लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Chandigarh ›   50 percent disability certificate in Punjab is fake, investigation started

Punjab: दो लाख लोगों ने फर्जी दिव्यांगता सर्टिफिकेट बनवाकर उठाया सरकारी योजनाओं का लाभ, अब होगी जांच

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़ Published by: पंचकुला ब्‍यूरो Updated Sun, 04 Dec 2022 08:30 AM IST
सार

पंजाब में करीब 50 फीसदी दिव्यांगता सर्टिफिकेट फर्जी तरीके से बनवाए गए हैं। राज्य सरकार की तरफ से इन दिव्यागों को 13.80 करोड़ रुपये पेंशन के रूप में दिए जा रहे हैं और यह सिलसिला पिछली शिअद-भाजपा और कांग्रेस सरकारों के समय से जारी है।
 

pension
pension
विज्ञापन

विस्तार

पंजाब में जरूरतमंद और आधारहीन लोगों के लिए जारी सामाजिक कल्याण योजनाओं में फर्जीवाड़े के नए-नए खुलासे हो रहे हैं। करीब दो माह पहले 90248 ऐसे लोगों को बुढ़ापा पेंशन दी जाती रही, जिनकी मृत्यु हो चुकी थी। अब करीब 2 लाख लोगों द्वारा फर्जी दिव्यांगता सर्टिफिकेट बनवाकर सरकारी योजनाओं का लाभ लिए जाने का खुलासा हुआ है। इस घोटाले की जांच के लिए सामाजिक न्याय, आधिकारिता एवं अल्पसंख्यक मामलों की मंत्री डॉ. बलजीत कौर ने विभाग के दो सीनियर अधिकारियों की कमेटी का गठन कर दिया है। इस कमेटी का नेतृत्व मंत्री स्वयं कर रही हैं।


एक दिसंबर को डॉ. बलजीत कौर की तरफ से प्रदेश के सरकारी विभागों में कार्यरत 11000 दिव्यांग अफसरों और मुलाजिमों के दिव्यांगता सर्टिफिकेटों की जांच के आदेश जारी किए थे। इस आदेश के तहत सभी विभागों, बोर्ड-कारपोरेशनों के प्रबंध सचिवों को भेजे गए पत्र में दिव्यांगता सर्टिफिकेटों की पीजीआई चंडीगढ़ से जांच करवाकर 10 दिन में रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है। इस फैसले के तहत संबंधित दिव्यांगों की फिजिकल वेरिफिकेशन होगी। यह मामला कुछ मुलाजिम संगठनों द्वारा विभाग को भेजी गई शिकायतों और उन पर सामाजिक न्याय के दिव्यांग सेल द्वारा की गई जांच में उजागर हुआ है। इसके साथ ही, मंत्री द्वारा गठित दो सदस्यीय कमेटी ने सभी जिलों से घोषित दिव्यांगों के सर्टिफिकेटों का डाटा एकत्र करना शुरू कर दिया, जिनके आधार पर संबंधित दिव्यांग की फिजिकल वेरिफिकेशन भी कराई जाएगी।


सामाजिक न्याय, आधिकारिता एवं अल्पसंख्यक विभाग के आंकड़ों के अनुसार, पंजाब में विभिन्न व्याधियों के चलते दिव्यांग लोगों की संख्या चार लाख है, लेकिन इस संबंध में विभाग को मिल रही शिकायतों पर जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ रही है, यह साफ हो गया है कि करीब 50 फीसदी दिव्यांगता सर्टिफिकेट फर्जी तरीके से बनवाए गए हैं। राज्य सरकार की तरफ से इन दिव्यागों को 13.80 करोड़ रुपये पेंशन के रूप में दिए जा रहे हैं और यह सिलसिला पिछली शिअद-भाजपा और कांग्रेस सरकारों के समय से जारी है।

इस संबंध में सामाजिक न्याय, आधिकारिता एवं अल्पसंख्यक मामलों की मंत्री डॉ. बलजीत कौर ने कहा है कि मृत लोगों को जा रही बुढ़ापा पेंशन की राशि वापस ली गई है और अब दिव्यांगता सर्टिफिकेटों की जांच के बाद योग्य लाभपात्रों को ही पेंशन व अन्य सुविधाएं दी जाएंगी। फर्जी सर्टिफिकेट से सुविधाएं ले रहे लोगों से वसूली की जाएगी।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00