NEET UG 2021: परीक्षा के आधे घंटे बाद पेपर लीक, पुलिस ने किया आठ लोगों को गिरफ्तार

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Published by: वर्तिका तोलानी Updated Tue, 14 Sep 2021 04:20 PM IST

सार

NEET Paper Leak: रविवार को परीक्षा से पहले नीट पेपर लीक होने की अफवाहों के बाद मामले की पुष्टि हुई और जयपुर में कुल आठ लोगों को गिरफ्तार किया गया। पेपर दोपहर 2 बजे शुरू हुआ और यह दोपहर 2:30 बजे व्हाट्सएप के माध्यम से लीक हो गया। जयपुर में राजस्थान इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (RIET) NEET परीक्षा केंद्र से पेपर लीक हो गया।
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी। - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा, नीट 2021 में चीटिंग और पेपर लीक मामले में जयपुर पुलिस ने 8 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसमें एक उम्मीदवार भी शामिल है, जिसका परिवार कथित तौर पर पेपर सॉल्व कराने के लिए 30 लाख रुपये का भुगतान करने के लिए सहमत था। रविवार को नीट परीक्षा में कथित पेपर लीक और नकल के आरोप में उम्मीदवार के अलावा केंद्र के प्रभारी समेत सात अन्य को गिरफ्तार किया गया है।

विज्ञापन

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पुलिस ने 18 वर्षीय अभ्यर्थी दिनेश्वरी कुमारी, उसके चाचा, निरीक्षक राम सिंह, परीक्षा केंद्र की प्रशासनिक इकाई के प्रभारी मुकेश, और चार अन्य को धोखाधड़ी के मामले में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इस बात की जानकारी डीसीपी ऋचा तोमर ने दी है। उन्होंने बताया कि आरोपी ने दूसरे स्थान पर सॉल्वर को पेपर लीक करने और जवाब देने में मदद के लिए मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया था।

उसने बताया कि कैसे परीक्षा शुरू होने के बाद, आरोपी राम सिंह और मुकेश ने अपने मोबाइल फोन से प्रश्न पत्र की तस्वीरें खींची और उसे चित्रकूट क्षेत्र के जयपुर अपार्टमेंट में व्हाट्सएप के माध्यम से 2 लोगों को भेज दिया। यह प्रश्न पत्र तब सीकर में किसी ऐसे व्यक्ति को भेज दिया गया जिसने प्रश्नपत्र हल किया था। पुरुषों (सीकर में) ने चित्रकूट में दो लोगों को उत्तर कुंजी भेजी, जिन्होंने फिर इसे मुकेश को भेज दिया। मुकेश ने इसे सिंह को भेज दिया। सिंह ने उत्तर कुंजी की मदद से दिनेश्वरी को पेपर हल करने में मदद की।

यह सौदा 30 लाख रुपये में किया गया था। जिसमें से 10 लाख रुपये परीक्षा समाप्त होने के तुरंत बाद दिए जाने थे। अभ्यर्थी के चाचा को केंद्र के बाहर से रुपये के साथ पकड़ा गया। फोन सहित पैसे जब्त कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। पेपर हल करने में शामिल लोगों को पकड़ने के लिए टीम सीकर भेजी गई है। पुलिस ने एक ई-मित्र केंद्र के मालिक अनिल और अलवर के बानसूर में एक कोचिंग सेंटर के मालिक को भी गिरफ्तार किया है। अनिल कथित तौर पर मध्यस्थ थे, जिन्होंने उम्मीदवार और उसके चाचा को उन लोगों से मिलवाया जिन्होंने अभ्यर्थी को पेपर हल करने में मदद की।

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें शिक्षा समाचार आदि से संबंधित ब्रेकिंग अपडेट।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00