समय के बाद फर्जी वोटिंग का आरोप, गेट तोड़ मतदान केंद्र पहुंचे प्रत्याशी

Amar Ujala Bureau अमर उजाला ब्यूरो
Updated Mon, 28 Dec 2020 01:23 AM IST
Accused of fake voting after time, candidates reached gate breaking booth
विज्ञापन
ख़बर सुनें
आर्य स्कूल में बने मतदान केंद्र पर शाम को मेयर समेत पार्षद प्रत्याशियों ने जमकर बवाल काटा। मेयर और पार्षद प्रत्याशियों ने बूथ नंबर 81 और 83 पर वोटिंग समय खत्म होने के बाद भी एक पार्टी द्वारा पोलिंग बूथ के अंदर फर्जी वोट डलवाने के आरोप लगाए।
विज्ञापन

इस दौरान पूरे प्रकरण से खफा हुए एचडीएफ समेत अन्य पार्टियों के प्रत्याशी और समर्थकों ने प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए भेदभाव करने के आरोप लगाए। जब प्रत्याशियों ने अंदर बैठे चुनाव अधिकारियों से इस बारे में बात करनी चाही तो अधिकारियों ने प्रत्याशियों की बात को ही नकार दिया। इस पर गुस्साए मेयर और प्रत्याशियों के समर्थकों ने गेट तोड़ दिया और मतदान केंद्र में घुस गए। जैसे ही प्रत्याशी और समर्थक गेट तोड़कर अंदर दाखिल हुए तो पुलिस ने उन्हें रोकने का प्रयास किया। इस बीच पुलिस और प्रत्याशी और समर्थकों के बीच काफी गहमा-गहमी हुई। इस बीच एचडीएफ प्रत्याशी वार्ड नंबर 8 से कोमल ने पुलिस द्वारा उनके साथ बदसलूकी करने के भी आरोप लगाए। जब प्रत्याशियों और समर्थकों की शिकायत पर कोई सुनवाई नहीं हुई तो उन्होंने इस बारे सभी प्रत्याशियों के साथ मिलकर एसपी और डीसी को शिकायत देने की बात कही। वहीं, पुलिस ने सभी आरोपों को सिरे से नकार दिया।

एचडीएफ नेत्री चित्रा सरवारा ने कहा कि यहां पर पुलिस और चुनाव प्रशासन दोनों ही हैं, परंतु इसके बाद भी मतदान केंद्र में फर्जी वोटिंग चल रही है, ऐसा लग रहा है कि बूथ को हाईजैक कर लिया है। हम इसकी शिकायत हर संबंधित अधिकारी से करेंगे, ताकि चुनाव में हो रही ऐसी फर्जी वोटिंग को रोका जा सके।
अंबाला विकास मंच की मेयर प्रत्याशी गुरमीत कौर ने कहा कि यह सरासर गलत हो रहा है। जहां सभी बूथ एजेंटों को बाहर निकालकर वोटिंग प्रक्रिया चल रही है। इसकी शिकायत संबंधित अधिकारियों से की जाएगी।
एचडीएफ मेयर प्रत्याशी अमीषा चावला ने कहा कि मैं मेयर प्रत्याशी हूं। इसके बाद भी मुझे जाने नहीं दिया जा रहा है, जबकि सत्ताधारी पार्टी के प्रत्याशी के समर्थक भी अंदर बैठे हुए हैं और फर्जी वोटिंग डलवा रहे हैं। जो सरासर जनता द्वारा डाले गए वोटों के साथ नाइंसाफी है।
पुलिस कर्मचारी पर लगाए जा रहे आरोप गलत हैं। कर्मचारी ने तो सिर्फ अधिकारियों के आदेश की पालना की है।
- राम कुमार, एसएचओ, सिटी थाना।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00