बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
जानें वह कौन सी उंगली है,जो बताती है कि आप बड़े भाग्यशाली और धनवान हैं
Myjyotish

जानें वह कौन सी उंगली है,जो बताती है कि आप बड़े भाग्यशाली और धनवान हैं

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

#LadengeCoronaSe : कोरोना को हराकर ड्यूटी पर लौटे एसीएमओ डा.विपुल बिस्वास, बोले - सकारात्मक सोच होना जरूरी 

कोविड-19 वॉर रूम में तैनात एसीएमओ डा.बिपुल बिस्वास कोरोना को मात देकर ड्यूटी पर लौट आए हैं।

15 मई 2021

विज्ञापन
Digital Edition

उत्तराखंड : इंग्लैंड दौरे के लिए भारतीय टीम में देहरादून के अभिमन्यु ईश्वरन शामिल, दून से सीखा क्रिकेट का ककहरा

देहरादून के अभिमन्यु ईश्वरन इंग्लैंड दौरे के लिए दून में खुद को तैयार कर रहे हैं। इंग्लैंड दौरे के लिए विराट कोहली की अगुवाई में चुनी गई भारतीय टीम में अभिमन्यु को बतौर स्टैंड बाय ओपनर शामिल किया गया है। वे इस मौके को भुनाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। 

बंगाल रणजी टीम के कप्तान के तौर पर शानदार प्रदर्शन के चलते अभिमन्यु लंबे समय से चयनकर्ताओं की नजर में हैं। हालांकि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उन्हें अब तक जौहर दिखाने का मौका नहीं मिला है। पिछले दौरे पर भी उन्हें स्टैंड बाय के तौर पर शामिल किया गया था।

इंग्लैंड की उछाल भरी और मूवमेंट वाली पिचों पर अभिमन्यु को डेब्यू करने का मौका मिल सकता है। लॉकडाउन के कारण क्रिकेट गतिविधियां पूरी तरह बंद हैं। इसलिए दौरे से पहले खुद को तैयार करने के लिए वे अपने घर दून पहुंचे हैं। पुरकुल स्थित अपनी एकेडमी में वे कोच अपूर्व देसाई, मनोज रावत और सुशील जावले की देखरेख में तैयारी कर रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि भारतीय टीम के साथ उन्हें बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। खिलाड़ियों के साथ ड्रेसिंग रूम शेयर करने, अंतरराष्ट्रीय मैचों के दबाव को महसूस करने और मैच की रणनीति को समझने का मौका मिलेगा। उन्होंने कहा कि मैं इसे भारतीय टीम में एंट्री से पहले खुद को मजबूत और तैयार करने के मौके के रूप में देख रहा हूं। वैसे भी हमें हर मौके के लिए तैयार रहना चाहिए।
... और पढ़ें
अभिमन्यु ईश्वरन अभिमन्यु ईश्वरन

उत्तराखंड में कोरोना : मेडिकल काउंसलर रखेंगे होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों का ख्याल

उत्तराखंड सरकार ने कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की सुविधा के लिए मेडिकल काउंसलर को तैनात करने का फैसला किया है। स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी ने इसके आदेश किए हैं। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को चिकित्सकीय परामर्श देने के लिए हर काउंसलर के पास 50 लोगों की जिम्मेदारी रहेगी।

उत्तराखंड: हरिद्वार के निजी अस्पताल ने छिपाई जानकारी, 19 दिन बाद हुआ 65 मरीजों की मौत का खुलासा

आइसोलेशन की अवधि दस दिन की होगी

कोविड टेस्ट पॉजिटिव आने पर नोडल अधिकारी इसकी जानकारी हर दिन डीएम को देंगे और डीएम इनके लिए काउंसलर नियुक्त करेंगे। बताया गया कि इन काउंसलरों को टेलीफोन खर्च के लिए हर माह अतिरिक्त एक हजार रुपये दिए जाएंगे। इसके अलावा आइसोलेशन की अवधि दस दिन की होगी।

ब्लैक फंगस: देहरादून में चार मरीज आए सामने, सरकार ने रोकथाम के लिए मांगे सुझाव

मेडिकल सलाह के अनुसार, दवा और इलाज की व्यवस्था करना जिलास्तरीय कोविड कंट्रोल सेंटर की जिम्मेदारी होगी। जहां जरूरी हो मरीजों को एंबुलेंस से कोविड सेंटरों में भर्ती कराया जाएगा।

प्रशिक्षण के लिए तीन सदस्यीय कमेटी बनाई

काउंसलरों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके लिए तीन सदस्यीय कमेटी बनाई है। मेडिकल विवि के कुलपति, दून मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य और आईडीएसपी के हेड डॉ. पंकज सिंह इस कमेटी में शामिल किए गए हैं।

जिलों में एलोपैथिक, आयुष और दंत चिकित्सक, फार्मासिस्ट, नर्सिंग स्टाफ, राजकीय मेडिकल कॉलेजों में आयुष एवं एलोपैथिक में पीजी कोर्स के स्कॉलर्स, रिटायर और निजी क्षेत्रों में स्वास्थ्य से जुड़े काम करने वाले स्टाफ को काउंसलर की जिम्मेदारी मिलेगी।

दूरभाष या वीडियो कॉल कर स्वास्थ्य संबंधी जानकारी लेंगे काउंसलर

काउंसलर संक्रमितों से दूरभाष या वीडियो कॉल कर स्वास्थ्य संबंधी जानकारी लेंगे। सेहत में गिरावट की स्थिति में कोविड केयर सेंटर और ग्राम स्तरीय कोविड निगरानी समिति को जानकारी देंगे। 

... और पढ़ें

उत्तराखंड के गांवों में कोरोनाः कोविड केयर अस्पतालों में इलाज का सच जानने के लिए आज दौरे पर मुख्यमंत्री तीरथ

उत्तराखंड के पहाड़ी जिलों में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के बीच कोविड केयर अस्पतालों में इलाज की सुविधा का सच जानने के लिए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत शनिवार को गढ़वाल के दौरे पर हैं। 

उत्तराखंड: हरिद्वार के निजी अस्पताल ने छिपाई जानकारी, 19 दिन बाद हुआ 65 मरीजों की मौत का खुलासा

इस क्रम में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शनिवार को गोपेश्वर जिला अस्पताल और पीजी कालेज में कोरोना टीकाकरण केंद्र का निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री सुबह 10:30 बजे गोपेश्वर पहुंचे और सबसे पहले जिला अस्पताल पहुंचे। उन्होंने यहां स्थापित हो रहे ऑक्सीजन प्लांट का निरीक्षण किया और जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया से जिले में कोरोना संक्रमण की जानकारी ली।

ब्लैक फंगस: देहरादून में चार मरीज आए सामने, सरकार ने रोकथाम के लिए मांगे सुझाव

इसके बाद मुख्यमंत्री टीकाकरण केंद्र भी पहुंचे। उन्होंने स्वास्थ्य कर्मियों के साथ ही पुलिस ड्यूटी में तैनात पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों की सराहना की। मुख्यमंत्री के साथ उच्च शिक्षा राज्य मंत्री धन सिंह रावत, विधायक मुन्नी देवी शाह, भाजपा जिला अध्यक्ष रघुवीर सिंह बिष्ट भी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री आधा घंटाक गोपेश्वर में रहने के बाद रुद्रप्रयाग के लिए रवाना हो गए। मुख्यमंत्री श्रीनगर भी पहुंचे। यहां उन्होंने वैक्सीनेशन सेंटर में सुविधाओं का निरीक्षण किया।

इसके बाद वह कोविड चिकित्सालय कोटेश्वर जाएंगे। कोटेश्वर अस्पताल में बदइंतजामी की केदारनाथ के विधायक मनोज रावत ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था। भाजपा नेता व दर्जाधारी अजेंद्र अजय ने भी मुख्यमंत्री से मामला उठाया था। 

पर्वतीय क्षेत्रों में संक्रमण बढ़ने से वहां के कोविड केयर सेंटर्स पर दबाव बढ़ गया है। जनप्रतिनिधि व मरीजों के परिजन शिकायतें कर रहे हैं कि अस्पतालों में उन्हें सुविधा नहीं मिल रही है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत तक भी ऐसी शिकायतें पहुंची हैं। मुख्यमंत्री ने ग्राउंड जीरो पर जाकर हकीकत का पता लगाने का फैसला किया है। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री अस्पतालों के निरीक्षण के दौरान कुछ निर्णय व घोषणाएं भी कर सकते हैं।
... और पढ़ें

चारधाम 2021 :  केदारनाथ पहुंची बाबा केदार की डोली, 17 मई को विधि-विधान से खोले जाएंगे मंदिर के कपाट

भगवान केदारनाथ की चल उत्सव विग्रह डोली अपने शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ से धाम कैलाश के लिए प्रस्थान करते हुए रात्रि प्रवास के लिए गौरीकुंड पहुंच गई।

चारधाम 2021 : शीतकालीन प्रवास से तड़के गंगोत्री धाम पहुंची मां गंगा की डोली, पावन वेला में खुले धाम के कपाट

वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के कारण लगातार दूसरी बार प्रशासन व पुलिस की निगरानी में डोली को वाहन से पहुंचाया गया। बाबा केदार की डोली शनिवार को अपने धाम पहुंच गई है। 17 मई को सुबह 5 बजे विधि-विधान से मंदिर के कपाट खोले जाएंगे। इसके बाद छह माह तक धाम में ही आराध्य की पूजा-अर्चना होगी।

शुक्रवार सुबह 5.30 बजे से शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर के गर्भगृह में बाबा केदार की भोगमूर्तियों का सामूहिक अभिषेक किया गया। इस मौके पर पुजारियों ने बाबा को महाभोग लगाते हुए आरती उतारी। इसके बाद गर्भगृह से भगवान केदारनाथ की भोगमूर्तियों को मंदिर के पुजारी टी. गंगाधर लिंग एवं शिव शंकर लिंग द्वारा पंचकेदार गद्दीस्थल में विराजमान किया गया।

यहां पर रावल भीमाशंकर लिंग ने केदारनाथ धाम के लिए नियुक्त पुजारी बागेश लिंग को भोगमूर्ति एवं नाग ताला सौंपा। साथ ही अचकन व पगड़ी पहनाकर छह माह की पूजा का संकल्प कराया। इसके बाद विधि-विधान से भोगमूर्तियों को चल उत्सव विग्रह डोली में विराजमान किया गया।

ओंकारेश्वर मंदिर एवं भैरवनाथ मंदिर की परिक्रमा के बाद डोली ने अपने धाम केदारनाथ के लिए प्रस्थान किया। परंपरानुसार डोली समाधिस्थल की परिक्रमा करते कुुंड-ऊखीमठ-चोपता-गोपेश्वर हाईवे पर पहुंची। जहां पर प्रशासन, पुलिस और देवस्थानम बोर्ड के अधिकारियों की मौजूदगी में डोली को वाहन में विराजमान करते हुए करते हुए केदारनाथ धाम के लिए विदा किया गया।

चुन्नी बैंड से विद्यापीठ होते हुए बाबा केदार की चल उत्सव विग्रह डोली वाहन से सुबह 8.30 बजे विश्वनाथ मंदिर प्रवेश द्वार पर पहुंची। यहां पर मंदिर के पुजारी ने आराध्य की पूजा-अर्चना करते हुए आरती उतारी। आराध्य की डोली नारायणकोटी, बडासू, फाटा, रामपुर, सीतापुर, सोनप्रयाग होते हुए रात्रि प्रवास के लिए सुबह 10.30 बजे गौरीकुंड पहुंची। जहां पर मुख्य पुजारी बागेश लिंग ने डोली की पूजा-अर्चना की।
... और पढ़ें

चारधाम 2021 : पावन वेला में खुले गंगोत्री धाम के कपाट, प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री ने कराई पहली पूजा

भगवान केदारनाथ की चल उत्सव विग्रह डोली
अक्षय तृतीया के मिथुन लग्न की शुभ बेला पर शनिवार को आज प्रात: साढ़े सात बजे पर विश्व प्रसिद्ध गंगोत्री धाम के कपाट छह माह के लिए खोल दिए गए। कोरोना महामारी के मद्देनजर सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार इस बार बिना श्रद्धालुओं के कपाट खोले गए। कपाटोद्घाटन पर पहली पूजा देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व प्रदेश के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत द्वारा भेंट स्वरूप भेजी गई 1101-1101 रुपये की धनराशि के साथ हुई।

शुक्रवार को शीतकालीन प्रवास मुखबा गांव से मां गंगा की भोग मूर्ति को डोली यात्रा के साथ गंगोत्री धाम के लिए रवाना किया गया था। डोली यात्रा भैरोंघाटी स्थित प्राचीन भैरव मंदिर में रात्रि विश्राम के पश्चात आज शनिवार को तड़के गंगोत्री पहुंची। जिसके बाद सुबह साढ़े सात बजे गंगोत्री मंदिर के कपाट खुले।

चारधाम यात्रा 2021 : अक्षय तृतीया पर विधि विधान से खुले यमुनोत्री धाम के कपाट, सबसे पहले प्रधानमंत्री की ओर से हुई पूजा

कोविड महामारी के चलते इस बार तीर्थ पुरोहितों के गांव मुखबा में कोई विशेष उत्साह नहीं दिखा। शुक्रवार सुबह मुखबा स्थित गंगा मंदिर में मां गंगा की विशेष पूजा अर्चना की गई। पूर्वाह्न पौने बारह बजे मंदिर के गर्भगृह से मां गंगा की भोग मूर्ति के साथ ही मां सरस्वती एवं मां अन्नपूर्णा की मूर्ति को बाहर निकालकर डोली में विराजमान किया गया।

चारधाम यात्रा 2021 : अपने धाम रवाना हुए भगवान केदारनाथ, तस्वीरों में देखें भक्तिमय डोली यात्रा

गांव में मौजूद करीब 25 पुरोहित परिवारों ने आराध्य समेश्वर देवता की डोली की मौजूदगी में मां गंगा की डोली यात्रा का विदा किया। इस बार कोविड गाइड लाइन के चलते महज 21 लोग ही डोली यात्रा में शामिल हुए। सेना का पाइप बैंड भी डोली यात्रा में शामिल नहीं हो पाया।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: हरिद्वार के निजी अस्पताल ने छिपाई जानकारी, 19 दिन बाद हुआ 65 मरीजों की मौत का खुलासा

हरिद्वार जिले के एक निजी अस्पताल ने कोरोना मरीजों की मौत की जानकारी छिपाए रखी। 19 दिनों के बाद अस्पताल में 65 मरीजों की मौत का खुलासा हुआ है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से इस मामले को गंभीरता से लिया जा रहा है। 

हरिद्वार स्थित बाबा बर्फानी हॉस्पिटल प्रशासन ने कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत की सूचना स्वास्थ्य विभाग को नहीं दी है। सरकार की ओर से पूर्व में भी कोरोना का इलाज कर रहे अस्पतालों को निर्देश दिए गए कि कोरोना मरीजों की मौत की सूचना 24 घंटे के भीतर राज्य कोविड कंट्रोल रूम को दें।

उत्तराखंड में कोरोना: 24 घंटे में सामने आए 5775 नए संक्रमित, 116 मरीजों की हुई मौत

बाबा बर्फानी हॉस्पिटल में 25 अप्रैल से 12 मई तक उपचार के दौरान 65 कोरोना मरीजों की मौत हुई थी। लेकिन अस्पताल प्रशासन की ओर से इसकी सूचना राज्य कोविड कंट्रोल रूम को नहीं दी गई।

उत्तराखंड: पहाड़ों में भी बढ़ी कोरोना संक्रमित मरीजों की मौतें, नौ पर्वतीय जिलों में 13 दिनों के भीतर 301 मरीजों की मौत

राज्य कोविड कंट्रोल रूम के चीफ आपरेटिंग आफिसर डॉ. अभिषेक त्रिपाठी का कहना है कि कोरोना मरीजों की मौत की सूचना समय पर न देने के मामले को गंभीरता से लिया जा रहा है। जांच के बाद मरीजों की मौत की जानकारी सामने आई।
... और पढ़ें

हरिद्वार महाकुंभ 2021: अक्षय तृतीया पर नागा संन्यासियों के गंगा स्नान के साथ हुआ कुंभ का विधिवत समापन

अक्षय तृतीया एवं भगवान परशुराम के प्रकटोत्सव पर श्रीपंच दशनाम जूना अखाड़ा के अंतरराष्ट्रीय संरक्षक श्रीमहंत हरिगिरि और अखाड़ा के अंतरराष्ट्रीय सभापति श्रीमहंत प्रेमगिरि के नेतृत्व में नागा संन्यासियों ने गंगा स्नान किया। नागा संन्यासियों ने कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए श्री आनंद भैरव घाट पर सांकेतिक रूप से गंगा में डुबकी लगाई।

गंगा स्नान के बाद भगवान दत्तात्रेय श्रीआनंद भैरव और महामाया माता मायादेवी की नागा संन्यासियों ने पूजा-अर्चना व परिक्रमा की। भगवान दत्तात्रेय की चरणपादुका पर ओकांर उठाने और पूजा अर्चना के साथ ही कुंभ 2021 के विधिवत समापन की घोषणा हुई।

महाकुंभ 2021: हरिद्वार स्नान करने पहुंचे इन अजब-गजब बाबाओं ने बढ़ाई कुंभ की शान, देखते ही रह गए लोग  

श्रीमहंत हरिगिरि ने कहा आगामी 18 मई को श्रीगंगा सप्तमी के पावन पर्व पर भगवान बदरीनाथ के कपाट खुलेंगे। जूना अखाड़े के नागा संन्यासी गंगा स्नान कर भगवान बदरीनाथ की मानस पूजा-अर्चना करेंगे। उन्होंने बताया गंगा सप्तमी के दिन ही दु:खहरण हनुमान मंदिर बिड़ला घाट स्थित धर्मध्वजा को अखाड़े की परंपरानुसार उतारा जाएगा।

जूना अखाड़ा के सभापति श्रीमहंत प्रेमगिरि ने बताया कि कुंभ पर्व 2021 वैश्विक महामारी के कारण कुछ पाबंदियों के साथ हुआ। लेकिन कुंभ के प्रति आस्था और विश्वास में किसी प्रकार की कोेई कमी नही हुई। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड में कोरोना: 24 घंटे में सामने आए 5775 नए संक्रमित, 116 मरीजों की हुई मौत

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित और मरीजों की मौत के मामले थम नहीं रहे हैं। बीते 24 घंटे में 5775 संक्रमित मरीज सामने आए और 116 मरीजों ने दम तोड़ा है। वहीं, 4483 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। कुल संक्रमितों की संख्या 277585 हो गई है। जबकि सक्रिय मामले 79379 पहुंच गए हैं। 

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, शुक्रवार को 23319 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। जबकि देहरादून जिले में 1583 कोरोना मरीज मिले हैं। हरिद्वार में 844, ऊधमसिंह नगर 692, नैनीताल में 531, टिहरी में 349, पौड़ी में 359, रुदप्रयाग में 285, अल्मोड़ा में 267, उत्तरकाशी में 286, पिथौरागढ़ में 225, चमोली में 201, चंपावत में 115, बागेश्वर जिले में 38 संक्रमित मिले हैं। 

उत्तराखंड में कोरोना : प्रदेश में नहीं होने देंगे ऑक्सीजन की कमी - पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज

प्रदेश में 24 घंटे में 116 कोरोना मरीजों की मौत हुई है। इसमें सबसे अधिक सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में 20, बॉम्बे हॉस्पिटल नैनीताल में 14, जेएलएन जिला हॉस्पिटल रुद्रपुर में 13 मरीजों ने दमतोड़ा है। इसके अलावा अन्य मौतें प्रदेश के अलग-अलग सरकारी व निजी अस्पतालों में हुई है। अब तक प्रदेश में 4426 कोरोना मरीजों की मौत हो चुकी है।

वहीं, 4483 मरीजों को ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किया गया। इन्हें मिला कर 188690 मरीज कोरोना को मात दे चुके हैं। संक्रमितों की तुलना में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या कम होने से सक्रिय मामले लगातार बढ़ रहे हैं। वर्तमान में प्रदेश की रिकवरी दर 67.98 प्रतिशत और सैंपल जांच के आधार पर संक्रमण दर 6.60 प्रतिशत दर्ज की गई है।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: सुहावने मौसम ने बदला वन्यजीवों का मूड, कॉर्बेट पार्क में अठखेलियां करते दिखे गजराज, तस्वीरें...

उत्तराखंड में कोरोना कर्फ्यू के चलते मानव गतिविधियां कम होने और दो-तीन दिन से हो रही बारिश के कारण खुशनुमा मौसम के चलते वन्य जीवों को स्वच्छंद विचरण का मौका मिला है। ऐसे में कार्बेट नेशनल पार्क में बाघ, हिरण, हाथी समेत अन्य वन्यजीव खुले में अठखेलियां करते हुए दिखाई दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें... 
फूलों की घाटी: बर्फ के बीच विचरण करते दिखे दुर्लभ प्रजाति के वन्य जीव, ट्रैप कैमरों में कैद हुईं तस्वीरें...

कोरोना संक्रमण को देखते हुए कॉर्बेट टाइगर रिजर्व को 15 मई तक सैलानियों के लिए बंद कर दिया गया है। कॉर्बेट पार्क के अंदर इन दिनों पर्यटकों की आवाजाही नहीं हो रही है। ऐसे में  बारिश के बाद अब वन्यजीवों का मूड भी बदल गया है।

यह भी पढ़ें... उत्तराखंड में कोरोना: जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क और राजाजी टाइगर रिजर्व पर्यटकों के लिए बंद

हालांकि कॉर्बेट टाइगर रिजर्व सैलानियों के लिए बंद जरूर है, लेकिन वनकर्मी लगातार ड्यूटी कर रहे हैं। यूपी से लगे झिरना, ढेला और कालागढ़ रेंज में गश्त तेज कर दी गई है। झिरना रेंज के रेंजर प्रशांत हिंदवान लालढांग ग्रासलैंड सहित आसपास के इलाकों में वनकर्मी गश्त कर रहे थे।

यह भी पढ़ें... उत्तराखंड: मध्य प्रदेश की तरह अब पर्यटक कॉर्बेट नेशनल पार्क में भी कर सकेंगे सफेद बाघ का दीदार 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us