा

पंजाब शिक्षा विभाग के भर्ती निदेशालय की ओर से शनिवार को ईटीटी अध्यापकों के 6635 पदों के लिए भर्ती परीक्षा करवाई गई, जिनमें 19963 उम्मीदवारों ने परीक्षा दी। स्कूल शिक्षा के सचिव अजोए शर्मा ने परीक्षा प्रबंधों पर संतोष व्यक्त किया। हालांकि अबोहर और जलालाबाद के एक-एक परीक्षा केंद्र में दो फर्जी केस पकड़े गए, जिनमें उम्मीदवार की जगह अन्य व्यक्ति परीक्षा देते पकड़े गए।

स्कूल शिक्षा सचिव ने बताया कि परीक्षा केंद्रों में निगरानी अमले ने 2 फर्जी केस पकड़े। एक केस जलालाबाद के परीक्षा केंद्र और दूसरा अबोहर के परीक्षा केंद्र में सामने आया, जहां उम्मीदवार की जगह कोई अन्य परीक्षा दे रहा था। दोनों मामलों में कार्रवाई कर दी गई है।  

यह भी पढ़ें: 
बसपा नेता का पाक कनेक्शन उजागर: सरहद पार से मंगवाई थी 34 करोड़ की हेरोइन, अब रिमांड के दौरान किए और खुलासे

उन्होंने यह भी जानकारी दी कि भर्ती निदेशालय की ओर से बढ़िया ढंग से कार्य पूरा किया गया है। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा 18900 अध्यापकों की भर्ती प्रक्रिया आरंभ की गई है, जिसके तहत जल्द ही भर्ती प्रक्रिया पूरी कर चुने हुए उम्मीदवारों को नियुक्ति पत्र सौंपे जाएंगे। शनिवार को हुई परीक्षा की जानकारी देते हुए एससीईआरटी के निदेशक और भर्ती बोर्ड के अधिकारी डॉ. जरनैल सिंह कालेके ने बताया कि पंजाब के 7 जिलों में 95 परीक्षा केंद्र बनाए गए, जिनमें 22982 उम्मीदवारों में से 19963 उम्मीदवारों ने परीक्षा दी, जो 86.86 प्रतिशत रही।
... और पढ़ें

कुंडली बॉर्डर हत्याकांड: पंजाब के युवक की बर्बर हत्या का एक आरोपी गिरफ्तार, हाथ काट बैरिकेड से लटकाया था शव

हरियाणा के सोनीपत में कुंडली बॉर्डर पर कृषि कानून विरोधी आंदोलन स्थल पर गुरुवार रात को पंजाब के एक व्यक्ति की हाथ-पैर काटकर व तेजधार हथियार से हमला कर बर्बरता से हत्या कर दी गई। व्यक्ति को बुरी तरह पीटा गया और उसका दाहिना हाथ भी काट दिया। इसके बाद व्यक्ति को 100 मीटर घसीटकर ले जाने के बाद किसान आंदोलन के मंच से कुछ दूर बैरिकेड पर बांध दिया। वायरल वीडियो में कथित रूप से निहंगों ने व्यक्ति पर धार्मिक ग्रंथ से बेअदबी का आरोप लगाकर हत्या की जिम्मेदारी ली है। वारदात के करीब 15 घंटे बाद शुक्रवार देर शाम को निहंग सर्बजीत सिंह ने पुलिस टीम के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।

मृतक की पहचान पंजाब के तरनतारन जिले के गांव चीमा खुर्द निवासी 35 वर्षीय लखबीर सिंह पुत्र हरनाम सिंह के तौर पर हुई है। वह तीन बेटियों का पिता था। फिलहाल उसकी पत्नी बेटियों सहित लखबीर से अलग रह रही है। पता लगा है कि लखबीर सिंह जब 6 माह का था तो हरनाम सिंह ने उसे गोद लिया था, जबकि रिश्ते में हरनाम सिंह उसके फूफा हैं।  

यह भी पढ़ें - 
अंबाला: पाक खुफिया एजेंसियों ने भारतीय मोबाइल नंबर से लिंक की थी फेसबुक प्रोफाइल, पाकिस्तानी महिला एजेंट का था अकांउट 

हत्या की सूचना पाकर पहुंची पुलिस को शव उतारने में लगे ढाई घंटे
कुंडली बॉर्डर के पास हत्या की सूचना पुलिस को शुक्रवार सुबह करीब पांच बजे मिली थी। पुलिस वहां तुरंत पहुंच गई, लेकिन शव को उतारकर लाने में ढाई घंटे का समय लग गया। लोगों ने वहां पर जमकर हंगामा कर दिया था। बाद में किसान नेताओं के मनाने पर वह शव उतारे जाने को लेकर तैयार हो सके। 

यह भी पढ़ें - पंजाब: अब होगा हजारों करोड़ के ड्रग कारोबार मामले के बड़े नामों का खुलासा, केंद्र से अब तक की कार्रवाई की रिपोर्ट तलब 

शुक्रवार सुबह पांच बजे वारदात का पता चलने पर एएसआई संदीप की टीम मौके पर पहुंची थी। वहां पर उन्हें शव के पास तक नहीं जाने दिया गया। बाद में किसान नेता बलदेव सिरसा मौके पर पहुंचे और उनके कहने पर वहां मौजूद लोगों ने पुलिस को शव उतारने दिया। ऐसे में साफ है कि कुंडली बॉर्डर पर कृषि कानूनों के विरोध में चल रहा प्रदर्शन अब कानून व्यवस्था के लिए चुनौती बनने लगा है। यहां तक कि आंदोलन क्षेत्र में पुलिस का प्रवेश भी आंदोलनकारियों की मर्जी से होता है। 

किसान आंदोलन के दौरान पहले भी हो चुकी हैं हिंसक घटनाएं
कुंडली बॉर्डर पर जारी आंदोलन के बाद क्षेत्र में पहले भी कई हिंसक घटनाएं हो चुकी हैं। इनमें निहंगों पर मुकदमे भी दर्ज हुए हैं। 
- 12 अप्रैल को कुंडली बार्डर पर निहंग ने युवक शेखर पर तलवार से जानलेवा हमला किया। 
- 12 जून को सेरसा गांव के पंच रामनिवास पर हमला कर उन्हें घायल किया गया। 
- 3 अगस्त को सीआरपीएफ जवान पर जानलेवा हमला, 10-15 अज्ञात प्रदर्शनकारियों पर मुकदमा दर्ज हुआ। 
- 2 अक्तूबर को लंगर में दाल लेने गए युवक राजू पर तलवार से हमला, गंभीर रूप से घायल।
- मनौली के कार सवार किसान पर जानलेवा हमला, गाड़ी तोड़ी गई।
- कुंडली के दुकानदार पर दुकान में घुसकर हमला किया।
... और पढ़ें

चंडीगढ़: बस स्टॉप में मिला शव, नाक से बह रहा था खून, पोस्टमार्टम में होगा मौत के कारण का खुलासा

चंडीगढ़ के सेक्टर-30 के बस स्टॉप में गुरुवार को शव मिलने से सनसनी फैल गई। शव के सिर पर चोट के निशान थे और पैरों में पट्टियां बंधी थीं। गले में भी पाइप डली हुई थी। लोगों की सूचना पर पुलिस ने शव को अस्पताल पहुंचाया। उसकी पहचान नहीं हो पाई है। 

सुबह करीब 10 बजे लोगों ने एक व्यक्ति को बस स्टॉप पर लेटे देखा। उसके शरीर में कोई हरकत नहीं थी। उसने सिर्फ एक लोअर पहना था। हाथ बांधे वह सोने की मुद्रा में पड़ा था। सेक्टर-30 में रहने वाले यादविंदर मेहता ने बताया कि ऐसा प्रतीत हो रहा था कि व्यक्ति अस्पताल से इलाज के दौरान भाग कर यहां पहुंचा था।

यह भी पढ़ें - 
कैथल में डबल मर्डरः आधी रात मोहना में मां-बेटी की हत्या, बेटा गंभीर 

नाक से खून निकल रहा था। आंख काली हो चुकी थी और सिर पर भी गंभीर चोट के निशान थे। यादविंदर ने तुरंत पुलिस को कॉल किया। पुलिस मौके पर पहुंची और घटनास्थल की वीडियोग्राफी कराने के बाद शव को सरकारी अस्पताल भिजवा दिया। पुलिस ने बताया कि  पोस्टमार्टम के बाद पता चलेगा मौत कैसे हुई। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00