उत्तराखंड: नड्डा-बलूनी से मिले हरक और काऊ, दोनों को बड़ी जिम्मेदारी देने की चर्चाएं, सियासी गलियारों में हलचल

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Published by: Nirmala Suyal Nirmala Suyal Updated Sun, 17 Oct 2021 08:57 AM IST

सार

पिछले दिनों पूर्व कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य और उनके विधायक पुत्र संजीव आर्य की कांग्रेस में वापसी के बाद अब शनिवार को हरक सिंह रावत, उमेश शर्मा काऊ और नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह को एक साथ देख सियासी गलियारों में तमाम तरह की बातें तैर रहीं हैं।
हरक सिंह रावत, उमेश शर्मा काऊ और प्रीतम सिंह
हरक सिंह रावत, उमेश शर्मा काऊ और प्रीतम सिंह - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत और विधायक उमेश शर्मा काऊ ने शनिवार को नई दिल्ली में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। इससे पहले दोनों नेता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी व राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी से मिले। बलूनी की मौजूदगी में ही हरक और काऊ ने नड्डा से मुलाकात की। 

विज्ञापन


नड्डा और बलूनी से मुलाकात को लेकर सियासी हलकों में चर्चा का बाजार गर्म रहा। हरक को प्रदेश भाजपा में बड़ी जिम्मेदारी देने और काऊ को मंत्री बनाए जाने की अटकलें दिन भर गरमाती रही। हालांकि भाजपा संगठन से जुड़े सूत्रों ने ऐसी किसी भी संभावना से साफ इंकार किया। सुबह एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी मंत्रिमंडल में खाली पद को भरने के सवाल को टाल गए।


सिर्फ राजनीतिक चर्चा हुई: हरक
कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कहा कि नड्डा और बलूनी से शिष्टाचार भेंट थी। पूर्व कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य और उनके बेटे के कांग्रेस में जाने के बाद बदली राजनीतिक परिस्थितियों पर राष्ट्रीय अध्यक्ष से बातचीत हुई। रावत के मुताबिक, गढ़वाल और कुमाऊं मंडल की एक-एक सीट पर चर्चा हुई और अगले दो महीनों के दौरान पार्टी की क्या रणनीति हो सकती है, इस पर विचार हुआ। भाजपा का प्रदेश अध्यक्ष या चुनाव अभियान समिति की जिम्मेदारी देने की संभावना से उन्होंने इंकार किया।

काऊ ने नड्डा से फिर रोया दुखड़ा
सूत्रों के मुताबिक, पार्टी विधायक उमेश शर्मा काऊ ने नड्डा के सामने अपनी विधानसभा में राजनीतिक परिस्थितियों को लेकर दुखड़ा रोया। उन्होंने नड्डा से शिकायत की कि पार्टी के कुछ नेता और कार्यकर्ता उनके खिलाफ काम कर रहे हैं। नड्डा ने उन्हें आश्वस्त किया और चुनाव की तैयारी में जुट जाने की सलाह दी।

आर्य के जाने के बाद चौकस है केंद्रीय नेतृत्व
पूर्व कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य और उनके विधायक बेटे संजीव आर्य बाद से कांग्रेस के बागियों की घरवापसी की चर्चाओं से भाजपा में हलचल है। आर्य के साथ विधायक उमेश काऊ के भी कांग्रेस में जाने की संभावनाएं जताई जा रही थी। बदली हुई परिस्थितियों में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत से गुप्त मंत्रणा की थी। उसके बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष की ओर से हरक और काऊ को मंत्रणा का बुलावा आ गया।

यह भी पढ़ें... चुनाव 2022: उत्तराखंड की इस लुभावनी घोषणा पर अटका यूपी और पंजाब की सियासत का पेच

 

हरक डाल सकते हैं फर्क

दलबदल को लेकर आंशकित भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व को इस बात का इल्म है कि कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत अहम कड़ी है। पार्टी के पास ऐसी सूचनाएं हैं कि हरक की कांग्रेस नेतृत्व से घरवापसी को लेकर बातचीत हो सकती है। 

अमित शाह से भी हो सकती है मुलाकात
राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा से मुलाकात के बाद कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत की राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से भी मुलाकात हो सकती है। उन्हें नड्डा ने दिल्ली में ही रुकने की सलाह दी थी। लेकिन अब यह मुलाकात अगले कुछेक दिनों में होगी।

सुबोध उनियाल के नाम की भी चर्चा रही
कैबिनेट मंत्री और शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल को भी भाजपा का नया प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने की चर्चाएं खासी गर्म रही। कुमाऊं से ठाकुर सीएम और गढ़वाल से ब्राह्मण अध्यक्ष को आधार बनाकर उनियाल के नाम चर्चाएं  हुईं। हालांकि पार्टी के जिम्मेदार पदाधिकारियों ने हरक और उनियाल को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने की संभावना से साफ इंकार किया।

 

अभी मंत्री बनकर कौन अपने कपड़े फड़वाना चाहेगा : काऊ

चुनाव के लिए अब महज कुछ महीनों का वक्त बचा है। कुछ समय बाद आचार संहिता लग जाएगी। ऐसे में अभी मंत्री बनकर कौन रिस्क लेना चाहेगा। तीन माह में जनता की अपेक्षाओं को पूरा कर पाना मुश्किल है। चुनाव में जनता तो कपड़े फाड़ देगी। अभी मंत्री बनकर कौन अपने कपड़े फड़वाना चाहेगा। 

शनिवार को दिल्ली में शीर्ष नेताओं से मुलाकात के बाद लौटे विधायक उमेश शर्मा काऊ ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि अंशकालिक नहीं बल्कि पूर्णकालिक की बात कीजिए। यशपाल आर्य के वापस कांग्रेस में जाने के बाद से उमेश शर्मा काऊ चर्चा में बने हुए हैं। बार-बार इस तरह की बात सामने आ रही है कि काऊ भी कांग्रेस में लौट सकते हैं। जिस तरीके से रायपुर विधानसभा क्षेत्र में भाजपा पदाधिकारियों और काऊ के बीच मतभेद बने हुए हैं, उसको देखकर इसकी संभावना भी जताई जा रही है। 

हालांकि, काऊ इस सब से इनकार कर रहे हैं। उनका कहा कि अब इतना समय नहीं रह गया है कि मंत्री बनकर कुछ परफॉर्म किया जा सके। उल्टा लोगों को नाराजगी जरूर हो जाएगी। इससे चुनाव में फायदा होने के बजाय नुकसान हो सकता है। उन्होंने कहा कि हम लोगों के बीच रहकर काम करने वाले हैं। मैं सबसे ज्यादा सक्रिय विधायकों में शामिल रहा हूं। मेरे क्षेत्र की जनता ने 2017 के चुनाव में मुझे प्रदेश में सबसे बड़े अंतर से जीत दिलाई है। 

दोबारा सरकार बनाने पर हुई चर्चा
उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ मुलाकात के दौरान राज्य में दोबारा सरकार बनाने को लेकर चर्चा हुई। राज्य में पार्टी को मजबूत करने और 60 पार के लक्ष्य को हासिल करने को लेकर बातचीत हुई। 

नेताओं का दल-बदल का दौर जारी

इन दिनों उत्तराखंड में भाजपा और कांग्रेस दोनों पार्टियों में नेताओं के दल-बदल का दौर जारी है। कुछ समय पहल ही निर्दलीय विधायक प्रीतम पंवार भाजपा में शामिल हो चुके हैं। वहीं पुरोला से कांग्रेस के विधायक रहे राजकुमार भी भाजपा के चले गए हैं। दूसरी ओर पूर्व कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य और उनके विधायक पुत्र संजीव आर्य की कांग्रेस में वापसी हुई है। 

यह भी पढ़ें... उत्तराखंड चुनाव 2022: दलबदल की ‘आपदा’ में अवसर ढूंढ रहे टिकट के दावेदार, बढ़ाई सक्रियता 

भाजपा के कई विधायक कांग्रेस के संपर्क में : टम्टा
राज्यसभा सदस्य प्रदीप टम्टा का दावा है कि  भाजपा के कई विधायक कांग्रेस के संपर्क में हैं। गरुड़ आगमन पर पार्टी कार्यकर्ताओं ने सांसद का स्वागत किया। 

शनिवार को टम्टा ने पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण के आवास पर कार्यकर्ताओं से विधानसभा चुनाव की तैयारी में जी जान से जुटने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि आने वाला समय कांग्रेस पार्टी का है। वहां पर पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश ऐठानी, राजेंद्र टंगड़िया, देवेंद्र परिहार, दीपक पाठक, भरत फर्स्वाण, हरीश भट्ट, उमेश पांडे, प्रकाश कोहली, रंजीत दास आदि थे।

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00