लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Gorakhpur News ›   Women unable to become mothers due to obesity

बात पते की: मोटापे की वजह से मां नहीं बन पा रहीं महिलाएं, इस सर्वे में हुआ खुलासा

अमर उजाला ब्यूरो, गोरखपुर। Published by: vivek shukla Updated Sat, 26 Nov 2022 04:36 PM IST
सार

बीआरडी मेडिकल कॉलेज के स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ सुधीर गुप्ता ने बताया कि महिलाओं में मोटापा की वजह से कई बीमारियां घेर रही हैं। सबसे बड़ी दिक्कत मां बनने में हो रही है। 10 में से तीन महिलाओं को यह समस्या है। मोटापे की वजह से महिलाएं देर से गर्भधारण करती हैं।

महिलाओं में बढ़ रहा मोटापा।
महिलाओं में बढ़ रहा मोटापा। - फोटो : social media
विज्ञापन

विस्तार

गोरखपुर जिले की हर चौथी महिला मोटापे की चपेट में है। इसके अलावा हर चौथी किशोरी और महिला का वजन निर्धारित मानक से ज्यादा है। पांच साल पहले 15 से 49 वर्ष आयु वर्ग की 20 प्रतिशत महिलाएं मोटापे से परेशान थीं, अब यह बढ़कर 23.3 प्रतिशत हो गया है। मोटापे के कारण महिलाओं को मां बनने में भी परेशानी हो रही है। बताया जा रहा है कि हर 10 में से तीन महिलाएं मोटापे की वजह से मां नहीं बन पा रही हैं।



इसका खुलासा राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) की पांचवीं रिपोर्ट में हुआ है। सर्वेक्षण में यह बात भी सामने आई है कि मोटापे की वजह से जिले की करीब 64 फीसदी गर्भवतियां हाईरिस्क की श्रेणी में है। मोटापे के कारण महिलाओं और पुरुषों में शुगर और रक्तचाप की समस्या तेजी से बढ़ी है।


इसके अलावा अन्य कई बीमारियां भी उन्हें घेर रही हैं। इसके अलावा जहां एक तरफ महिलाओं में मोटापा बढ़ रहा है वहीं, पांच साल से कम उम्र के बच्चों में मोटापा के मामले कम हुए हैं। एनएफएचएस-चार में यह 1.6 फीसदी था। एनएफएचएस-पांच में यह 1.3 फीसदी हो गया है, जो बच्चों की सेहत के लिए ठीक नहीं है।


 

मोटापे की वजह से शुगर का भी खतरा

जिला अस्पताल के हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ रोहित गुप्ता ने बताया कि मोटापे की वजह से लोगों के खून में वसा का स्तर बढ़ने लगता है। इससे मांसपेशियों की कोशिकाओं में तनाव बढ़ जाता है। कोशिकाओं में रक्त का संचार कम होता है। इससे शरीर में तमाम तरह की परेशानियां होती हैं। चेहरे की रंगत बिगड़ने लगती है और शरीर के बाहरी हिस्सों में दाग भी पड़ जाते हैं। इनसे कार्डियोवस्कुलर और डायबिटीज टाइप-2 हो जाता है। मोटे लोगों में गाल ब्लैडर की पथरी, अर्थराइटिस, स्लीप एप्निया के साथ ही संतानहीनता का भी खतरा रहता है।

मां बनने के साथ कई बीमारियां भी घेर रहीं
बीआरडी मेडिकल कॉलेज के स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ सुधीर गुप्ता ने बताया कि महिलाओं में मोटापा की वजह से कई बीमारियां घेर रही हैं। सबसे बड़ी दिक्कत मां बनने में हो रही है। 10 में से तीन महिलाओं को यह समस्या है। मोटापे की वजह से महिलाएं देर से गर्भधारण करती हैं। अगर किसी तरह गर्भधारण हो भी जाता है, तो वह टिकता नहीं है। ऐसे केस बीआरडी मेडिकल कॉलेज में प्रतिदिन आ रहे हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00