राजस्थान बोर्ड : आरबीएसई 10वीं-12वीं परीक्षाओं का मूल्यांकन फॉर्मूला जारी, ऐसे बनेगा रिजल्ट

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Published by: देवेश शर्मा Updated Wed, 23 Jun 2021 09:37 PM IST

सार

कक्षा 10वीं के विद्यार्थीयों के अंक निर्धारण के लिए कक्षा 8वीं की बोर्ड परीक्षा 2019 का अंक भार 45 प्रतिशत रहेगा। कक्षा 9वीं में अंतिम प्राप्तांकों का अंकभार 25 प्रतिशत रहेगा। वहीं, कक्षा 10वीं का अंकभार 10 प्रतिशत रहेगा।
राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड
राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड - फोटो : अमर उजाला ग्राफिक्स
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

राजस्थान शिक्षा विभाग की ओर से कक्षा 10वीं व 12वीं के परिणाम तय करने के लिए गठित समिति की रिपोर्ट के आधार पर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने बुधवार को फॉर्मूला जारी कर दिया है। समिति की ओर से निर्धारित फॉर्मूले के अनुसार पिछले दो वर्षों की परीक्षाओं को आधार बनाया जाएगा।
विज्ञापन


कक्षा 10वीं के विद्यार्थीयों के अंक निर्धारण के लिए कक्षा 8वीं की बोर्ड परीक्षा 2019 का अंक भार 45 प्रतिशत रहेगा। कक्षा 9वीं में अंतिम प्राप्तांकों का अंकभार 25 प्रतिशत रहेगा। वहीं, कक्षा 10वीं का अंकभार 10 प्रतिशत रहेगा। कक्षा 10वीं के अंकभार का निर्धारण विद्यालय विषय समिति द्वारा किया जाएगा।


इस समिति में शाला प्रधान, कक्षाध्यापक तथा विषय अध्यापन करवाने वाला शिक्षक शामिल रहेंगे। यह समिति वर्तमान सत्र में किए गए विभिन्न डिजिटल नवाचारों जैसे स्माइल, स्माइल-2, आओ घर में सीखें तथा कक्षा शिक्षण में विद्यार्थियों की सतत भागीदारी तथा प्रदर्शन को देखते हुए सत्र पर्यंत किए अवलोकन के आधार पर अंक निर्धारण करेगी। वहीं, सत्रांक का अंकभार पूर्व के वर्षों के भांति 20 प्रतिशत रहेगा।

यह है कक्षा 12वीं का मूल्यांकन क्राइटेरिया

वहीं कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों के अंक निर्धारण फॉर्मूले में कक्षा 10वीं की बोर्ड परीक्षा 2019 में प्राप्तांक का अंकभार 40 प्रतिशत रहेगा। कक्षा 11वीं में प्रदत्त अंकों का अंकभार 20 प्रतिशत रहेगा। जबकि, कक्षा 12वीं का अंकभार 20 प्रतिशत रहेगा, जिसका निर्धारण विद्यालय विषय समिति द्वारा किया जाएगा। वहीं, सत्रांक का अंकभार पहले की तरह 20 प्रतिशत ही रहेगा।

शेष प्रायोगिक परीक्षाएं बाद में होंगी
वहीं, समिति ने अपनी रिपोर्ट में कक्षा 12वीं की प्रायोगिक परीक्षाओं के बारे में कहा है कि अधिकतर विद्यालयों में प्रायोगिक परीक्षाओं का आयोजन हो चुका है तथा 40 प्रतिशत विद्यालयों में परीक्षा उपरान्त अंक भी दिए जा चुके हैं। अब शेष रहे विद्यालयों में कक्षा 12वीं की प्रायोगिक परीक्षाएं गृह तथा चिकित्सा विभाग द्वारा आवश्यक अनुमति मिलने पर ऑनलाइन या ऑफलाइन आयोजित की जाएगी।

स्वयंपाठी विद्यार्थियों को देनी होगी परीक्षा
इसके साथ ही प्राइवेट विद्यार्थी या ऐसे विद्यार्थी जिन्होंने श्रेणी सुधार हेतु आवेदन किया है उन्हे बोर्ड द्वारा जब भी परीक्षा का आयोजन होगा तब अवसर दिया जाएगा। वहीं, समिति की ओर से तय अंक योजना में पूरक आए विद्यार्थियों को पूरक परीक्षा का आयोजन होने पर परीक्षा देनी होगी। साथ ही जो परिणाम से संतुष्ट नहीं होंगे उन्हें जब बोर्ड द्वारा परीक्षा का आयोजन किया जाएगा, तब परीक्षा में बैठने का अवसर दिया जाएगा।  
 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें शिक्षा समाचार आदि से संबंधित ब्रेकिंग अपडेट।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00