जिले में भी हो सकता है विशाखापट्टनम जैसा हादसा

Amarujala Local Bureau अमर उजाला लोकल ब्यूरो
Updated Thu, 07 May 2020 05:35 PM IST
chemical industries
विज्ञापन
ख़बर सुनें
जिले में भी हो सकता है आंध्र प्रदेश जैसा हादसा - 50 से अधिक इकाइयों में बनती हैं इंडस्ट्रियल गैस - प्रशासन और जिला उद्योग केंद्र ने सावधानी बरतने के लिए दिए निर्देश माई सिटी रिपोर्टर गाजियाबाद। आंध्र प्रदेश में जहरीली गैस रिसाब होने के बाद हुईं मौतों से जिला गाजियाबाद भी अलर्ट मोड पर है। जिले में 50 से अधिक ऐसी इंडस्ट्रीज हैं, जहां इंडस्ट्रियल गैस या कैमिकल तैयार किया जाता है। हादसे से सबक लेते हुए उद्योग संचालकों को सावधानी बरतने के निर्देश भी दिए गए हैं। जिले के मसूरी-गुलावठी रोड औद्योगिक एरिया, साहिबाबाद इंडस्ट्रियल एरिया, मेरठ रोड इंडस्ट्रियल एरिया सहित अन्य औद्योगिक क्षेत्र में कैमिकल और इंडस्ट्रियल गैस तैयार होती हैं। गैस का प्रयोग हॉस्पिटल, इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद आदि में होता है। जबकि तरह तरह के कैमिकल भी इंडस्ट्री में प्रयोग किए जाते हैं। करीब सात साल पहले कविनगर औद्योगिक क्षेत्र में कैमिकल फैक्ट्री में आग लगने से नुकसान हुआ था। सड़क पर कैमिकल फैलने से जानवर भी इसकी चपेट में आ गए थे। विशाखापत्तनम में हुए हादसे के बाद गाजियाबाद में भी सुरक्षा के निर्देश दिए गए हैं। लॉकडाउन में छूट के तहत उद्योगों को शुरू कराया जा रहा है, ऐसे में उद्यमियों को सुरक्षा के साथ काम शुरू करना होगा। खासकर इंडस्ट्रियल गैस और कैमिकल तैयार करने वाले उद्योग, इनका ख्याल रखेंगे। --- जिले में सभी उद्योगों को सुरक्षा और सावधानी के निर्देश दिए गए हैं। कैमिकल और गैस का उत्पादन करने वाली इंडस्ट्रीज सभी सुरक्षा मानकों को पूरा रखेंगी। समय-समय पर इसकी जांच भी कराई जाएगी। बीरेंद्र कुमार, उपायुक्त जिला उद्योग केंद्र
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00