लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Haryana ›   Fatehabad News ›   Political parties will be able to make chairpersons only by bringing winning councillors into their fold

Fatehabad News: जीते हुए पार्षदों को अपने पाले में लाकर ही चेयरपर्सन बना सकेंगे राजनीतिक दल

Amar Ujala Bureau अमर उजाला ब्यूरो
Updated Sun, 27 Nov 2022 11:36 PM IST
Political parties will be able to make chairpersons only by bringing winning councillors into their fold
विज्ञापन
फतेहाबाद। जिला परिषद की चेयरपर्सन और वाइस चेयरमैन चुनने के लिए राजनीतिक दलों के पास जिले में स्पष्ट बहुमत नहीं आया है। ऐसे में जीते हुए पार्षदों को अपने पाले में लाकर ही चेयरपर्सन पर राजनीतिक दल दावेदारी ठोक सकेंगे। सत्तारूढ़ भाजपा के अलावा इनेलो, कांग्रेस व आम आदमी पार्टी की भी बेहतर स्थिति नहीं है।

इस बार जिला परिषद के प्रधान का पद महिला के लिए आरक्षित है। ऐसे में 18 में से नौ वार्डों में जीतकर आईं महिलाओं में से किसी एक को कुर्सी मिलेगी। नौ में से चार टोहाना क्षेत्र की महिला पार्षद बनी हैं। विकास एवं पंचायत मंत्री देवेंद्र सिंह बबली खुद विधानसभा में टोहाना का प्रतिनिधित्व करते हैं। इस कारण जिला परिषद प्रधान के लिए टोहाना की दावेदारी मजबूत रहने के आसार हैं। हालांकि, पिछली बार प्रधान पद भाजपा के खाते में था। संवाद

पिछले प्लान में पहले टोहाना के हाथ ही लगी थी बाजी
साल 2016 में हुए जिला परिषद के चुनाव के दौरान भी पहले प्रधान पद टोहाना को ही मिला था। उस समय महिला के लिए पद आरक्षित नहीं होने के बावजूद तत्कालीन भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला के प्रयासों से टोहाना क्षेत्र की गीता नांगली को चेयरपर्सन बनाया गया था। उस गीता नांगली को 18 में से 10 वोट मिले थे। वाइस चेयरपर्सन कमला देवी बनी थी। मगर गीता नांगली अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाई थी। वह महज ढाई साल ही चेयरपर्सन रही। बाद में अविश्वास प्रस्ताव लाया गया, जिसमें फतेहाबाद के गांव जांडलावा सोतर निवासी राजेश कसवां चेयरमैन बने थे।
किसी एक महिला पार्षद की लगेगी लॉटरी
इस बार जीतकर आई वार्ड नंबर दो की पार्षद पूजा भालसिंह, वार्ड चार की पार्षद सीमा रानी, वार्ड छह की पार्षद सुमन खिचड़, वार्ड नौ की पार्षद बेयंती देवी, वार्ड 11 की पार्षद अंजू बाला, वार्ड 13 की पार्षद सीमा रानी, वार्ड 15 की पार्षद मंजू वीरेंद्र, वार्ड 16 की पार्षद कलाशो रानी, वार्ड 18 की पार्षद परमजीत कौर में से किसी एक की लॉटरी लगेगी।
कलाशो रानी दूसरी बार बनीं जिला पार्षद
जिले के 18 पार्षदों में से एकमात्र कलाशो रानी ही ऐसी हैं, जिनके पास राजनीतिक अनुभव है। कलाशो रानी इससे पहले भी 2009 में पार्षद बनी थी। इस बार वह दूसरी बार जिला पार्षद बनी हैं। उनका परिवार जजपा प्रदेशाध्यक्ष निशान सिंह का खास है।
कोट
जिला परिषद के चुनाव में जजपा का अच्छा प्रदर्शन रहा है। जजपा के साथ जुड़े हुए कई दावेदार पार्षद बनकर आए हैं। निश्चित रूप से चेयरपर्सन पद के लिए पार्टी दावा करेगी।
विज्ञापन
सुरेंद्र लेगा, जिलाध्यक्ष, जजपा
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00