बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
इन तीन राशियों के लिए निवेश का शुभ समय, भाग्यफल से जानें अन्य राशियों का हाल
Myjyotish

इन तीन राशियों के लिए निवेश का शुभ समय, भाग्यफल से जानें अन्य राशियों का हाल

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

गर्व : चंडीगढ़ की शूटर गौरी श्योराण बनीं ग्लोबल एंबेसडर, अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर मिला सम्मान

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर चंडीगढ़ की शूटर गौरी श्योराण को इंटरनेशनल वुमन क्लब ने 2021 का ग्लोबल एंबेसडर नियुक्त किया है। एक ऑनलाइन कार्यक्रम में चेक...

18 अप्रैल 2021

विज्ञापन
Digital Edition

15 दिन में 25 से ज्यादा मौतें: वीके सिंह का गांव बेहाल, न एंबुलेंस न ऑक्सीजन, स्वास्थ्य सुविधाएं खस्ताहाल, पढ़ें- ग्राउंड रिपोर्ट

केंद्रीय राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह के गांव बापोड़ा में फिलहाल 30 लोग कोरोना संक्रमित हैं। बीते 15 दिनों में गांव के 25 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। इनमें चार लोगों की कोरोना से मौत की पुष्टि हो चुकी है। हालात को देखते हुए गांव में कोरोना मरीजों के लिए आइसोलेशन सेंटर बनाया गया है। मगर वहां पर न एंबुलेंस है और न ही ऑक्सीजन की सुविधा है। सुविधा के नाम पर केवल कुछ टेबलेट और 10 बेड हैं। अव्यवस्था का आलम यह है कि जिस कमरे में बेड रखे हैं उसको ताला लगाकर चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी अपने घर चला जाता है। वीके सिंह का गांव हरियाणा के भिवानी जिले में पड़ता है। 

रविवार को उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य और एसपी अजीत सिंह ने आइसोलेशन वार्ड का निरीक्षण किया था और वहां पर आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने के आदेश संबंधित अधिकारियों को दिए थे। उपायुक्त के दौरे के चलते रविवार को वहां पर एंबुलेंस भी तैनात की गई थी, मगर सोमवार को हालात बिल्कुल उलट मिले। 

कर्मचारियों को बैठने के लिए कुर्सी तक नहीं
राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय (पुरुष) में यह आइसोलेशन सेंटर बनाया गया है। यहां एक कमरे में छह तथा दूसरे में तीन बेड लगाए गए हैं। राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय की प्रिंसिपल दुर्गेश नंदनी और दो अन्य अध्यापकों की ड्यूटी यहां पर व्यवस्था बनाने के लिए लगाई गई है। 


                                                ताला खोलती महिला कर्मचारी।
... और पढ़ें
वीके सिंह के गांव से अमर उजाला की ग्राउंड रिपोर्ट। वीके सिंह के गांव से अमर उजाला की ग्राउंड रिपोर्ट।

एंबुलेंस चालकों की नहीं चलेगी मनमानी: चंडीगढ़ में प्रशासन ने तय किया किराया, उल्लंघन पर 50 हजार का जुर्माना

कोरोना काल में लोगों की मजबूरी का फायदा उठाकर मनमाना किराया वसूल रहे एंबुलेंस चालकों पर अब प्रशासन ने नकेल कस दी है। सोमवार को डीसी मनदीप सिंह बराड़ ने शहर, ट्राइसिटी व अन्य राज्यों के लिए एंबुलेंस का किराया तय कर दिया है। प्रशासन ने स्वास्थ्य विभाग के लिए बाहर से एंबुलेंस उधार पर लेने के लिए भी रोजाना के दाम तय कर दिए हैं।

आदेश के अनुसार ज्यादा किराया वसूलने वाले एंबुलेंस चालकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इस तरह का मामला मिलने पर एंबुलेंस सीज की जाएगी। साथ ही चालक का लाइसेंस, गाड़ी की आरसी भी रद्द की जाएगी। प्रशासन ने सख्त लहजे में कहा है कि अगर किसी चालक ने तय दाम से ज्यादा वसूले और प्रशासन को इसकी शिकायत मिली तो उपरोक्त कार्रवाई के अलावा उस पर 50 हजार रुपये तक का जुर्माना भी लगाया जा सकता है। 
  • एंबुलेंस कैटेगिरी             24 घंटे के लिए तय दाम
  •                         (स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोविड ड्यूटी के लिए उधार लेना) 
  • बिना ऑक्सीजन                  2000 रुपये 
  • आक्सीजन सुविधा के साथ    2500 रुपये
  • वेंटिलेटर के साथ                 3000 रुपये
ट्राइसिटी में प्रति किलोमीटर दाम 
  • बिना ऑक्सीजन                20 किलोमीटर तक प्रति ट्रिप 250 रुपये। उसके बाद 10 रुपये प्रति किलोमीटर 
  • ऑक्सीजन सुविधा के साथ   20 किलोमीटर तक प्रति ट्रिप 300 रुपये। उसके बाद 12 रुपये प्रति किलोमीटर
  • वेंटिलेटर के साथ                20 किलोमीटर तक प्रति ट्रिप 400 रुपये। उसके बाद 15 रुपये प्रति किलोमीटर
  • आधे घंटे बाद वेटिंग चार्ज    100 रुपये प्रति घंटा 

प्रति किलोमीटर बाहरी राज्यों के लिए दाम 
  • मैदानी इलाका
  • बिना ऑक्सीजन               10 रुपये प्रति किलोमीटर  
  • ऑक्सीजन सुविधा के साथ  12 रुपये प्रति किलोमीटर  
  • वेंटिलेटर के साथ               15 रुपये प्रति किलोमीटर  
पहाड़ी इलाका 
  • बिना ऑक्सीजन                11 रुपये प्रति किलोमीटर  
  • ऑक्सीजन सुविधा के साथ   13 रुपये प्रति किलोमीटर  
  • वेंटिलेटर के साथ                16 रुपये प्रति किलोमीटर
... और पढ़ें

मौसम विभाग का ऑरेंज अलर्ट: हरियाणा में भी दिखेगा ‘ताउते’ तूफान का असर, भारी बारिश व अंधड़ के आसार

तटीय इलाकों में कहर बरपा रहे चक्रवाती तूफान ‘ताउते’ का असर हरियाणा में भी दिखेगा। प्रदेश में 20 मई तक 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से हवाएं चलेंगी। 19 को भारी से भारी और 20 को भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि कुछ स्थानों पर अंधड़, गरज-चमक के साथ 7 से 10 सेमी. बारिश तक हो सकती है। 

मौसम में मंगलवार की रात से बदलाव शुरू होगा। बारिश से एक बार फिर तापमान में गिरावट आ सकती है और मौसम ठंडा हो जाएगा। सोमवार को दिन भर आंशिक रूप से बादल छाए रहे और गर्म हवाएं चलीं। इससे गर्मी का अहसास हुआ। सिरसा में सर्वाधिक अधिकतम तापमान 41.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं न्यूनतम तापमान 22.8 रहा। 

ऐसा रहेगा मौसम 
  • 18 मई - येलो अलर्ट, तेज हवाएं, देर रात हल्की बारिश 
  • 19 मई - ऑरेंज अलर्ट, अंधड़, भारी से भारी बारिश के आसार 
  • 20 मई - ऑरेंज अलर्ट, अंधड़, भारी बारिश का पूर्वानुमान 
  • 21 मई - हल्के बादल, बूंदाबांदी 

गुजरात, राजस्थान होते हुए हरियाणा में आएंगी नम हवाएं 
हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के मौसम विभाग के अनुसार अरब सागर में आए चक्रवाती तूफान ताउते के कारण गुजरात व राजस्थान होते हुए नमी वाली हवाएं हरियाणा की तरफ आएंगी। इसके साथ ही पश्चिमी विक्षोभ के आंशिक प्रभाव से प्रदेश में 18 मई को मौसम में बदलाव आएगा। इसका असर 21 मई को कम हो जाने की संभावना है। 
... और पढ़ें

पंजाब में संक्रमण: 194 की मौत, 6947 नए पॉजिटिव मिले, गांवों में सरकार खोलेगी कोविड देखभाल केंद्र

पंजाब में सोमवार को 6947 नए कोरोना संक्रमित मिले और 194 की मौत हुई। 419 मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई है। कोरोना से सूबे में अब तक 12086 लोगों की जान जा चुकी है। 9936 संक्रमितों को सांस लेने में परेशानी होने पर ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया है। 

शहरों के मुकाबले ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण को लेकर ज्यादा हालात खराब हैं। स्थिति संभालने के लिए सरकार ने गांवों में कोविड देखभाल केंद्र खोलने का फैसला लिया है। इसके साथ ही जांच की गति तेज की जाएगी। ग्रामीण क्षेत्रों में आरटीपीसीआर के साथ ही रैपिड एंटीजन टेस्ट किटें भेजी जा रही हैं। हर ग्रामीण का कोरोना टेस्ट कराने की जिम्मेदारी जिला उपायुक्त को सुनिश्चित करनी होगी। 

73616 सक्रिय मरीज
स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में अभी तक लिए गए 8273830 सैंपलों में से 504586 पॉजिटिव मिले हैं। अच्छी बात यह है कि 418884 संक्रमित ठीक होकर घर लौट चुके हैं। सक्रिय मामलों की संख्या 73616 पहुंच चुकी है। 

कहां कितनी मौत
बीते 24 घंटे में अमृतसर 17, बरनाला 5, बठिंडा 19, फरीदकोट 5, फाजिल्का 15, फिरोजपुर 8, फतेहगढ़ साहिब 4, गुरदासपुर 12, होशियारपुर 5, जालंधर 13, लुधियाना 20, कपूरथला 6, मानसा 2, मोगा 4, मोहाली 11, मुक्तसर 9, पठानकोट 1, पटियाला 11, रोपड़ 2, संगरूर 18, एसबीएस नगर 5 और तरनतारन में 2 मरीजों की मौत हुई। 
... और पढ़ें

स्वास्थ्य सचिव ने जारी किया आदेश: चंडीगढ़ में सिटी स्कैन का दाम तय, 2000 रुपये से ज्यादा लिया तो होगी कार्रवाई

प्रतीकात्मक तस्वीर
चंडीगढ़ में अब निजी डायग्नोस्टिक सेंटर सिटी स्कैन, एचआरसीटी चेस्ट जांच के लिए दो हजार रुपये से ज्यादा नहीं ले सकेंगे। इस दाम में जीएसटी और अन्य टैक्स भी पहले से ही शामिल रहेगा। अलग से किसी भी प्रकार का टैक्स नहीं जोड़ा जाएगा। नोटिस बोर्ड पर इस दाम के प्रिंटआउट को चिपकाना होगा। शहर के स्वास्थ्य सचिव अरुण कुमार गुप्ता ने सोमवार को ये आदेश जारी किया है।

आदेश का सख्ती से पालन करने का निर्देश भी दिया गया है। अगर कोई निजी डायग्नोस्टिक सेंटर तय दाम से ज्यादा वसूलता है तो उस पर कार्रवाई भी की जाएगी। इसके अलावा प्रशासन की तरफ से कहा गया है कि शहर में सिटी स्कैन कर रहे सभी निजी डायग्नोस्टिक सेंटरों को स्वास्थ्य विभाग के साथ अपना डाटा साझा करना होगा, जिसके लिए विभाग की तरफ से ईमेल आईडी जारी की गई है।

साथ ही वह कोविड टेस्टिंग लैब से पुष्टि किए बिना सिटी स्कैन के नतीजे के आधार पर कोविड की निगेटिव और पॉजिटिव रिपोर्ट की घोषणा नहीं करेंगे। इसके अलावा सभी निजी डायग्नोस्टिक सेंटरों को सिटी स्कैन, एचआरसीटी चेस्ट की वीकली रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग के निदेशक के पास जमा करनी होगी। 

बता दें कि प्रशासन के पास शिकायतें आ रही थीं कि सिटी स्कैन के लिए निजी डायग्नोस्टिक सेंटर मनमर्जी दाम वसूल रहे हैं, जिसके चलते ही प्रशासन ने इस संबंध में दाम तय कर दिए हैं। जानकारी के अनुसार इसे लेकर जल्द ही प्रशासन की एक टीम सेंटरों पर जाकर जांच करेगी ताकि पता लगाया जा सके कि आदेश का पालन किया जा रहा है या नहीं। 
... और पढ़ें

मातम में बदली घर जाने की खुशी: सोनीपत में डिवाइडर से टकराया ऑटो, मासूम भाई-बहन की मौत, मां समेत तीन घायल

हरियाणा के सोनीपत में गांव बारोटा फ्लाईओवर पर तेज रफ्तार ऑटो के डिवाइडर से टकराने के चलते ऑटो में सवार मासूम भाई-बहन की मौत हो गई और उनकी मां, मामा व पड़ोस की महिला घायल हो गई। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सामान्य अस्पताल में रखवा दिया है। पुलिस ने मृतक बच्चों के मामा के बयान पर ऑटो चालक के खिलाफ मुकदमा दर्जकर लिया है। बच्चे मां व मामा के साथ यूपी स्थित पैतृक गांव जाने के लिए निकले थे लेकिन बस निकलने के कारण लौट रहे थे। 

यूपी के जिला शाहजहांपुर के गांव रामपुर बैन निवासी ब्रह्मदत्त ने कुंडली थाना की बारोटा चौकी पुलिस को बताया कि फिलहाल उसका व उसकी बहन का परिवार प्रहलादपुर किडौली में बालाजी ईंट भट्ठा पर रहकर कार्य करता है। उनकी बहन जावित्री उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले के गांव अलवापुर की रहने वाली हैं। 

वह रविवार रात को बहालगढ़ से ऑटो किराए पर लेकर प्रहलादपुर के लिए वापस चले थे। उनके साथ जावित्री, उसके दो बच्चे तीन साल की बेटी भारती व सात माह का अनिकेत और उनके पड़ोस के गांव गदरिया की ननही देवी थी। ब्रहमदत्त ने बताया कि रात को मना करने के बावजूद चालक ऑटो को तेज गति से चला रहा था। जिससे वह बारोटा में ओवरब्रिज के डिवाइडर से टकराकर पलट गया। 

हादसे में पांचों बुरी तरह से घायल हो गए। राहगीरों ने उन्हें सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया। जहां पर अनिकेत और भारती की मौत हो गई। हादसे में ब्रह्मदत्त, उनकी बहन जावित्री और ननही देवी घायल हो गईं। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए रखवा दिया है। हादसे के बाद चालक ऑटो छोड़कर फरार हो गया।  
... और पढ़ें

हिसार की घटना पर बजरंग का ट्वीट: 'जब लोकतंत्र से संवाद का विकल्प हटा दिया जाता है तो वह तानाशाही शासन बन जाता है'

हिसार में बवाल के बाद पहलवान बजरंग पूनिया ने सरकार से किसानों संग बातचीत करके मामला सुलझाने की अपील की है। बजरंग पूनिया ने इस तरह की घटनाओं से बचने के लिए बातचीत को जरूरी बताया है और कहा कि बातचीत करके ही कोई हल निकाला जा सकता है। वहीं किसान नेताओं ने इस घटना के बाद सबक लेते हुए भड़काकर बवाल कराने वालों से दूर रहने की सलाह दी है। 

हिसार में सीएम मनोहर लाल के कार्यक्रम के बाद जमकर बवाल हुआ था। इस घटना में किसानों के साथ ही पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। हिसार में हुए बवाल के बाद पहलवान बजरंग पूनिया भी आगे आए हैं। बजरंग पूनिया ने कहा कि जब लोकतंत्र से संवाद का विकल्प हटा दिया जाता है तो वह तानाशाही शासन बन जाता है। हिसार में प्रदर्शन कर रहे किसानों के खिलाफ कार्रवाई एक उदाहरण है कि बातचीत क्यों जरूरी है। इसको देखते हुए समस्या के स्थायी समाधान खोजने के लिए सरकार को किसान नेताओं के साथ बातचीत शुरू करनी चाहिए। 
  भड़काकर बवाल कराने वालों से दूर रहना चाहिए : चढूनी
हिसार की घटना के बाद भाकियू हरियाणा के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि जिस तरह से हिसार में हुआ है और उसके बाद किसानों ने एकजुटता दिखाई। उसने सरकार को झुकने पर मजबूर कर दिया। उन्होंने कहा कि इस बीच भी यह भी सामने आया है कि ऐसे में कुछ लोग अति उत्साहित हो जाते हैं और भड़काकर बवाल कराने का प्रयास करते हैं। उससे सभी को बचना होगा और दूर रहना चाहिए। 

किसान आंदोलन में शुरुआत से बॉर्डर पर जमे सेवानिवृत्त मेजर खान का निधन
पंजाब के पटियाला के झंडी गांव के रहने वाले सेवानिवृत्त मेजर खान का सोमवार को निधन हो गया। वे 24 साल तक सेना में रहकर देश की सुरक्षा करते रहे। वे आंदोलन के शुरुआत से बॉर्डर पर जमे हुए थे। बताया जा रहा है कि वह एक भी दिन अपने घर नहीं गए थे लेकिन उनकी कई दिन पहले तबीयत खराब हुई थी। उनको बुखार व सांस लेने में दिक्कत बताई जा रही थी। उसके बाद ही वह वापस घर गए थे और उनका निधन हो गया।
... और पढ़ें

लापरवाही की हद: मोर्चरी में 18 दिन तक सड़ता रहा कोरोना संक्रमित का शव, पत्नी आई तो लौटाया बाद में फिर बुलाया

हरियाणा के पानीपत में कोरोना संक्रमित शव के अंतिम संस्कार में बड़ी लापरवाही सामने आई है। इस कारण 18 दिन तक शव पोस्टमार्टम हाउस में सड़ता रहा, जब दुर्गंध से लोग परेशान हो उठे तो उसकी खोजबीन शुरू हुई। जेब में मिले मोबाइल से परिजनों को जानकारी दी गई। फिर सोमवार को कोविड गाइडलाइन के तहत अंतिम संस्कार किया गया। 

इससे पहले एक मई को पति की मौत की सूचना पर बिहार से पहुंची पत्नी को यह कहकर लौटा दिया गया था कि उसका अंतिम संस्कार कोरोना गाइडलाइन के तहत कर दिया गया है। सिविल अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मियों की इस लापरवाही पर पीएमओ ने जांच का आदेश दिया है।

अंतिम संस्कार के लिए पानीपत आई बिहार की रहने वाली प्रतिमा ने बताया कि उसके 35 वर्षीय पति हीरालाल पानीपत की वधावाराम कॉलोनी में किराए पर रहते थे। वह सेक्टर-29 में एक फैक्टरी में श्रमिक थे। 28 अप्रैल को उनकी तबीयत बिगड़ गई थी। उनको सिविल अस्पताल में दाखिल कराया गया।

29 अप्रैल को पति हीरालाल की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई। उनके पास इसकी सूचना आई तो वह एक मई की सुबह सिविल अस्पताल में पहुंचीं। वे इमरजेंसी में गईं तो वहां पर मौजूद स्टाफ ने बताया कि उनके पति का अंतिम संस्कार कर दिया गया है। ये सुनने के बाद वे बिहार चली गईं। 
... और पढ़ें

पंजाब: बरगाड़ी बेअदबी के सभी छह आरोपी चार दिन के रिमांड पर, अब 21 को होगी पेशी 

पंजाब पुलिस की एसआईटी ने बरगाड़ी बेअदबी प्रकरण में रविवार शाम फिर से कार्रवाई करते हुए डेरा सच्चा सौदा के फरीदकोट जिले से संबंधित छह अनुयायियों को गिरफ्तार कर किया था। इन आरोपियों में शामिल कोटकपूरा निवासी सुखजिंदर सिंह सन्नी कंडा, रणजीत सिंह, निशान सिंह व प्रदीप सिंह के अलावा गांव डग्गो रोमाना निवासी शक्ति सिंह व गांव सिखांवाला निवासी बलजीत सिंह को सोमवार दोपहर बाद प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में पेश किया गया, जहां से एसआईटी के आग्रह पर अदालत ने सभी को 21 मई तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया।

बता दें कि 12 अक्टूबर 2015 को गांव बरगाड़ी के गुरुद्वारा साहिब के बाहर पावन स्वरूप की बेअदबी करने की वारदात में इन सभी को आरोपी बनाया गया है। जानकारी के अनुसार 2015 में हुए बरगाड़ी बेअदबी प्रकरण में कुल तीन आपराधिक घटनाएं हुई थीं, जिसमें से 1 जून 2015 को गांव बुर्ज जवाहर सिंह वाला के गुरुद्वारा साहिब से पावन ग्रंथ चोरी हुए थे। 

24 सितंबर 2015 को इसी गुरुद्वारा साहिब के बाहर पोस्टर लगाकर बेअदबी करने की चेतावनी दी गई थी। इसके बाद 12 अक्टूबर 2015 को गांव बरगाड़ी के गुरुद्वारा साहिब के सामने पावन स्वरूप की बेअदबी की वारदात को अंजाम दिया गया। रविवार को एसआईटी ने डेरा सिरसा के छह अनुयायियों को बरगाड़ी में पावन स्वरूप की बेअदबी की घटना में गिरफ्तार किया है। इनको पिछले साल पावन ग्रंथ चोरी करने के आरोप में भी पकड़ा गया था, जिसमें उन्हें जमानत मिल गई थी।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us