Hindi News ›   Chandigarh ›   Arthi tied a rakhi on her brother's wrist before getting up and did not leave her unconscious.

अर्थी उठने से पहले भाई की कलाई पर बांधी राखी, बेहोश होने तक नहीं छोड़ी, बहनें बोलीं- हमें इंतजार है

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, रोहतक (हरियाणा) Published by: रोहतक ब्यूरो Updated Tue, 28 Jul 2020 05:43 PM IST
रोहतक में तीन किशोरों की मौत के बाद गमगीन बहनें।
रोहतक में तीन किशोरों की मौत के बाद गमगीन बहनें।
विज्ञापन
ख़बर सुनें

रोहतक-हिसार बाईपास पर सोमवार सुबह करीब साढ़े 5 बजे सेना भर्ती की तैयारी कर रहे भाली आनंदपुर गांव के एक युवा और दो किशोर को इको कार चालक ने कुचल दिया। हादसे में तीनों की मौके पर ही मौत हो गई। सूचना मिलने पर ग्रामीण व परिजन घटनास्थल पर पहुंचे और करीब छह घंटे तक शव रखकर हाईवे जाम कर दिया।

विज्ञापन


हम एक ही थाली में खाना डालकर खाते थे। जब तक भाई घर नहीं आ जाता तो उसका इंतजार करते थे। कभी कभार मजाक में उसको यह भी कहते थे कि हमने तो खाना खा लिया। भाई रूठता तो उसे मनाकर एक साथ खाना खाते। पिता के सेना से रिटायर होने के बाद से ही सौरभ के दिल में देशसेवा की भावना पैदा हो गई थी। वह अपने साथी के साथ अभी से सेना भर्ती की तैयारी में जुट गया था।



                                                                 मृतक प्रमोद की बहन ज्योति

लॉकडाउन के दौरान चोर, सिपाही पर्ची, कभी रोल बैंग गेम खेलकर टाइम बिताते थे। यह बताते हुए भाई की मौत से सदमे में नेहा और श्रुति का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। परिजनों ने बताया कि दोनों बहनें अपने इकलौते भाई की कलाई पकड़ कर रोती रही। अर्थी उठने से पहले अपने भाई की कलाई पर राखी बांधी और बेहोश होने तक नहीं छोड़ी।

भाई राखी बंधवाने आएगा ना, हमें तेरा इंतजार हैं

मृतक सौरभ की बहन नेहा, श्रुति व गमजदा पिता।
मृतक सौरभ की बहन नेहा, श्रुति व गमजदा पिता।
प्रवीण की पांचों बहनों की शादी हो चुकी है। हादसे में मौत की सूचना मिलने पर सभी मायके पहुंची और भाई का शव देख सिर्फ एक ही बात कह रही थी कि भाई तू राखी बंधवाने आएगा ना, हम पांचों बहनें तेरा इंतजार कर रही है। हालांकि परिजनों ने उसकी चार बहनों को वापस उनके ससुराल भेज दिया। इसके अलावा बहन मंजू की आंखों की एक टक दरवाजे को देख रही थी कि उसका भाई आएगा। वह रोते हुए कह रही थी कि भाई तू हमें अकेला छोड़ गया, हम किसको राखी बांधेगी। तेरे कारण ही परिवार में रौनक थी। भाई तू उसी रौनक के साथ वापस आ जा।

अब कौन कहेगा दीदी नमस्ते
प्रमोद की दो बड़ी बहने हैं, सबसे बड़ी रितु के पति फौज में है, वह गंगटोक में रह रही है। जिसको अभी उसके भाई की मौत के बारे में नहीं बताया गया है। उससे छोटी ज्योति जिसकी अभी फरवरी में ही शादी हुई थी। प्रमोद का नाम लेते ही उसकी बहन ने कहा कि भाई का सपना आर्मी ज्वाइन करने के बाद परिवार के सभी सदस्यों व बहनों को देश भ्रमण कराने का था। उसमें सेवा में भर्ती होने का इतना जुनून था कि वह घर से पांच किलो मीटर दूर सड़क पर दौड़ लगाने के लिए जाता था। ससुराल से फोन करते तो सबसे पहले भाई ही फोन उठाकर दीदी नमस्ते बोलता था। यह बताते वक्त ज्योति बार-बार बेहोश हो रही थी।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00