यूपी: योगी बोले- प्रदेश में कोरोना महामारी खत्म होने के कगार पर, कोविड संकट में जीवन व जीविका बचाने की साक्षी हैं विकास परियोजनाएं

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, गोरखपुर Published by: Vikas Kumar Updated Sun, 24 Oct 2021 11:03 PM IST

सार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि पहले गोरखपुर आने से लोग डरते थे, आज यह शहर दुनिया में विकास का पर्याय है। 
गोरखपुर में सीएम योगी
गोरखपुर में सीएम योगी - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि प्रदेश में कोरोना महामारी खत्म होने के कगार पर है। योगी ने यह बात गोरखपुर में 180 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं के शिलान्यास व लोकार्पण के मौके पर एक सभा को संबोधित करते हुए कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि 25 वर्ष पहले लोग गोरखपुर आने से डरते थे। आज गोरखपुर, दुनिया में विकास का पर्याय बना हुआ है। उन्होंने कहा कि विकास सामूहिक प्रयास का परिणाम है। लंबी बरसात के बाद दिवाली से पहले विकास की यह प्रक्रिया नए गोरखपुर की परिकल्पना को साकार करने वाली है। इसी से गोरखपुर को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाई जाएगी।
विज्ञापन


दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय परिसर में आयोजित लोकार्पण व शिलान्यास समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश ने 12.60 करोड़ रुपये से अधिक लोगों का कोरोनारोधी टीकाकरण और सवा आठ करोड़ से अधिक कोरोना जांच कर कीर्तिमान बनाया है। इलाज के लिए यूपी के अस्पतालों में एक लाख 80 हजार बेड तैयार हैं। आज उत्तर प्रदेश किसी भी मामले में कमजोर नहीं है, बल्कि देश का अग्रणी राज्य है। विकास के इसी सोच को तेजी से आगे बढ़ाने की जरूरत है।


केंद्र सरकार की 44 योजनाओं में यूपी नंबर वन
मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश केंद्र सरकार की सभी योजनाओं में आगे है। देश की 44 योजनाओं में प्रदेश नंबर वन है। चाहे वह स्वच्छ भारत मिशन हो, प्रधानमंत्री आवास योजना, स्वनिधि योजना, सौभाग्य योजना, उज्ज्वला योजना, आयुष्मान योजना, स्वामित्व योजना या स्टार्टअप आदि हो। ये योजनाएं सात वर्ष पहले उत्तर प्रदेश में लागू हो जानी चाहिए थीं, लेकिन पिछली सरकार ने जनहित पर ध्यान नहीं दिया। साढ़े चार साल पहले जनता जनार्दन ने पीएम मोदी पर विश्वास करते हुए प्रदेश में भाजपा की सरकार बनवाई तो सभी योजनाओं को लागू किया गया। इससे हर गरीब के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आया है। विकास योजनाओं का लाभ बिना भेदभाव हर किसी को मिल रहा है।

पीएम के हाथों खाद कारखाना-एम्स का लोकार्पण
मुख्यमंत्री ने बताया कि खाद कारखाना और एम्स लगभग तैयार हैं। प्रधानमंत्री मोदी दोनों का उद्घाटन करेंगे। ये परियोजनाएं विकास के नए आयाम स्थापित करेंगी। उन्होंने कहा कि रामगढ़ताल पर्यटन के नए क्षितिज पर चमक रहा है। वाटर स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स पर्यटन के साथ ही युवाओं के लिए नई संभावनाओं के द्वार खोलेगा। उन्होंने कहा कि पहले जो सपना लगता था, आज हकीकत है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 10 वर्ष पहले जो बीआरडी मेडिकल कॉलेज जर्जर हालत में था, उसने अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ कोरोनाकाल में जीवन देने वाले मेडिकल कॉलेज के रूप में बाबा राघव दास की स्मृतियों को भी ताजा किया है।

सफाई कर्मियों के सम्मान पर जताई खुशी
समारोह के दौरान मुख्यमंत्री के हाथों 11 सफाई कर्मियों को उपहार, परिधान व प्रशस्तिपत्र मिला। सीएम ने कहा कि कोरोना वारियर्स का सम्मान सराहनीय कार्य है। कोरोनाकाल के दौरान हेल्थ वर्कर से लेकर सफाईकर्मियों तक ने आधार स्तंभ के रूप में काम किया। सीएम ने कहा कि गोरखपुर कोरोना से लगभग मुक्ति की ओर अग्रसर है। टीकाकरण युद्ध स्तर पर जारी है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में 43 लाख ग्रामीण व शहरी गरीबों को आवास मुहैया कराया गया है।

11 लाभार्थियों को मुख्यमंत्री ने सौंपी आवास की चाबी
मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री आवास योजना के 11 लाभार्थियों को मकान की चाबी व उपहार प्रदान किया। उन्होंने कहा कि इस योजना के लाभार्थी अपने मकान की फोटो भी लेकर आए हैं। वास्तव में यह योजना गरीबों के जीवन स्तर को उठाने के
सोच को प्रदर्शित करती है।

शहर के पहले मल्टीलेवल पार्किंग में मार्केट भी होगा
मुख्यमंत्री ने गोलघर में बनी शहर की पहली मल्टीलेवल पार्किंग की भी सौगात दी। उन्होंने कहा कि मल्टीलेवल पार्किंग के भवन में मार्केट भी होगा। लोग वाहनों को सुरक्षित खड़ा कर आराम से खरीदारी भी कर सकेंगे। मल्टीलेवल पार्किंग से शहर में लगने वाले जाम से मुक्ति मिलेगी।

ट्रैफिक मैनेजमेंट के साथ ही अपराधियों की भी खबर लेगा आईटीएमएस
सीएम ने इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम (आईटीएमएस) का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि इससे ट्रैफिक मैनेजमेंट व दुर्घटनाओं में कमी तो होगी ही, चौराहों पर छेड़खानी और लूट की घटनाओं पर भी नियंत्रण होगा। किसी ने बहन-बेटियों से छेड़छाड़ की या किसी व्यापारी से लूट की तो आईटीएमएस के सीसी कैमरे से देखकर अगले चौराहे पर पुलिसकर्मी उसके स्वागत के लिए तैयार मिलेंगे। उनका कैसा स्वागत होगा, यह सभी जानते हैं।

सिस्टम से जुड़ेंगे शहर के 21 चौराहे
गोरखपुर के 21 चौराहों को इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम से जोड़ा रहा है। नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने बताया कि नौ चौराहों को सिस्टम से जोड़ा जा चुका है। 12 चौराहों पर काम चल रहा है। 20 नवंबर तक काम पूरा लिया जाएगा, फिर लोकार्पण होगा। एक साथ 21 चौराहों पर एक साथ सुविधा शुरू की जाएगी।

बरसात से प्रभावित परियोजनाएं समय से पूरी कराने का निर्देश
मुख्यमंत्री ने मंच से ही अधिकारियों को निर्देशित किया कि बारिश से प्रभावित परियोजनाओं को समयबद्ध ढंग से गुणवत्ता के साथ पूर्ण कराएं। बरसात ने 70-80 साल का रिकॉर्ड तोड़ा है। इससे कुछ समस्याएं आईं हैं। उन्होंने जलभराव से निजात की स्थायी व्यवस्था के लिए नगर निगम, जीडीए व पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को निर्देशित किया। कहा कि शहर के बाहरी क्षेत्रों में भी सड़क, बिजली, जलनिकासी आदि का समाधान तेजी से कर हर नागरिक को सुविधाओं का लाभ दिलाया जाए। मुख्यमंत्री ने नगर निगम के नए भवन निर्माण का भी जिक्र किया और कहा कि 100 साल बाद बन रहा यह भवन एक गौरवपूर्ण उपलब्धि होगी।

सुगम परिवहन का साधन बनेंगी इलेक्ट्रिक बसें
मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले समय में गोरखपुर में 25 इलेक्ट्रिक बसें चलेंगी। ये बसें सुगम परिवहन का साधन होंगी। पहले यहां सिटी बसें चलती थीं जो मेंटेनेंस के अभाव में बंद हो गईं। आज इलेक्ट्रिक बसों के चार्जिंग स्टेशन का भी लोकार्पण हुआ है।

समारोह में ये रहे मौजूद
समारोह में स्वागत संबोधन महापौर सीताराम जायसवाल व आभार ज्ञापन नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने किया। इस अवसर पर राज्यसभा सदस्य जयप्रकाश निषाद, जिला पंचायत अध्यक्ष साधना सिंह, विधायक डॉ. राधामोहन दास अग्रवाल, बिपिन सिंह, महेंद्रपाल सिंह, संत प्रसाद, शीतल पांडेय, राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष अंजू चौधरी, नगर निगम के उपसभापति ऋषि मोहन वर्मा, भाजपा महानगर अध्यक्ष राजेश गुप्ता, जिलाध्यक्ष युधिष्ठिर सिंह समेत कई पार्षद व अधिकारी मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री के हाथों इन कार्यों का हुआ शिलान्यास
- इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम- 50.25 करोड़
- ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के कार्य -3.50 करोड़
- मृत पशुओं के लिए शवदाह संयंत्र -3.50 करोड़
- 14वें/15वें वित्त, अवस्थापना विकास निधि व नगर निगम निधि से सड़क-नाली निर्माण - 38.98 करोड़
- पेयजल के कार्य -11.94 करोड़
- जलनिकासी के कार्य -1.90 करोड़
- नालों का फाइटोरेमेडीएशन से शुद्धिकरण - 6.78 करोड़
- 1500 एलईडी स्ट्रीट लाइट - 0.50 करोड़
- पार्कों का सौंदर्यीकरण - 0.34 करोड़
- डूडा द्वारा सड़क व नाली निर्माण - 3.72 करोड़

इन कार्यों का हुआ लोकार्पण
- इलेक्ट्रिक बसों के लिए चार्जिंग स्टेशन - 11.43 करोड़
- 15वें वित्त से सड़क व नाली निर्माण - 3.72 करोड़
- दो स्थानों पर जोनल ऑफिस - 0.30 करोड़
- रेलवे बस स्टेशन पर फ्री वाईफाई - 6 लाख

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00