Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Gorakhpur ›   DM Order to All Quarantine centers in Gorakhpur district will be vacated

लॉकडाउन 3.0: गोरखपुर जिले के सभी क्वांरटीन सेंटर कराए जाएंगे खाली, ये है बड़ी वजह

अमर उजाला ब्यूरो, गोरखपुर। Published by: vivek shukla Updated Fri, 08 May 2020 08:05 AM IST
डीएम के. विजयेंद्र पांडियन। (File)
डीएम के. विजयेंद्र पांडियन। (File) - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

गोरखपुर जिले के सभी क्वारंटीन सेंटर खाली कराए जाएंगे। वहां रह रहे लोगों को उनके घर पर ही होम क्वारंटीन किया जाएगा। संबंधित के घर के बाहर क्वारंटीन संबंधी पोस्टर भी लगाए जाएंगे। डीएम के. विजयेंद्र पांडियन ने इस संबंध में गुरुवार को सभी एसडीएम को निर्देश जारी कर दिए हैं।

विज्ञापन


उन्होंने कहा कि अगर कोई बीमार है या फिर उसमें संक्रमण के लक्षण दिखे तो ही उसे क्वांरटीन सेंटर में रोका जाए अन्यथा सभी को स्वास्थ्य परीक्षण कराने के बाद घर भेज दिया जाए। उन्होंने कहा कि होम क्वारंटीन किए जाने के बाद भी अगर कोई व्यक्ति बार-बार बाहर निकलता है तो उसे भी क्वारंटीन सेंटर पर रखा जाए।


डीएम ने सभी एसडीएम को यह भी निर्देश दिया है कि क्वारंटीन सेंटर से जिन्हें होम क्वारंटीन किया जाए, उन सभी को राशन उपलब्ध करा दिया जाए। समय-समय संबंधित के घर मेडिकल टीम भेजकर उनका स्वास्थ्य परीक्षण भी कराया जाए।

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट की गाड़ी पर हुआ था पथराव

दरअसल शासन की तरफ से पहले ही निर्देश जारी हो चुका है कि एक मई से जो भी प्रवासी मजदूर या आम आदमी बाहर से आए उसका स्वस्थ्य परीक्षण कराकर उसे घर में ही क्वारंटीन किया जाए। उसे क्वारंटीन सेंटर न भेजा जाए।

इसपर अमल भी शुरू हो गया था मगर एक मई के पहले आए बहुत से लोग अभी भी क्वारंटीन सेंटर में पड़े थे। अब प्रशासन ने उन्हें भी घर भेजने का निर्णय किया है। गुरुवार को इसपर अमल भी शुरू हो गया। ज्यादातर तहसील क्षेत्रों में क्वारंटीन किए गए लोगों को घर भेजकर वहीं क्वारंटीन कर दिया गया।

सहजनवां इलाके के सोनबरसा हड़हा गांव में क्वारंटीन सेंटर में दुर्व्यवस्था का आरोप लगाते हुए वायरल हुए वीडियो की जांच करने पहुंची ज्वाइंट मजिस्ट्रेट व एसडीएम सहजनवां अनुज मलिक और पुलिस की गाड़ी को ग्रामीणों ने बुधवार की रात घेरकर पथराव किया था।

सूत्रों की माने तो क्वारंटीन सेंटर खाली कराने के जिला प्रशासन के निर्णय के पीछे यह घटना भी है। हालांकि शासन की तरफ से पहले ही यह आदेश जारी किया जा चुका है कि जिनमें संक्रमण का लक्षण दिखे, उन्हें ही क्वारंटीन किया जाए बाकी सभी को घर जाने दिया जाए।

 

ये है जिले में क्वारंटीन होने वालों की संख्या

  • ग्रामीण क्षेत्र में 8479 व शहर में 1465 लोग होम क्वारंटीन
  • कुल  9944 होम क्वारंटीन , 9117 का क्वारंटीन पीरियड पूरा
  • ग्रामीण क्षेत्र के 305 सेंटर में 1602 क्वारंटीन, 6692 का क्वारंटीन पीरियड पूरा
  • शहरी क्षेत्र के 11 सेंटरों में 263 क्वारंटीन , 308 का क्वारंटीन पीरियड पूरा

डीएम के. विजयेंद्र पांडियन ने कहा कि शासन के निर्देश के क्रम में संक्रमण के लक्षण वाले या बीमार लोगों को छोड़कर, स्वास्थ्य परीक्षकर में स्वस्थ मिलने वाले बाकी सभी लोगों को क्वारंटीन सेंटर से घर भेजा जा रहा है। उन्हें उनके घर पर 14 दिन के लिए क्वारंटीन किया जाएगा। अगर कोई क्वारंटीन के प्रोटोकॉल का उल्लंघन कर बार-बार घर से बाहर निकलेगा तो उसे दोबारा क्वारंटीन सेंटर में ले जाकर रखा जाएगा।


 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00