बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
जानें वह कौन सी उंगली है,जो बताती है कि आप बड़े भाग्यशाली और धनवान हैं
Myjyotish

जानें वह कौन सी उंगली है,जो बताती है कि आप बड़े भाग्यशाली और धनवान हैं

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

फैसला: हरियाणा में ब्लैक फंगस नोटिफाइड डिजीज घोषित, सीएमओ को हर केस की जानकारी देना जरूरी

हरियाणा सरकार ने ब्लैक फंगस को नोटिफाइड डिजीज (अधिसूचित रोग) घोषित कर दिया गया है। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने ट्वीट कर यह जानकारी दी। प्रदेश में ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) के कई मामले सामने आ चुके हैं। अब नए मामले मिलने पर डॉक्टर जिले के सीएमओ को रिपोर्ट करेंगे।  

विज ने कहा कि यदि राज्य के किसी सरकारी या निजी अस्पताल में कोई रोगी ब्लैक फंगस से पीड़ित पाया जाता है तो इसकी जानकारी संबंधित सीएमओ को देनी होगी ताकि बीमारी की रोकथाम के लिए कदम उठाए जा सकें। रोहतक पीजीआई के वरिष्ठ चिकित्सक प्रदेश में कोरोना वायरस के मरीजों का इलाज कर रहे सभी चिकित्सकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक करेंगे और उन्हें ब्लैक फंगस के इलाज के बारे में बताएंगे।
हाल में कई राज्यों में खास तौर पर कई शूगर पीड़ित कोरोना रोगियों को म्यूकरमाइकोसिस होने के मामले सामने आए हैं। वहीं इस महीने की शुरुआत में नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वीके पॉल ने कोविड-19 से म्यूकरमाइकोसिस होने की बात से इनकार करते हुए कहा था कि हालात पर नजर रखी जा रही है।

प्रदेश में ब्लैक फंगस के बढ़ते मरीजों ने स्वास्थ्य विभाग की चिंता और बढ़ा दी है। कोरोना से ठीक होने के बाद अब ऐसे मरीजों की संख्या बढ़ रही है, जिन्हें शुगर है और उन पर ब्लैक फंगस ने हमला बोल दिया है।  पिछले एक सप्ताह में पीजीआई रोहतक में सबसे अधिक ऐसे मामले सामने आए। पीजीआई में करीब 20 ऐसे मामले आए। इनमें से कुछ लोगों की आंख चली गई तो किसी का कान। वहीं, दो लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।
... और पढ़ें
अनिल विज अनिल विज

लॉकडाउन की मार: बैंडबाजा कारोबार पर मार, खर्चा निकालने को कोई घोड़ी बेच रहा, कोई बैंड

अक्षय तृतीया के इस दिन सबसे ज्यादा शादियां होती हैं लेकिन दो साल से सब कुछ बदल गया है। बहुत लोगों ने शादियां टाल दी हैं। जो कर रहे हैं, उनके लिए नियम बहुत हैं। इसका सबसे बड़ा असर शादी समारोहों से जुड़े लोगों पर हो रहा है। बैंड बाजा कारोबार का तो बैंड ही बज चुका है। 

स्थिति यह है कि घर चलाने के लिए किसी ने घोड़ी बेच दी तो किसी ने बैंडबाजा। ऐसे में अब बैंडबाजा बजाने वाले कारीगरों के पास कोई काम नहीं बचा है। पिछले साल के अंत और इस साल की शुरुआत में कोरोना के मामले कम होने पर से मई माह में काफी शादियां बुक थीं। मामले दोबारा बढ़ने पर लॉकडाउन लगा और कई शादियां टल गईं। 


ऐसे में बैंडबाजे वालों और घोड़ी वालों का कारोबार ठप हो गया है। सुरेश बैंड घोड़ी वाला के मालिक सुरेश कुमार काम धंधा न होने से आहत हैं। वे कहते हैं कि हालात बहुत खराब चल रहे है। घर का खर्चा चलाने के लिए मजबूरी में मैंने अपनी दो घोड़ी आधे रेट में बेच दीं। एक घोड़ी की कीमत डेढ़ लाख रुपये थी, जबकि दूसरी घोड़ी की कीमत 80 हजार रुपये थे।

एक घोड़ी अप्रैल में 50 हजार और दूसरी घोड़ी इसी महीने में 40 हजार रुपये में बेची है। हालांकि अभी घोड़ी खरीदने वाले ने पूरा पेमेंट नहीं किया है। इसके अलावा मैंने कुछ बैंडबाजे का सामान भी बेच दिया। लॉकडाउन में शादियां नहीं होने से काम धंधे पूरी तरह बंद हो गए हैं।
... और पढ़ें

हरियाणा: हिसार के खेदड़ गांव में एक दिन में सात की मौत, ग्रामीणों में फैली दहशत

हरियाणा के हिसार जिले के गांव खेदड़ में एक दिन में सात लोगों की मौत से ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। ग्रामीणों ने प्रशासन से गांव को सैनिटाइज करने की अपील की। ब्राह्मण सभा के पूर्व जिला प्रधान दयानंद शर्मा व पूर्व सरपंच शमशेर सिंह शेरू ने बताया कि मरने वालों में अधिकतर लोगों की आयु 70 वर्ष या उससे अधिक है। 

वहीं जिन लोगों की मृत्यु हुई है उन्हें पिछले कुछ दिनों से बुखार था। जानकारों के अनुसार गांव खेदड़ में पिछले काफी दिनों से लगातार अधिक मौतें हो रही हैं। इन मौतों का कारण गांव के लोग कुछ नहीं बता पाए।

शुक्रवार को जिन लोगों की मौत हुई है, उनमें 45 वर्षीय जयबीर, 54 वर्षीय गोरखा शर्मा, 70 वर्षीय भानपति, 72 वर्षीय बीरमति, 85 वर्षीय मांगे राम, धर्म सिंह की 85 वर्षीय पत्नी, 102 वर्षीय बनवारी शामिल हैं। ग्रामीणों ने प्रशासन से मांग की है कि प्रशासन गांव की सुध ले व लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाए। साथ ही कोरोना महामारी को मद्देनजर रखते हुए गांव में सैनिटाइजेशन अभियान भी जल्द चलवाया जाए।

20 दिन बाद 11 हजार से कम संक्रमण के मामले
हरियाणा में संक्रमण के बढ़ते मामले और रिकॉर्ड मौतों के बाद राहत के संकेत मिल रहे हैं। 20 दिन बाद प्रदेश में संक्रमण के मामले 11 हजार के आंकड़े से नीचे दर्ज किए गए हैं। शुक्रवार को 10,608 नए संक्रमित मिले और 14,577 मरीज स्वस्थ हुए। 

हरियाणा में पिछले एक सप्ताह से संक्रमण के केसों में घटौती दर्ज की जा रही है। राज्य के 17 जिलों में नए संक्रमितों के मुकाबले ठीक होने वाले मरीजों की संख्या अधिक है। रिकवरी दर भी बढ़कर 84.40 प्रतिशत पहुंच गई है। साथ ही 15 दिन बाद प्रदेश में एक्टिव केसों की संख्या एक लाख से नीचे 99,007 आ गई है। 
... और पढ़ें

टीकरी बॉर्डर केस: दुष्कर्म के आरोपी अनूप चानौत के पक्ष में लामबंद हुई रोघी खाप, सरकार पर लगाया आरोप 

हिसार के चानौत गांव में रोघी खाप की शुक्रवार सुबह पंचायत हुई। इसमें टीकरी बॉर्डर पर पश्चिम बंगाल की युवती से दुष्कर्म के आरोपी अनूप चानौत का समर्थन करने का फैसला किया गया। इस दौरान ग्रामीणों और क्षेत्र के लोगों ने संयुक्त किसान मोर्चा से मिलने का फैसला भी किया। रोघी खाप के प्रधान सुमेर सिंह ने एलान किया कि खाप अन्य आरोपियों की खापों को भी साथ लेगी। सुमेर सिंह ने कहा कि हमारे लड़के बेकसूर, सरकार उन्हें इस मामले में बेवजह फंसा रही है। 

उन्होंने कहा कि मामले में आरोपी बनाए गए दो लड़कों और दो लड़कियों की खाप से भी वे सम्पर्क कर रहे हैं। जल्द सर्व खाप महापंचायत कर ठोस निर्णय लिया जाएगा। इस दौरान ग्रामीणों और रोघी खाप ने एकमत से कहा कि पीड़िता को न्याय मिलना चाहिए लेकिन सरकार बेकसूर को बलि का बकरा न बनाए।  

रोघी खाप पंचायत में मुख्य रूप से प्रधान सुमेर सिंह डाटा, सर्वखाप के प्रवक्ता मास्टर फूल सिंह,सत्यवान ठेकेदार, पूर्व सरपंच वेदप्रकाश, काला ठेकेदार, अभय राम ठोलेदार, मांगेराम, टेकराम प्रधान, शोभाराम सरपंच, दरिया सिंह, महेंद्र, इंदराज, विकास पंच, राजबीर पंच, सत्यवान, राजेंद्र पंच, फतेहराम, शीला नंबरदार, रामेश्वर नंबरदार, रामकुमार नंबरदार, रामपाल मेंबर, ईश्वर पंच, और गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।

इससे पहले मंगलवार को अनूप सिंह चानौत ने अपना एक वीडियो जारी कर माना कि युवती से उनके संगठन से जुड़े अनिल मलिक ने छेड़छाड़ की थी, हालांकि दुष्कर्म होने की बात से उसने इनकार किया। मंगलवार को अनूप चानौत के चार वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुए। इनमें उसने पुलिस द्वारा बनाए गए छह आरोपियों में से खुद समेत पांच को पूरी तरह निर्दोष कहा है। उसने अनिल मलिक को कई बार दोषी ठहराया है और मलिक के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की भी हिमायत की है। उसने बताया है कि अनिल मलिक की गलत हरकतों की वजह से उसने अपने संगठन से मलिक को तुरंत अलग कर दिया था। गौरतलब है कि अनूप सिंह किसान सोशल आर्मी का संस्थापक मुखिया है।
... और पढ़ें

फतेहाबाद: लॉकडाउन में चल रहा था स्पा सेंटर, पुलिस ने पांच युवतियों समेत आठ को पकड़ा

हिसार में आयोजित पंचायत में मौजूद ग्रामीण।
हरियाणा के फतेहाबाद में लॉकडाउन के दौरान स्पा सेंटर चलने की सूचना पर महिला थाना और शहर थाना पुलिस ने छापा मारा। करीब 40 मिनट तक भारी पुलिस बल सेंटर के बाहर खड़ा रहा लेकिन संचालिका ने शटर नहीं खोला। डीएसपी दलजीत बैनीवाल के पहुंचने के बाद संचालिका ने शटर उठाया। इसके बाद टीम पहली मंजिल पर बने स्पा सेंटर पर पहुंची। यहां से टीम ने पांच युवतियों समेत आठ लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस ने मामले में अनैतिक गतिविधियां चलाने के आरोप में संचालिका, चार युवतियों व तीन युवकों के खिलाफ मामला दर्जकर लिया है। 

मामले के मुताबिक पुलिस कंट्रोल रूम में दोपहर करीब तीन बजे सूचना पहुंची कि हुडा सेक्टर स्थित तीन में एक स्पा सेंटर लॉकडाउन के बावजूद चल रहा है और यहां पर अनैतिक गतिविधियां होती हैं। सूचना मिलने के बाद महिला थाना प्रभारी कविता टीम के साथ पहुंची। टीम के आने के बाद सेंटर संचालकों ने शटर बंद कर दिया। 

महिला पुलिस टीम देर तक शटर खुलवाने का प्रयास करतीं रहीं लेकिन नहीं खोला गया। इसके बाद शहर थाना प्रभारी सुरेंद्र कंबोज भी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। करीब 40 मिनट तक टीम शटर खुलवाने का प्रयास करती रही । डीएसपी दलजीत बैनीवाल के पहुंचने के बाद संचालिका ने शटर खोला। टीम ऊपर पहुंची और जांच की। इस दौरान मौके पर पांच महिलाएं और तीन युवक मिले। टीम ने सभी को हिरासत में ले लिया और थाने ले गई। युवतियां हांसी और जालंधर की रहने वाली हैं।

सीसीटीवी से रख रहे थे निगरानी 
हुडा सेक्टर में चल रहे स्पा सेंटर को हांसी निवासी संचालक और संचालिका चला रहे हैं। बताया जा रहा है कि स्पा सेंटर में आने वालों पर सीसीटीवी से निगरानी रखी जा रही थी। सीसीटीवी के जरिये संचालकों को पुलिस के आने की भनक लग गई और शटर बंद कर दिया। 
... और पढ़ें

हरियाणा: फेफड़े 100 फीसदी संक्रमित, ऑक्सीजन लेवल 50 फिर भी महिला ने दिया नवजात को जन्म

फेफड़ों में 100 फीसदी संक्रमण, ऑक्सीजन लेवल महज 50 फिर भी एक महिला ने स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। प्री मैच्योर डिलीवरी हुई। बच्चे का वजन 800 ग्राम है। ऐसे में किसी तरह का रिस्क न लेते हुए नवजात को पीजीआई रेफर कर दिया गया। मां की हालत पहले की तरह ही गंभीर है। मामला हरियाणा के भिवानी जिले का है। यहां के सामान्य अस्पातल के स्टाफ ने सफल प्रसव करवाया।

तालू गांव की 25 वर्षीय रुबीना की हिसार के उगालन निवासी सद्दाम से शादी हुई। इन दिनों वह मायके आई हुई है। यहां अचानक उसकी तबीयत खराब हो गई। बीती 7 मई को उसे प्री-कोविड ओपीडी के स्पेशल वार्ड में भर्ती कराया गया। जहां महिला रोग विशेषज्ञ डॉ. सुनीता ने जांच के बाद उसे वार्ड-4 में भर्ती किया। रुबीना 7 माह की गर्भवती थी। तबीयत खराब होने की वजह से उसका ऑक्सीजन लेवल 40 तक पहुंच गया। इस वजह से उसे आईसीयू में भर्ती करना पड़ा। इसी दौरान शुक्रवार को उसने बेटे को जन्म दिया। बच्चे का जन्म 800 ग्राम रहा। 

वैसे रुबीना की आरटीपीसीआर रिपोर्ट निगेटिव आई पर फेफड़े 100 प्रतिशत संक्रमित है। ऑक्सीजन लेवल भी 50 से 60 के बीच ही है। सामान्य अस्पताल के डॉ. संदीप ने बताया कि रुबीना को पहले पीजीआई रेफर किया गया था लेकिन परिजनों ने मांग की कि यहीं रखा जाए। इस पर उसकी डिलिवरी कराई गई। नवजात को पीजीआई रेफर कर दिया गया और रुबीना की हालत स्थिर है।
... और पढ़ें

सावधान : हरियाणा में भी जाल फैलाने लगा ब्लैक फंगस, अब तक 40 से ज्यादा मरीज मिले

Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन