बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
ग्रह दोष होंगे समाप्त, इस सावन करवाएं विशेष नवग्रह पूजन, फ़्री में, अभी बुक करें
Myjyotish

ग्रह दोष होंगे समाप्त, इस सावन करवाएं विशेष नवग्रह पूजन, फ़्री में, अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

क्लैट 2019 : सोशल मीडिया से दूरी बनाकर की तैयारी, पाई 26वीं रैंक, दिए कारगर टिप्स

क्लैट में ऑल इंडिया 26वीं रैंक हासिल करने वाली अदिति सेठ ने सोशल मीडिया से दूरी बनाकर तैयारी की।

16 जून 2019

विज्ञापन
Digital Edition

गुजरात : फुटपाथ पर सो रहे दिहाड़ी मजदूर के परिवार को तेज रफ्तार कार ने कुचला, एक की मौत

गुजरात के अहमदाबाद में तेज गति से आ रही एक कार सोमवार देर रात फुटपाथ (पैदल पथ) पर सो रहे एक परिवार पर चढ़ गई और एक महिला की मौत हो गई। वहीं, उसके पति एवं दो बच्चे घायल हो गए।

यातायात पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि यह हादसा सोमवार देर रात करीब साढ़े 12 बजे हुआ और दुर्घटना के बाद कार चालक वाहन वहीं छोड़कर भाग गया।

उन्होंने बताया कि शिवरंजनी और नेहरू नगर इलाकों के बीच चालक ने कार पर से नियंत्रण खो दिया, इसके बाद वाहन अहमदाबाद में एक फुटपाथ पर सो रहे दिहाड़ी मजदूरों के परिवार पर चढ़ गया। कार ने वहां खड़े एक दो पहिया वाहन को भी टक्कर मारी।

यातायात पुलिस उप निरीक्षक बीबी वाघेला ने बताया कि संतुबेन बाबूभाई (38) नाम की एक महिला की मौत हो गई, जबकि उसका पति बाबूभाई एवं दो बच्चे घायल हो गए। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
... और पढ़ें

गुजरात: लोजपा में जारी उठापटक के बीच अहमदाबाद दौरे पर पहुंचे चिराग पासवान

लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) में जारी उठापटक के बीच पार्टी के नेता चिराग पासवान सोमवार को गुजरात के अहमदाबाद पहुंचे। इसे उन्होंने शहर का निजी दौरा करार दिया।

हवाईअड्डे पर पहुंचे पासवान उस सवाल पर सीधा जवाब देने से बचते नजर आए, जिसमें उनसे पूछा गया कि क्या वह एक वरिष्ठ भाजपा नेता से मुलाकात करने अहमदाबाद आए हैं क्योंकि ऐसी अटकलें हैं? लोजपा नेता ने कहा कि वह निजी दौरे पर अहमदाबाद आए हैं।

गौरतलब है कि अपनी ही पार्टी में चुनौतियों का सामना कर रहे लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के नेता चिराग पासवान ने मंगलवार को कहा था कि भाजपा के साथ उनके संबंध एकतरफा नहीं रह सकते हैं और यदि उन्हें घेरने का प्रयास जारी रहा तो वह अपने भविष्य के राजनीतिक कदमों को लेकर सभी संभावनाओं पर विचार करेंगे।

चिराग पासवान ने मीडिया को दिए एक साक्षात्कार में कहा था कि उनके पिता रामविलास पासवान और वह हमेशा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा भाजपा के साथ चट्टान की तरह खड़े रहे, लेकिन जब इन कठिन समय के दौरान उनके हस्तक्षेप की उम्मीद थी, तो भाजपा साथ नहीं थी।
... और पढ़ें

पीएम के गढ़ में सेंध: महेश सवानी आप में शामिल, 4000 बेटियों के 'दत्तक पिता' हैं सूरत के ये हीरा व्यापारी

आम आदमी पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गढ़ गुजरात में सूरत के निकाय चुनावों में जीत के बाद एक और बड़ी मनोवैज्ञानिक बढ़त हासिल की है। सूरत के प्रसिद्ध हीरा व्यवसायी महेश सवानी ने रविवार को आम आदमी पार्टी की सदस्यता ले ली। 

सेवानी गुजरात में समाज सेवा के लिए प्रसिद्ध हैं और लोग प्यार से उन्हें 'अनाथ-गरीब बेटियों के दत्तक पिता' कहते हैं। उनका यह उपनाम उनकी जनसेवा और गरीब बेटियों की शादी कराने के कारण मिला है। वे अब तक 4,000 से ज्यादा गरीब बेटियों की शादी करवा चुके हैं। उनके आने से आम आदमी पार्टी न केवल गुजरात में मजबूत होगी, बल्कि आगामी विधानसभा चुनावों में वह भाजपा और कांग्रेस के सामने बड़ी मुश्किल भी खड़ी करेगी।

गुजरात चुनाव में बड़ी जिम्मेदारी संभव
महेश सवानी को गुजरात विधानसभा चुनावों के मद्देनजर बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है। उनके पार्टी में जुड़ने से अन्य बड़े व्यवसायियों के भी पार्टी के साथ जुड़ने की संभावना बन रही है।

दरअसल, महेश सवानी का अर्थ केवल एक व्यक्ति होने तक सीमित नहीं है। वे पूरे गुजरात में समाज सेवा के कार्यों के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने अब तक बिना किसी राजनीतिक दल से जुड़े समाज की सेवा की है जिसके कारण अहमदाबाद, सूरत, भरुच जैसे इलाकों में उनकी बहुत साख है। उन्होंने हीरा व्यवसायियों के एसोसिएशन में महत्त्वपूर्ण पद भी संभाले हैं, माना जा रहा है कि उनके आम आदमी पार्टी में शामिल होने से पार्टी को गुजरात के विधानसभा चुनावों में पांव जमाने का अच्छा अवसर मिलेगा।
... और पढ़ें

Rajasthan School Reopen: राजस्थान, हिमाचल प्रदेश में दो अगस्त से खुलेंगे स्कूल, गुजरात में 26 जुलाई से

कोरोना महामारी के संक्रमण के मामलों में लगातार को हो रही गिरावट के मद्देनजर कई राज्यों में बंद पड़े स्कूलों को पुन: खोले जाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसी क्रम में गुरुवार को हिमाचल प्रदेश, गुजरात और राजस्थान की सरकार ने राज्यों में स्कूल पुन: खोले जाने संबंधी प्रस्तावों को अपनी कैबिनेट बैठकों में मंजूरी दे दी है। इससे पहले, हरियाणा, तेलंगाना, पंजाब, छत्तीसगढ़ और बिहार सरकार अपने राज्य में स्कूल दोबारा खोलने की घोषणाएं कर चुकी हैं। 

राजस्थान में दो अगस्त से खुलेंगे सभी विद्यालय एवं कॉलेज
राजस्थान सरकार ने कैबिनेट ने स्कूलों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों को फिर से खोलने के लिए अपनी सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर बताया कि मुख्यमंत्री निवास पर हुई राज्य मंत्रिमंडल एवं मंत्रिपरिषद की बैठक में विद्यालयों के लिए कंप्यूटर अनुदेशकों की नियमित भर्ती करने, कोविड की दूसरी लहर के बाद प्रदेश में विद्यालयों एवं अन्य शैक्षणिक संस्थानों को शिक्षण कार्य के लिए खोलने पर सैद्धांतिक सहमति बनी है। वहीं, राज्य के शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा ने कहा कि कैबिनेट की बैठक में प्रदेश के सभी विद्यालयों को 02 अगस्त से खोलने का निर्णय लिया गया है। इसके साथ राज्य में कोचिंग संस्थान भी खुल सकेंगे। 

हिमाचल प्रदेश में भी दो अगस्त से खुलेंगे शिक्षण संस्थान
... और पढ़ें
school reopen (फाइल फोटो) school reopen (फाइल फोटो)

गुजरात: रिश्वत मांगने के आरोप में सरकारी इंजीनियर गिरफ्तार, एसीबी ने जब्त की रिकॉर्ड 2.27 करोड़ रुपये की नकदी

गुजरात के भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो (एसीबी) ने रिश्वत मांगने के आरोप में एक सरकारी इंजीनियर को गिरफ्तार किया, जिसके पास से रिकॉर्ड 2.27 करोड़ रुपये नकदी जब्त की। 

एसीबी ने मंगलवार को बताया कि उसने एक सरकारी अधिकारी के पास से रिकॉर्ड 2.27 करोड़ रुपये नकद जब्त किए हैं, जिसे 16 जुलाई को कथित तौर पर 1.21 लाख रुपये की रिश्वत मांगने और स्वीकार करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

गुजरात एसीबी ने एक विज्ञप्ति में इसे अपने इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी जब्ती बताते हुए कहा कि उसने गांधीनगर में समग्र शिक्षा अभियान (एसएसए) कार्यालय में तैनात राजकीय परियोजना अभियंता (क्लास 2) निपुण चोकसी के एक लॉकर से 10 लाख रुपये मूल्य का 300 ग्राम सोना भी बरामद किया है।

विज्ञप्ति में कहा गया कि पाटन में एसएसए के लिए कुछ काम पूरा करने वाले एक ठेकेदार ने एसीबी से रिश्वत मांगे जाने की शिकायत की थी, जिसके बाद 16 जुलाई को चोकसी को 1.21 लाख रुपये लेते समय पकड़ा गया।

विज्ञप्ति के अनुसार, उसके घर से 4.12 लाख रुपये और दो अलग-अलग बैंक लॉकरों से 74.50 लाख और 1,52,75,000 रुपये बरामद किये गए। जांच में पता चला कि चोकसी ठेकेदारों से काम पूरा करने के लिये एक प्रतिशत कमीशन वसूलता था।
... और पढ़ें

गुजरात के इस संस्थान में होगी आयुर्वेद पर गहन रिसर्च, सरकार से हुआ करार

गुजरात के जामनगर स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ टीचिंग एंड रिसर्च इन आयुर्वेद पूरे देश में होने वाले आयुर्वेद के शोध को बढ़ावा देगा। यहां के रिसर्च और तकनीकी सहयोग से न सिर्फ देश बल्कि पूरी दुनिया में आयुर्वेद को पहचान मिलेगी। आयुर्वेद मंत्रालय के सचिव वैद्य राजेश कोटेचा ने गुजरात के जामनगर में इसके लिए राज्य सरकार के साथ एक करार भी किया है।

इस करार के तहत जामनगर में आयुर्वेद परिसर में चलने वाले सभी संस्थानों को आईटीआरए के तहत लाया गया है। इस करार पर दस्तखत करते हुए गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन भाई पटेल ने कहा ऐसा होने से आयुर्वेद के सभी शाखाओं की शिक्षण प्रणाली को बहुत मजबूती मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा गुजरात में होने वाले शोध से न सिर्फ देश बल्कि पूरी दुनिया में आयुर्वेद को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति को बढ़ावा देते आ रहे हैं।

संस्थान के निदेशक डॉ अनूप ठक्कर और गुजरात आयुर्वेद यूनिवर्सिटी के कार्यवाहक रजिस्ट्रार एचपी झालानी ने आयुष मंत्रालय के साथ हुए इस करार के दस्तावेजों को आपस में सौंपा। इस कार्यक्रम के दौरान आयुष मंत्रालय के सचिव वैद्य राजेश कोटेचा ने कहा आईटीआरए न सिर्फ देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में आयुर्वैदिक शोध संस्थान के मामले में अहम स्थान रखता है।
... और पढ़ें

सहकारिता मंत्रालय: गठन को लेकर विपक्ष आशंकित, अमित शाह ने कहा- मोदी सरकार का एजेंडा विकास का

‘सहकार से समृद्धि’ के सपने को साकार करने के लिए केंद्र द्वारा गठित सहकारिता मंत्रालय को लेकर सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच विरोधी सुर सामने आने लगे हैं। केंद्रीय गृह और सहकारिता मंत्री अमित शाह ने रविवार को विकासोन्मुख एजेंडे के लिए मोदी सरकार की सराहना की और कहा कि पीएम मोदी ऐसे नेता हैं जो अपने कार्यकाल के बाद भी विकास कार्यों को जारी रखना सुनिश्चित करते हैं।

सहकारिता मंत्रालय के गठन को लेकर विपक्ष आशंकित, उठाए सवाल
वहीं नवगठित सहकारिता मंत्रालय को लेकर विपक्ष आशंकित है। एनसीपी नेता शरद पवार ने कहा कि केंद्र के नए मंत्रालय से कोई फर्क नहीं पड़ेगा लेकिन वह राज्यों के सहकारिता क्षेत्र में दखलंदाजी नहीं कर सकता है जबकि वरिष्ठ कांग्रेस नेता रमेश चेन्नीथला ने सरकार के नए मंत्रालय के गठन के खिलाफ धर्मनिरपेक्ष पार्टियों से एकजुट होकर संघर्ष करने की अपील की।  

गुजरात के तीन दिवसीय दौरे के पहले दिन अहमदाबाद में शाह ने कहा कि मोदी संभवत: ऐसे पहले नेता हैं, जिन्होंने यह सुनिश्चित करने के लिए एक प्रणाली तैयार की कि उनके मुख्यमंत्री पद छोड़ने के बाद भी विकास कार्य जारी रहें। राजनीति में इतने लंबे अनुभव के दौरान मैंने तीन प्रकार के नेता देखे हैं। कुछ ऐसे नेता हैं, जो चीजों को अपनी गति से होने देते हैं और केवल फीता काटने के लिए जाते हैं। कुछ ऐसे नेता भी हैं, जो अपने कार्यकाल के दौरान सबसे अधिक विकास सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं।

लेकिन कुछ ऐसे भी हैं, जो ऐसा तंत्र बनाते हैं कि उनके जाने के बाद भी विकास जारी रहते हैं और नरेंद्र भाई ऐसा करने वाले संभवत: पहले नेता हैं। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी का विकास का एजेंडा है। शाह को नवगठित सहकारिता मंत्रालय का भी प्रभार सौंपा गया है। नया मंत्रालय देश में सहकारिता आंदोलन को मजबूत करने के लिए अलग प्रशासनिक, कानूनी और नीतिगत ढांचा मुहैया कराएगा। यह सहकारी समितियों को जमीनी स्तर तक पहुंचने में मदद करेगा। 

वहीं मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि महाराष्ट्र विधानसभा से स्वीकृत कानूनों में दखल देने का केंद्र को कोई अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि ऐसी चर्चा है कि केंद्र सरकार के नए सहकारिता मंत्रालय के गठन से महाराष्ट्र में सहकारिता आंदोलन की राह में रोड़े खड़े होंगे लेकिन ऐसी चर्चाएं बेकार हैं क्योंकि संविधान के अनुसार, प्रदेश में सहकारी कानून बनाने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की है।

महाराष्ट्र  विधानसभा में इसी आधार पर सहकारिता विभाग से संबंधित कानून बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि सहकारिता मंत्रालय का विचार कोई नया नहीं है लेकिन केंद्र सरकार राज्यों के सहकारी क्षेत्र में दखल नहीं दे सकता है। उन्होंने कहा कि संविधान के अनुसार, एक राज्य में पंजीकृत सहकारी संस्थान राज्यों के आधीन होते हैं।

केंद्र सरकार द्वारा गठित सहकारिता मंत्रालय बहुराज्य सहकारी संस्थानों के लिए है। एक से अधिक राज्यों में पंजीकृत सहकारी संस्थानों का नियंत्रण एक राज्य नहीं कर सकता है, इस पर नियंत्रण केंद्र ही कर सकता है। उन्होंने कहा कि वह जब केंद्र में मंत्री थे तब भी उनके पास ऐसा विचार पेश किया गया था। 

सहकारिता मंत्रालय के गठन के लिए केंद्र की आलोचना करते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता रमेश चेन्नीथला ने कहा कि मोदी सरकार का यह कदम असांविधानिक और सांप्रदायिक है। सरकार इसके जरिए केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र जैसे राज्यों में मजबूत मौजूदगी रखने वाले सहकारी समितियों पर नियंत्रण करना चाहती है।

उन्होंने केंद्र के इस कदम के खिलाफ संघर्ष के लिए सभी धर्मनिरपेक्ष दलों से एकजुट होने की अपील की। साथ ही उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों के प्रतिनिधिमंडल को इस मुद्दे पर दखल देने के लिए राष्ट्रपति से मुलाकात करनी चाहिए। केरल विधानसभा में विपक्ष के नेता चेन्नीथला ने कहा कि विपक्षी दलों को इस मुद्दे पर कानूनी विकल्प भी तलाशना चाहिए क्योंकि सहकारी समिति का मामला राज्य का विषय है।
... और पढ़ें

गुजरात : पंचमहल के कलोल में दो समुदायों के बीच झड़प, पुलिसकर्मियों पर भी हमला

अमित शाह
गुजरात के पंचमहल जिले के कलोल शहर में शनिवार को दो समुदायों के बीच उस समय सांप्रदायिक झड़प हो गई जब एक किशोर को कुछ अज्ञात लोगों द्वारा पीटे जाने के मामले में पुलिस ने एक संदिग्ध को हिरासत में ले लिया। एक पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी।

दूसरे समुदाय ने संदिग्ध को हिरासत में लिए जाने का विरोध किया, जिसके कारण पुलिस को आंसू गैस का प्रयोग करना पड़ा। पंचमहल की पुलिस अधीक्षक लीना पाटिल ने संवाददाताओं से कहा, एक समुदाय के लोगों के एक समूह द्वारा शुक्रवार की रात दूसरे समुदाय के एक किशोर की कथित तौर पर पिटाई करने के बाद माहौल तनावपूर्ण हो गया जिसके परिणामस्वरूप शनिवार को दोनों समुदाय के समूहों के बीच हिंसक झड़प हो गई। स्थिति पर नियंत्रण पाने की कोशिश कर रहे पुलिसकर्मियों पर भी हमले किए गए

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि कलोल पुलिस स्टेशन पहुंचे लोगों के समूह द्वारा अपने समुदाय के एक व्यक्ति की रिहाई की मांग के बाद झड़प शुरू हो गई। उस व्यक्ति को शुक्रवार रात को दूसरे समुदाय के किशोर की कथित तौर पर पिटाई करने के आरोप में हिरासत में लिया गया था।

पुलिस के मुताबिक स्थिति अब पूरी तरह से नियंत्रण में है और सोशल मीडिया के जरिए किसी प्रकार की अफवाह न फैले, इसे लेकर कड़ी निगरानी की जा रही है।
... और पढ़ें

गुजरात : 15 जुलाई से 12वीं के लिए 50 प्रतिशत क्षमता के साथ शुरू होंगी कक्षाएं, कॉलेज व तकनीकी संस्थान भी खुलेंगे

गुजरात में कोविड-19 के नए मामलों में गिरावट को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने 15 जुलाई से 12वीं कक्षा के अलावा कॉलेजों और तकनीकी संस्थानों में 50 प्रतिशत क्षमता के साथ कक्षाएं शुरू करने की अनुमति प्रदान करने का फैसला किया है।

एक आधिकारिक विज्ञप्ति के मुताबिक मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने सरकार की कोर कमेटी की बैठक में महामारी की स्थिति की समीक्षा करने के बाद यह निर्णय लिया। इस बीच, गुजरात में बीते 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 56 नये मामले सामने आए हैं।

छात्रों के लिए कक्षाओं में उपस्थिति होना अनिवार्य नहीं होगा, लेकिन यदि छात्रों को व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होने के लिए कहा जाता है तो इसके लिए स्कूलों और कॉलेजों के अधिकारियों को माता-पिता की सहमति लेनी होगी।

विज्ञप्ति के मुताबिक गुजरात के 8,333 उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में कक्षा 12 में 6.82 लाख से अधिक छात्र पढ़ाई कर रहे हैं जबकि राज्य के 2,000 से अधिक कॉलेजों और तकनीकी संस्थानों में 11 लाख से अधिक स्नातक और डिप्लोमा छात्र हैं।
... और पढ़ें

गुजरात : थैले के 10 रुपये मांगे, अब दुकानदार को देना पड़ेगा 1500 मुआवजा

गुजरात की उपभोक्ता अदालत ने कपड़ों के एक दुकानदार को ग्राहक से थैले के दस रुपये लेने पर 1500 रुपये मुआवजा देने का आदेश दिया है। साथ ही दुकानदार को ग्राहक मौलिन फादिया को थैले के लिए वसूले गए दस रुपये आठ फीसदी ब्याज के साथ वापस करने को कहा है।

उपभोक्ता अदालत ने 29 जून के अपने आदेश में मानसिक प्रताड़ना के लिए एक हजार और कानूनी कार्यवाही के खर्च के लिए 500 रुपये का मुआवजा तय किया। यह मुआवजा दुकानदार को 30 दिन के भीतर अदा करना होगा। शिकायत कर्ता ने कोर्ट को बताया कि उसने 2486 रुपये के कपड़े खरीदे थे।

इस पर उसे जिस थैले में कपड़े रखकर दिये गए थे उसके 10 रुपये भी वसूले गए। इस थैले पर तमाम ब्रांड के विज्ञापन थे। ग्राहक ने इस मामले को उपभोक्ता अदालत में उठाया और 25 हजार रुपये के मुआवजे की मांग की थी, साथ ही उपभोक्ता कल्याण फोरम में भी 25 हजार रुपये जमा कराने की अपील की थी। 
... और पढ़ें

गुजरात: कोरोना के साथ ही गांधीनगर में अब हैजे का प्रकोप, किया गया प्रभावित क्षेत्र घोषित

कोरोना महामारी की दूसरी लहर का कहर जारी है। इस बीच गुजरात के गांधीनगर में हैजा का प्रकोप शुरू हो गया है। गांधीनगर के केलोल में पांच से अधिक हैजा के मामले मिले। इसके बाद जिला प्रशासन ने मंगलवार को कलोल शहर को हैजा प्रभावित क्षेत्र घोषित कर दिया। टीमें गठित कर हैजा फैलने के कारणों का पता लगाया जा रहा है। अधिकारियों ने बुधवार को जानकारी दी।

अधिकारियों ने बताया कि गांधीनगर के कलेक्टर कुलदीप आर्य ने महामारी रोग अधिनियम के तहत कलोल के दो किलोमीटर के दायरे को बीमारी से प्रभावित क्षेत्र घोषित कर दिया है। यह आदेश दो महीने तक लागू रहेगा। कलेक्टर कुलदीप आर्य  ने कहा कि जांच किए गए 38 नमूनों में से पांच में हैजा की पुष्टि हुई है, जिसके बाद यह फैसला लिया गया है।

हैजा संक्रमण मुख्य रूप से पानी या खाद्य संदूषण से फैलता है। आर्य ने बताया कि भूमिगत पाइपलाइनों में रिसाव या टूट-फूट के कारण पेयजल का दूषित होना इसका कारण हो सकता है। कारणों का पता लगाने और उन्हें ठीक करने के लिए टीमें बनाईं गई हैं। 

एक हफ्ते पहले खेड़ा जिले में शुरू हुआ प्रकोप 
खेड़ा जिले के नडियाद शहर को हैजा प्रभावित घोषित किए जाने के एक हफ्ते बाद यह गांधीनगर में हैजा का प्रकोप देखने को मिला। अधिकारियों ने कहा कि नडियाद में इस समय हैजा के चार मामलों की पुष्टि हुई है, जबकि 50 लोगों को बीमारी होने और उल्टी और दस्त जैसे लक्षणों का अनुभव होने पर स्थानीय अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। नडियाद नगर पालिका के मुख्य अधिकारी प्रणव पारेख ने कहा कि टूटी हुई पाइपलाइनों की मरम्मत, खुले गड्ढों को भरने और कीटाणुनाशक स्प्रे करने के प्रयास जारी हैं।
... और पढ़ें

गुजरात : जाति प्रमाण पत्र को लेकर भाजपा विधायक हाईकोर्ट में तलब

गुजरात की मोरवा हदफ सीट से भाजपा विधायक निमिषा सुथार के जाति प्रमाण पत्र को चुनौती देने वाली याचिका पर हाईकोर्ट ने भाजपा विधायक, चुनाव अधिकारी और चुनाव आयोग को तलब किया है।  मामले में न्यायमूति निखिल एस करियल की ओर से जारी समन में सुथार समेत अन्य को 2 अगस्त से पहले हाईकोर्ट के समक्ष पेश होने के लिए कहा है।

भाजपा विधायक के खिलाफ यह चुनाव याचिका मोरवा हदफ सीट से कांग्रेस प्रत्याशी रहे सुरेश कटारा ने दाखिल की है। कटारा ने सुथार द्वारा चुनाव आयोग को दिये गए जाति प्रमाण पत्र को झूठा और असत्यापित बताते हुए उनके चुनाव को रद्द करने का निर्देश देने की मांग की है।

पंचमहल जिले की मोरवा हदफ विधानसभा सीट अनुसूचित जनजाति (एसटी) के उम्मीदवारों के लिए आरक्षित है। इस वर्ष 2 मई को इस सीट पर हुए उपचुनाव में निमिषा सुथार ने सुरेश कटारा को हराया था।
... और पढ़ें

गुजरात बोर्ड: कोरोना के दौरान पढ़ाई का हुआ कितना नुकसान? परीक्षा से किया जाएगा आकलन

गुजरात माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (जीएसएचएसईबी) ने 10 से 12 जुलाई, 2021 तक कक्षा नौवीं, दसवीं और बारहवीं के लिए निदान कसौटी परीक्षा आयोजित करने का निर्णय लिया है। यह परीक्षा कोविड महामारी के दौरान पढ़ाई के नुकसान का आकलन करने के लिए आयोजित की जाएगी। छात्र अधिक जानकारी जीएसएचएसईबी की आधिकारिक वेबसाइट gseb.org पर प्राप्त कर सकते हैं।
बोर्ड ने बिना डरे परीक्षा देनी की सलाह दी
गुजरात बोर्ड निदान कसौटी परीक्षा केवल अध्ययन-शिक्षण के वर्तमान स्तर को जानने के लिए है। इसलिए, छात्रों को बिना डरे यह परीक्षा देनी चाहिए। निदान परीक्षण के बाद समय-समय पर विभिन्न विषयों की यूनिट टेस्ट आयोजित की जाएगी। निदान कसौटी परीक्षा के प्रश्न पत्र बोर्ड द्वारा 7 जुलाई, 2021 को डीईओ को भेजे जाएंगे। बोर्ड आधिकारिक वेबसाइट पर प्रश्न पत्र अपलोड करेगा और स्कूल के प्रिंसिपल को एसवीसी द्वारा प्रश्न पत्रों की एक संरक्षित फाइल दी जाएगी। 

... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us