लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Entertainment ›   Bollywood ›   Babli Bouncer Review in Hindi by Pankaj Shukla Tamannaah Madhur Bhandarkar Disney Plus Hotstar Star Studios

Babli Bouncer Review: हिंदी सिनेमा में चमकने को अधूरी रही तमन्ना, फिर खोया खोया दिखा मधुर का सिनेमाई मैजिक

Pankaj Shukla पंकज शुक्ल
Updated Fri, 23 Sep 2022 12:29 PM IST
बबली बाउंसर
बबली बाउंसर - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई
विज्ञापन
Movie Review
बबली बाउंसर
कलाकार
तमन्ना भाटिया , अभिषेक बजाज , साहिल वैद , सानंद वर्मा , सौरभ शुक्ला और सव्यसाची चक्रवर्ती आदि
लेखक
मोहम्मद शकील , अमित जोशी , आराधना साह , सुमित घिल्डियाल और मधुर भंडारकर
निर्देशक
मधुर भंडारकर
निर्माता
स्टार स्टूडियोज व जंगली पिक्चर्स
ओटीटी:
डिज्नी प्लस हॉटस्टार
रेटिंग
2/5

तमन्ना भाटिया का हिंदी सिनेमा से रिश्ता कोई 17 साल पुराना है। तब उनके नाम की अंग्रेजी में वर्तनी में दो एन और दो ए के साथ एक एच हुआ करता था या नहीं, ये तो याद नहीं लेकिन उनका चेहरा लोगों को तब भी चांद सा रोशन जरूर लगा था। बीते 17 साल में तमन्ना ने दक्षिण भारतीय सिनेमा का लंबा आसमान नापा है। उनकी उड़ानों के चर्चे दूर दूर तक रहे और उनकी तमन्ना यही रही कि वह किसी तरह फिर से हिंदी सिनेमा में अपनी एक ऐसी जगह बना सकें जिस पर जमाना नाज करे ना करे, कम से कम उन्हें खुद तो नाज जरूर हो। हिंदी पट्टी के दर्शकों ने उन्हें पिछली बार ठीक ठाक रोल में  ‘बाहुबली 2’ में देखा था। बीच में इक्का दुक्का फिल्में उनकी और हिंदी क्षेत्रों तक पहुंची लेकिन सिनेमाघरों तक तमन्ना की तमन्ना पूरी होने में अभी समय लग रहा है। उनकी नई फिल्म ‘बबली बाउंसर’ डिज्नी प्लस हॉटस्टार पर रिलीज हुई है। तमन्ना की एक और फिल्म ‘प्लान ए प्लान बी’ नेटफ्लिक्स पर रिलीज होने की कतार में है। एक और फिल्म ‘बोले चूड़ियां’ की भी खूब चर्चा रही है।

बबली बाउंसर
बबली बाउंसर - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई
मधुर के सिनेमा का डीएनए
सिनेमा बदल रहा है। किसी भी भाषा के सिनेमा से जरा सा भी ताल्लुक रखने वाले से बात कीजिए, उसका यही कहना होगा। वजह? दर्शकों की रुचियां और उनके सामने मौजूद मनोरंजन के विकल्प जो बदल गए हैं। बदलते समय में भी जो निर्देशक खुद को नहीं बदलने की कोशिश कर रहे हैं, वे बड़े परदे से निकलकर ओटीटी पर सिमट रहे हैं। मधुर भंडारकर ने जो बरसों पहले बना दिया, उसे अब दूसरे अपना रहे हैं और मधुर हैं कि खुद अपने ही सिनेमा से लगातार पीछे जा रहे हैं। मधुर की हिट फिल्मों का डीएनए एक जैसा है। उनकी कहानियों की नायिका किसी ऐसे पेशे से आती हैं जो आम दुनिया की निगाहों में अक्सर नहीं होता। उस पेशे की पेचीदगी की अंतर्धारा को मधुर की इन फिल्मों ने आस्तीन सा उलटकर रख दिया। कड़वा सच हमेशा आकर्षक होता है। और, इसी कड़वे सच को दिखाकर मधुर भंडारकर ने अपनी एक अलग स्थिति हिंदी सिनेमा में बनाई। लेकिन, ‘बबली बाउंसर’ में ये करने से वह फिर चूके हैं।

महिला बाउंसर के साथ तमन्ना भाटिया
महिला बाउंसर के साथ तमन्ना भाटिया - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई
बाउंसरों के गांव की बबली
फिल्म ‘बबली बाउंसर’ दिल्ली के पास स्थित बाउंसर विलेज के नाम से मशहूर फतेहपुर असोला की कहानी है। इस गांव के हर घर में कोई न कोई बाउंसर है और दिल्ली एनसीआर में जहां भी जरूरत होती है, यहीं के बाउंसर जाते हैं। मधुर को मोहम्मद शकील ने आइडिया दिया, ‘क्या हो अगर इस गांव की एक लड़की एक दिन बाउंसर बनने का मन बना ले।’ विचार कमाल का है। लेकिन, ‘बबली बाउंसर’ में ये विचार इसकी नायिका के मन में उगाने का जो कारक तलाशा गया, वह इसकी कहानी को ही कमजोर कर देता है। बबली बिंदास है। बेधड़क है। वह बोलती भी खूब है। लेकिन, कहानी की नायिका अपना उद्देश्य हासिल करने के लिए जैसे ही झूठ, फरेब का सहारा लेती है, अपना किरदार कमजोर कर बैठती है। बबली को बाउंसर इसलिए नहीं बनना है कि वह इसमें अपना भविष्य देखती है। वह बाउंसर बनती है अपने स्कूल की मास्टरनी के उस बेटे से प्रेम की पींगे बढ़ाने का मौका पाने के लिए जिस पर गांव की शादी में वह पहली नजर में ही फिदा हो गई।

तमन्ना भाटिया, मधुर भंडारकर व अन्य
तमन्ना भाटिया, मधुर भंडारकर व अन्य - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई
दमदार नायिका की कमजोर कहानी
पांच लोगों ने मिलकर फिल्म ‘बबली बाउंसर’ कागज पर उतारी और इन पांचों लोगों के मन में एक बार भी ये ख्याल नहीं आया कि वे बबली के चरित्र का आधार खुद ही कमजोर कर दे रहे हैं। कभी मधुर भंडारकर हालात के हाथों मजबूर महिला चरित्रों को अपनी कहानियों की दमदार नायिकाएं बनाने के लिए जाने जाते थे। यहां एक नायिका गढ़ने के लिए जो हालात पहली गलती के बाद बनाए जाते हैं, वे ठीक तो हैं पर जाने पहचाने लगते हैं। दसवीं पास करने की कोशिश करना, अंग्रेजी में बातें करके माता पिता को प्रभावित करना, ये सब दर्शकों को अब चौंकाता नहीं है। तमन्ना को लगा होगा कि मधुर भंडारकर की फिल्म करने को मिल रही है या कहें कि किसी भी हिंदी फिल्म में लीड किरदार करने का मौका मिल रहा है, बस उन्होंने फिल्म लपक ली।

बबली बाउंसर रिव्यू
बबली बाउंसर रिव्यू - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई
नहीं महसूस हुई रिश्तों की ऊष्मा
तमन्ना की शोहरत दक्षिण भारतीय सिनेमा में ‘मिल्क ब्यूटी’ के नाम से है। यहां, फिल्म ‘बबली बाउंसर’ में शादी की बात चलने पर बबली का पिता कहता भी है कि देखो हमारी बेटी का रंग कितना सुथरा है। दुनिया सांवली सूरतों पर फिदा है और ये पिता अब भी अपनी बेटी का सबसे बड़ा गुण उसका रंग रूप ही मान रहा है। यही वह पिता है जिसने अपनी बेटी को दसवीं पास कराने की उन पांच साल में एक भी मदद नहीं की जिनमें बबली लगातार फेल होती रही। वह सिर्फ बेटी की सफलता से खुश होता पिता है। बेटी को उसके मन की तो करने देता है। लेकिन बेटी के मन का होना देने के साधन जुटाता वह नहीं दिखता। बाप-बेटी के रिश्ते की ये कमजोरी भी ‘बबली बाउंसर’ को कमजोर करती है।

बबली बाउंसर रिव्यू
बबली बाउंसर रिव्यू - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई

ओटीटी है तो मुमकिन है
‘बबली बाउंसर’ जैसी फिल्में ओटीटी के लिए बेहतरीन फिल्में हो सकती हैं। सास बहू के धारावाहिक पीछे छूट चुके हैं। महिलाएं भी घर के बड़े टेलीविजन पर इंटरनेट के सहारे प्रेरक कहानियां तलाश रही हैं या फिर तलाश रही हैं ऐसी भावनाएं जिनमें उनके अपने एहसासों को खाद पानी मिले। इस लिहाज से फिल्म ‘बबली बाउंसर’ शुरू के आधे घंटे पकाने के बाद लाइन पर आ जाती है।

विज्ञापन

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00