लड़कों की दोस्ती बना हिट फिल्म का फंडा

नई दिल्ली/आईएएनएस Updated Thu, 21 Feb 2013 11:41 AM IST
boys friendship is funda of hit films
विज्ञापन
ख़बर सुनें
लड़के और लड़की की मुलाकात और प्रेम होने के परंपरागत फार्मूले से इतर अब भारतीय सिनेमा और फिल्म निर्माता लड़कों के बीच दोस्ती को विषय के रूप में रखने लगे हैं। आने वाली फिल्में 'काई पो चे' 'ग्रैंड मस्ती' और 'चश्मे बद्दूर' इसी बात का समर्थन करती हैं। आने वाले समय में ऐसी फिल्में खूब दिखेंगी।
विज्ञापन


फिल्म 'दिल चाहता है' से लेकर 'थ्री इडियट' और 'जिंदगी न मिलेगी दोबारा' जैसी फिल्में पुरुषों की दोस्ती पर आधारित थीं जिसे हर वर्ग के दर्शकों ने देखा और सराहा। अब ऐसी फिल्में तेजी के साथ बन रही हैं। इनके सफल होने की बड़ी वजह यह है कि यूथ इन फिल्मों को अपने साथ जल्द ही रिलेट कर लेते हैं।


'काई पो चे' के बाद फारूक शेख, राकेश बेदी और रवि बासवानी अभिनीत फिल्म 'चश्मे बद्दूर' की रीमेक फिल्म जल्द रिलीज होने वाली है। डेविड धवन निर्देशित फिल्म में नए कलाकारों अली जाफर, सिद्धार्थ और दिव्येंदु शर्मा ने काम किया है।

धवन कहते हैं कि फिल्म दोस्ती के रिश्ते पर आधारित है जिसमें विश्वास है, भरोसा है और ढेर सारी शरारतें हैं। मैं इस तरह की फिल्में देखना पसंद करता हूं। यह युवा ऊर्जा से भरी फिल्म है और इसकी शूटिंग काफी मजेदार रही। दोस्तों और परिवार के साथ फिल्म का मजा लिया जा सकता है।

इस शुक्रवार निर्देशक अभिषेक कपूर की फिल्म 'काई पो चे' प्रदर्शित हो रही है। सुशांत सिंह राजपूत, अमित साध और राजकुमार यादव ने फिल्म में काम किया है। जिंदगी को भरपूर जीने की ख्वाहिश रखने वाले तीन युवा दोस्तों की यह कहानी है। इन फिल्मों के अलावा दोस्ती को परिभाषित करने वाली कई अन्य फिल्में भी देखने को मिलेंगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00