हरियाणा: गृह मंत्री विज के कार्यालय से गोपनीय दस्तावेज लीक करने वाला कर्मी सस्पेंड, सीएम बोले-ऐसे लोग बख्शे नहीं जाएंगे

अमर उजाला नेटवर्क, चंडीगढ़ Published by: Trainee Trainee Updated Sun, 26 Sep 2021 10:17 AM IST

सार

पुलिस आरोपी को आज चंडीगढ़ की जिला अदालत में पेश करेगी। अदालत ने सुनवाई के बाद आरोपी को एक दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा था। हाई प्रोफाइल मामला होने की वजह से पुलिस की जांच तेज हो गई है। जो मोबाइल आरोपी से मिला था, उसे सीएफएसएल में भेजा गया है । जांच में ये भी सामने आएगा कि आरोपी ने अब तक किस-किस को ये दस्तावेज भेजे हैं।
 
सीएम मनोहर लाल।
सीएम मनोहर लाल। - फोटो : एएनआई
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज के कार्यालय से गोपनीय दस्तावेज लीक करने के मामले में सरकार ने कड़ी कार्रवाई की है। आरोपी कर्मचारी को निलंबित कर दिया गया है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि इस तरह के कार्यों में शामिल किसी भी अधिकारी व कर्मचारी को बख्शा नहीं जाएगा। सीएम ने सभी प्रशासनिक सचिवों को निर्देश दिए हैं कि वे अपने-अपने विभागों में इस तरह के कर्मचारियों पर कड़ी नजर रखें। अगर कोई सामने आता है तो उस पर कड़ी कार्रवाई करें।
विज्ञापन

 
आज आरोपी कोर्ट में होगा पेश
उधर, शनिवार को पुलिस ने आरोपी को चंडीगढ़ की जिला अदालत में पेश किया। अदालत ने सुनवाई के बाद आरोपी को एक दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। अब रविवार को फिर आरोपी को ड्यूटी मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया जाएगा। हाई प्रोफाइल मामला होने की वजह से पुलिस ने भी जांच तेज कर दी है। आरोपी के मोबाइल को केंद्रीय फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला (सीएफएसएल) में भेजा गया है, ताकि यह पता लगाया जा सके कि आरोपी कब से गोपनीय दस्तावेजों को इधर-उधर भेज रहा था।


यह भी पढ़ें- किसान महापंचायत: भारत बंद से एक दिन पहले पानीपत में आज जुटेंगे किसान, 101 हलवाई बना रहे हैं खाना
 
जांच में खुलेंगे आरोपी के सभी राज
सीएफएसएल जांच में ये भी सामने आएगा कि आरोपी ने अब तक किस-किस को और कौन-कौन से दस्तावेज भेजे हैं। गौरतलब है कि हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज के कार्यालय से अहम सूचनाएं लीक करने के आरोपी सहायक को शुक्रवार शाम सिविल सचिवालय में पकड़ा गया था। विज ने खुद डेढ़ घंटे तक सहायक का मोबाइल खंगाला था। उसमें सौ से अधिक दस्तावेजों के फोटो मिले। इसके बाद आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। आरोपी कर्मचारी विज के कार्यालय में ही तैनात था। मामले में विज के निजी सचिव ने मुख्य सचिव विजय वर्धन को लिखित शिकायत की है।

यह भी पढ़ें- लुधियाना में एटीएम को बनाया निशाना: गैस कटर से काटकर 18.38 लाख की नकदी उड़ाई, तीन लुटेरों ने की वारदात

गोपनीय दस्तावेजों के बदले पैसों के लेनदेन का शक
गृह मंत्री विज ने उनके सात-आठ विभागों के अनेक अहम दस्तावेज लीक होने का संदेह जताया है। उन्होंने आशंका जताई कि उनके विभागों की अनुमोदित फाइलों के फोटो खींचकर यह कर्मचारी आगे भेजता था। काम हो गया है, यह कहकर वह उसके पैसे भी लेता रहा है। चंडीगढ़ पुलिस विभिन्न एंगल से मामले की जांच कर रही है। दस्तावेजों को किसी और को भेजने के पीछे मकसद क्या था, ये भी पता लगाया जा रहा है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00