बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
जानें वह कौन सी उंगली है,जो बताती है कि आप बड़े भाग्यशाली और धनवान हैं
Myjyotish

जानें वह कौन सी उंगली है,जो बताती है कि आप बड़े भाग्यशाली और धनवान हैं

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

दिल्ली सरकार की नई पहल: आज से खुलेगा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक, 24 घंटे में नए केस में भारी गिरावट

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज एक बड़ी घोषणा की है कि सरकार आज से ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक की शुरुआत करेगी। इसके तहत दो घंटे के अंदर इसकी डिलीवरी घर पर हो जाएगी।

केजरीवाल ने बताया कि, दिल्ली सरकार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक बना रही है। इसके माध्यम से होम आइसोलेशन में रहने वाले लोगों को जरूरत पड़ने पर सप्लाई किया जाएगा। हर जिले में 200 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर होंगे।

बीते 24 घंटे में आए 6500 मरीज
केजरीवाल ने अपने बात शुरू करते हुए एक अच्छी खबर दी कि बीते 24 घंटे में कोरोना के सिर्फ 6500 नए केस दिल्ली में आए हैं। कल 8500 केस थे। पिछले 24 घंटों में संक्रमण दर और कम होकर 11 प्रतिशत पर आ गई है। कल ये 12 प्रतिशत थी आज 11 प्रतिशत है। अब हम यही चाहते हैं यह और कम हो।

केजरीवाल ने आगे कहा लेकिन हम अपने काम में किसी तरह की ढिलाई नहीं कर रहे हैं। कल 500 आईसीयू बेड और बनकर तैयार हो गए। अभी चार दिन पहले ही ऐसे 500 बेड और तैयार हुए हैं। हमारे डॉक्टरों, इंजीनियरों और कामगारों ने मिलकर केवल 15 दिनों में 1000 बेड बना लिए जो दुनिभर के लिए मिसाल है। मैं इन सबको दिल्ली के लोगों की ओर से सलाम करता हूं।

दिल्ली में आज से शुरू होगा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक
केजरीवाल ने बताया कि आज से हम ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक शुरू कर रहे हैं। कई बार लोगों की तबीयत ऑक्सीजन की कमी से इतनी बिगड़ जाती है कि उन्हें आईसीयू की जरूरत पड़ती है। इसलिए कोरोना के मरीज को समय पर ऑक्सीजन मिलना जरूरी है। ऐसे ही मरीजों के लिए हमने ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक बनाया है।

हमने दिल्ली के हर जिले में 200-200 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का बैंक बनाया है। ऐसे लोग जिन्हें ऑक्सीजन की जरूरत होगी उन्हें हमारी टीम दो घंटे के अंदर ऑक्सीजन पहुंचा देगी। कंसंट्रेटर के साथ एक टेक्निकल आदमी भी जाएगा जो घरवालों को समझा कर आएगा कि उसका कैसे इस्तेमाल करना है।
... और पढ़ें
अरविंद केजरीवाल अरविंद केजरीवाल

तिहाड़ जेल में गैंगवार : रिहाई से एक दिन पहले कैदी की हत्या, झड़प में कई बंदी चोटिल

तिहाड़ जेल के अंदर शुक्रवार सुबह एक विचाराधीन कैदी की हत्या कर दी गई। दो गुटों के बीच हुई झड़प में कई अन्य कैदियों को भी चोटें आई हैं। गंभीर घायल कैदी श्रीकांत उर्फ अप्पू को डीडीयू से सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। उसकी आज रिहाई होने वाली थी। मामले में एसडीएम जांच के आदेश दे दिए गए है। इस घटना की सूचना के बाद कैदी के परिजनों ने हंगामा किया। हरीनगर पुलिस तिहाड़ जेल में लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाल रही है।
 
तिहाड़ जेल अधिकारियों के अनुसार श्रीकांत व विरोधी कैदियों के बीच कुछ दिनों से तनाव का माहौल चल रहा था। शुक्रवार सुबह जैसे ही विरोधी गुट को मौका मिला उन्होंने श्रीकांत पर नुकीली लकड़ी से हमला कर दिया। सूचना मिलने पर पहुंचे जेल कर्मचारियों ने दोनों ही पक्षों को अलग किया। 

घायल श्रीकांत को डीडीयू अस्पताल में भर्ती कराया गया, वहां से उसे सफदरजंग अस्पताल के लिए रेफर कर दिया था। श्रीकांत को दिल्ली पुलिस ने वर्ष 2019 में नेताजी सुभाष प्लेस इलाके से एक मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया था। उस पर हत्या, लूट व झपटमारी के मामले दर्ज थे।
... और पढ़ें

#LadengeCoronaSe :  रामलीला मैदान में 15 दिन में बने 250 आईसीयू बेड आज हो जाएंगे चालू

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोकनायक अस्पताल से जुड़े रामलीला मैदान में बनाए गए 500 आईसीयू बेड का दौरा कर सुविधाओं का जायजा लिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां 250 आईसीयू बेड शनिवार को शुरू हो जाएंगे, जबकि 250 और आईसीयू बेड अगले दो दिनों में शुरू हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि डॉक्टरों, इंजीनियरों और श्रमिकों ने मिलकर युद्धस्तर पर 24 घंटे काम करके मात्र 15 दिनों के अंदर इस 500 आईसीयू बेड का निर्माण किया है।

अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि मैं अपने डॉक्टरों, इंजीनियरों और श्रमिकों को सलाम करता हूं, जिन्होंने युद्धस्तर पर 24 घंटे काम किया और मात्र 15 दिनों के अंदर एलएनजेपी अस्पताल से संबद्ध रामलीला मैदान में यह 500 आईसीयू के बेड का निर्माण किया। 250 आईसीयू बेड कल शुरू हो रहे हैं, जबकि 250 और आईसीयू के बेड अगले दो दिनों में शुरू हो जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा, इस वक्त दिल्ली में कोरोना की स्थिति में काफी सुधार हो रहा है। इसलिए अब अस्पतालों के अंदर बेड काफी खाली हो रहे हैं, लेकिन आईसीयू बेड उतने खाली नहीं हो रहे हैं। इसका मतलब यह है कि कोरोना के गंभीर मरीज अभी ज्यादा हैं। अस्पतालों में आईसीयू बेड की अभी कमी है, लेकिन यह 1200 आईसीयू बेड आने के बाद मैं समझता हूं कि शायद अब आईसीयू बेड की कमी दूर हो जाएगी। ऑक्सीजन की कमी थी, सुप्रीम कोर्ट, उच्च न्यायालय और केंद्र सरकार ने मदद की। 

मुख्यमंत्री ने कहा, दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी थी और उसमें सुप्रीम कोर्ट, हाईकोर्ट और केंद्र सरकार ने हमारी मदद की। हम उनका शुक्रिया अदा करते हैं। अब सबको मिलकर यह कोशिश करनी है कि किस तरह जल्दी से जल्दी लोग वैक्सीन की व्यवस्था करें और लाएं, ताकि लोगों को वैक्सीन लग सके।
... और पढ़ें

पहलवान सागर हत्याकांड : ओलंपियन सुशील पर कार्रवाई के लिए पुलिस ने दिल्ली सरकार को लिखी चिट्ठी

दिल्ली पुलिस ने पहलवान सागर धनखड़ हत्याकांड मामले में आरोपी ओलंपियन सुशील कुमार को लेकर गेंद दिल्ली सरकार के पाले में भी डाल दी है। दिल्ली पुलिस ने दिल्ली सरकार को पत्र लिखकर सुशील के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है। दूसरी तरफ हत्याकांड मामले में छोटी धाराएं लगाने के लिए विशेष पुलिस आयुक्त स्तर के अधिकारी ने कथित रूप से काफी दवाब डाला था। सुशील ने इस अधिकारी से दवाब डलवाया था। ये बात भी सामने आई है कि सुशील एक दिन के लिए हरिद्वार गया था। बात नहीं बनने पर वह वापस आ गया था। 

दिल्ली पुलिस के एक संयुक्त पुलिस आयुक्त स्तर के अधिकारी ने बताया कि सुशील कुमार रेलवे में तैनात है। वह डेपुटेशन पर छत्रसाल स्टेडियम के ओएसडी के पद पर तैनात है। उत्तर-पश्चिमी जिला पुलिस ने दिल्ली सरकार की शिक्षा एवं खेल विभाग की उपनिदेशक व छत्रसाल स्टेडियम की प्रशासक आशा अग्रवाल को एक दिन पहले पत्र लिखा है और सुशील के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है। दिल्ली पुलिस ने उपनिदेशक को पत्र लिखकर बताया है कि सुशील कुमार हत्या के केस में वांछित है और उसके खिलाफ उचित कार्रवाई की जाए। अब देखना ये है कि दिल्ली सरकार ओलंपियन सुशील कुमार के खिलाफ कब तक कार्रवाई करती है। 

दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि वारदात के समय दिल्ली पुलिस के विशेष आयुक्त स्तर के अधिकारी ने जिले के पुलिस अधिकारियों पर दवाब डाला था और सुशील के खिलाफ धारा 302(हत्या) की बजाय 304 (गैर इरादतन हत्या) में मामला दर्ज करने का दवाब डाला था। इस कारण इस मामला दर्ज करने में काफी देरी हुई थी। सुशील कुमार को लेकर दिल्ली पुलिस के कई अधिकारी सामने-सामने हो गए हैं। विशेष पुलिस आयुक्त स्तर के अधिकारी ने ये भी दवाब डाला था कि सुशील के खिलाफ आईपीसी की धारा 365(अपहरण) की धारा न लगे। सुशील अपने साथियों के साथ सागर को माडल टॉउन से उठाकर छत्रसाल स्टेडियम ले गया था। ऐसे में अपहरण की धारा लगनी थी।  

सुशील कुमार हरिद्वार गया था
दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सागर की हत्या के कुछ दिन बाद सुशील हरिद्वार गया था। वह सुबह हरिद्वार गया था। बात नहीं बनी तो वह वापस आ गया था। बताया जा रहा है कि वह यहां पर कई लोगों से मिला था। इस लोगों ने सुशील की सहायता करने से मना कर दिया। 

सोनीपत व मेरठ के पास घूम रहा है सुशील
दिल्ली पुलिस अधिकारियों के अनुसार सुशील कुमार की अब लोकेशन मेरठ व सोनीपत के आसपास आ रही है। वह ज्यादातर सोनीपत, मेरठ व झज्जर घूम रहा है। सुशील इस फिराक में है कि वह इस मामले में गिरफ्तार न हो। वह इस फिराक में भी है कि सुशील को अग्रिम जमानत मिल जाए। 

पुलिस करीब 40 लोगों से कर चुकी है पूछताछ
दिल्ली पुलिस अधिकारियों के अनुसार दिल्ली पुलिस सागर हत्याकांड मामले में सुशील को पकडने के लिए सोनीपत के दिनेश व भूरा समेत करीब 40 लोगों से पूछताछ कर चुकी है। पुलिस ने शुक्रवार को भी कुछ लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में ले रखा था। जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जिले के ज्यादातर वरिष्ठ अधिकारी कोरोना से संक्रमित हैं। इस कारण सुशील को गिरफ्तार करने में देरी हो रही है। 

पुलिस सुशील के खिलाफ गैर-जमानती वारंट लेगी
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि सुशील के खिलाफ गैर-जमानती वारंट लेने के लिए दिल्ली पुलिस एकाद दिन में कोर्ट जाएगी। गैर जमानती वारंट लेने के बाद सुशील को गिरफ्तार किया जाएगा। 

पुलिस गैंगस्टर से सांठगांठ की जांच करेगी
दिल्ली पुलिस अधिकारियों के अनुसार शुरूआती जांच में ऐसे संकेत मिले है कि सुशील की कुछ गैंगस्टर से सांठगांठ है। ऐसे में पुलिस सुशील के मोबाइल सर्विलांस के आधार पर गैंगस्टर से सांठगांठ की जांच कर रही है। बताया जा  रहा है कि कुछ गैंगस्टर की सुशील सहायता करता रहा है। 
... और पढ़ें

दिल्ली में कोरोना: 24 घंटे में सामने आए 8506 केस, संक्रमण दर 13 फीसदी से कम

सुशील कुमार
राजधानी में कोरोना के दैनिक मामले और संक्रमण दर लगातार कम होती जा रही है। शुक्रवार को कोरोना की सक्रमण दर घटकर 13 फीसदी से नीचे पहुंच गई। इस दिन संक्रमण के  के 8,506 मामले आए और 289 लोगों को मौत हुई। 34 दिन बाद दिल्ली में 10 हजार से कम मामले आए हैं। साथ ही स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। पिछले 24 घंटे में 14,140 मरीज स्वस्थ हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, कुल संक्रमितों की संख्या 13,80,981 हो गई है। इनमें से 12,88,280 लोग स्वस्थ हो चुके हैं।

इस महामारी से अबतक कुल 20,907 लोगों की मौत हो चुकी है। दिल्ली में कोरोना से मृत्युदर बढ़कर 1.51 फीसदी हो गई है। कुल संक्रमण दर 7.60 %  है। कोरोना के सक्रिय मामले घटकर 71,794 हो गए हैं। इनमें से अस्पतालों में 17,511 मरीज भर्ती हैं। कोविड केयर केंद्रों में 678 मरीज भर्ती हैं। होम आइसोलेशन में इलाज करा रहे रोगियों की संख्या 45,099 हो गई है।  
  
पिछले 24 घंटे में कुल 68,575 टेस्ट हुए, जिसमें 12.40  फीसदी मरीज कोरोना संक्रमित पाए गए। जांच के आंकड़े में बृहस्पतिवार के मुकाबले करीब 7 हजार की कमी रही। कुल जांच में आरटीपीसीआर से 54,042 और रैपिड एटीजन से 14,533 टेस्ट हुए। दिल्ली में अभी तक 1 करोड़ 81 लाख 69 हजार लोगों की जांच हो चुकी है।  रेड जोन की संख्या  56,470 हो गई है।

1,23,517 का टीकाकरण हुआ
कोरोना टीकाकरण अभियान में बीते 24 घंटे में कुल 1,23,517 लोगों को टीका लगाया गया। इनमें 82,943 लोगों को पहली और 40,574 को दूसरी खुराक दी गई। अबतक कुल 43 लाख 45 हजार लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है।
... और पढ़ें

दिल्ली : क्राइम ब्रांच ने श्रीनिवास बीवी से की पूछताछ, कांग्रेस बोली- और कितना नीचे गिरेगी सरकार?

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने कोरोना महामारी के दौरान लोगों को दवा व ऑक्सीजन आदि की मदद पहुंचाने के मामले में शुक्रवार को इंडियन यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी से पूछताछ की। उन्हें शुक्रवार सुबह अपराध शाखा के कार्यालय बुलाया गया था। वह सुबह पौने बारह बजे अपराध शाखा के कार्यालय पहुंचे।

दिल्ली पुलिस का कहना है कि हाईकोर्ट के आदेशों के साथ ही यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष से पूछताछ की गई है। इससे पहले पुलिस भाजपा नेता हरीश खुराना, कांग्रेस नेता मुकेश शर्मा और आप विधायक दिलीप पांडे को बुलाकर उनके बयान दर्ज कर चुकी है।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार हाईकोर्ट में डॉ. दीपक सिंह द्वारा एक याचिका दायर की गई थी, जिसमें बताया गया कोविड-19 से संबंधित दवाइयां कई नेताओं द्वारा वितरित की गई हैं। इस मुश्किल समय में जब लोगों को यह दवाइयां नहीं मिल रही है तो इन नेताओं के पास कहां से पहुंची। याचिकाकर्ता हाई कोर्ट से जांच करवाने की मांग की थी। हाईकोर्ट के आदेश के बाद दिल्ली पुलिस ने जांच शुरू की।
 

... और पढ़ें

आयुष 64: कोरोना के इलाज में कारगर दवा दिल्ली में 25 जगहों पर मिलेगी फ्री, साथ लेकर जाएं ये जरूरी दस्तावेज

केेजरीवाल ने दिलाया भरोसा: मां-बाप खो चुके बच्चों और अकेले हो चुके बुजुर्गों को सहायता देगी सरकार

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर एक बड़ा एलान किया है कि कोरोना के कारण जिन बच्चों ने अपने माता-पिता दोनों को खो दिया है उन्हें और वो बुजुर्ग जिन्होंने अपने जवान बच्चों को खो दिया है उनकी आर्थिक सहायता दिल्ली सरकार करेगी।

केजरीवाल ने कहा, इतने मायूसी के माहौल में, मैं आपको एक सुखद खबर देना चाहता हूं। पिछले 24 घंटे में दिल्ली में साढ़े आठ हजार कोरोना के मामले आए हैं। 24 घंटे में संक्रमण दर 12% रह गई है। दिल्ली में अब काफी कम लोग बीमार पड़ रहे हैं। मरीज कम होने के साथ अस्पतालों में बेड भी खाली हो रहे हैं।

पिछले कई दिनों से दिल्ली में बहुत ज्यादा केस आ रहे थे। 30 अप्रैल को तो 28 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित पाए गए थे। लेकिन अब दिल्ली में काफी कम लोग बीमार पड़ रहे हैं। पिछले कुछ दिनों में दिल्ली के अस्पतालों से 3000 मरीज कम हो गए हैं। यानी 3000 बेड खाली हो गए हैं।

उन्होंने कहा कि हालांकि ये बात देखने में आई है कि आईसीयू के बेड अब भी भरे हुए हैं। इसका मतलब है कि गंभीर मरीजों की संख्या अभी कम नहीं हुई है। हम इस दिशा में भी काम कर कर रहे हैं। लगभग 1200 आईसीयू बेड बनकर तैयार हो गए हैं जो आज-कल में चालू हो जाएंगे।

दिल्ली में जो केस कम हो रहे हैं इसमें हर दिल्लीवाले का बहुत ज्यादा सहयोग रहा है। हमने दिल्ली में बहुत कड़ा लॉकडाउन लगाया और सभी दिल्लीवालों ने इसमें पूरा सहयोग दिया। सब बात कर रहे हैं कि दिल्ली के लोगों ने इतने कम समय में कोरोना के केस कम कैसे कर लिए। लेकिन ये लड़ाई अभी जारी है। अभी भी 8500 केस आए हैं इन्हें जीरो तक ले जाना है। उन्होंने कहा कि अगर इस वक्त हम ढीले पड़ गए तो ये केस फिर से बढ़ सकते हैं तो ऐसे वक्त में हमें ढिलाई नहीं करनी है। 

केजरीवाल ने कहा कि बीते कुछ दिनों में हम बहुत से दिल्लीवासियों को बचा नहीं सके। मैं ऐसे कई बच्चों को जानता हूं जिनके माता-पिता कोरोना के चलते नहीं रहे। उन बच्चों का इस दुनिया में कोई नहीं है। ऐसे सभी बच्चों को कहना चाहता हूं कि मैं उनके साथ हूं। कोई भी बच्चा खुद को अनाथ न समझे, ऐसे किसी भी बच्चे की पढ़ाई बीच में नहीं छूटेगी। हर बच्चे की पढ़ाई जारी रहेगी। उन बच्चों की परवरिश का खर्च सरकार उठाएगी।

केजरीवाल ने आगे कहा कि दिल्ली में ऐसे कई बुजुर्ग हैं जिनके बच्चे कमाते थे तो घर चलता था। कोरोना की वजह उन बच्चों की जान चली गई। तो ऐसे बुजुर्गों से मैं कहना चाहता हूं कि मैं हूं। आप चिंता मत करना आपका ये बेटा जिंदा है। ऐसे सभी परिवार जिन्होंने अपने घरों के कमाने वाले सदस्य को खो दिया है दिल्ली सरकार उनकी आर्थिक सहायता करेगी।

उन्होंने लोगों से अपील की है कि हम ऐसे बच्चों और बुजुर्गों की तो सहायता आर्थिक रूप से कर देंगे लेकिन मेरी अपील है कि उनके पड़ोसी, रिश्तेदार उन्हें खूब प्यार दें, उनका ख्याल रखें। हम सभी दिल्लीवाली एक परिवार हैं।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन