बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
अन्न,धन और बुद्धि बढ़ाने का महाउपाय, प्रसन्न करें लक्ष्मी नारायण को - फ्री, रजिस्टर करें
Myjyotish

अन्न,धन और बुद्धि बढ़ाने का महाउपाय, प्रसन्न करें लक्ष्मी नारायण को - फ्री, रजिस्टर करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

महाअभियान: 60 हजार का लक्ष्य लगा रिकॉर्ड 61897 को लगा कोविड का टीका, तस्वीरें बयां कर रही हैं पूरी कहानी

गोरखपुर में महाअभियान के तहत मंगलवार को कोविड का टीका लगवाने के लिए बूथों पर लोगों की जबरदस्त भीड़ दिखी। सुबह पांच बजे से ही लोग लाइन में लगे रहे। इस बीच उनका नंबर पांच से छह घंटे बाद आया। शहरी इलाकों में बनाए गए बूथों में सबसे अधिक भीड़ महिला अस्पताल और संक्रामक अस्पताल के बने बूथों पर रही। इस बीच रिकॉर्ड 61897 को कोविड का टीका लगाया गया है। जबकि लक्ष्य 60 हजार का रखा गया था। इसमें 56262 को पहली डोज और 5635 को दूसरी डोज लगाई गई। गोरखपुर और बस्ती मंडल में सबसे अधिक टीकाकरण जिले में हुआ है।

जानकारी के मुताबिक, 16 जनवरी से शुरू हुए टीकाकरण में पहली बार महाअभियान चलाया गया है। इस महाअभियान के तहत 202 बूथ बनाए गए थे। इन बूथों पर 314 वैक्सीनेटर और 287 वेरिफायर लगाए गए थे। साथ ही 262 टीमें निगरानी के लिए लगाई गई थी। आगे की स्लाइड्स में देखें तस्वीरें...

 
... और पढ़ें
गोरखपुर में टीकाकरण। गोरखपुर में टीकाकरण।

पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी: भाजपा विधायक और एसएसपी के नाम पर जालसाजी करने वाले छह गिरफ्तार, मथुरा में बैठकर चलाते थे गिरोह

गोरखपुर जिले के कैंपियरगंज से भाजपा विधायक फतेह बहादुर सिंह, एसएसपी दिनेश कुमार प्रभु और एडवोकेट नीरज शाही का फर्जी सोशल मीडिया अकाउंट बनाकर उनके मित्रों से रुपये मांगने वाले छह साइबर अपराधियों को पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उनके पास से दर्जनों मोबाइल फोन, सिमकार्ड बरामद किए हैं। पुलिस के मुताबिक, जालसाजों ने सिर्फ गोरखपुर जिले से 80 लाख रुपये से अधिक की साइबर ठगी की है। गिरोह में शामिल जालसाजों में दो बाल अपचारी भी हैं। पुलिस अब इनके सभी बैंक खातों के ट्रांजेक्शन खंगाल रही है।

एसएसपी दिनेश कुमार प्रभु ने मंगलवार को गिरोह के पकड़े गए सदस्यों के बारे में पुलिस लाइंस में प्रेस कांफ्रेंस कर घटना का पर्दाफाश किया। एसएसपी ने बताया कि ये लोग सोशल मीडिया फेसबुक, व्हाट्सएप आदि से लोगों की फोटो, नाम और फेसबुक फ्रैंड लिस्ट को चुराकर फर्जी फेसबुक आईडी, व्हाट्सएप अकाउंट बनाते थे। इसके बाद फेसबुक फ्रेंड से मदद के नाम पर रुपये की मांग कर कई वॉलेट/बैंक खातों में जमा करा लेते थे। 

बीते दिनों एसएसपी दिनेश कुमार प्रभु, भाजपा विधायक फतेह बहादुर सिंह और एडवोकेट नीरज शाही जैसे दर्जनों बड़े लोगों का फर्जी अकाउंट बनाकर गिरोह के सदस्य उनके शुभचिंतकों से रुपये की डिमांड कर रहे थे। मामला संज्ञान में आने के बाद पुलिस हरकत में आई। गिरोह को पकड़ने के लिए साइबर क्राइम सेल की टीम को लगाया गया। मंगलवार को गिरोह के 6 सदस्यों को साइबर क्राइम सेल व कैंट पुलिस की संयुक्त टीम ने गिरफ्तार किया।
... और पढ़ें

किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म मामला: पीड़िता के पिता ने ठानी ये बात, बोले- दिलाऊंगा बेटी और उसके बच्चे को न्याय

बस्ती जिले में सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता किशोरी और उसके पेट में पल रहे सात माह के गर्भस्थ शिशु का भविष्य क्या होगा, यह तो वक्त बताएगा लेकिन पीड़िता के पिता ने उन्हें उनका हक दिलाने की ठान ली है। पीड़िता के पिता का कहना है अब वह ईश्वर से यही विनती करता है कि उसकी बेटी का प्रसव सुरक्षित हो। उनका कहना है कि बेटी को हक दिलाने के लिए वह कुछ भी करने को तैयार है।

उधर, पुलिस ने भी सामूहिक दुष्कर्म के तीनों आरोपियों बृजेश निषाद, गोरख निषाद और प्रदीप निषाद पर सोमवार को गैगस्टर की कार्रवाई कर चुकी है। एसपी आशीष श्रीवास्तव का कहना है कि पीड़िता का चाइल्ड लाइन के जरिए काउंसलिंग भी कराई जा रही है। यदि अभिभावक की तरफ से डीएनए टेस्ट कराने का आवेदन दिया जाएगा तो पुलिस उसके लिए भी तैयार है।

ये है पूरा मामला
13 जून को जिले में हैरान करने वाली घटना सामने आई थी। कप्तानगंज थानाक्षेत्र की एक 15 साल की किशोरी से तीन लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म किया। धमकी दी कि यदि किसी को बताया तो जान से मार देंगे। डर के मारे पीड़िता ने अपनी जुबान बंद रखी। मगर पांच महीने बाद जब उसकी तबीयत बिगड़ी तो मां डॉक्टर के यहां ले गई। तब पता चला कि उसके पेट में पांच माह का गर्भ है।

जानकारी होने पर परिवार वालों के पैरों तले जमीन सरक गई। पीड़िता के पिता के अनुसार, वह थाने पर तहरीर लेकर गए। जिसमें बताया कि उसकी बेटी पांच जनवरी को सीवान में घास काटने गई थी। उसी समय गांव के तीन लोगों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। पुलिस ने तीनों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म व पाक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया। दूसरे ही दिन तीनों गिरफ्तार करके जेल भेज दिए गए।

पर्याप्त साक्ष्य मिलने के बाद पुलिस ने सवा महीने के भीतर ही अदालत में आरोप पत्र भी भेज दिया। अब पुलिस उन पर गैंगस्टर की कार्रवाई कर चुकी है। इससे पहले गर्भपात कराने की भी बात उठी लेकिन इसके लिए न तो परिवार के लोगों ने सहमति दी और न ही इलाज कर रहे डाक्टरों ने ही इजाजत दी। आखिरकार पीड़िता के पिता ने ठान लिया कि वह नाबालिग बेटी का सुरक्षित प्रसव कराएगा। डाक्टरों ने इसके लिए अक्टूबर माह की 13 तारीख के आसपास की प्रसव की संभावित तिथि बताई है।
... और पढ़ें

गोरखपुर में सड़क हादसा: फोरलेन पर ट्रक खड़ी कर खलासी बदल रहा था टायर, पीछे से आ रही ट्रक ने कुचला, दो की मौत

गोरखपुर जिले के खोराबार इलाके के जगदीशपुर से बाघागाढ़ा की ओर जाने वाली लेन पर सोमवार की देर रात दो ट्रकों में टक्कर हो गई। हादसे में 2 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल का मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है।

हादसे में मोहाली पंजाब के डेरावासी निवासी अजय कुमार (46) और मध्य प्रदेश के खरगोन के कसरवान निवासी पदम (45) के रूप में हुई है। घायल रायबरेली के 26 वर्षीय राहुल कुमार को भर्ती कराया गया है। जानकारी के मुताबिक, खोराबार थाना क्षेत्र के कुरमौल गांव के समीप फोरलेन पर जगदीशपुर से बाघागाड़ा की ओर जाने वाली लेन में ट्रक के टायर खराब होने के कारण ट्रक खड़ी थी।

ट्रक का खलासी टायर खोल रहा था। इस दौरान पीछे से आ रही ट्रक ने खड़ी ट्रक में टक्कर मार दी। दुर्घटना में दोनों ट्रकों के परखच्चे उड़ गए। हादसे के बारे में मृतक और घायल के घरवालों को पुलिस ने सूचना दे दी है।


 
... और पढ़ें

गोरखपुर: बीआरडी मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टर और तीमारदार के बीच मारपीट, लापरवाही का लगाया आरोप

गोरखपुर में सड़क हादसा।
गोरखपुर में बीआरडी मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन विभाग के वार्ड नंबर 14 में मंगलवार को तीमारदार और जूनियर डॉक्टर के बीच मारपीट हो गई। तीमारदारों का आरोप है कि मरीज के इलाज में लापरवाही की जा रही थी। सही से इलाज करने को कहने पर जूनियर डॉक्टरों ने मारा पीटा। सूचना पर पहुंची पुलिस ने मामले में दोनों पक्षों को समझाया। इस मामले में कोई लिखित तहरीर नहीं मिली है।

जानकारी के मुताबिक बिहार के सिवान जिले के बलहू निवासी शैलेश सिंह की बेटी अनीता सिंह (21) की तबीयत सोमवार को खराब हो गई। परिजन इलाज के लिए बीआरडी मेडिकल कॉलेज पहुंचे। जहां पर उन्हें इलाज के लिए मेडिसिन के आईसीयू में भर्ती किया गया।

इस बीच मंगलवार की दोपहर तबीयत बिगड़ी तो परिजनों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाना शुरू कर दिया। इस पर जूनियर डॉक्टर ने सही से इलाज करने की बात कही तो विवाद शुरू हो गया।

परिजनों और डॉक्टरों के बीच कहा-सुनी होने लगी। स्थिति मारपीट तक पहुंच गई। मरीज के भाई अतुल सिंह का आरोप है कि जूनियर डॉक्टरों ने मारा पीटा। इसकी वजह से कमर, दाईं आंख के नीचे चोट लग गई, जबकि जूनियर डॉक्टर का कहना है कि उनके सीने में चोट लगी है। सूचना पर तत्काल मौके पर पुलिस पहुंची और तीमारदारों को लेकर चौकी पर चली गई। चौकी पर पहुंचते ही भाई अतुल को सूचना मिली की अनीता की मौत हो गई है। इसके बाद अतुल तत्काल वार्ड में चले गए।

बीआरडी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. गणेश कुमार ने कहा कि मरीज की हालत गंभीर थी। इलाज चल रहा था। उसे बचाने की पूरी कोशिश की गई। परिजनों को इलाज को लेकर धैर्य रखना चाहिए था, लेकिन वह लगातार डॉक्टरों पर दबाव बना रहे थे। जबकि, जूनियर डॉक्टर मरीज के इलाज में पूरी तन्मयता से लगे थे। कोई भी डॉक्टर मरीज के इलाज में लापरवाही नहीं करता है। गंभीर स्थिति में मरीज की मौत हुई है।
 

 
... और पढ़ें

गोरखपुर: ऑक्सीजन प्लांट की कनेक्शन प्लेट काट रहे थे दो संदिग्ध, गिरफ्तार

गोरखपुर जिला अस्पताल के नवनिर्मित ऑक्सीजन प्लांट की कनेक्शन प्लेट काट रहे दो संदिग्धों को मंगलवार की सुबह पुलिस ने हिरासत में लिया है। पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है। वहीं, ऑक्सीजन प्लांट अब तक जिला अस्पताल प्रशासन को हैंडओवर नहीं हुआ है।
 
जानकारी के मुताबिक नवनिर्मित ऑक्सीजन प्लांट में एल्युमीनियम की कनेक्शन प्लेट काट रहे दो संदिग्धों को मंगलवार की सुबह भीड़ ने पकड़ लिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने दोनों के पास से छीनी-हथौड़ा और रॉड बरामद किया है। कोतवाली पुलिस उन्हें थाने ले जाकर पूछताछ शुरू कर दी है।

बता दें कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस जिला चिकित्सालय में ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण किया गया है। नवनिर्मित प्लांट का ट्रॉयल चल रहा है। मंगलवार सुबह दो संदिग्ध प्लांट के ब्लॉग में घुसे और एल्युमीनियम की एक मोटी प्लेट को छीनी-हथौड़े से काटने लगे।

आशंका होने पर तीमारदार मौके पर पहुंच गए और पूछताछ कर उन्हें पकड़ लिया। कोतवाली प्रभारी कल्याण सागर ने बताया कि दोनों की पहचान कर ली गई है। जांच की जा रही है। अब तक तहरीर नहीं मिली है। तहरीर मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

 
... और पढ़ें

देवरिया: कॉलेज के परिचारक ने ट्रेन के आगे कूदकर दी जान, सीमा विवाद में तीन घंटे पड़ा रहा शव

देवरिया जिले में भटनी वाराणसी रेल खंड के तुर्तीपार स्टेशन से सौ मीटर दक्षिण एक कॉलेज के परिचारक ने मंगलवार की सुबह ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी। सीमा विवाद में तीन घंटे तक शव पड़ा रहा। बाद में पहुंची लार पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

लार थाना क्षेत्र के धकपुरा गांव निवासी राजकुमार गौड़ (47) रेवली इंटर कालेज में परिचारक थे। पैसों की तंगी से आए दिन परिवार में कलह होती थी। राजकुमार गौड़ सुबह घर से टहलने के लिए निकले। सुबह करीब साढ़े आठ बजे वह मुंबई को जाने वाली गोदान एक्सप्रेस के सामने कूद गए। उनका सिर धड़ से अलग हो गया।

सूचना पर पहुंची मईल पुलिस ने घटनास्थल लार में होने की बात कही और लार पुलिस को सूचना दी। आसपास के लोगों की भीड़ जमा हो गई। धकपुरा गांव निवासी महानंद मिश्रा ने शव की पहचान की। सूचना पाकर परिजन भी घटनास्थल पर पहुंचे। मृतक के तीन पुत्र हैं। धर्मेंद्र, मंजेश, गजेंद्र व पत्नी ज्ञांती देवी का रो-रो कर बुरा हाल था।

सीमा विवाद के कारण तीन घंटे बाद पहुंचीं लार पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए देवरिया भेज दिया। जिला पंचायत सदस्य अरविंद कुमार पांडेय ने लार पुलिस के विलंब से आने पर नाराजगी जताई।

लार एसओ प्रदीप शर्मा ने बताया कि सीमा विवाद नहीं था। परिचारक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।
... और पढ़ें

गोरखपुर: भटहट, कैंपियरगंज और सहजनवां सीएचसी को कायाकल्प अवार्ड, जानिए किन मानकों पर होता है मूल्यांकन

गोरखपुर जिले के भटहट, कैंपियरगंज और सहजनवां सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) को कायाकल्प अवार्ड प्राप्त हुआ है। कोविड काल में 80.2 फीसदी अंकों के साथ जिले में प्रथम स्थान पाने वाले भटहट सीएचसी को इससे पहले प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) श्रेणी में भी यह पुरस्कार मिल चुका है।

सहजनवां सीएचसी ने प्रथम प्रयास में ही यह पुरस्कार जीता है। इधर, कैंपियरगंज सीएचसी को लगातार तीसरी बार कायाकल्प अवार्ड मिला है। सीएमओ डॉ. सुधाकर पांडेय ने पुरस्कार पाने वाली सभी स्वास्थ्य इकाइयों को बधाई दी है। इन सभी को पुरस्कार के तौर पर एक-एक लाख रुपये मिलेंगे।

कायाकल्प अवार्ड योजना के नोडल अधिकारी डॉ नंद कुमार ने बताया कि कोविड काल में प्रदेश की 820 सीएचसी में से 215 सीएचसी को कायाकल्प अवार्ड के लिए चुना गया है। इनमें जिले की तीन सीएचसी भी शामिल हैं। वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए घोषित इन पुरस्कारों से संबंधित वर्चुअल मूल्यांकन कोविड काल में ही हुआ था।

मूल्यांकन के आधार पर भटहट सीएचसी को 80.2, कैंपियरगंज को 78.9 और सहजनवां को 77.2 फीसदी अंक हासिल हुए हैं। इन सभी को बतौर पुरस्कार एक-एक लाख रुपये मिलेंगे। उनमें से 75 फीसदी स्वास्थ्य इकाई में गुणात्मक सुधार के लिए जबकि 25 फीसदी कर्मचारी कल्याण के लिए खर्च किए जाने का प्रावधान है।

सीएमओ ने भटहट सीएचसी के अधीक्षक डॉ. अश्विनी चौरसिया, कैंपियरगंज के अधीक्षक डॉ. भगवान प्रसाद, सहजनवां के अधीक्षक डॉ. सतीश सिंह, नोडल अधिकारी कायाकल्प डॉ. नंद कुमार, जिला क्वालिटी एश्योरेंस कंसल्टेंट डॉ. मुस्तफा खान, सहयोगी विजय समेत कायाकल्प के सहयोगी सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई दी है।

इन मानकों पर होता हैं मूल्यांकन
अस्पताल का रख-रखाव, स्वच्छता व साफ-सफाई, बॉयोमेडिकल बेस्ट मैनेजमेंट, इंफेक्शन कंट्रोल प्रैक्टिसेज, हाईजीन प्रमोशन, सपोर्ट सर्विसेज, बियांड बाउंड्री।

 
... और पढ़ें

यात्रीगण कृपया ध्यान दें: दक्षिण भारत के धार्मिक स्थलों का दर्शन कराएगा आईआरसीटीसी, चलने जा रही ये स्पेशल ट्रेन

अगर आप दक्षिण भारत के मंदिरों का दर्शन करना चाहते हैं तो आप के लिए अच्छी खबर है। कोरोना संक्रमण कम होने के बाद यात्रियों की मांग को देखते हुए भारतीय रेलवे ने 'दक्षिण भारत दर्शन स्पेशल टूरिस्ट ट्रेन' चलाने का निर्णय लिया है। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन 17 सितंबर से ‘भारत दर्शन स्पेशल टूरिस्ट ट्रेन’ का संचालन शुरू करेगा। यह टूर 13 दिनों का होगा।
 
आईआरसीटीसी के पैकेज के मुताबिक, यात्रा के लिए प्रति यात्री को 12285 रुपये जीएसटी के साथ देने होंगे। ट्रेन में सभी कोच स्लीपर क्लास के लगेंगे। ट्रेन गोरखपुर से 16 सितंबर को रात 12.05 बजे यानी रेलवे के समय के हिसाब से 17 सितंबर को यात्रा शुरू करेगी। ट्रेन में गोरखपुर के अलावा देवरिया, मऊ, वाराणसी, जौनपुर, सुल्तानपुर, लखनऊ, कानपुर, झांसी आदि स्टेशनों पर यात्री बैठ सकेंगे।

यह ट्रेन मलिकार्जुन, कन्याकुमारी, रामेश्वरम, त्रिवेंद्रम, तिरूपति सहित कई धार्मिक स्थलों पर जाएगी। सफर में शाकाहारी नाश्ता, भोजन कराया जाएगा और लोकल में ऐसी बस से सफर कराया जाएगा। यात्रा के लिए बुकिंग शुरू कर दी गई है। आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर बुकिंग की जा सकती है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us