लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Delhi ›   Delhi NCR News ›   Shraddha Aftab case attackers came to kill Aftab Prashant Vihar PS registered FIR

Shraddha Aftab case: आफताब की हत्या करने के मकसद से आए थे हमलावर, केस दर्ज, फरार आरोपियों की तलाश जारी

अमर उजाला ब्यूरो, दिल्ली Published by: अनुराग सक्सेना Updated Mon, 28 Nov 2022 11:10 PM IST
सार

हमलावरों में से एक ने वैन का पिछला दरवाजा खोल दिया। वह आफताब को वैन से निकालकर उसकी हत्या करना चाहता था। हालांकि पुलिस ने दो हमलावरों को मौके पर गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया कि आफताब को सुरक्षित तिहाड़ जेल भेज दिया गया है।

आफताब पूनावाला
आफताब पूनावाला - फोटो : अमर उजाला-फाइल फोटो
विज्ञापन

विस्तार

श्रद्धा वालकर की हत्या के आरोपी आफताब पर हमला करने वाले उसकी हत्या की इरादे से वहां पहुंचे थे। पॉलीग्राफ टेस्ट के बाद आफताब को फॉरेंसिक लैब से तिहाड़ जेल ले जाने के दौरान हमलावरों ने उसकी वैन पर हमला कर दिया था। हमलावरों के पास तलवार और हथौड़े थे। पुलिस ने मौके से सभी पांच तलवार बरामद कर ली हैं।



हमलावरों में से एक ने वैन का पिछला दरवाजा खोल दिया। वह आफताब को वैन से निकालकर उसकी हत्या करना चाहता था। हालांकि पुलिस ने दो हमलावरों को मौके पर गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया कि आफताब को सुरक्षित तिहाड़ जेल भेज दिया गया है। फिलहाल प्रशांत विहार पुलिस ने हमलावरों के खिलाफ मामला दर्ज कर उनसे पूछताछ कर रही है।


रोहिणी की प्रशांत विहार थाना पुलिस ने दोनों आरोपियों निगम गुर्जर और कुलदीप ठाकुर को देर रात गिरफ्तार कर लिया। दोनों आरोपियों को प्रशांत विहार थाने से ले जाकर स्पेशल स्टाफ के कार्यालय में रखा गया है। आरोपियों ने बताया कि वह पांच लोग आए थे। तीन लोग मौके से फरार हो गए। दोनों आरोपियों को मीडिया कर्मियों से बात करते हुए गिरफ्तार किया गया है।

हमलावर खुद को हिंदू सेना का कार्यकर्ता होने का दावा कर रहे थे। वह कह रहे थे कि जब हमारी बहन-बेटियां सुरक्षित नहीं हैं, तो हम जीकर क्या करेंगे। आफताब को दो मिनट के लिए हमें सौंप दो, हम इसे गोली मार देंगे। आफताब की वैन पर हमला होते ही वैन के साथ चल रही गाड़ी से पुलिसकर्मी निकले और हमलावरों को रोकने की कोशिश की। शुरुआती पूछताछ में पता चला कि 10 से 12 की संख्या में हमलावर सुबह 11 बजे एफएसएल कार्यालय के बाहर आ गए थे।

रोहिणी के पुलिस उपायुक्त गुरइकबाल सिंह ने बताया कि मौके पर पुलिस की ओर से कोई गोलीबारी नहीं की गई है। दिल्ली पुलिस की तीसरी बटालियन जेल से आफताब को लेकर आई थी। वैन पर हमला होने के बाद आफताब को बचाने के लिए पुलिसकर्मी ने आत्मरक्षार्थ पिस्टल निकाली थी और हमलावरों को डराने की कोशिश की थी। आफताब को कोई चोट नहीं लगी है। वह सुरक्षित है और उसे सुरक्षित जेल भेज दिया गया है।

हिरासत में लिए गए हमलावरों के खिलाफ प्रशांत विहार थाने में सरकारी काम में बाधा पहुंचने, हमला करने, दंगा फैलाने, हमला में घातक हथियार का इस्तेमाल करने और गैर कानूनी जमावड़ा करने की धारा में मामला दर्ज किया है। पुलिस हिरासत में लिए गए आरोपी से पूछताछ कर हमले में शामिल अन्य लोगों की पहचान और मकसद की के बारे में पूछताछ कर रही है।
विज्ञापन

हिंदू सेना ने कार्यकर्ता बताने से किया इनकार 
पुलिस ने मौके से सभी पांच तलवार बरामद कर ली हैं। देर रात हिंदू सेना ने भी इनको अपने कार्यकर्ता बताने से इनकार कर दिया। निगम गुर्जर और कुलदीप ठाकुर गुरुग्राम के गांव धनकोट के रहने वाले हैं। प्रशांत विहार थाने की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। रोहिणी पुलिस बाकी आरोपियों को पकड़ने के लिए दिल्ली, गुड़गांव में नोएडा में दबिश दे रही है।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00