विज्ञापन
विज्ञापन
लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

दिल्ली: पांच लाख की फिरौती लेकर अगवा ठेकेदार को छोड़ने वाले तीन बदमाश गिरफ्तार

दिल्ली के उत्तम नगर थाना पुलिस ने एक ठेकेदार को अगवा कर उसके परिवार वालों से एक करोड़ रुपये की फिरौती मांगने वाले तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया है। बदमाश ने पांच लाख रुपये की फिरौती लेकर ठेकेदार को छोड़ दिया था। लेकिन फिर ठेकेदार से सात लाख रुपये की मांग करने लगे। जिसकी शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने बदमाशों की पहचान कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पुलिस बदमाशों के कब्जे से 3.16 लाख रुपये, दो मोबाइल फोन और एक बुलेट मोटरसाइकिल जब्त की है। पुलिस फरार एक अन्य बदमाश की तलाश कर रही है। 

जिला के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त शंकर चौधरी ने बताया कि गिरफ्तार बदमाशों की पहचान मोहन गार्डन निवासी डेविड(22), सौरव(18) और सौरव के जीजा अर्जुन के रूप में हुई है। 17 जुलाई को पेशे से ठेकेदार ने उत्तम नगर थाने में उसे अगवा कर पांच लाख फिरौती लिए जाने की शिकायत की।

साथ ही बताया कि बदमाश दोबारा उससे सात लाख की मांग कर रहे हैं। जांच में पता चला कि 3 जुलाई को पीड़ित नवादा स्थित अपने गोदाम जा रहा था। बदमाशों ने उसके सिर पर किसी भारी हथियार से हमला कर दिया। बेहोश होने पर बदमाशों ने पीड़ित को अगवा कर लिया।

होश आने पर पीड़ित खुद को एक कमरे में कैद पाया। बदमाशों ने पीड़ित को परिवार वालों को फोन कर एक करोड़ रुपये देने के लिए कहा। पीड़ित के भाई ने पांच लाख का इंतजाम कर बदमाशों को दिया। उसके बाद बदमाशों ने पीड़ित को छोड़ दिया। बदमाशों ने उसे शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी दी। 

11 जुलाई को बदमाशों ने एक बार फिर फोन कर पीड़ित से रुपये की मांग की। पीड़ित ने उसे अनसुना कर दिया। उसके बाद बदमाशों ने 17 जुलाई को फिर से फोन कर पीड़ित से सात लाख रुपये की फिरौती मांगी। पीड़ित पुलिस को इसकी शिकायत कर दी।

थाना प्रभारी रामकिशोर के नेतृत्व में बदमाशों की पहचान कर पुलिस ने रविवार को मोहन गार्डन से तीन बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया। जांच के बाद पुलिस ने बताया कि फिरौती की रकम से बदमाशों ने एक बुलेट मोबाइल साइकिल खरीदी थी। 
... और पढ़ें

दिल्ली: बदमाशों ने दुकान पर गोली चलाकर फैलाई सनसनी, आपसी रंजिश की बात आ रही सामने

दिल्ली के अशोक विहार इलाके में बदमाशों ने एक दुकान पर ताबड़तोड़ गोली चलाकर सनसनी फैला दी। गनिमत रही कि गोली किसी को नहीं लगी। पीड़ित दुकानदार ने आपसी रंजिश में एक व्यक्ति पर गोली चलवाने का आरोप लगाया है। पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है। 

जेलर वाला बाग, अशोक विहार निवासी रविकांत ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वह इलाके में कपड़े की दुकान चलाता है। उसका इलाके में रहने वाला राजाराम से पुरानी दुश्मनी है। मंगलवार रात वह दुकान बंद कर घर आ गया।

देर रात में दुकान के पास रहने वाले एक व्यक्ति ने बताया कि तीन लड़के उसके दुकान पर गोलीबारी कर रहे हैं। सूचना मिलते ही रविकांत अपने दुकान पर पहुंचा। उसे देखते ही गोली चलाने वाले तीनों युवक फरार हो गए।

घटना की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने छानबीन की। पुलिस को मौके से चार खोखे मिले। पुलिस ने पीड़ित के बयान पर मामला दर्ज कर लिया। रविकांत ने राजाराम गोली चलवाने का आरोप लगाया है।

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि घटनास्थल के आस पास लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को जब्त कर हमलावरों की पहचान करने की कोशिश की जा रही है। साथ ही नामजद आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस दबिश दे रही है।
... और पढ़ें

दिल्ली: ऑक्सीजन सिलिंडर देने के नाम पर ठगी करने वाले तीन दबोचे

दिल्ली के दक्षिण जिले की ग्रेटर कैलाश-एक थाना पुलिस ने ऑक्सीजन सिलिंडर के नाम पर ठगी करने वाले नालंदा, बिहार के एक गिरोह का पर्दाफाश कर तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपी ऑक्सीजन सिलिंडर देने के नाम पर 40 से ज्यादा लोगों के साथ ठगी कर चुकी है। दिल्ली में जब ऑक्सीजन की कम हुई तो आरोपियों को ठगी का आईडिया आया। इसके बाद ठगी करने लगे। पुलिस ने फिलहाल इनकी गिरफ्तारी से ठगी के 11 केसों को सुलझाने का दावा किया है।

दक्षिण जिला डीसीपी अतुल कुमार ठाकुर के अनुसार ऑक्सीजन सिलिंडर के नाम ठगी करने की काफी शिकायतें ग्रेटर कैलाश-एक थानाध्यक्ष रितेश कुमार के पास आ रही थी। इस शिकायतों के देखकर रितेश कुमार की देखरेख में एसआई अनिल कुमार व हवलदार ओमप्रकाश की विशेष टीम बनाई गई।

एसआई अनिल कुमार की टीम ने नालंदा, बिहार पहुंचकर तीन आरोपी गोपाल कुमार(20), रोहित कुमार(21) और संजीत चौधरी (22) को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के कब्जे से एटीएम कार्ड, पासबुक और दुर्गा गैस एजेंसी के काफी संख्या में विजिटिंग कार्ड आदि बरामद सामान बरामद किया गया है। इन विजिटिंग कार्डों को इन्होंने सोशल मीडिया पर डाला हुआ था। पुलिस ने इनकी गिरफ्तारी से ग्रेटर कैलाश-एक के ठगी के छह और साकेत, आंनद विहार,फतेहपुरबेरी, जनकपुरी, हरी नगर के एक-एक केस को सुलझाने का दावा किया है।

ऐसे करते थे ठगी
आरोपियों ने सोशल मीडिया पर अपना नंबर डाला हुआ था। सोशल मीडिया से इनका नंबर लेकर जब कोई पीड़ित इनसे ऑक्सीजन सिलिंडर की मांग करता था तो ये पहले पीड़ित से पहले पैसे ले लेते थे। इसके बाद ये पीड़ित का फोन उठाना बंद कर देते थे। बाद में ये पीड़ित को ये भी कहते थे कि उनका सिलिंडर एमरजेंसी में किसी को दे दिया और उन्हें सिलिंडर चाहिए तो और पैसे देने होंगे। मजबूरी में पीड़ित इनको और पैसे दे देता था। इसके बाद आरोपी पीड़ित का नंबर उठाना बंद कर देते थे।
... और पढ़ें

शर्मनाक : गाजियाबाद में ट्यूशन टीचर के किशोर बेटे ने पांच वर्षीय छात्रा से किया दुष्कर्म

विजयनगर में ट्यूशन टीचर के किशोर बेटे द्वारा एलकेजी की छात्रा से दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। खून से लथपथ छात्रा घर पहुंची तो परिजन उसे अस्पताल लेकर दौड़े। पीड़ित पक्ष का आरोप है कि आरोपी के परिजनों ने उनसे अभद्रता कर मामला रफा-दफा करने का दबाव डाला। हंगामे के बाद पुलिस मौके पर पहुंची तो कार्रवाई शुरू हुई। रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर बाल सुधार गृह भेज दिया है।

पीड़ित छात्रा के पिता का कहना है कि वह ई-रिक्शा चलाकर परिवार का पालन-पोषण करते हैं। उनकी पांच वर्षीय बेटी एलकेजी में पढ़ती है। वह मकान मालिक की पत्नी से ट्यूशन पढ़ने जाती है। मंगलवार को उनकी बेटी अपने भाई को साथ लेकर ट्यूशन पढ़ने गई तो टीचर घर पर नहीं थी।

इसके बाद उनकी बेटी वहीं रुक गई और बेटा उसे छोड़कर घर आ गया। आरोप है कि टीचर की गैर मौजूदगी में उसके 12 वर्षीय बेटे ने उनकी बेटी से दुष्कर्म किया। खून से लथपथ बेटी घर पहुंची। पूछताछ करने पर उसने आपबीती बताई। इसके बाद परिजन उसे लेकर अस्पताल पहुंचे।

इलाज का खर्च देकर समझौते का डाला दबाव 
छात्रा के पिता का आरोप है कि अस्पताल में आरोपी पक्ष पहले से मौजूद मिला। उसने वहां इलाज का खर्च देने की बात कहते हुए मामले को रफा-दफा करने का दबाव डाला। उन्होंने फैसले से इनकार कर दिया तो आरोपी पक्ष ने उनका मोबाइल छीन लिया और अभद्रता शुरू कर दी।

हंगामे के बीच पीड़ित पक्ष ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने छात्रा का मेडिकल परीक्षण कराते हुए कार्रवाई शुरू कर दी। सीओ प्रथम महीपाल सिंह का कहना है कि मुकदमा दर्ज कर आरोपी को बाल सुधार गृह भेज दिया गया है।
... और पढ़ें
demo pic demo pic

दिल्ली: फार्मा कंपनियों को हर्बल ऑयल के कारोबार का झांसा देकर ठगी करने वाला जालसाज गिरफ्तार

पश्चिम दिल्ली जिला की साइबर सेल ने ऐसे जालसाज को गिरफ्तार किया है, जो फर्जी कंपनी बनाकर देश के कई फार्मा कंपनियों को हर्बल ऑयल का कारोबार का झांसा देकर ठगी करता था। पुलिस ने आरोपी के पास से एक स्मार्टफोन, फर्जी कंपनी बनाने में इस्तेमाल फर्जी दस्घतावेज और डेबिट कार्ड बरामद किए हैं। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर गिरोह के अन्य सदस्यों की जानकारी हासिल करने में जुटी है। शुरूआती जांच में पता चला है कि आरोपी ने अब तक विभिन्न शिकायतकर्ताओं से 1.34 करोडं रुपये की ठगी कर चुका है।

जिला के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त प्रशांत गौतम ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी की पहचान गौतम बुधनगर निवासी सोनू नागर के रूप में हुई है। पुलिस के अनुसार कई फार्मा कंपनियों की ओर से 16 सितंबर 2021 को तिलक नगर थाने में शिकायत दी गई थी। जिसमें बताया कि आरोपी खुद को नामी अंतरराष्ट्रीय फार्मा कंपनी का अधिकृत प्रतिनिधि होने का दावा किया और उनसे ईमेल और व्हाट्सएप कॉल कर संपर्क किया।

उसने कहा कि वह अपने हर्बल ऑयल का कारोबार का विस्तार करना चाहते हैं। उसने शिकायतकर्ताओं को कम दाम में हर्बल ऑयल देने की पेशकश की। झांसे में लेने के बाद आरोपी ने विभिन्न तरीके से ऑयल व अन्य चीजे मुहैया करने के नाम पर कंपनियों से 45 लाख रुपये ले लिए। उसके बाद आरोपी ने रुपये देने वाले शिकायतकर्ताओं का नंबर ब्लॉक कर दिया। 

पुलिस ने मामले की जांच शुरू की। पुलिस ने आरोपी के बैंक खाते, मोबाइल नंबर और अन्य दस्तावेजों की जांच करते हुए सोमवार को आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। जांच में पता चला कि आरोपी को प्रवर्तन निदेशालय की टीम भी लगातार तलाश कर रही थी। पुलिस के मुताबिक इस गैंग में अन्य आरोपी शामिल हैं। जिनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने दबिश दी जा रही है।
... और पढ़ें

दिल्ली: पता बताने पर दसवीं कक्षा के छात्र पर चाकू से किया हमला

दिल्ली के विजय विहार इलाके में पता बताने पर नाराज कुछ युवकों ने दसवीं कक्षा के छात्र पर चाकू से हमला कर दिया और उसकी जमकर पिटाई कर दी। छात्र किसी तरह से उनके चंगुल से छूटकर भागा और दोस्त की मदद से अस्पताल पहुंचा। पुलिस पीड़ित के बयान पर हत्या का प्रयास का मामला दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है।

पीड़ित छात्र की पहचान रोहिणी सेक्टर एक निवासी देवेंद्र वर्मा(17) के रूप में हुई है। 23 अक्तूबर की रात पुलिस को अंबेडकर अस्पताल से सूचना मिली कि एक किशोर को चाकू गोद दिया गया है। सूचना मिलते ही पुलिस अस्पताल पहुंची। देवेंद्र का इलाज चल रहा था। उसके कमर और हाथ पर चाकू के जख्म थे।

देवेंद्र ने बताया कि दीपक नाम का लड़का उसे पार्क में बात करने के लिए बुलाया था। वहां पर दीपक के साथ उसके साथी मौजूद थे। दीपक ने कहा कि नवीन को उसका पता बताकर तुमने गलती की और चाकू से उसपर ताबड़तोड़ हमला कर दिया। जबकि दीपक के दोस्तों ने उसे लात घुंसों से पिटाई कर दी।

पुलिस ने मौका मुआयना करने के बाद मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि नामजद आरोपी के साथ साथ पुलिस उसके दोस्तों की तलाश में दबिश दे रही है। 
... और पढ़ें

रंजीत नगर दुष्कर्म केस: 72 घंटे बाद भी छह वर्षीय मासूम की नहीं थम रही चीखें, डॉक्टर बोले- कब सामान्य होगी कहना मुश्किल

दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती रंजीत नगर दुष्कर्म पीड़ित मासूम की सेहत में बेशक धीरे-धीरे सुधार आ रहा है, लेकिन 72 घंटे बाद भी वह मानसिक आघात से उबर नहीं सकी है। दिन का उजाला हो, रात का अंधेरा, उसकी चीखें हर उस शख्स को अपने दर्द का हिस्सा बना रही हैं, जो जाने अनजाने अस्पताल के जनरल वार्ड से गुजर रहा होता है। चिकित्सकों का कहना है कि अभी यह बता पाना मुमकिन नहीं कि वह सामान्य कब हो सकेगी। मासूम के दिमाग पर इतना गहरा असर पड़ा है कि संभव है कि इसमें लंबा वक्त लग जाए।

डॉक्टर से लेकर मरीज तक हर कोई बच्ची की चीखें सुन दर्द में
दरअसल, शुक्रवार को रंजित नगर इलाके में एक छह वर्षीय बच्ची के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया था। वह इस वक्त राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती है। दुष्कर्म की शिकार बच्ची की सेहत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है, लेकिन मानसिक आघात से वह उबर नहीं सकी है। वह अभी भी सदमे में है। हर मिनट चीखती है। अपने दर्द को शब्दों में भी बयां न कर पाने वाली यह मासूम असहनीय पीड़ा और खौफ का सामना कर रही है। हालात इस कदर हैं कि आसपास वार्ड में भर्ती मरीज, डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ और तीमारदार हर कोई बच्ची के लिए भगवान से इंसाफ मांग रहा है।
 
डॉक्टर बोले- ऐसे मामले देख गुस्सा और दुख दोनों आता है
ऑपरेशन के बाद एक दिन आईसीयू निगरानी और फिर सामान्य वार्ड में पहुंची बच्ची को लेकर एक डॉक्टर ने यहां तक कहा कि बच्ची के दिल-दिमाग पर वह घटना इस तरह हावी है कि उसे ठीक होने में लंबा वक्त लग सकता है। उन्होंने बताया, 'जब भी मैं ऐसे मामले देखता हूं तो गुस्सा और दुख दोनों ही रहता है। उस बच्ची का जीवन अभी शुरू भी नहीं हुआ है और उसे ऐसे दर्द से सामना करना पड़ रहा है जिसका अंत कब हो पाएगा, इसका जबाव चिकित्सीय विज्ञान के पास नहीं है। हम चाहकर भी उसे सामान्य जिंदगी नहीं दे सकते, जब तक वह या उसका परिवार न संभाल ले।'

'उसकी हर चीख रोंगटे खड़े कर देती है'
पास के ही वार्ड में अपने पति का इलाज करा रहीं सविता ने बताया कि शनिवार और रविवार दो दिन से वह लगातार बच्ची की चीखें सुन रहीं हैं। पहले उन्हें नहीं पता था लेकिन एक नर्स से पता चला तो उसकी हर चीख रोंगटे खड़ा कर देती है। भगवान ऐसा किसी के साथ न करे, बच्चों के साथ तो बिलकुल भी नहीं। मुझे नहीं पता कि यह सब कैसे और किसने किया है? लेकिन जिसने भी यह अपराध किया है उसे सरेआम फांसी होनी ही चाहिए।

वहीं नीचे की मंजिल पर स्थित एक वार्ड में भर्ती मरीज सुरेश ने तो यहां तक कहा कि दिल्ली ऐसे घिनौने अपराध का अड्डा बनता जा रहा है, पुलिस को एक मजबूत संदेश देना चाहिए। लोगों में डर होना चाहिए। उस बच्ची के दर्द के आगे उन्हें अपना भी दर्द महसूस नहीं हो रहा है।
... और पढ़ें

बुलंदशहर : बेटी की गवाही पर पिता को उम्रकैद, अदालत ने कहा- दोषी ने की परिवार के विश्वास की हत्या

फाइल फोटो
फावड़े से ताबड़तोड़ प्रहार कर पत्नी की हत्या करने वाले पति को अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। अतिरिक्त जिला न्यायाधीश ने कहा कि अभियुक्त मनोज कुमार ने अपनी 13 साल की बेटी के सामने जिस तरह से पत्नी की हत्या की, वह दर्शाता है कि उसने परिवार के विश्वास की हत्या की है। मां के सबसे करीब बच्ची ही होती है। उसी के सामने हत्या की वारदात को अंजाम देना जघन्य अपराध की श्रेणी में आता है। 

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी चंद्रभान सिंह ने बताया कि स्याना कोतवाली क्षेत्र के गांव हरवानपुर में 13 अक्तूबर 2016 को ममता की उसके पति मनोज कुमार ने फावड़े से ताबड़तोड़ प्रहार कर हत्या कर दी थी। एडीजे 12 विनीता विमल के न्यायालय में मामले की सुनवाई हुई। 

पिता के खिलाफ बेटी प्राची की गवाही सबसे अहम रही। अदालत ने दोनों पक्षों के गवाहों के बयानों और साक्ष्यों का अवलोकन करने के बाद आरोपी पति मनोज को दोषी करार दिया और उसे आजीवन कारावास की सजा सुनाई। दस हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया। अर्थदंड जमा न करने पर एक वर्ष अतिरिक्त सजा मनोज को भुगतनी पड़ेगी। 

ममता के पिता महेंद्र सिंह उर्फ मामचंद्र ने 14 अक्तूबर को थाना स्याना पर तहरीर देकर बताया था कि बेटी ममता की शादी करीब 16 वर्ष पूर्व स्याना के गांव हरवानपुर निवासी मनोज के साथ की थी। शादी के बाद से ही आरोपी ससुरालीजन उसका उत्पीड़न कर रहे थे। शादी के तीन वर्ष बाद उसने एक पुत्री को भी जन्म दिया था। शादी के दस साल बाद आरोपी पति ने ममता को जलाकर मारने की भी कोशिश की थी। 

इससे ममता के चेहरे व गर्दन आदि पर निशान पड़ गए थे। पुलिस में मामला ले जाने पर समझौता कर लिया था। इसके बाद कुछ दिन तक मनोज ठीक रहा। 13 अक्तूबर 2016 को ममता की हत्या कर दी। उन्होंने आरोपी पति मनोज समेत अन्य ससुरालीजनों के खिलाफ मामला दर्ज कराया था। 


बेटी ने कहा, मेरे सामने ही हुई हत्या 
हत्या की एकमात्र चश्मदीद बेटी प्राची थी। उस वक्त उसकी उम्र 13 वर्ष की थी। बेटी प्राची की गवाही पर ही अन्य आरोपियों को पुलिस ने क्लीनचिट दे दी थी। उसने बताया था कि उसके पिता ने उसके सामने ही मां की हत्या की। अन्य परिजनों का उसमें कोई हाथ नहीं था। इसके बाद पुलिस ने केवल मनोज के खिलाफ चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की थी। अदालत में भी प्राची की गवाही ही अहम साबित हुई।
... और पढ़ें

दिल्ली: ज्योति नगर में महिला को ब्लैकमेल कर दुष्कर्म, आरोपी गिरफ्तार

दिल्ली के ज्योति नगर इलाके में 25 वर्षीय एक महिला को ब्लैकमेल कर दुष्कर्म करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। आरोप है कि एक टैक्सी चालक पीड़िता को ज्योति नगर के एक होटल में ले गया। वहां उसके साथ वारदात को अंजाम दिया। बाद में आरोपी फरार हो गया। पीड़िता ने होटल के बाहर से ही पुलिस को सूचना दी। जिसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

महिला का कहना है कि वह अपनी मां के साथ आरोपी की टैक्सी में उत्तराखंड के कलियर शरीफ गई थी। वहां रास्ते में एक होटल के अंदर आरोपी ने उसे नशीला पदार्थ पिलाकर पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया था। उसी दौरान आरोपी ने इसकी अश्लील वीडियो भी बना ली थी। अब उसके आधार पर ब्लैक कर रविवार को आरोपी महबूब ने दोबारा वारदात को अंजाम दिया। ज्योति नगर थाना पुलिस ने आरोपी महबूब को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस के मुताबिक पीड़िता सलमा (25)(बदला हुआ नाम) परिवार के साथ सिकंदराबाद, बुलंदशहर में रहती है। पति से विवाद होने कारण पिछले करीब तीन साल से सलमा अपनी मां के साथ ही रह रही थी। सलमा ने बताया कि 20 दिन पूर्व वह अपने एक रिश्तेदार के घर राजनगर एक्सटेंशन आ गई। यहां रिश्तेदार का एक दोस्त फुरकान भी रहता था। सलमा पिछले दिनों फुरकान के साथ महबूब नामक शख्स की टैक्सी में दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित दरगाह आई थी।

वहीं महबूब से उसकी हल्की पहचान हुई। खुद सलमा और उसकी मां को उत्तराखंड के कलियर शरीफ जाना था। उन्होंने महबूब की टैक्सी मंगा ली। महबूब खुद टैक्सी लेकर आया। वहां घूमने के बाद 14 अक्तूबर को सभी एक होटल में रुक गए। आरोप है कि महबूब ने वहां पानी में कुछ नशीला पदार्थ पिलाकर सलमा के साथ दुष्कर्म किया। इस दौरान उसने इसकी वीडियो भी बना ली। वारदात के बाद आरोपी वहां से फरार हो गया।

डर और बदनामी की वजह से सलमा व उसकी मां ने किसी को कुछ नहीं बताया। सलमा मां के साथ वापस गाजियाबाद लौट आई। यहां आने पर आरोपी महबूब ने उसे कॉल कर साथ चलने के लिए कहा। पीड़िता ने मना किया तो वह वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी देने लगा। रविवार को आरोपी बाइक पर बिठाकर पीड़िता को दिल्ली के ज्योति नगर स्थित ईस्ट गोकलपुर के एक होटल में ले आया। यहां उसने जबरन पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद आरोपी वहां से चला गया। पीड़िता ने होटल के बाहर से पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने सोमवार को मामला दर्ज कर आरोपी महबूब को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
... और पढ़ें

दिल्ली पुलिस ने बरामद की आमिर की कार : स्पेशल टीम ओसामा व मूलचंद लाला को लेकर लखनऊ पहुंची

आईएसआई व अंडरवर्ल्ड गठजोड़ से जुड़कर आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार आमिर पर सुरक्षा एजेंसियों का शिकंजा कसता जा रहा है। बुधवार को दिल्ली स्पेशल पुलिस की टीम लखनऊ उसके घर गई। वहां करीब डेढ़ घंटे तक पूछताछ करने के बाद संदिग्ध कार को अपने कब्जे में लेकर साथ चली गई। टीम केसाथ इस मामले में दिल्ली से गिरफ्तार दो आरोपी ओसामा व मूलचंद लाला भी थे। दिल्ली स्पेशल पुलिस ने दोनों को रिमांड पर लिया है।

एटीएस ने आलमबाग मवैया स्थित प्रेमवती नगर निवासी मो. आमिर को गिरफ्तार किया था। उसके आतंकी संगठन से संपर्क बताये गये थे। आमिर को दिल्ली की स्पेशल सेल से मिले इनपुट पर उसे दबोचा गया था। उसके पास से भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद होने की बात कही गई थी। आमिर के कई ई-मेल कोड के तौर पर थे। जिसे डीकोड करने के लिये फोरेंसिक विशेषज्ञ लगातार प्रयास कर रहे हैं। वहीं एटीएस टीम को आमिर के मोबाइल की कॉल डिटेल व दोस्तों से कुछ और अतिरिक्त जानकारी मिली थी। जिस पर एटीएस की एक टीम ने दो दिन पहले जेल जाकर उससे पूछताछ की है। आमिर को कुछ फोटो दिखाई गई है। वहीं उसके ई-मेल के बारे में जानकारी हासिल की गई। लेकिन टीम को कोई खास जानकारी नहीं मिली। उससे हथियारों व विस्फोटक बनाने के बारे मे भी पूछताछ की गई थी।

दिल्ली पुलिस ने कई जगह दी दबिश
इस मामले में दिल्ली स्पेशल पुलिस की टीम ने दो आरोपियों ओसामा व मूलचंद लाला को गिरफ्तार किया था। जिसकी कोर्ट से रिमांड मिलने के बाद दिल्ली स्पेशल पुलिस टीम दोनों को लेकर लखनऊ पहुंची। बुधवार दोपहर करीब एक बजे स्पेशल पुलिस टीम और आलमबाग थाने की पुलिस टीम  आमिर के घर मवैया स्थित प्रेमवती नगर गई। जहां करीब दो घंटे तक घर की पड़ताल की। वहीं परिवारीजनों से पूछताछ किया गया। इसके बाद आमिर के घर में खड़ी एक कार के बारे में जानकारी हासिल की। फिर उसे अपने कब्जे में ले लिया। आरोप है कि इसकी कार का आतंकी गतिविधियों में प्रयोग किया जाता था। इसी से विस्फोटक मंगाये गये थे।

आमिर केघर आईईडी डिलीवर करने का आरोप
दिल्ली स्पेशल पुलिस की टीम ने दो आरोपियों ओसामा व मूलचंद लाला से पूछताछ के बाद उसे बुधवार को लखनऊ लेकर पहुंची। इसकेबाद कई स्थानों पर दबिश दी गई। पुलिस टीम के मुताबिक आमिर के परिवारीजनों से हुमैदुर के मूवमेंट के बारे में जानकारी हासिल। उस पर आमिर केघर विस्फोटक डिलीवर करने का आरोप है। इस काम के लिए कार का प्रयोग किया गया था। जो स्पेशल टीम ने आमिर के घर से बरामद की है।
... और पढ़ें

तिहाड़ जेल: टीवी बंद नहीं करने पर एक कैदी ने दूसरे कैदी के चेहरे पर पेन से किया हमला

तिहाड़ के जेल नंबर आठ में टीवी बंद करने के विवाद में एक कैदी ने दूसरे कैदी के चेहरे पर पेन से हमला कर उसे बुरी तरह से घायल कर दिया। घायल कैदी को इलाज के लिए दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पीड़ित कैदी के बयान पर पुलिस ने मारपीट का मामला दर्ज कर जांच में जुट गई है।
 
घायल कैदी की पहचान मुकेश(50) के रूप में हुई है। पुलिस को दिए बयान में मुकेश ने बताया कि वह वर्ष 2015 से जेल नंबर आठ में बंद है। रविवार सुबह दस बजे वह बैरक में टीवी देख रहा था। इसी दौरान एक विचाराधीन कैदी जब्बर उसके पास आया और टीवी बंद करने के लिए कहा। उसके कहने पर उसने टीवी को बंद नहीं किया।

कुछ देर बाद वह टीवी बंद कर बाहर निकला तो जब्बर ने उसके चेहरे पर पेन से ताबड़तोड़ हमला कर दिया। जिससे वह बुरी तरह घायल हो गया। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी बैरक में चला गया। मुकेश ने घटना की जानकारी जेल कर्मियों को दी।

जेल कर्मियों ने उसे दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में भर्ती कराया। जहां से पुलिस को घटना की जानकारी मिली। पुलिस अस्पताल पहुंच कर मुकेश का बयान दर्ज किया। पुलिस ने उसके बयान पर मारपीट का मामला दर्ज कर जांच कर रही है। 
... और पढ़ें

रोहिणी कोर्ट गैंगवार: धमकी भरे मैसेज वायरल होने पर दिल्ली पुलिस अलर्ट, गैंग के गुर्गों के सोशल मीडिया अकाउंट्स पर पैनी नजर

हाल ही में रोहिणी कोर्ट के अंदर गैंगस्टर जितेंद्र मान उर्फ गोगी की हत्या का बदला लेने की घोषणा वाले मैसेज वायरल होने के बाद गैंगस्टर काला जठेड़ी और लॉरेंस बिश्नोई के गैंग के सदस्यों के सोशल मीडिया अकाउंट पर दिल्ली पुलिस नजर रख रही है। दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, उनके गैंग के सदस्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मैसेज पोस्ट कर रहे हैं, जिनपर हमारी नजर है। इस बीच पुलिस को इनपुट मिले हैं कि कुछ कैदी जेल तोड़कर भागना चाह रहे हैं। इसके बाद से सुरक्षा को और चौकस किया गया है। 

सोशल मीडिया पर वायरल ऐसे ही एक संदेश के अनुसार, 'हम चुप बैठे हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि हम मर चुके हैं, और जल्द ही एक धमाका होगा।' दूसरे मैसेज में लिखा है कि जो हमारे साथ नहीं हैं उनके लिए हम नई जंग की शुरुआत कर रहे हैं। अब से अपना ख्याल रखना। इस जंग में कोई भी सुरक्षित नहीं है। आज से दिल्ली की सड़कों पर खून-खराबा होगा। युद्ध के नियम बदल गए हैं। नए नियम के अनुसार देखते ही गोली मार देना।

24 सितंबर को कोर्ट रूप में कर दी थी हत्या
गौरतलब है कि गैंगस्टर जितेंद्र मान उर्फ गोगी की 24 सितंबर को रोहिणी कोर्ट रूम के अंदर दो हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। दोनों हमलावर वकील के वेश में आए थे। पुलिस कार्रवाई में दोनों हमलावर भी ढेर हो गए थे। दोनों हमलावर टिल्लू ताजपुरिया गैंग से जुड़े हुए बताए जा रहे हैं। अचानक हुई गोलीबारी के बाद कोर्ट में अफरा-तफरी मच गई थी। हमलावरों ने गोगी को करीब 10 गोलियां मारी थीं।

गोगी पर था 6.5 लाख रुपये का इनाम
पुलिस के मुताबिक, जितेंद्र मान उर्फ गोगी के सिर पर 6.5 लाख रुपये का इनाम था। उसे तीन साथियों कुलदीप मान उर्फ फज्जा, कपिल उर्फ गौरव और रोहित उर्फ कोई के साथ पिछले साल मार्च में स्पेशल सेल की एक टीम ने गुड़गांव से गिरफ्तार किया था।
... और पढ़ें

दिल्ली: जेल में बंद गैंगस्टर और उसके सहयोगी ने करवाई थी अस्पताल कर्मी की हत्या

दिल्ली के कंझावला में अस्पताल कर्मी की गोली मारकर हत्या करने के आरोप में पुलिस ने दो नाबालिग समेत चार बदमाशों को पकड़ा है। बदमाशों ने खुलासा किया है कि मृतक ने जेल में बंद गैंगस्टर के एक सहयोगी के घर के बाहर डर पैदा करने के लिए गोलियां चलवाई थीं। जिसका बदला लेने के लिए जेल में बंद गैंगस्टर और उसके सहयोगी ने उसकी हत्या करवाई। पुलिस ने बदमाशों के कब्जे से एक पिस्टल, लूटी गई बाइक और स्कूटी बरामद की है।

जिला पुलिस उपायुक्त प्रणव तायल ने बताया कि गिरफ्तार दो आरोपियों की पहचान लाडपुर निवासी अमन डबास और राहुल के रूप में हुई। जबकि पकड़े गए दो नाबालिग की उम्र 17 साल है। चारों बदमाश जेल में बंद गैंगस्टर मोहित चिचड़ के गैंग के सदस्य हैं। 30 अगस्त को पुलिस को लाडपुर गांव में एक युवक को गोली मारे जाने की सूचना मिली।

पुलिस ने घायल युवक को पास के अस्पताल में भर्ती कराया। उसकी पहचान सागर के रूप में हुई। वह सफदरजंग अस्पताल में काम करता था। पीड़ित ने अपने बयान में बताया कि स्कूटी और बाइक पर सवार चार युवकों ने उसे गोली मारी है। उसे तीन गोली लगी थी। पुलिस ने हत्या का प्रयास का मामला दर्ज कर लिया लेकिन 5 सितंबर को सागर की इलाज के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने हत्या की धारा जोड़कर जांच शुरू की।

थाना प्रभारी जरनैल सिंह के नेतृत्व में टीम ने आस पास के इलाके के सीसीटीवी फुटेज को खंगाला। जिसके जरिए दो हमलावर अमन और राहुल की पहचान हुई। जांच में पता चली कि दोनों हमलावर घटना से पहले तिहाड़ जेल में बंद गैंगस्टर मोहित चिचड़ और मोहित उर्फ गोली से लगातार मोबाइल पर बात कर रहे थे। 1 सितंबर को पुलिस ने अमन और राहुल को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने इनके निशानदेही पर 5 सितंबर को दो नाबालिग को हरियाणा से पकड़ लिया।

पूछताछ में बदमाशों ने बताया कि 28 अगस्त को मोहित उर्फ गोलू के घर के बाहर गोली चली थी। हमलावरों का मकसद मोहित के परिवार में डर पैदा करना था। मोहित को पता चला कि गोली सागर ने मोनू के साथ मिलकर चलवाई थी। इस बात का पता लगने के बाद जेल में बंद मोहित चिचड़ और मोहित उर्फ गोलू ने सागर की हत्या की साजिश रची।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00